Thursday, May 6, 2021
Home विचार राजनैतिक मुद्दे देश के 'Wheat Belt' का फरमान: मोदी के कृषि कानूनों से खुश हैं किसान,...

देश के ‘Wheat Belt’ का फरमान: मोदी के कृषि कानूनों से खुश हैं किसान, व्यर्थ गया ट्रैक्टर पर सोफे लगा अराजकता फैलाना

राहुल गाँधी ने पंजाब में जाकर ट्रैक्टर रैलियाँ की। इधर मध्य प्रदेश में भाजपा कृषि कानूनों के फायदों को लेकर किसानों तक जाने में सफल रही। ग्वालियर-चम्बल बेल्ट में गेहूँ और धान बड़ी मात्रा में होते हैं। चम्बल के बीहड़ के क्षेत्रों को भी कृषि के लिए उपयुक्त बनाने के लिए केंद्र सरकार लगातार प्रयास कर रही है। ऐसे में अगर....

मध्य प्रदेश और गुजरात में भाजपा की जीत बहुत कुछ कहती है। इसमें सबसे पहली बात तो ये है कि कृषि कानूनों पर कॉन्ग्रेस ने जो विरोध प्रदर्शन किया था और किसानों को उकसाया था, वो पूरी तरह फेल रहा। मध्य प्रदेश उन राज्यों में से है, जहाँ सबसे ज्यादा गेहूँ की खेती होती है। वहाँ की 28 सीटों में से 20 भाजपा के खाते में जाती दिख रही है और इससे स्पष्ट है कि कृषि कानूनों के अंतर्गत किसानों को केंद्र सरकार ने कहीं भी अपनी फसल बेचने की छूट दी थी, उससे वो खुश हैं।

सबसे पहले तो बाते करते हैं कि कैसे कॉन्ग्रेस ने मध्य प्रदेश के किसानों को गुमराह करने का प्रयास किया। सितम्बर में नेता प्रतिपक्ष कमलनाथ ने मध्य प्रदेश में कृषि कानूनों को लेकर राजनीति शुरू की। उन्होंने इसे किसान विरोधी बिल करार दिया और कहा कि ये इतिहास में काले दिन के रूप में दर्ज होगा। उन्हें लगता था कि मध्य प्रदेश की शिवराज सिंह चौहान सरकार राज्य में इसे स्वीकार करने में असहज होगी, लेकिन ऐसा नहीं हुआ।

तभी तो उन्होंने सीएम से जवाब माँगा कि मध्य प्रदेश की सरकार अपनी स्थिति स्पष्ट करे। हालाँकि, वहाँ की भाजपा सरकार खुल कर इस बिल के समर्थन में आई और कृषि मंत्री कमल पटेल खुल कर इसके समर्थन में सामने आए और कहा कि इससे किसानों को स्वतंत्रता मिलेगी और ‘असंभव को संभव करने वाले मोदी’ ने किसान हित में ये कदम उठाया है। अकाली दल के राजग से अलग होने और केंद्रीय मंत्री हरसिमरत कौर बादल के इस्तीफे के बाद विरोध ने जोर पकड़ा।

राहुल गाँधी ने पंजाब में जाकर ट्रैक्टर रैलियाँ की। इधर मध्य प्रदेश में भाजपा कृषि कानूनों के फायदों को लेकर किसानों तक जाने में सफल रही। ग्वालियर-चम्बल बेल्ट में गेहूँ और धान बड़ी मात्रा में होते हैं। चम्बल के बीहड़ के क्षेत्रों को भी कृषि के लिए उपयुक्त बनाने के लिए केंद्र सरकार लगातार प्रयास कर रही है। ऐसे में अगर कृषि कानूनों से किसानों को सचमुच में यहाँ नुकसान हुआ होता तो वो भाजपा को वोट नहीं देते और नाराजगी जताते।

ग्वालियर-चम्बल क्षेत्र भाजपा नेता ज्योतिरादित्य सिंधिया का गढ़ है और उन्होंने ही कॉन्ग्रेस छोड़ कर कई मंत्रियों-विधायकों के साथ भाजपा का दामन थामा था, इसीलिए ये चुनाव उनकी विश्वसनीयता के लिए भी परीक्षा का विषय था। उनकी सभाओं में लगने वाले ‘महाराजा-महाराजा’ के नारे क्या वोटों में तब्दील होंगे, ये उन्हें देखना था। उन्होंने कई रैलियाँ की और युवाओं से लेकर बुजुर्गों तक से संपर्क साधा और उन्हें विश्वास में लिया।

