Wednesday, October 21, 2020
Home विचार राजनैतिक मुद्दे माँ और महादेव से लेकर आडवाणी और पटेल तक: PM मोदी के ताज़ा दौरों...

माँ और महादेव से लेकर आडवाणी और पटेल तक: PM मोदी के ताज़ा दौरों से मिल रहे संकेत

'हारती' हुई भाजपा को गुजरात में जीत मिली। प्रधानमंत्री उसी एहसान के लिए धन्यवाद देने गुजरात पहुँचे और जनता को सम्बोधित किया। राजनीति में प्रतीकों का क्या महत्व होता है, इसे मोदी...

देश की राजनीति अभी प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी दोबारा के इर्द-गिर्द घूम रही है और वे दोबारा शपथ लेने के लिए तैयार हैं। ताज़ा लोकसभा चुनाव में प्रचंड बहुमत के बाद भाजपा का उत्साह चरम पर है और मोदी के भाषणों की तमाम व्याख्याएँ की जा रही हैं। पत्रकारों, विश्लेषकों और मीडिया द्वारा पीएम मोदी द्वारा कही गई हर बातों की काफ़ी जाँच-परख करके उनके कई अर्थ निकाले जा रहे हैं, जिससे पता चले कि उनके अगले कार्यकाल के दौरान 5 वर्षों के लिए भारत आकार का रुख़ क्या रहेगा? नेताओं के बयानों से हवा का रुख़ भाँपने वाली मीडिया ने पीएम मोदी की गतिविधियों को नज़रअंदाज़ कर दिया। चुनाव के समापन के बाद से ही मोदी के क्रियाकलापों पर हम यहाँ एक एक नज़र डालेंगे।

यहाँ हम ये बात नहीं करेंगे कि मोदी क्या खाते, पहनते और ओढ़ते हैं बल्कि यहाँ हम प्रधानमंत्री के ताज़ा दौरों व स्थलों के चुनाव का विश्लेषण करेंगे। प्रधानमंत्री का व्यक्तिगत जीवन भी है और उन्होंने ख़ुद अपनी माँ से आशीर्वाद लेते हुए फोटो सोशल मीडिया पर साझा की, इसीलिए हम उस पर भी बात करेंगे। सबसे पहले शुरू करते हैं केदारनाथ से। प्रधानमंत्री ने समुद्र तल से क़रीब 12000 फ़ीट की ऊँचाई पर स्थित केदारनाथ में जाकर पूजा-अर्चना की। क्या आपको पता है, जिस दिन पीएम मोदी ने रुद्राभिषेक किया और ध्यान धरा, उस दिन का क्या महत्व था?

दरअसल, उस दिन बौद्धों का सबसे बड़ा त्यौहार यानि बुद्ध पूर्णिमा का दिन था। क़रीब 2 दर्जन देशों में बौद्धों द्वारा मनाए जाने वाले इस त्यौहार के दिन चीन और कोरिया सहित दुनिया भर के कई देशों के लोग छुट्टियाँ भी मनाते हैं। पीएम मोदी ने 18 मई को जब केदारनाथ का दौरा किया, उस दिन प्राचीन भारत के सबसे बड़े आध्यात्मिक पुरोधा भगवान बुद्ध की जयंती थी। भगवान बुद्ध ध्यान के लिए जाने जाते थे, यही कारण है कि बौद्ध धर्म में मैडिटेशन यानि ध्यान का बड़ा महत्त्व है। हिन्दू धर्म में भगवान शिव को अधिकतर ध्यानावस्था में दिखाया जाता रहा है। यही वो क्रिया है जो भगवान बुद्ध और शिव को जोड़ती है। एक पीपल के पेड़ के नीचे ध्यानमग्न दिखाए जाते हैं तो दुसरे कैलाश पर्वत के एकांत में ध्यानमग्न होते हैं।

