Thursday, October 22, 2020
Home विविध विषय भारत की बात राहुल गाँधी का इस्लाम और शांति: अक़बर और नरमुंडों का पहाड़ (भाग-1)

राहुल गाँधी का इस्लाम और शांति: अक़बर और नरमुंडों का पहाड़ (भाग-1)

अकबर 'महान' के ताज़पोशी की एक ऐसी कहानी जो भारत को अपना देश मानने वालों के रूह कँपा दे। शांति का एक ऐसा सन्देश जो इस्लाम से भारत को मिला।

राहुल गाँधी ने दुबई में एक बयान देते हुए कहा है कि राष्ट्रपिता महात्मा गाँधी ने इस्लाम से भी शांति सीखी। हालाँकि उन्हें ‘हिन्दू’ बोलने में उन्हें कुछ सकुचाहट महसूस हुई और तमाम नाम लेने के बाद वो सनातनियों की अहिंसा तक नहीं पहुँच पाए। हो सकता है जनेऊ पार्टी कार्यालय में ही छूट गया हो। राहुल गाँधी के दुबई में दिए गए इस बयान के बाद इस बात पर तर्क-वितर्क आवश्यक हो जाता है कि आख़िर राहुल गाँधी किस इस्लाम की बात कर रहे हैं। इस्लाम के इतिहास में आख़िर वो कौन-सा वाक़या था जिसने राहुल गाँधी के अनुसार गाँधीजी तक को शांति का सन्देश दिया। इसकी पड़ताल ज़रूरी है।

भारत में जब इस्लाम का नाम आता है और सहिष्णुता की चर्चा की जाती है तब लिबरल और सेक्युलर लोग सबसे पहले अक़बर ‘महान’ की बात करते हैं। इसीलिए यहाँ भी हम बात अक़बर से ही शुरू करेंगे। जी हाँ, इस्लाम, शांति, सहिष्णुता और सद्भाव को एक साथ रख कर चलने वाले अक़बर के चेलों की जब चर्चा हो रही है, तो बात वहीं से शुरू की जाएगी।

हेमचन्द्र विक्रमादित्य- एक ऐसा नाम जो सिलेबस में बहुत कम मिलता है, एक ऐसा नाम जिस पर हमारे इतिहास के किताबों में कोई चैप्टर नहीं है। एक ऐसी गाथा- जो हर भारतीय के जबान पर होनी चाहिए लेकिन अधिकतर लोग इससे अवगत नहीं हैं। लेकिन अब समय आ गया है जब हम इतिहास की गलतियों से सीख लेकर वर्तमान को ठीक करें।

तो आइए, एक छोटी सी कहानी से शुरू करते हैं। एक कहानी जो भारत में इस्लामिक सद्भावना के सबसे बड़े प्रतीक- अक़बर ‘महान’ से जुडी है, अक़बर की ताज़पोशी से जुड़ी है, भारतीय इस्लामिक इतिहास के सबसे बड़े अध्याय की शुरुआत से जुड़ी है।

कुछ दिनों पहले अमित शाह ने 2019 के लोकसभा चुनावों को पानीपत की तीसरी लड़ाई बताई थी। हो सकता है इसमें सच्चाई हो। लेकिन, उससे पहले हमें यह जानना चाहिए कि पानीपत के दूसरे युद्ध में क्या हुआ था। 5 नवंबर 1556 का दिन था। यानि कि आज से लगभग साढ़े चार सौ वर्ष पहले। दिल्ली के सिंहासन पर अंतिम हिन्दू सम्राट हेमचन्द्र विक्रमादित्य उर्फ़ हेमू विराजमान थे। एक ऐसा वीर योद्धा जिसने 22 युद्ध जीत कर इतिहास रच दिया था। एक ऐसा वीर जो एक साधारण गरीब परिवार से मंत्री, सेनाध्यक्ष और फिर सम्राट तक की पदवी पर पहुँचा। लेकिन उसके सिंहासन धारण किए एक महीने भी नहीं हुए थे। तब तक अक़बर की सेना ने दिल्ली पर आक्रमण कर दिया।

