Tuesday, June 25, 2024
Homeराजनीतिविभव कुमार की तलाश में जुटी दिल्ली पुलिस, स्वाति मालीवाल बोलीं- मैं कहती रही...

विभव कुमार की तलाश में जुटी दिल्ली पुलिस, स्वाति मालीवाल बोलीं- मैं कहती रही छोड़ दो, लेकिन वह मारता और गाली देता रहा: देर रात महिला MP का मेडिकल

मालीवाल ने अपनी शिकायत में बताया, "मैं सीएम आवास के ड्रॉइंग रूम तक गई और वहाँ इंतजार कर रही थी, तभी उनका पर्सनल स्टाफ आया और गालियाँ देने लगा। बिना किसी उकसावे के थप्पड़ मारा। मैंने शोर मचाया और कहा कि मुझे छोड़ दो,जाने दो। लेकिन वह मारता रहा।"

दिल्ली मुख्यमंत्री अरविंद केजरीवाल के पर्सनल सेक्रेट्री के खिलाफ स्वाति मालीवाल ने प्राथमिकी दर्ज करवा दी है। उन्होंने घटना के 81 घंटे बाद 2.5 पेज की शिकायत पुलिस को दी। अपनी शिकायत में उन्होंने बताया कि विभव ने उनके चेहरे, पेट और छाती पर 5-6 बार मारा।

मालीवाल ने अपनी शिकायत में बताया, “मैं सीएम आवास के ड्रॉइंग रूम तक गई और वहाँ इंतजार कर रही थी, तभी उनका पर्सनल स्टाफ आया और गालियाँ देने लगा। बिना किसी उकसावे के थप्पड़ मारा। मैंने शोर मचाया और कहा कि मुझे छोड़ दो,जाने दो। लेकिन वह मारता रहा।”

स्वाति मालीवाल के अनुसार पर्सनल स्टाफ उन्हें गालियाँ देता रहा, धमकियाँ देता रहा और ‘देख लेंगे, निपटा देंगे’ जैसे शब्द भी कहे। इसके बाद उसने पहले चेहरे पर मारा, फिर पेट पर मारा। मालीवाल के मुताबिक इसी के बाद वो भाग कर बाहर आईं और पुलिस को फोन किया।

उनकी इस शिकायत के बाद स्पेशल सेल की टीम ने सुरक्षा व्यवस्था सहित कई मसलों पर स्वाति मालीवाल से बात की। स्पेशल सेल के एडिशनल कमिश्नर प्रमोद कुशवाहा खुद मालीवाल के घर उनके बयान दर्ज करने के लिए पहुँचे। पुलिस करीब 4 घंटे उनके आवास पर रही।

सारी बात सुनने समझने के बाद पुलिस ने स्वाति मालीवाल के बयान के आधार पर विभव कुमार के खिलाफ आईपीसी की धारा 354, 506स 509, 323 और अन्य धाराओं के तहत एफआईआर की, फिर उन्हें मेडिकल के लिए एम्स लेकर आया गया। वहाँ उनका चेक अप हुआ। रात में 3 बजे जब वो घर लौटीं तो एक वीडियो सामने आई इसमें वह अपने घर में लड़खड़ाते हुए घुसती दिखीं।

FIR रजिस्टर करने के बाद नॉर्थ डिस्ट्रिक की पुलिस टीम और क्राइम ब्रांच की पूरी 10 टीमें पूरे केस की जाँच में जुटी हुई है। इस क्रम में एक टीम विभव से पूछताछ के लिए उनके घर पहुँची। हालाँकि वह वहाँ नहीं मिले। उन्हें 16 मई को केजरीवाल के साथ लखनऊ एयरपोर्ट पर देखा गया था। वहीं राष्ट्रीय महिला महिला आयोग ने इस मामले पर स्वत: संज्ञान लेते हुए विभव कुमार से आज सुबह 11 बजे पेश होने को कहा है।

स्वाति मालीवाल ने पुलिस अपनी शिकायत देने के बाद एक्स पर भी पोस्ट लिखा। उन्होंने कहा, “मेरे साथ जो हुआ वो बहुत बुरा था। मेरे साथ हुई घटना पर मैंने पुलिस को अपना स्टेटमेंट दिया है। मुझे आशा है कि उचित कार्रवाई होगी। पिछले दिन मेरे लिए बहुत कठिन रहे हैं। जिन लोगों ने प्रार्थना की उनका धन्यवाद करती हूँ। जिन लोगों ने चरित्र हनन करने की कोशिश की, ये बोला कि दूसरी पार्टी के इशारे पर कर रही है, भगवान उन्हें भी खुश रखे। देश में अहम चुनाव चल रहा है, स्वाति मालीवाल ज़रूरी नहीं है, देश के मुद्दे ज़रूरी हैं। BJP वालों से ख़ास गुज़ारिश है इस घटना पे राजनीति न करें।”

बता दें कि स्वाति मालीवाल के साथ 13 मई को यह घटना घटी थी। उस दिन दो कॉल पुलिस के पास उनके नाम से आई थी जिसमें उन्होंने मारपीट की जानकारी दी थी। इसके बाद वो थाने भी गईं लेकिन बिन शिकायत दिए लौट आईं और फिर मीडिया में कुछ नहीं कहा। उनकी चुप्पी से तमाम सवाल उठ रहे थे। हालाँकि अब उन्होंने जब अपनी शिकायत पुलिस को दे दी है तो पुलिस ने विभव के खिलाफ केज को दर्ज कर लिया है। वहीं दूसरी ओर स्वाति मालीवाल के आवास की सुरक्षा बढ़ा दी गई है।

Special coverage by OpIndia on Ram Mandir in Ayodhya

  सहयोग करें  

एनडीटीवी हो या 'द वायर', इन्हें कभी पैसों की कमी नहीं होती। देश-विदेश से क्रांति के नाम पर ख़ूब फ़ंडिग मिलती है इन्हें। इनसे लड़ने के लिए हमारे हाथ मज़बूत करें। जितना बन सके, सहयोग करें

ऑपइंडिया स्टाफ़
ऑपइंडिया स्टाफ़http://www.opindia.in
कार्यालय संवाददाता, ऑपइंडिया

संबंधित ख़बरें

ख़ास ख़बरें

शिखर बन जाने पर नहीं आएँगी पानी की बूँदे, मंदिर में कोई डिजाइन समस्या नहीं: राम मंदिर निर्माण समिति के चेयरमैन नृपेन्द्र मिश्रा ने...

श्रीराम मंदिर निर्माण समिति के मुखिया नृपेन्द्र मिश्रा ने बताया है कि पानी रिसने की समस्या शिखर बनने के बाद खत्म हो जाएगी।

दर-दर भटकता रहा एक बाप पर बेटे की लाश तक न मिली, यातना दे-दे कर इंजीनियरिंग छात्र की हत्या: आपातकाल की वो कहानी, जिसमें...

आज कॉन्ग्रेस पार्टी संविधान दिखा रही है। जब राजन के पिता CM, गृह मंत्री, गृह सचिव, पुलिस अधिकारी और सांसदों से गुहार लगा रहे थे तब ये कॉन्ग्रेस पार्टी सोई हुई थी। कहानी उस छात्र की, जिसकी आज तक लाश भी नहीं मिली।

प्रचलित ख़बरें

- विज्ञापन -