Wednesday, December 1, 2021
Homeदेश-समाजगैंगस्टर मुख्तार अंसारी ने धमका कर व्यवसायी से ₹5 लाख में ले ली थी...

गैंगस्टर मुख्तार अंसारी ने धमका कर व्यवसायी से ₹5 लाख में ले ली थी करोड़ों की जमीन, पेट्रोल पंप सहित जमीन कुर्क करेगी योगी सरकार

अब तक सरकार अंसारी और उसकी बीवी के नाम पर दर्ज करोड़ों की संपत्तियों को न केवल जब्त कर चुकी है, बल्कि अवैध संपत्तियों पर बुलडोजर भी चला चुकी है।

उत्तर प्रदेश की योगी आदित्यनाथ सरकार माफियाओं के खिलाफ लगातार शिकंजा कस रही है। इसी क्रम में पहले से ही जेल की हवा खा रहे कुख्यात माफिया मुख्तार अंसारी के खिलाफ एक और कार्रवाई की है। आजमगढ़ जिले के एसपी अनुराग आर्य ने जिले के कलेक्टर को पत्र लिखकर लखनऊ में अवैध कमाई से हासिल की गई मुख्तार अंसारी की जमीन को कुर्क करने की आग्रह किया है। इस संपत्ति की कीमत लगभग तीन करोड़ रुपए है।

रिपोर्ट के मुताबिक, गैंगस्टर मुख्तार अंसारी के खिलाफ गैंगस्टर एक्ट के तहत केस दर्ज किया गया है। इसी के तहत उसकी संपत्तियों को पुलिस ने चिन्हित कर रखा है। इस मामले में कार्रवाई के लिए आजमगढ़ की पुलिस लखनऊ रवाना हो गई है। माफिया मुख्तार ने लखनऊ के हुसैनगंज विधानसभा मार्ग पर स्थित इस जमीन को साल 2007 में एक व्यापारी से केवल पाँच लाख रुपए में अपनी पत्नी के नाम पर रजिस्ट्री करवा ली थी।

जिले के पुलिस अधीक्षक का कहना है कि आरोपित अंसारी के खिलाफ लगातार कार्रवाई की जा रही है। संपत्ति को कुर्क करने के लिए जिलाधिकारी को पत्र लिखा गया है। गौरतलब है कि माफिया मुख्तार अंसारी के खिलाफ आजमगढ़ के तरवाँ थाने में उत्तर प्रदेश गिरोहबंद एवं समाज विरोधी क्रिया-कलाप निवारण अधिनियम 1986 के अंतर्गत केस दर्ज किया गया है। इस मामले की जाँच स्क्वाट टीम के प्रभारी प्रशांत श्रीवास्तव कर रहे हैं।

बताया जा रहा है कि हुसैनगंज की इस जमीन पर मुख्तार अंसारी का एक पेट्रोल पंप भी है। एसपी ने बताया कि 2007 में माफिया मुख्तार अंसारी ने लोगों को डरा-धमका कर करोड़ों की संपत्ति को औने-पौने दामों में ले लिया था। जिलाधिकारी के आदेश पर मुख्तार के खिलाफ गैंगस्टर एक्ट 14 (1) के तहत कार्रवाई की जा रही है। गौरतलब है कि योगी सरकार माफिया मुख्तार अंसारी समेत उसके कई गुर्गों के खिलाफ कार्रवाई कर चुकी है। अब तक सरकार अंसारी और उसकी बीवी के नाम पर दर्ज करोड़ों की संपत्तियों को न केवल जब्त कर चुकी है, बल्कि अवैध संपत्तियों पर बुलडोजर भी चला चुकी है।

 

  सहयोग करें  

एनडीटीवी हो या 'द वायर', इन्हें कभी पैसों की कमी नहीं होती। देश-विदेश से क्रांति के नाम पर ख़ूब फ़ंडिग मिलती है इन्हें। इनसे लड़ने के लिए हमारे हाथ मज़बूत करें। जितना बन सके, सहयोग करें

ऑपइंडिया स्टाफ़http://www.opindia.in
कार्यालय संवाददाता, ऑपइंडिया

संबंधित ख़बरें

ख़ास ख़बरें

कभी ज़िंदा जलाया, कभी काट कर टाँगा: ₹60000 करोड़ का नुकसान, हत्या-बलात्कार और हिंसा – ये सब देश को देकर जाएँगे ‘किसान’

'किसान आंदोलन' के कारण देश को 60,000 करोड़ रुपए का घाटा सहना पड़ा। हत्या और बलात्कार की घटनाएँ हुईं। आम लोगों को परेशानी झेलनी पड़ी।

बारबाडोस 400 साल बाद ब्रिटेन से अलग होकर बना 55वाँ गणतंत्र देश: महारानी एलिजाबेथ द्वितीय का शासन पूरी तरह से खत्म

बारबाडोस को कैरिबियाई देशों का सबसे अमीर देश माना जाता है। यह 1966 में आजाद हो गया था, लेकिन तब से यहाँ क्वीन एलीजाबेथ का शासन चलता आ रहा था।

प्रचलित ख़बरें

- विज्ञापन -

हमसे जुड़ें

295,307FansLike
140,754FollowersFollow
412,000SubscribersSubscribe