Tuesday, April 13, 2021
Home विचार राजनैतिक मुद्दे आरोग्य सेतु ऐप का इस्तेमाल जरूरी, पर व्यक्ति और समाज की प्राइवेसी का ध्यान...

आरोग्य सेतु ऐप का इस्तेमाल जरूरी, पर व्यक्ति और समाज की प्राइवेसी का ध्यान रखना अत्यंत आवश्यक

द डायलॉग के मुताबिक आरोग्य सेतु ऐप की प्राइवेसी पॉलिसी स्पष्ट रूप से एकत्रित डाटा के इस्तेमाल के उद्देश्यों को परिभाषित नहीं करती है। यह अत्यंत महत्वपूर्ण है कि इस ऐप द्वारा एकत्रित डाटा का शैक्षिक, अनुसंधान एवं आँकड़े जानने के अलावा किसी भी अन्य कार्य के लिए इस्तेमाल किया नहीं जाना चाहिए।

दिल्ली मे स्थापित टेक्नोलॉजी पॉलिसी क्षेत्र मे शोध कर रहे द डायलॉग (The Dialogue) नाम के थिंक टैंक ने आरोग्य सेतु ऐप से जुड़े हुए प्राइवेसी के मुद्दों को सुलझाने के लिए 14 बिंदुओं की एक रिपोर्ट तैयार की है। कोरोना वायरस से जूझते हुए देशों ने टेक्नोलॉजी का सहारा लेकर इस महामारी से संक्रमित लोगों को ढूँढने का प्रयास करना सही समझा है।

इस समय कांटेक्ट ट्रेसिंग ऐप का इस्तेमाल बेहद जरूरी है। इसके बिना महामारी का मुकाबला करना काफी मुश्किल साबित हो सकता है। इसी बात को ध्यान में रखते हुए द डायलॉग की यह रिपोर्ट दर्शाती है कि भारत जैसे आबादी वाले देश द्वारा आरोग्य सेतु ऐप का इस्तेमाल जरूरी तो है, पर इस ऐप का एक व्यक्ति और समाज की निजता को ध्यान में रखना अत्यंत आवश्यक है।

यह रिपोर्ट जीवन और स्वास्थ्य के अधिकार एवं निजता के अधिकार को साथ में कैसे प्राप्त करना है, उसके उपाय पर रोशनी डालते हुए 11 प्रमुख सुझाव प्रस्तुत करती है।

इस सामंजस्य को बैठाने के लिए जरूरी है की ऐप के दिशा-निर्देश आवश्यक, कानूनी और आनुपातिक सीमा को ध्यान में रखे। यह रिपोर्ट उच्चतम न्यायालय द्वारा पारित निजता के सिद्धांतों को ध्यान में रखते हुए बनाई गई है। इससे ऐप की कार्यक्षमता पर समझौता किए बिना, इस ऐप के प्रति जनता में विश्वास जागरूक होगा।

इस ऐप की लोकप्रियता और साइबर सुरक्षा मे विकास हेतु ऐप को ओपन सोर्स बनाना महत्वपूर्ण है। ऐप के ओपन सोर्स होने से सभी लोग उसकी तकनीकी खामियों को परख कर उसमें बदलाव का सुझाव दे सकेंगे। इसके आलावा यह रिपोर्ट एक स्वतंत्र ऑडिटर के नियुक्ति का सुझाव प्रस्तुत करती है, जो यह सुनिश्चित करेगा कि निजता के प्रावधानों का पालन हर हाल में किया जा रहा है।

आरोग्य सेतु ऐप की प्राइवेसी पॉलिसी स्पष्ट रूप से एकत्रित डाटा के इस्तेमाल के उद्देश्यों को परिभाषित नहीं करती है। यह अत्यंत महत्वपूर्ण है कि इस ऐप द्वारा एकत्रित डाटा का शैक्षिक, अनुसंधान एवं आँकड़े जानने के अलावा किसी भी अन्य कार्य के लिए इस्तेमाल किया नहीं जाना चाहिए।

इस ऐप की प्राइवेसी पॉलिसी को इस तरह से डिजाइन किया जाना चाहिए कि न्यूनतम डाटा एकत्र करके अधिकतम फल मिले। रिपोर्ट में इस ऐप को कानूनी वैधता दिलाने के लिए राष्ट्रपति द्वारा एक अध्यादेश के प्रख्यापन का महत्व समझाया गया है।

