Thursday, June 13, 2024
Homeदेश-समाज76 लापता बच्‍चों को ढूँढकर महिला हेड कॉन्स्‍टेबल ने माता-पिता को सौंपी उनकी खुशियाँ:...

76 लापता बच्‍चों को ढूँढकर महिला हेड कॉन्स्‍टेबल ने माता-पिता को सौंपी उनकी खुशियाँ: दिल्ली पुलिस ने दिया ये इनाम

दिल्ली के समयपुर बादली पुलिस थाने में तैनात महिला हेड कॉन्स्टेबल सीमा ढाका ने 76 लापता बच्चों का पता लगाया, इन 76 बच्चों को दिल्ली और अन्य राज्यों से तीन महीने के भीतर पता लगाया गया। इसके साथ जिन 76 बच्चों की खोज सीमा ने की है उनमे से 56 की उम्र 14 साल से कम की है।

राष्ट्रीय राजधानी दिल्ली के समयपुर बादली पुलिस थाने में तैनात एक महिला हेड कॉन्स्टेबल को उसकी मेहनत कार्य निष्ठा और ईमानदारी को देखते हुए उच्च अधिकारियों ने उसे आउट-ऑफ-टर्न प्रमोशन (बिना बारी की तरक्की) देने का फैसला किया है। इस संबंध में दिल्ली पुलिस के आधिकारिक ट्विटर हैंडल से एक ट्वीट कर जानकारी दी गई है। बता दें कि महिला हेड कांस्टेबल सीमा ढाका को यह पुरस्कार लापता हुए 76 बच्चों को ढूँढ़ने के बाद मिला है। अपनी तरक्की की खबर सुनने के बाद सीमा ढाका भी काफी खुश हैं।

दिल्ली पुलिस के प्रवक्ता से मिली जानकारी के मुताबिक इस वर्ष पाँच अगस्त को पुलिस आयुक्त एसएन श्रीवास्तव ने राजधानी में लापता बच्चों को ढूँढने और उनके माता-पिता को सौंपने के लिए पुलिस खेमे को प्रोत्साहित किया। इस दौरान उन्होंने इस काम को जल्द पूरा करने वाले पुलिसकर्मियों को बिना बारी की तरक्की देने का भी वादा किया। 

श्रीवास्तव के ऐलान के मुताबिक अगर कोई कॉन्स्टेबल या हेड कॉन्स्टेबल अगर एक वर्ष के अंदर 14 वर्ष से कम उम्र के कम से कम 50 बच्चों की खोज निकालने पर आउट-ऑफ-टर्न प्रमोशन दिया जाएगा। इसके अलावा शर्त यह भी थी की इन बच्चों में से 15 बच्चों की उम्र आठ साल से कम होना अनिवार्य था। 15 बच्चों को खोज निकालने पर ‘असाधारण कार्य पुरस्कार’ देने की घोषणा की गई थी।

बता दें कि दिल्ली के समयपुर बादली पुलिस थाने में तैनात महिला हेड कॉन्स्टेबल सीमा ढाका ने 76 लापता बच्चों का पता लगाया, इन 76 बच्चों को दिल्ली और अन्य राज्यों से तीन महीने के भीतर पता लगाया गया। इसके साथ जिन 76 बच्चों की खोज सीमा ने की है उनमे से 56 की उम्र 14 साल से कम की है। उनके द्वारा खोजे गए बच्चों को बिहार, बंगाल एवं देश के अन्य हिस्सों से बरामद किया गया है।

Special coverage by OpIndia on Ram Mandir in Ayodhya

  सहयोग करें  

एनडीटीवी हो या 'द वायर', इन्हें कभी पैसों की कमी नहीं होती। देश-विदेश से क्रांति के नाम पर ख़ूब फ़ंडिग मिलती है इन्हें। इनसे लड़ने के लिए हमारे हाथ मज़बूत करें। जितना बन सके, सहयोग करें

ऑपइंडिया स्टाफ़
ऑपइंडिया स्टाफ़http://www.opindia.in
कार्यालय संवाददाता, ऑपइंडिया

संबंधित ख़बरें

ख़ास ख़बरें

कोई कर रहा था ड्राइवरी, कोई इंजीनियर बनकर कमाने गया था… कुवैत के अग्रिकांड में 40+ भारतीयों की गई जान, PM मोदी ने विदेश...

कुवैत के फोरेंसिक विभाग के महानिदेशक ने भी कहा है कि मरने वाले में अधिकांश केरल, तमिलनाडु और उत्तर भारतीय राज्य के लोग हैं। इनकी उम्र 20 से 50 साल थी।

जम्मू-कश्मीर में 4 दिनों के अंदर चौथा आतंकी हमला… डोडा में सुरक्षा बलों पर फिर चली गोलियाँ: 1 जवान घायल, पूरे इलाके की घेराबंदी

जम्मू-कश्मीर में 4 दिनों के अंदर चौथा आतंकी हमला हुआ है। वहीं डोडा जिले में 2 दिन में दूसरी बार आतंकियों द्वारा फायरिंग करके सुरक्षाबलों को निशाना बनाया गया है।

प्रचलित ख़बरें

- विज्ञापन -