बुद्ध पूर्णिमा के दिन प्रधानमंत्री द्वारा केदारनाथ की गुफा में ध्यान धरना इन्हीं सांकेतिक पहलुओं का मिलन था, बुद्ध और शिव को एक साथ देखने की चेष्टा के अलावा उनके द्वारा दिखाए गए ध्यान के मार्ग पर चलने के लिए एक तत्परता थी। जब प्रधानमंत्री के नेतृत्व में अंतरराष्ट्रीय योग दिवस की घोषणा होने के बाद भारत सहित दुनिया भर में योग के प्रति लोगों की खोई जागृत हो सकती है, आयुर्वेदिक उत्पादों की बिक्री में अभूतपूर्व वृद्धि हो सकती है, योग प्रशिक्षकों को नौकरी के नए अवसर मिल सकते हैं, तो ध्यान करना और मैडिटेशन का अभ्यास करना भी जनता के लिए एक नए सन्देश लेकर आ सकता है। ये थी केदारनाथ की बात।

इसके बाद प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी में जनता ने फिर से विश्वास जताया और मोदी के नेतृत्व में भाजपा को पूर्ण बहुमत मिला। पिछली बार की तरह इस बार भी गुजरात में भाजपा ने क्लीन स्वीप किया और कॉन्ग्रेस का राज्य में खाता तक नहीं खुला। संसद भवन में राजग की बैठक हुई, जिसमें भाजपा के दोनों पुरोधाओं, लालकृष्ण आडवाणी और मुरली मनोहर जोशी की उपस्थिति में मोदी को सर्वसम्मति से राजग संसदीय दाल का नेता चुना गया, जिसके बाद उनके फिर से प्रधानमंत्री बनने का औपचारिक मार्ग प्रशस्त हो गया। इससे एक दिन पहले भाजपा के दोनों पूर्व अध्यक्षों, जोशी और अडवाणी के यहाँ मोदी और शाह ने जाकर उनसे आशीर्वाद लिया।

जोशी ने बाद में कहा कि भाजपा में जीत के बाद बड़ों की शुभकामनाएँ व आशीर्वाद लेने का चलन रहा है, और मोदी ने उसे बखूबी निभाया। राजग की तरफ से सबसे पहले प्रकाश सिंह बादल ने मोदी को संसदीय दल का नेता घोषित किए जाने का प्रस्ताव पेश किया, जिसका अन्य नेताओं ने अनुमोदन किया। वाराणसी में नामांकन के दौरान भी मोदी ने बादल के पाँव छू कर आशीर्वाद लिया था। अडवाणी, जोशी और बादल- तीनों ही भाजपा व राजग के सबसे बड़े नेताओं में से रहे हैं, और मोदी-शाह ने इनका सम्मान करते हुए यह दिखाया कि भाजपा आज भी वही संस्कार लेकर चल रही है, जो इसमें दशकों से समाहित है।

लेकिन, संसद भवन में मोदी को नेता चुने जाने के दौरान एक और चीज हुई, जिसकी ख़ूब चर्चा हुई। पिछली बार 2014 में मोदी ने जीत के बाद पहली बार संसद में कदम रखते हुए संसद भवन की सीढ़ियों पर झुक कर प्रणाम किया था। संसद भवन को लोकतंत्र का मंदिर बताने वाले मोदी ने सदन के भीतर भी कई बार सांसदों को उनकी ज़िम्मेदारियाँ याद दिलाई। इस बार मोदी अपने भाषण से पहले माइक की तरफ जाने की बजाए किसी अन्य तरफ चल निकले। दरअसल, उन्होंने भारतीय संविधान के पास जाकर अपना सर झुकाया और उसे प्रणाम किया। संविधान को सर नवाने वाले मोदी ने कोशिश की कि लोकतंत्र में यही सबसे बड़ा है और शासन-प्रशासन इसके अनुरूप होना चाहिए।

