Wednesday, June 19, 2024
Homeदेश-समाजमौलवी अबु बक्र के 2 और साथी गिरफ्तार, एक के पास नेपाल की भी...

मौलवी अबु बक्र के 2 और साथी गिरफ्तार, एक के पास नेपाल की भी नागरिकता: पाकिस्तानी नंबर का भी इस्तेमाल, टारगेट थे नुपूर शर्मा-राजा सिंह जैसे हिंदुवादी नेता

पुलिस कमिश्नर गहलोत ने बताया है कि इस मामले में रजा नाम का एक युवक भी पकड़ा गया है। वह महाराष्ट्र के नांदेड का रहने वाला है। उसने पकड़े जाने से पहले ही अपना मोबाइल तोड़ दिया था, हम उसके मोबाइल से फॉरेंसिक लैब के पास भेजा गया है और उससे डाटा रिकवर करने का प्रयास हो रहा है।

हिंदू नेताओं की हत्या की साजिश रचने के मामले में गुजरात के सूरत से पकड़े गए मौलवी सोहेल अबू बक्र तिमोल से पूछताछ में कई खुलासे हुए हैं। उसके दो साथी पकड़े गए हैं। इनमें से एक शहनाज है उसके पास भारत और नेपाल, दोनों की नागरिकता थी। उसके पास 17 मोबाइल नम्बर, 42 ईमेल आईडी थीं। उसके पास पाकिस्तानी नम्बर भी था।

सूरत के पुलिस कमिश्नर अनुपम सिंह गहलोत ने इस मामले की जाँच को लेकर बताया, “हमने मई के पहले सप्ताह में मौलवी सोहेल को पकड़ा था। इस मामले में जब जाँच हुई तो देश के अलग-अलग राज्यों में चलने वाला इनका मॉड्यूल सामने आया। सोहेल के पास से दो वोटर आईडी मिली हैं,दोनों के EPIC नम्बर भी अलग हैं, इसके पास से जन्म प्रमाण पत्र भी दो अलग-अलग जगह के मिले। एक जन्म प्रमाण पत्र सूरत का और एक महाराष्ट्र के नवापुरा का मिला है।”

उन्होंने आगे इस पूछताछ से हासिल हुई जानकारी को लेकर बताया, “इस पूरी जाँच में शहनाज नाम का एक व्यक्ति मुजफ्फरपुर से पकड़ा गया है, वह नेपाल के नम्बर का इस्तेमाल करता था। उसने एक नम्बर के आधार पर 17 वर्चुअल नम्बर बना रखे थे, वह इन नम्बरों का उपयोग करके लोगों को धमकाता था। इसके पास 42 ईमेल आईडी भी थीं, इसके जरिए वह गैंग चलाता था। उसके पास नेपाल और भारत, दोनों देशों की नागरिकता थी।”

इस मामले में पता चला है कि शहनाज नेपाल में भी रहता था। शहनाज का कहीं कहीं नाम मोहम्मद अली भी बताया गया है। पुलिस कमिश्नर गहलोत ने बताया है कि इस मामले में रजा नाम का एक युवक भी पकड़ा गया है। वह महाराष्ट्र के नांदेड का रहने वाला है। उसने पकड़े जाने से पहले ही अपना मोबाइल तोड़ दिया था, हम उसके मोबाइल से फॉरेंसिक लैब के पास भेजा गया है और उससे डाटा रिकवर करने का प्रयास हो रहा है।

उन्होंने बताया है कि यह व्यक्ति पाकिस्तानी नम्बर उपयोग करता था, यह उसे इसके पाक्सितानी हैंडलर डागर ने मुहैया करवाया था। उन्होंने बताया कि रजा कई पाकिस्तानियों का अनुसरण करता था जो कि भारत के खिलाफ जहर उगलते हैं। इन दोनों ने नुपुर शर्मा, बजरंग दल के कार्यकर्ता सुरेश राजपूत, ब्लॉगर शबनम शेख और शिव सेना नेता अमित अरोड़ा को धमकियाँ दी थीं।

गौरतलब है कि गुजरात पुलिस ने शनिवार (4 मई 2024) को सूरत से एक मौलवी को गिरफ्तार किया था। मौलवी का नाम सोहेल अबू बक्र तिमोल बताया गया था। इस 27 वर्षीय मौलवी पर भाजपा की पूर्व प्रवक्ता नूपुर शर्मा, हैदराबाद के गोशमहल से भाजपा विधायक टी राजा सिंह, सुदर्शन न्यूज़ के प्रधान सम्पादक सुरेश चव्हाणके और सोशल मीडिया पर सक्रिय हिंदू नेता उपदेश राणा की हत्या की साजिश रचने का आरोप है। पुलिस ने इससे पूछताछ करने के बाद यह सारी जानकारी निकाली है।

सोहेल के बारे में बताया गया था कि महाराष्ट्र के नंदुरबार का रहने वाला है। फिलहाल वह सूरत के एक मदरसे में हाफिज है और करजा-अम्बोली गाँव में मुस्लिम छात्रों को ट्यूशन के माध्यम से मज़हबी तालीम देता था। इन सभी के अलावा अबू बक्र सूरत के डायमंड नगर की एक धागा फैक्ट्री में मैनेजर के तौर पर भी ड्यूटी करता था। पुलिस ने मौलवी की जाँच की तो पाया कि वह पिछले डेढ़ साल से पाकिस्तान और नेपाल के हैंडलरों के सम्पर्क में था।

Special coverage by OpIndia on Ram Mandir in Ayodhya

  सहयोग करें  

एनडीटीवी हो या 'द वायर', इन्हें कभी पैसों की कमी नहीं होती। देश-विदेश से क्रांति के नाम पर ख़ूब फ़ंडिग मिलती है इन्हें। इनसे लड़ने के लिए हमारे हाथ मज़बूत करें। जितना बन सके, सहयोग करें

ऑपइंडिया स्टाफ़
ऑपइंडिया स्टाफ़http://www.opindia.in
कार्यालय संवाददाता, ऑपइंडिया

संबंधित ख़बरें

ख़ास ख़बरें

‘हमारे बारह’ पर जो बॉम्बे हाई कोर्ट ने कहा, वही हम भी कह रहे- मुस्लिम नहीं हैं अल्पसंख्यक… अब तो बंद हो देश के...

हाई कोर्ट ने कहा कि उन्हें फिल्म देखखर नहीं लगा कि कोई ऐसी चीज है इसमें जो हिंसा भड़काने वाली है। अगर लगता, तो पहले ही इस पर आपत्ति जता देते।

NEET पर जिस आयुषी पटेल के दावों को प्रियंका गाँधी ने दी हवा, उसके खुद के दस्तावेज फर्जी: कहा था- NTA ने रिजल्ट नहीं...

इलाहाबाद हाई कोर्ट में झूठी साबित होने के बाद आयुषी पटेल ने अपनी याचिका भी वापस लेने का अनुरोध किया। कोर्ट ने NTA को छूट दी है कि वह आयुषी पटेल के खिलाफ नियमानुसार एक्शन ले।

प्रचलित ख़बरें

- विज्ञापन -