Sunday, April 11, 2021
Home विचार राजनैतिक मुद्दे सस्ता सामान, आश्वासन टिकाऊ: चीन की दोमुँही विदेश नीति

सस्ता सामान, आश्वासन टिकाऊ: चीन की दोमुँही विदेश नीति

चीन का यह दोहरा रवैया इसलिए भी है क्योंकि पाकिस्तान के साथ उसका रिश्ता उतना ही पुराना है जितना पाकिस्तान का इतिहास। इसलिए एक तरफ वो भारत पर हुए हमले की निंदा करता है और दूसरी तरफ पाकिस्तान को हमेशा अपनी छत्रछाया में सुरक्षित रखता है।

चीन अपने सस्ते सामान के ज़रिए विश्वभर में अपनी एक अलग पैठ बना चुका है। चीन का सामान और उसकी क़ीमत आए दिन चर्चा का विषय बने होते हैं। वो बात अलग है कि क़ीमत के साथ-साथ उसके टिकाऊपन पर भी चर्चा होती है, जो अक्सर एक मज़ाक का भी रूप ले लेती है। सस्ता चाइनीज़ माल वैसे तो एक औसत आय के व्यक्ति की पॉकेट के लिए सुविधाजनक हो जाता है लेकिन उसका टिकाऊपन मन में कहीं घर कर ही जाता है।

यह तो रही बात चीन के व्यापार की। अब बात करते हैं भारत के संदर्भ में उसकी विदेश नीति की, जो खोखली होने के साथ-साथ दोमुँही भी है। खोखली इसलिए क्योंकि वो कहता कुछ है और करता कुछ है। दोमुँही इसलिए क्योंकि वो आश्वासन देने में कभी पीछे नहीं रहा, इसमें वो हमेशा अपना टिकाऊपन दिखाता है। इसमें वो ऊपरी तौर पर हमेशा कहता आया है कि हम भारत के साथ हैं और भारत के हितों की हमें परवाह है। लेकिन ये तमाम दावे फ़र्ज़ी ही होते हैं, जिनकी सीमा केवल ज़ुबान से कह देने भर की होती है, करने की कुछ नहीं।

पाकिस्तान, भारत को अब तक जिन आतंकी हमलों से लहू-लुहान करता आया है, उससे दुनिया परिचित है। पुलवामा आत्मघाती हमला भारत के सीने पर धोखे किया वो वार है, जिसकी विश्वभर में घोर निंदा हुई। इस हमले पर जहाँ सभी देश भारत के साथ खड़े थे वहीं चीन अपनी दोहरी चाल के साथ पाकिस्तान के साथ दोस्ती निभा रहा है। दोहरी चाल इसलिए क्योंकि जब-जब भारत ने उससे न्यायपूर्ण व्यवहार की अपेक्षा की, तब-तब चीन ने अपना असली रंग दिखाया।

अभी के परिदृश्य में देखा जाए तो चीन ने पाकिस्तान से अपना याराना निभाते हुए प्रतिबंधित आतंकी संगठन जैश-ए-मुहम्मद के सरगना मसूद अज़हर को वैश्विक आतंकी घोषित करने पर चौथी बार अड़ंगा लगाया। पिछले 10 सालों से वो अपनी इसी विदेश नाीति का अनुसरण कर रहा है जबकि मसूद को वैश्विक आतंकी की सूची में शामिल करने का प्रस्ताव अमेरिका, ब्रिटेन और फ्रांस ने पेश किया था। फिर भी अपनी वीटो पावर का इस्तेमाल कर चीन ने पाकिस्तान के साथ अपने गहरे रिश्ते होने का प्रमाण दे ही दिया। हालाँकि भारत को झूठा दिलासा देने से भी नहीं चूकता चीन। समय-समय पर वो ऐसे समीकरण भी बुनता है, जिससे वो दुनिया को दिखा सके कि उसे भी भारत की चिंताओं का ज्ञान है।