भगवान शिव और महात्मा बुद्ध के संगम को प्रदर्शित करने के बाद मोदी ने पार्टी के अभिभावकों का आशीर्वाद लिया और फिर वे गुजरात अपनी माँ से मिलने पहुँचे। पीएम मोदी ने अपनी माँ के चरणों में शीश झुका कर उनका आशीर्वाद लिया और अन्य परिवारजनों से मुलाक़ात की। अपने घर गए मोदी ने गुजरात की जनता का अभिनन्दन किया और सरदार पटेल की प्रतिमा को पुष्पहार पहनाया। पीएम मोदी जानते हैं कि आज वह जो भी हैं, उसके मूल में कहीं न कहीं गुजरात ही है, जिसनें उन्हें तीन चुनावों में जीत दिलाई। दंगों के बाद हुए चुनावों में जब उनकी प्रतिष्ठा दाँव पर थी, गुजरात ने मोदी को फिर से सीएम बनाया। इसके बाद मोदी की छवि बदल गई। अब वह सिर्फ़ पार्टी आलाकमान द्वारा चुने गए मुख्यमंत्री ही नहीं थे, अपितु जनता का भी विश्वास जीत चुके थे।

2007 विधानसभा चुनाव में उनकी जीत के बाद यह विश्वास और पक्का हुआ। 2012 में मोदी के प्रधानमंत्री मटेरियल होने की चर्चा ज़ोर हुई और यही वो विधानसभा चुनाव था, जिसनें मोदी को सीधा राष्ट्रीय पटल पर मजबूती से लाकर रख दिया। गुजरात की जनता ने 2012 में मोदी को जीता कर उनका क़द बढ़ा दिया। 2014 लोकसभा चुनाव में मोदी के गृह राज्य में भाजपा ने सारी सीटें जीत ली। इसके बाद 2017 में भाजपा को गुजरात में हार दिख रही थी, तब मोदी ने इतनी मेहनत की कि बोलते-बोलते उनका गला तक बैठ गया। ताज़ा लोकसभा चुनाव में पार्टी ने अपना 2014 वाला प्रदर्शन दोहराया। हारती हुई भाजपा को गुजरात में जीत मिली। प्रधानमंत्री उसी एहसान के लिए धन्यवाद देने गुजरात पहुँचे और जनता को सम्बोधित किया।

गुजरात के बाद पीएम मोदी अपनी नई राजनीतिक कर्मभूमि वाराणसी पहुँचे, जहाँ वह नामांकन के बाद नहीं गए थे। मोदी ने वाराणसी में रोड शो के अलावा कोई चुनाव-प्रचार नहीं किया और उन्हें भारी जीत मिली। वाराणसी पहुँचे मोदी ने काशी विश्वनाथ मंदिर में पूजा-अर्चना की। इस दौरान मंदिर में रुद्राष्टकम का भी पाठ होता रहा, जिसे गोस्वामी तुलसीदास द्वारा शिव की स्तुति करते हुए रामचरितमानस के उत्तरकाण्ड में लिखा गया है। केदारनाथ में शिव और बुद्ध के संगम को प्रदर्शित करने वाले मोदी ने द्वारकाधीश श्रीकृष्ण की धरती से लौट कर महादेव की धरती पर राम और शिव के संगम को प्रदर्शित किया। इनमें से अधिकतर दौरों में अमित शाह उनके साथ रहे।

कुल मिलाकर देखें तो मोदी ने बुद्ध पूर्णिमा के दिन केदारनाथ जाकर गुफा में ध्यान किया। फिर उन्होंने भाजपा के अभिभावकों से आशीर्वाद लिया। उसके बाद वह अपनी माँ के चरणों में थे, परिवारजनों से मुलाक़ात की। फिर उन्होंने अपने गृह राज्य की जनता को धन्यवाद करते हुए सरदार पटेल को याद किया और मूर्ति पर माल्यार्पण किया। तत्पश्चात मोदी वापस बाबा की नगरी काशी पहुँचे। सरदार पटेल की मूर्ति को लेकर काफ़ी विवाद भी हुआ था लेकिन मोदी को शायद पता है कि प्रतीक चिह्नों का राजनीति व संस्कृति में क्या महत्व है। संविधान को शीश नवाने वाले मोदी काशी विश्वनाथ में महादेव की पूजा अर्चना करते हैं, यानी अगले पाँच वर्ष जो भी काम होंगे, लोकतंत्र के अनुरूप होंगे और भारतीय संस्कृति और आध्यात्मिक आस्था का सम्मान करते हुए होंगे।