सुझावों में सभी डाटा को एक निश्चित समय के बाद नष्ट करने (भविष्य की महामारियों से निपटने के लिए आवश्यक डेटा को छोड़कर), डाटा न्यूनीकरण, डाटा एनॉनिमायजेशन (टेक्नोलॉजी के माध्यम से किसी भी डाटा से व्यक्तिगत पहचान की जानकारी मिटाने की क्रिया) भी शामिल है।

जारी की गई रिपोर्ट ये भी सुझाव देती है कि व्यक्तिगत डाटा संग्रहित करने की समय-सीमा 21 दिनों पर तय की जानी चाहिए। इसके साथ ही रिपोर्ट में यह भी सिफारिश की गई है कि इस ऐप की प्राइवेसी पॉलिसी में एक ऐसा प्रावधान लाना चाहिए जो एक पूर्व निर्धारित समय के पश्चात गैर व्यक्तिगत (नॉन-पर्सनल) डाटा को सर्वर से हटाने की बात करे।

इस बात में कोई दो राय नहीं है कि यह ऐप इस महामारी से लड़ने के लिए बहुत जरूरी है। भारत के पास ये एक अच्छा मौका है कि वह इस ऐप के जरिए दुनिया के सामने एक मिसाल रखे और इस ऐप को बाकी देशों की तुलना में सबसे बेहतर बनाने की तरफ अग्रसर करे।

नोट: इस लेख के सह-लेखक आयुष त्रिपाठी हैं।

  सहयोग करें  

एनडीटीवी हो या 'द वायर', इन्हें कभी पैसों की कमी नहीं होती। देश-विदेश से क्रांति के नाम पर ख़ूब फ़ंडिग मिलती है इन्हें। इनसे लड़ने के लिए हमारे हाथ मज़बूत करें। जितना बन सके, सहयोग करें

Kazim Rizvihttp://WWW.thedialogue.co
Kazim Rizvi is a public-policy policy entrepreneur and founder of an emerging policy think tank, The Dialogue. A nationalist at heart, Kazim envisages to drive change in India through the medium of policy and research. A lawyer by training, Kazim founded The Dialogue with this vision in June 2017. Over the last couple of years, The Dialogue has emerged as a leading voice in India’s policy ecosystem, with a focus on technology, energy, strategic affairs and development studies. The Dialogue is a horizontal institution that delivers on policy research, public discourse and capacity building initiatives around its key sectoral areas. Previously, Kazim led energy policy communications for the British High Commission and before that, he was a Swaniti Fellow with the Office of Mr. Baijayant Panda, former Member of Parliament.

संबंधित ख़बरें

ख़ास ख़बरें

मरकज से कुम्भ की तुलना पर CM तीरथ सिंह ने दिया ‘लिबरलों’ को करारा जवाब, कहा- एक हॉल और 16 घाट, इनकी तुलना कैसे?

हरिद्वार में चल रहे कुंभ की तुलना तबलीगी जमात के मरकज से करने वालों को मुख्यमंत्री तीरथ सिंह रावत ने करारा जवाब दिया है।

यूपी पंचायत चुनाव लड़ रहे एक प्रत्याशी के घर से भारी मात्रा समोसे-जलेबी की जब्ती, दक्षिण भारत में छिड़ा घमासान

क्या ज़माना आ गया है। चुनाव के मौसम में छापे मारने पर समोसे और जलेबियाँ बरामद हो रही हैं! जब ज़माना अच्छा था और सब ख़ुशी से जीवनयापन करते थे तब चुनावी मौसम में पड़ने वाले छापे में शराब जैसे चुनावी पेय पदार्थ बरामद होते थे।

100 करोड़ की वसूली के मामले में अनिल देशमुख को CBI का समन, 14 अप्रैल को होगी ‘गहन पूछताछ’

महाराष्ट्र के पूर्व गृह मंत्री अनिल देशमुख को 100 करोड़ रुपए की वसूली मामले में पूछताछ के लिए समन जारी किया है। उन्हें 14 अप्रैल को जाँच एजेंसी के सामने पेश होना पड़ेगा।

आंध्र या कर्नाटक… कहाँ पैदा हुए रामभक्त हनुमान? जन्म स्थान को लेकर जानें क्यों छिड़ा है नया विवाद