चीनी राजदूत लुओ जाओहुई ने ऐसा ही कुछ कहा, जिसे ज़ुबानी खेल के अलावा और कुछ नहीं कहा जा सकता। उन्होंने दिल्ली में चीनी दूतावास में होली समारोह के दौरान कहा कि मसूद अज़हर के बारे में हम सब समझते हैं और हम इस मामले पर पूरी तरह से विश्वास करते हैं। हम भारत की चिंताओं को समझते हैं और आशावादी हैं कि इस मामले को सुलझा लिया जाएगा।

चीन का यह दोहरा रवैया इसलिए भी है क्योंकि पाकिस्तान के साथ उसका रिश्ता उतना ही पुराना है जितना कि पाकिस्तान का इतिहास। इसलिए एक तरफ तो वो भारत पर हुए हमले की निंदा करता है और दूसरी तरफ पाकिस्तान को हमेशा अपनी छत्रछाया में सुरक्षित भी रखता है।

दरअसल, चीन की यह दोहरी नीति ही है, जिससे वो पाकिस्तान पर अपनी दयादृष्टि बनाए रखते हुए भारत पर अपना दबाव बनाए रखने का प्रयास करता है। साथ में भारत को पाकिस्तान से उलझाए रखने की अपनी चाल भी चलता है। ऐसा करने के पीछे चीन की मंशा भारत को विकसित होने से रोकना है और ख़ुद एक राष्ट्र के रूप में गतिमान बने रहना चाहता है। इसके अलावा वो नहीं चाहता कि एशियाई देशों में भारत का दबदबा क़ायम हो सके।

दूसरा कारण यह भी है कि संयुक्त राष्ट्र सुरक्षा परिषद में चीन अपने अधिकार और वैधता के वर्चस्व को बनाए रखना चाहता है, जिससे वो यह दिखा सके कि उसकी मर्ज़ी के बिना दक्षिण एशिया कुछ नहीं कर सकता। पाकिस्तान के प्रति चीन की वफ़ादारी का एक कारण यह भी है कि चाइना पाकिस्तान इकोनॉमी कॉरिडोर (CPEC) के बुनियादी ढांचे पर चीन ने बहुत बड़ा निवेश किया है। इस निवेश की आड़ में चीन, पाकिस्तानी ख़ुफिया एजेंसी (ISI) और जैश को अंतरराष्ट्रीय सुरक्षा प्रदान करता है। इसके बदले में उसे अपने प्रोजेक्ट में किसी भी तरह के आतंकवादी हमला न होने की गारंटी मिलती है।

पाकिस्तान में किए गए निवेश के ज़रिए चीन दुनिया भर के बाज़ारों में अपना दबदबा बनाना चाहता है। इसलिए वो हमेशा पाकिस्तान के साथ उसकी मदद के लिए हाथ बाँधे खड़ा रहता है। चीन का सपना हमेशा से ही भारत को घेरने का रहा है – फिर चाहे वो डोकलाम के माध्यम से हो, अफगानिस्तान को अपने ड्रीम प्रोजेक्ट ‘वन बेल्ट वन रोड’ में शामिल करने के माध्यम से हो, श्रीलंका में अपने प्रोजेक्ट ‘हम्बनटोटा’ समुद्री परियोजना हो, म्यांमार में बंदरगाह बनाने की आड़ में भारत को घेरने की मंशा हो, या फिर नेपाल के साथ अपनी बढ़ती नज़दीकियों के माध्यम से हो। भारत को हर तरफ से घेरने की फ़िराक में रहने वाला चीन कभी भारत का हित नहीं सोचता। हाँ, यह सच है कि को ऊपरी तौर पर वो ख़ुद को भारत का हितैषी घोषित करने में तुला रहता है, लेकिन सिर्फ ऊपरी तौर पर।