  सहयोग करें  

एनडीटीवी हो या 'द वायर', इन्हें कभी पैसों की कमी नहीं होती। देश-विदेश से क्रांति के नाम पर ख़ूब फ़ंडिग मिलती है इन्हें। इनसे लड़ने के लिए हमारे हाथ मज़बूत करें। जितना बन सके, सहयोग करें

अनुपम कुमार सिंहhttp://anupamkrsin.wordpress.com
चम्पारण से. हमेशा राइट. भारतीय इतिहास, राजनीति और संस्कृति की समझ. बीआईटी मेसरा से कंप्यूटर साइंस में स्नातक.

संबंधित ख़बरें

ख़ास ख़बरें

‘अर्नब इतने हताश हो जाएँगे कि उन्हें आत्महत्या करनी पड़ेगी’: स्टिंग में NCP नेता और उद्धव के मंत्री नवाब मलिक का दावा

NCP मुंबई के अध्यक्ष और उद्धव सरकार में अल्पसंख्यक विकास मंत्री नवाब मलिक ने कहा कि अर्नब इसमें स्पष्ट रूप से फँस चुके हैं और इसका असर उनकी मानसिक अवस्था पर पड़ेगा।

वामपंथन कविता कृष्णन ने ‘लव जिहाद’ से जताई अनभिज्ञता, कहा- मुझे एक भी केस नहीं मिले, ये लीजिए पढ़िए हाल के 10 से अधिक...

आज कविता कृष्णन, जिन्हें लव जिहाद के मामले रिसर्च करने पर भी नहीं मिल रहे, उनके लिए हम कुछ केस लेकर आए हैं ताकि लव जिहाद शब्द का अर्थ उन्हें व उन जैसे लोगों को समझ आ सके।

कराची में हुए बम धमाके में 3 की मौत: फौज और पुलिस में ठनी, सिंध पुलिस के सभी अधिकारियों की छुट्टियाँ रद्द

सिंध पुलिस का कहना है कि उसके आला अधिकारियों का जिस तरह से अपमान किया गया, उनके साथ बुरा वर्ताव किया गया, उससे पुलिस महकमा शॉक में है।

सूरजभान सिंह: वो बाहुबली, जिसके जुर्म की तपिश से सिहर उठा था बिहार, परिवार हो गया खाक, शर्म से पिता और भाई ने की...

कामदेव सिंह का परिवार को जब पता चला कि सूरजभान ने उनके किसी रिश्तेदार को जान से मारने की धमकी दी है तो सूरजभान को उसी के अंदाज में संदेश भिजवाया गया- “हमने हथियार चलाना बंद किया है, हथियार रखना नहीं। हमारी बंदूकों से अब भी लोहा ही निकलेगा।”

#Tweet4Bharat: राष्ट्रीय महत्त्व के मुद्दों पर हिंदी श्रेणी में विजेताओं की सूची और उनको जीत दिलाने वाले ट्वीट थ्रेड्स यहाँ देखें

“#Tweet4Bharat” का उद्देश्य राष्ट्रीय महत्व के महत्वपूर्ण मुद्दों पर लिखने, चर्चा करने और विचार-विमर्श करने के लिए युवाओं को ‘ट्विटर थ्रेड्स’ का उपयोग करने के लिए प्रोत्साहित और प्रेरित करना था।

क्या India Today का खेल खत्म? CBI ने TRP घोटाले में दर्ज की FIR: यूपी सरकार द्वारा की गई थी जाँच की सिफारिश

सीबीआई ने टीआरपी घोटाले की जाँच के लिए एक FIR दर्ज कर ली है। शुरुआत में इस मामले के संबंध में मुंबई पुलिस की FIR में इंडिया टुडे चैनल का नाम सामने आया था।

प्रचलित ख़बरें

मैथिली ठाकुर के गाने से समस्या तो होनी ही थी.. बिहार का नाम हो, ये हमसे कैसे बर्दाश्त होगा?