हेमू की सेना, दिल्ली के लोग, चाणक्य के अखंड भारत के स्वप्न को फिर से साकार होने का स्वप्न देख रही भारत की जनता- सब आश्वस्त थे कि 22 युद्ध जीतने वाला महान योद्धा उनके लिए फिर जीत की सौग़ात लाएगा। लेकिन हुआ इसके उलट। संख्याबल, शस्त्र और साधन- हर मामले में हेमू की सेना मुग़लों पर भारी थी। पर शायद नियति को कुछ और ही मंजूर था। अपनी सेना का खुद नेतृत्व कर रहे हेमचन्द्र ने जब हाथी पर बैठ कर विकराल रूप धरा तो अकबर का क़रीबी और तुर्क सेना का नेतृत्व कर रहा आततायी बैरम खान भी एक पल के लिए काँप गया।

जीत क़रीब थी तभी न जाने कहाँ से एक तीर आकर हेमू की आँख को बेध गया। मूर्छित हेमू हाथी से सीधा गिर पड़ा और उसकी सेना में ऐसा हाहाकार मचा कि भारत में अगले 300 से भी अधिक वर्षों के लिए इस्लामिक राजसत्ता स्थापित हो गई। यहाँ तक जो भी हुआ वो तख़्त की लड़ाई में दुनिया भर में बहुतों बार हो चुका है। लेकिन इसके बाद जो हुआ वो अक़बर को महान बताने वाले और इस्लाम से शांति सीखने का सन्देश देने वाले हर एक आदमी को अपना मुँह छिपाने पर मजबूर कर दे। अक़बर के आदेश से अधमरे हेमचन्द्र विक्रमादित्य का गला काट कर उसके धड़ और सर को अलग कर दिया गया।

उसके बाद अक़बर की सेना ने दिल्ली में जो तबाही मचाई उसकी तुलना चंगेज़ खान द्वारा बीजिंग में की गई क्रूरता से की जा सकती है। आख़िर, अक़बर के अंदर भी तो बीजिंग को लाशों का शहर बनाने वाले मंगोल चंगेज़ खान का ही खून दौड़ रहा था। हेमू के सर को काबुल भेज दिया गया और उसके धड़ को दिल्ली के एक द्वार से लटका दिया गया ताकि हर एक भारतवासी जो उधर से गुज़रे, अपने राजा का क्षत-विक्षत शव देख कर क्रंदन करे और अपने देश के भाग्य को हज़ार बार कोसे। आज भी अगर आप पानीपत में हेमू के समाधी स्थल के दर्शन करने जाएँ तो सोचे कि वो कौन सी शांति थी जिसका सन्देश अक़बर और बैरम खान ने भारत में आकर दिया था। अक़बर को महान बताने वाले किस मुँह से उसे भारत में धर्मनिरपेक्षता का चेहरा बताते हैं?

अकबरनामा में किया गया चित्रण: स्कल टॉवर (नरमुंडों का पहाड़) ; फोटो साभार: ट्रू इंडोलॉजी

इसके बाद दिल्ली में खोपड़ियों का एक इतना बड़ा टावर खड़ा किया गया जिसे पूरी दिल्ली देख सके। नरमुंडों का एक इतना विशाल ढेर, जिसे देख कर नृशंसता भी हज़ार बार काँपे। भारत में इस्लामिक आक्रांताओं द्वारा किये गए सैकड़ों आक्रमणों में से ये सबसे ज़्यादा क्रूर, नृशंस और घिनौना था। उसके बाद अकबर की सेना ने दिल्ली में घुस कर हज़ारों महिलाओं का बलात्कार किया, जिन्होंने इस्लाम अपनाने से मना किया- उनका सर बेहद ‘शांति’ से अलग कर दिया गया। ऐसी मारकाट मचाई गई जिस से दिल्ली में या तो लाश बचे या फिर ज़िंदा लाश।