आतंकवादी मसूद अज़हर को वैश्विक आतंकी घोषित करने के मामले में जो रुख़ चीन ने अब अपनाया है, वही रुख़ उसने तब भी अख़्तियार किया था, जब भारत में मुंबई हमले के मास्टरमाइंड और लश्कर-ए-तैयब्बा के कमांडर जकीउर रहमान लखवी की रिहाई पर भारत ने पाकिस्तान के ख़िलाफ़ कार्रवाई की माँग की थी। उस समय प्रतिबंधों से संबंधित संयुक्त राष्ट्र की समिति ने भारत के आग्रह पर बैठक की थी। उस बैठक में मुंबई हमले के मामले में लखवी की रिहाई को लेकर पाकिस्तान से स्पष्टीकरण माँगा जाना था, लेकिन चीन के प्रतिनिधियों ने इस आधार पर इस क़दम को रोक दिया था कि भारत के पास इस संदर्भ में पर्याप्त सूचना नहीं है। जबकि पाकिस्तानी अदालत द्वारा लखवी की रिहाई 1267 संयुक्त राष्ट्र प्रस्ताव का उल्लंघन था। उस समय भी चीन को छोड़कर अमेरिका, रूस, फ्रांस और जर्मनी ने लखवी की रिहाई पर गहरी चिंता व्यक्त की थी और उसकी गिरफ़्तारी की माँग की गई थी।

चीन का पाकिस्तान के साथ इतना गहरा रिश्ता यह स्पष्ट करता है जैसे उसने पाकिस्तान को गोद ले रखा हो और उसके हर बुरे कामों को अपनी आड़ में छिपाना उसका परम कर्तव्य है। चीन अपनी कुटिल चालों से भारत को सिर्फ़ भरमाने का काम करता है। ताकि भारत-पाकिस्तान हमेशा उलझे रहें और वो दूसरे तरीकों से अपना उल्लू सीधा करता रहे।

  सहयोग करें  

एनडीटीवी हो या 'द वायर', इन्हें कभी पैसों की कमी नहीं होती। देश-विदेश से क्रांति के नाम पर ख़ूब फ़ंडिग मिलती है इन्हें। इनसे लड़ने के लिए हमारे हाथ मज़बूत करें। जितना बन सके, सहयोग करें

संबंधित ख़बरें

ख़ास ख़बरें

टीका उत्सव की शुरुआत पर PM मोदी ने किए 4 आग्रह: वैक्सीनेशन में भारत दुनिया में सबसे तेज, 85 दिन में ही 10 करोड़...

कोरोना की दूसरी लहर के जोर पकड़ने के बीच आज से राष्ट्रव्यापी टीका उत्सव का आगाज हुआ है। यह 14 अप्रैल तक चलेगा।

कूच बि​हार में नेताओं की नो एंट्री, सुरक्षा बलों की 71 और कंपनियों को बंगाल भेजने का निर्देश: हिंसा के बाद EC सख्त

कूच बिहार हिंसा के बाद चुनाव आयोग ने कई सख्त कदम उठाए हैं। 5वें चरण का प्रचार भी 48 घंटे की जगह 72 घंटे पहले खत्म होगा।

‘अब आइसक्रीम नहीं धूल खाएँगे’: सचिन वाजे के तलोजा जेल पहुँचने पर अर्नब गोस्वामी ने साधा बरखा दत्त पर निशाना

डिबेट के 46 मिनट 19 सेकेंड के स्लॉट पर अर्नब ने सीधे बरखा दत्ता को उनकी अवैध गिरफ्तारी पर जश्न मनाने और सचिन वाजे जैसे भ्रष्ट अधिकारी के कुकर्मों का महिमामंडन करने के लिए लताड़ा है।

PM मोदी ने भारत में नई शक्ति का निर्माण कर सांस्कृतिक बदलाव को दिया जन्म, उन्हें रोकना मुश्किल: संजय बारू

करन थापर को दिए इंटरव्यू में राजनीतिक विश्लेषक संजय बारू ने कहा कि प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने देश में सांस्कृतिक बदलाव को जन्म दिया है।