मैथिली ठाकुर के गाने पर विवाद तो होना ही था। लेकिन यही विवाद तब नहीं छिड़ा जब जनकवियों के लिखे गीतों को यूट्यूब पर रिलीज करने पर लोग उसके खिलाफ बोल पड़े थे।

37 वर्षीय रेहान बेग ने मुर्गियों को बनाया हवस का शिकार: पत्नी हलीमा रिकॉर्ड करती थी वीडियो, 3 साल की जेल

इन वीडियोज में वह अपनी पत्नी और मुर्गियों के साथ सेक्स करता दिखाई दे रहा था। ब्रिटेन की ब्रैडफोर्ड क्राउन कोर्ट ने सबूतों को देखने के बाद आरोपित को दोषी मानते हुए तीन साल की सजा सुनाई है।

हिन्दुओं की हत्या पर मौन रहने वाले हिन्दू ‘फ़्रांस की जनता’ होना कब सीखेंगे?

हमें वे तस्वीरें देखनी चाहिए जो फ्रांस की घटना के पश्चात विभिन्न शहरों में दिखती हैं। सैकड़ों की सँख्या में फ्रांसीसी नागरिक सड़कों पर उतरे यह कहते हुए - "हम भयभीत नहीं हैं।"

ऐसे मुस्लिमों के लिए किसी भी सेकुलर देश में जगह नहीं होनी चाहिए, वहीं जाओ जहाँ ऐसी बर्बरता सामान्य है

जिनके लिए शिया भी काफिर हो चुका हो, अहमदिया भी, उनके लिए ईसाई तो सबसे पहला दुश्मन सदियों से रहा है। ये तो वो युद्ध है जो ये बीच में हार गए थे, लेकिन कहा तो यही जाता है कि वो तब तक लड़ते रहेंगे जब तक जीतेंगे नहीं, चाहे सौ साल लगे या हजार।

‘कश्मीर टाइम्स’ अख़बार का श्रीनगर ऑफिस सील, सरकारी सम्पत्तियों पर कर रखा था कब्ज़ा

2 महीने पहले कश्मीर टाइम्स की एडिटर अनुराधा भसीन को भी उनका आधिकारिक निवास खाली करने को कहा गया था।

शिक्षक का गला रेतने के बाद इस्लामी कट्टरपंथियों के विरुद्ध फ्रांस का सख्त एक्शन: 231 कट्टरपंथी किए जाएँगे देश से बाहर

एफ़एसपीआरटी की रिपोर्ट के अनुसार 231 विदेशी नागरिकों में से 180 कारावास में कैद हैं। इसके अलावा बचे हुए 51 को अगले कुछ घंटों में गिरफ्तार किया जाना था।
- विज्ञापन -

3.5 साल में 125 अपराधी मारे गए, 2607 घायल हुए: योगी सरकार ने 122 बलिदानी पुलिसकर्मियों के परिजनों को दिए ₹26 करोड़

यूपी सीएम योगी आदित्यनाथ ने कहा कि महिला बटालियन के लिए भी 3687 पद सृजित किए गए हैं। सरकार बलिदानी पुलिसकर्मियों के परिवारों के साथ खड़ी है।

पाकिस्तान: PM इमरान खान ने अप्रैल में गेहूँ मँगवाया था, अब रो रहा है कि उसकी बात कोई सुनता ही नहीं!