तिरुमाला तिरुपति देवस्थानम (टीटीडी) द्वारा गठित एक विशेषज्ञ पैनल 21 अप्रैल को इस मामले पर अपनी रिपोर्ट सौंप सकता है। पैनल में वैदिक विद्वानों, पुरातत्वविदों और एक इसरो वैज्ञानिक भी शामिल हैं।

‘गुस्ताख-ए-नबी की इक सजा, सर तन से जुदा’: यति नरसिंहानंद के खिलाफ मुस्लिम बच्चों ने लगाए नारे, वीडियो वायरल

डासना देवी मंदिर के महंत यति नरसिंहानंद के खिलाफ सोमवार को मुस्लिम बच्चों ने 'सर तन से जुदा' के नारे लगाए। पिछले हफ्ते आम आदमी पार्टी के विधायक अमानतुल्ला खान ने अपने ट्विटर अकाउंट पर महंत की गर्दन काट देने की बात की थी।

कुम्भ और तबलीगी जमात के बीच ओछी समानता दिखाने की लिबरलों ने की जी-तोड़ कोशिश, जानें क्यों ‘बकवास’ है ऐसी तुलना

हरिद्वार में चल रहे कुंभ की दुर्भावनापूर्ण इरादे के साथ सोशल मीडिया पर सेक्युलरों ने कुंभ तुलना निजामुद्दीन मरकज़ के तबलीगी जमात से की है। जबकि दोनों ही घटनाओं में मूलभूत अंतर है।

प्रचलित ख़बरें

राजस्थान: छबड़ा में सांप्रदायिक हिंसा, दुकानों को फूँका; पुलिस-दमकल सब पर पत्थरबाजी

राजस्थान के बारां जिले के छाबड़ा में सांप्रदायिक हिसा के बाद कर्फ्यू लगा दिया गया गया है। चाकूबाजी की घटना के बाद स्थानीय लोगों ने...

‘हमें बार-बार जाना पड़ता है, वो वॉशरूम कब जाती हैं’: साक्षी जोशी का PK से सवाल- क्या है ममता बनर्जी का टॉयलेट शेड्यूल

क्लबहाउस पर बातचीत में ‘स्वतंत्र पत्रकार’ साक्षी जोशी ने ममता बनर्जी की शौचालय की दिनचर्या के बारे में उनके चुनावी रणनीतिकार प्रशांत किशोर से पूछताछ की।

बालाघाट में यति नरसिंहानंद के पोस्टर लगाए, अपशब्दों का इस्तेमाल: 4 की गिरफ्तारी पर भड़की ओवैसी की AIMIM

बालाघाट पुलिस ने यति नरसिंहानंद सरस्वती के खिलाफ पोस्टर लगाने के आरोप में मतीन अजहरी, कासिम खान, सोहेब खान और रजा खान को गिरफ्तार किया।

गुफरान ने 5 साल की दलित बच्ची का किया रेप, गला घोंट मार डाला: ‘बड़े सरकार की दरगाह’ पर परिवार के साथ आया था

गुफरान अपने परिवार के साथ 'बड़े सरकार की दरगाह' पर आया हुआ था। 30 वर्षीय आरोपित ने रेप के बाद गला घोंट कर बच्ची की हत्या की।

SHO अश्विनी की हत्या के लिए मस्जिद से जुटाई गई थी भीड़: बेटी की CBI जाँच की माँग, पत्नी ने कहा- सर्किल इंस्पेक्टर पर...

बिहार के किशनगंज जिला के नगर थाना प्रभारी अश्विनी कुमार की शनिवार को पश्चिम बंगाल में हत्या के मामले में उनकी बेटी ने इसे षड़यंत्र करार देते हुए सीबीआई जाँच की माँग की है। वहीं उनकी पत्नी ने सर्किल इंस्पेक्टर पर केस दर्ज करने की माँग की है।

कुरान की 26 आयतों को हटाने वाली याचिका सुप्रीम कोर्ट में खारिज, वसीम रिजवी पर 50000 रुपए का जुर्माना

वसीम रिजवी ने सुप्रीम कोर्ट में कुरान की 26 आयतों को हटाने के संबंध में याचिका दाखिल की थी। इस याचिका को सुप्रीम कोर्ट ने खारिज कर दिया है।
- विज्ञापन -

 

हमसे जुड़ें

292,985FansLike
82,160FollowersFollow
394,000SubscribersSubscribe