बंगाल: मतदान देने आई महिला से ‘कुल्हाड़ी वाली’ मुस्लिम औरतों ने छीना बच्चा, कहा- नहीं दिया तो मार देंगे

वीडियो में तृणमूल कॉन्ग्रेस पार्टी के नेता को उस पीड़िता को डराते हुए देखा जा सकता है। टीएमसी नेता मामले में संज्ञान लेने की बजाय महिला पर आरोप लगा रहे हैं और पुलिस अधिकारी को उस महिला को वहाँ से भगाने का निर्देश दे रहे हैं।

एंटीलिया के बाहर जिलेटिन कांड के बाद सचिन वाजे करने वाला था एनकाउंटर, दूसरों पर आरोप मढ़ने की थी पूरी प्लानिंग

अपने इस काम को अंजाम देने के लिए वाजे औरंगाबाद से चोरी हुई मारुती इको का इस्तेमाल करता, जिसका नंबर प्लेट कुछ दिन पहले मीठी नदी से बरामद हुआ था।

प्रचलित ख़बरें

‘ASI वाले ज्ञानवापी में घुस नहीं पाएँगे, आप मारे जाओगे’: काशी विश्वनाथ के पक्षकार हरिहर पांडेय को धमकी

ज्ञानवापी केस में काशी विश्वनाथ के पक्षकार हरिहर पांडेय को जान से मारने की धमकी मिली है। धमकी देने वाले का नाम यासीन बताया जा रहा।

बंगाल: मतदान देने आई महिला से ‘कुल्हाड़ी वाली’ मुस्लिम औरतों ने छीना बच्चा, कहा- नहीं दिया तो मार देंगे

वीडियो में तृणमूल कॉन्ग्रेस पार्टी के नेता को उस पीड़िता को डराते हुए देखा जा सकता है। टीएमसी नेता मामले में संज्ञान लेने की बजाय महिला पर आरोप लगा रहे हैं और पुलिस अधिकारी को उस महिला को वहाँ से भगाने का निर्देश दे रहे हैं।

पॉर्न फिल्म में दिखने के शौकीन हैं जो बायडेन के बेटे, परिवार की नंगी तस्वीरें करते हैं Pornhub अकॉउंट पर शेयर: रिपोर्ट्स

पॉर्न वेबसाइट पॉर्नहब पर बायडेन का अकॉउंट RHEast नाम से है। उनके अकॉउंट को 66 badge मिले हुए हैं। वेबसाइट पर एक बैच 50 सब्सक्राइबर होने, 500 वीडियो देखने और एचडी में पॉर्न देखने पर मिलता है।

कूच बिहार में 300-350 की भीड़ ने CISF पर किया था हमला, ममता ने समर्थकों से कहा था- केंद्रीय बलों का घेराव करो

कूच बिहार में भीड़ ने CISF की टीम पर हमला कर हथियार छीनने की कोशिश की। फायरिंग में 4 की मौत हो गई।

‘मोदी में भगवान दिखता है’: प्रशांत किशोर ने लुटियंस मीडिया को बताया बंगाल में TMC के खिलाफ कितना गुस्सा

"मोदी के खिलाफ एंटी-इनकंबेंसी नहीं है। मोदी का पूरे देश में एक कल्ट बन गया है। 10 से 25 प्रतिशत लोग ऐसे हैं, जिनको मोदी में भगवान दिखता है।"

बंगाल: हिंसा में 4 की मौत, कूच बिहार में पहली बार के वोटर को मारी गोली, हुगली में BJP कैंडिडेट-मीडिया पर हमला

बंगाल के कूच बिहार में फायरिंग में 4 लोगों की मौत हो गई। इनमें 18 साल का आनंद बर्मन भी है।
- विज्ञापन -

 

हमसे जुड़ें

292,985FansLike
82,162FollowersFollow
394,000SubscribersSubscribe