नरमुंडों के कंकाल के बीच शांति का एक बहुत ही अच्छा सन्देश दिया गया। और उस पर विडम्बना ये कि उस घटना के बाद जो शहंशाह बन कर दिल्ली की गद्दी पर बैठा- वो ‘महान’ बना और उसे भारत में सांप्रदायिक समावेश का सबसे बड़ा चेहरा बना दिया गया। ये कहाँ का न्याय है? ऐसा किसी देश में नहीं हुआ की जिस आक्रांता ने वहाँ जाकर उनके पूर्वजों को मारा-काटा हो, महिलाओं की इज़्ज़त लूटी हो- उसे ही भगवान बना दिया गया।

अगर यही इस्लाम है, अगर यही इसके लिए शांति का सन्देश है- तो फिर ईश्वर न करे कि ऐसी शांति भविष्य में कभी देखने को मिले। ऐसे शांति के अनगिनत सन्देश दिए गए हैं भारत को- इस्लाम द्वारा, इस्लामिक आक्रांताओं द्वारा, आज के लिबरल्स के पोस्टर बॉय्ज़ द्वारा। इस सबकी पड़ताल होगी एक-एक कर। इतिहास में जाकर हर उस घटना को खँगाला जाएगा जहाँ इस्लाम ने शांति का सन्देश देने की कोशिश की है और उसे आज के लोगों के सामने बताया जाएगा। इंतज़ार कीजिये हमारे इस सीरीज़ के अगले लेख का।

  सहयोग करें  

एनडीटीवी हो या 'द वायर', इन्हें कभी पैसों की कमी नहीं होती। देश-विदेश से क्रांति के नाम पर ख़ूब फ़ंडिग मिलती है इन्हें। इनसे लड़ने के लिए हमारे हाथ मज़बूत करें। जितना बन सके, सहयोग करें

अनुपम कुमार सिंहhttp://anupamkrsin.wordpress.com
चम्पारण से. हमेशा राइट. भारतीय इतिहास, राजनीति और संस्कृति की समझ. बीआईटी मेसरा से कंप्यूटर साइंस में स्नातक.

संबंधित ख़बरें

ख़ास ख़बरें

चीनी Huawei, ZTE को स्वीडन ने भी प्रतिबंध लगा कर भगाया, कहा – ‘चोरी करके अपनी सेना की ताकत बढ़ा रहा था’

स्वीडन की सेना और सुरक्षा एजेंसियों की तरफ से सुझाव मिलने के बाद चीनी Huawei और ZTE को अगले महीने होने वाले स्पेक्ट्रम आवंटन से...

‘उस टीचर का गला काट कर कोई अपराध नहीं किया, पैगंबर के अपमान की सजा केवल मौत’ – इस्लामी स्कॉलर अल यूसुफ

इस्लामी कट्टरपंथी ने कहा कि लोगों को इस बात पर गौर करना चाहिए कि आखिर किस कारण युवक ऐसा करने के लिए मजबूर हुआ।

तेजस्वी की भीड़ ‘इंक्रिडिबल’, मोदी की भीड़ से कोरोना: स्टार प्रचारक सागरिका घोष ने बाँटा ज्ञान

सागरिका घोष ने तेजस्वी यादव की चुनावी रैली को तो 'इंक्रिडिबल' बताया मगर PM मोदी को ये नसीहत देती देखी गई कि उन्हें कोरोना के कारण बिहार में चुनावी रैली नहीं करनी चाहिए।

ईद पर झुक कर सलाम Vs नवरात्र पर कटरीना वाली ‘रात’ और सलमान की ‘डंडी’: Eros Now ने माँगी माफी

इरोज नाउ ने ईद के मौके पर पहले शालीनता से बधाईयाँ दी हैं। वहीं नवरात्र के मौके पर दोयम दर्जे की मानसिकता का प्रदर्शन किया है।

पैगंबर मोहम्मद पर पोस्ट करने वाले कॉन्ग्रेस MLA के भतीजे को जमानत, इसी पोस्ट के कारण हुई थी बेंगलुरु हिंसा

कोर्ट ने सभी पक्षों को सुनकर कहा कि जिन धाराओं में नवीन के ख़िलाफ़ मुकदमे दर्ज हुए हैं, उनमें अधिकतम सजा की अवधि तीन वर्ष है और...