पाकिस्तान के प्रधानमंत्री इमरान खान ने समय से गेहूँ आपूर्ति न होने पर अधिकारियों को फटकार लगाई। इमरान खान ने इसे प्रशासन की नाकामी बताया है।

‘अर्नब इतने हताश हो जाएँगे कि उन्हें आत्महत्या करनी पड़ेगी’: स्टिंग में NCP नेता और उद्धव के मंत्री नवाब मलिक का दावा

NCP मुंबई के अध्यक्ष और उद्धव सरकार में अल्पसंख्यक विकास मंत्री नवाब मलिक ने कहा कि अर्नब इसमें स्पष्ट रूप से फँस चुके हैं और इसका असर उनकी मानसिक अवस्था पर पड़ेगा।

वामपंथन कविता कृष्णन ने ‘लव जिहाद’ से जताई अनभिज्ञता, कहा- मुझे एक भी केस नहीं मिले, ये लीजिए पढ़िए हाल के 10 से अधिक...

आज कविता कृष्णन, जिन्हें लव जिहाद के मामले रिसर्च करने पर भी नहीं मिल रहे, उनके लिए हम कुछ केस लेकर आए हैं ताकि लव जिहाद शब्द का अर्थ उन्हें व उन जैसे लोगों को समझ आ सके।

कराची में हुए बम धमाके में 3 की मौत: फौज और पुलिस में ठनी, सिंध पुलिस के सभी अधिकारियों की छुट्टियाँ रद्द

सिंध पुलिस का कहना है कि उसके आला अधिकारियों का जिस तरह से अपमान किया गया, उनके साथ बुरा वर्ताव किया गया, उससे पुलिस महकमा शॉक में है।

‘बिलाल ने नाम बदला, टीका लगाता था, हमें लगा हिन्दू होगा’: 8 लाख लेकर भागी छात्रा, परिजनों ने लगाया ‘लव जिहाद’ का आरोप

लड़की के पिता ने बताया कि उनकी बेटी बीएससी की छात्रा है और कम्प्यूटर कोचिंग के लिए जाती है। अक्टूबर 17 को जब वो कोचिंग से वापस नहीं आई तो परिजनों ने खोजबीन शुरू की। फिर किसी ने बताया कि एक लड़का उसे ले गया है।

PAK में ‘गृहयुद्ध’: सेना के खिलाफ लगे सड़कों पर नारे, नवाज शरीफ के दामाद की गिरफ्तारी पर आर्मी चीफ को देने पड़े जाँच के...

पाकिस्तान में यह सारी हलचल ठीक तब शुरू हुई जब विपक्ष ने प्रधानमंत्री इमरान खान के प्रशासन के खिलाफ़ रैली हुई और नवाज शरीफ के दामाद गिरफ्तार कर लिए गए थे।

गोहत्या करने से मना करता था युवक, मुन्नू कुरैशी और कइल ने गला रेत कर मार डाला: माँ ने झारखण्ड सरकार से लगाई न्याय...

मृतक की माँ ने बताया कि उनका बेटा आसपास के लोगों को गोहत्या करने से मना करता था, जिसके कारण उसकी हत्या कर दी गई।

पूर्व IIT प्रोफेसर ने विदेश से लाए थे माओवादी साहित्य, उमर खालिद था ‘अर्बन पार्टी मेंबर’: ‘दलित आतंकवाद’ पर हो रहा था काम

दिल्ली में ऐसे दलित छात्रों को चिह्नित किया जाता था, जो पिछड़े परिवारों से आते हैं, इसके बाद उनके मन में माओवादी आंदोलन के लिए सहानुभूति बिठाई जाती थी।

सूरजभान सिंह: वो बाहुबली, जिसके जुर्म की तपिश से सिहर उठा था बिहार, परिवार हो गया खाक, शर्म से पिता और भाई ने की...

कामदेव सिंह का परिवार को जब पता चला कि सूरजभान ने उनके किसी रिश्तेदार को जान से मारने की धमकी दी है तो सूरजभान को उसी के अंदाज में संदेश भिजवाया गया- “हमने हथियार चलाना बंद किया है, हथियार रखना नहीं। हमारी बंदूकों से अब भी लोहा ही निकलेगा।”

हमसे जुड़ें

272,571FansLike
78,916FollowersFollow
335,000SubscribersSubscribe