‘गधा ओवैसी जोकर जहाँ दिखे उसे चप्पलों से मारना चाहिए’: मुग़ल प्रिंस तुसी का फूटा KCR-ओवैसी पर गुस्सा

तुसी ने ओवैसी को लताड़ लगते हुए कहा, "कमीने तुझे शर्म आनी चाहिए, तू शर्म से मर जा रे कमीने तू, गधा, बेवकूफ। मैं आवाम से कहूँगा कि चप्पल से मारें इसको।"

प्रचलित ख़बरें

मैथिली ठाकुर के गाने से समस्या तो होनी ही थी.. बिहार का नाम हो, ये हमसे कैसे बर्दाश्त होगा?

मैथिली ठाकुर के गाने पर विवाद तो होना ही था। लेकिन यही विवाद तब नहीं छिड़ा जब जनकवियों के लिखे गीतों को यूट्यूब पर रिलीज करने पर लोग उसके खिलाफ बोल पड़े थे।

कपटी वामपंथियो, इस्लामी कट्टरपंथियो! हिन्दू त्योहार तुम्हारी कैम्पेनिंग का खलिहान नहीं है! बता रहे हैं, सुधर जाओ!

हिन्दुओ! अपनी सहिष्णुता को अपनी कमजोरी मत बनाओ। सहिष्णुता की सीमा होती है, पागल कुत्ते के साथ शयन नहीं किया जा सकता, भले ही तुम कितने ही बड़े पशुप्रेमी क्यों न हो।

37 वर्षीय रेहान बेग ने मुर्गियों को बनाया हवस का शिकार: पत्नी हलीमा रिकॉर्ड करती थी वीडियो, 3 साल की जेल

इन वीडियोज में वह अपनी पत्नी और मुर्गियों के साथ सेक्स करता दिखाई दे रहा था। ब्रिटेन की ब्रैडफोर्ड क्राउन कोर्ट ने सबूतों को देखने के बाद आरोपित को दोषी मानते हुए तीन साल की सजा सुनाई है।

पैगंबर मोहम्मद के ढेर सारे कार्टून… वो भी सरकारी बिल्डिंग पर: फ्रांस में टीचर के गला काटने के बाद फूटा लोगों का गुस्सा

गला काटे गए शिक्षक सैम्युएल पैटी को याद करते हुए और अभिव्यक्ति की आजादी का समर्थन करने के लिए पैगम्बर मोहम्मद के कार्टूनों का...

सूरजभान सिंह: वो बाहुबली, जिसके जुर्म की तपिश से सिहर उठा था बिहार, परिवार हो गया खाक, शर्म से पिता और भाई ने की...

कामदेव सिंह का परिवार को जब पता चला कि सूरजभान ने उनके किसी रिश्तेदार को जान से मारने की धमकी दी है तो सूरजभान को उसी के अंदाज में संदेश भिजवाया गया- “हमने हथियार चलाना बंद किया है, हथियार रखना नहीं। हमारी बंदूकों से अब भी लोहा ही निकलेगा।”

दाढ़ी नहीं कटाने पर यूपी पुलिस के SI इंतसार अली को किया गया सस्पेंड, 3 बार एसपी से मिल चुकी थी चेतावनी

"इंतसार अली बिना किसी भी तरह की आज्ञा लिए दाढ़ी रख रहे थे। कई बार शिकायत मिल चुकी थी। इस संबंध में उन्हें 3 बार चेतावनी दी गई और..."
- विज्ञापन -

चीनी Huawei, ZTE को स्वीडन ने भी प्रतिबंध लगा कर भगाया, कहा – ‘चोरी करके अपनी सेना की ताकत बढ़ा रहा था’

स्वीडन की सेना और सुरक्षा एजेंसियों की तरफ से सुझाव मिलने के बाद चीनी Huawei और ZTE को अगले महीने होने वाले स्पेक्ट्रम आवंटन से...

‘उस टीचर का गला काट कर कोई अपराध नहीं किया, पैगंबर के अपमान की सजा केवल मौत’ – इस्लामी स्कॉलर अल यूसुफ

इस्लामी कट्टरपंथी ने कहा कि लोगों को इस बात पर गौर करना चाहिए कि आखिर किस कारण युवक ऐसा करने के लिए मजबूर हुआ।

तेजस्वी की भीड़ ‘इंक्रिडिबल’, मोदी की भीड़ से कोरोना: स्टार प्रचारक सागरिका घोष ने बाँटा ज्ञान

सागरिका घोष ने तेजस्वी यादव की चुनावी रैली को तो 'इंक्रिडिबल' बताया मगर PM मोदी को ये नसीहत देती देखी गई कि उन्हें कोरोना के कारण बिहार में चुनावी रैली नहीं करनी चाहिए।

सलमान लड़कियों को वीडियो कॉल करके दिखाता था अपना प्राइवेट पार्ट, फोट काटने पर 30 महिलाओं को भेज चुका था ‘गंदी वीडियो’

सलमान राजस्थान में रहने वाले अपने दोस्त का नंबर इस्तेमाल कर रहा था। उसने इस नंबर से कई अन्य महिलाओं के साथ भी ऐसी बदसलूकी की थी।

ईद पर झुक कर सलाम Vs नवरात्र पर कटरीना वाली ‘रात’ और सलमान की ‘डंडी’: Eros Now ने माँगी माफी

इरोज नाउ ने ईद के मौके पर पहले शालीनता से बधाईयाँ दी हैं। वहीं नवरात्र के मौके पर दोयम दर्जे की मानसिकता का प्रदर्शन किया है।

पैगंबर मोहम्मद पर पोस्ट करने वाले कॉन्ग्रेस MLA के भतीजे को जमानत, इसी पोस्ट के कारण हुई थी बेंगलुरु हिंसा

कोर्ट ने सभी पक्षों को सुनकर कहा कि जिन धाराओं में नवीन के ख़िलाफ़ मुकदमे दर्ज हुए हैं, उनमें अधिकतम सजा की अवधि तीन वर्ष है और...

‘गधा ओवैसी जोकर जहाँ दिखे उसे चप्पलों से मारना चाहिए’: मुग़ल प्रिंस तुसी का फूटा KCR-ओवैसी पर गुस्सा

तुसी ने ओवैसी को लताड़ लगते हुए कहा, "कमीने तुझे शर्म आनी चाहिए, तू शर्म से मर जा रे कमीने तू, गधा, बेवकूफ। मैं आवाम से कहूँगा कि चप्पल से मारें इसको।"

बिहार चुनाव ग्राउंड रिपोर्ट: बिहार में बिल गेट्स वाला गाँव, उस ‘इवेंट मैनेजमेंट’ से क्या हुआ? | Bill Gates took photos here

2011 में यह गाँव मीडिया की सुर्खियों में था। यहाँ की एक बिटिया, जिसका नाम रानी है, को बिल गेट्स ने गोद में लिया था। लेकिन 10 साल बाद भी...

ब्रजेश पांडे, जिन्नावादी उस्मानी को कॉन्ग्रेस का टिकट: अजीत भारती का वीडियो | Ajeet Bharti on Congress becoming Muslim League

मशकूर अहमद उस्मानी को दरभंगा के जाले से टिकट दिया गया है, तो वहीं ब्रजेश पांडे को रोहिनगंज नाम की जगह से टिकट मिला है।

लेह चीन का हिस्सा, भारत का नहीं: ट्विटर को पड़ी लताड़, गलत नक्शे के लिए मंत्रालय ने CEO को लिखा ‘कड़ा पत्र’

ट्विटर को कड़ी चेतावनी देते हुए मंत्रालय के सचिव ने लिखा कि आने वाले समय में इस तरह की गलतियाँ स्वीकार नहीं की जाएँगी और...

हमसे जुड़ें

272,571FansLike
78,979FollowersFollow
336,000SubscribersSubscribe