आइए, कुछ ही दिनों पहले ज्योतिरादित्य सिंधिया द्वारा दिए गए एक इंटरव्यू को देखते हैं, जिसमें कैसे उन्होंने कृषि को ही मुद्दा बनाया था और गिनाया था कि कैसे केंद्र और राज्य सरकार ने किसानों के लिए कई अहम फैसले लिए। ज्योतिरादित्य सिंधिया को पता था कि कॉन्ग्रेस किसानों को गुमराह करने में लगी हुई है, तभी उन्होंने TOI के रोहन दुआ से बात करते हुए ‘सीएम किसान सम्मान निधि’ की बात की थी।

दरअसल, प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने ‘पीएम किसान सम्मान निधि’ के तहत किसानों को प्रतिवर्ष 6000 रुपए देने का निर्णय लिया। जहाँ पश्चिम बंगाल जैसे राज्यों में ये रुपए भी किसानों तक न पहुँचाए जाने और केंद्र को किसानों के नाम न मुहैया कराने के आरोप ममता बनर्जी की नेतृत्व वाली तृणमूल कॉन्ग्रेस सरकार पर लग रहा है, चौहान सरकार ने इस धनराशि में 4000 रुपए सालाना अपनी तरफ से जोड़ा और किसानों के लिए 10,000 रुपए प्रतिवर्ष का इंतजाम किया।

सिंधिया ने इसी की चर्चा की थी। इसके बाद सिंधिया ने गिनाया कि कैसे शिवराज सिंह चौहान की सरकार ने किसानों से 1.3 लाख मीट्रिक टन गेहूँ का क्रय किया है। अब मध्य प्रदेश के ‘Wheat Belt’ में गेहूँ के खरीदने की बात तो असर करेगी ही। क्या कृषि कानूनों, पीएम-सीएम किसान सम्मान निधि और गेहूँ का सरकारी क्रय – ये तीनों मुद्दे भाजपा के पक्ष में गए? ताज़ा चुनाव परिणाम तो यही कह रहे हैं।

अगर भाजपा के वोट प्रतिशत की बाते करें तो ये मध्य प्रदेश उपचुनाव में 50% के भी पार दिख रहा है, जो बताता है कि उसे जनता का भी बहुमत मिल रहा है। राहुल गाँधी ट्रैक्टर में सोफा लगा कर विरोध करते दिखे थे। चुनाव प्रचार के दौरान मौके पर चौका मारते हुए चौहान ने इसे उठाया। उन्होंने तंज कसा कि राहुल गाँधी को ये तक नहीं पता कि प्याज को जमीन के भीतर उगाया जाता है या फिर जमीन के अंदर। उन्होंने जनता को ये बताने का प्रयास किया कि राहुल को कृषि के बारे में कुछ नहीं पता।

मध्य प्रदेश के लोग किसानों की कर्जमाफी के कॉन्ग्रेस के वादे को भुगत चुके थे, इसीलिए उन्होंने राहुल गाँधी पर भरोसा नहीं रहा। जिस तरह से कई किसानों को बिना कर्ज लिए कर्जमाफी के मैसेज आ गए तो कइयों के हजारों में मात्र एकाध रुपए माफ़ हुए, जिस तरह से तत्कालीन ‘सुपर सीएम’ दिग्विजय सिंह के भाई लक्ष्मण सिंह ही इस मुद्दे पर धरने पर बैठ गए – उसने राज्य के किसानों के मन से सारे संशय को मिटा दिया।

हाँ, एक और बात याद रखने वाली ये है कि देश के कृषि एवं किसान कल्याण मंत्री मध्य प्रदेश के हैं और उसी ग्वालियर क्षेत्र से आते हैं, जहाँ चुनाव हुए हैं। ज्योतिरादित्य सिंधिया को भाजपा में लाने में उनकी भी भूमिका थी। वो पहले ग्वालियर से और फिर मोरेना से सांसद चुने गए। इसीलिए, ये उनके लिए भी प्रतिष्ठा का विषय था कि उनके क्षेत्र में किसान मोदी सरकार पर पूरा विश्वास जताएँ और हुआ भी यही।

गुजरात में भाजपा क्लीन-स्वीप कर रही है और मोदी-शाह के गृह राज्य में हुए उपचुनाव में उसे 8 की 8 सीटें मिलती दिख रही हैं। कृषि कानूनों को लेकर कॉन्ग्रेस ने वहाँ भी जम कर गेम खेला, क्योंकि उन्हें लगता था कि पिछले चुनाव में जिस तरह का करीबी मुकाबला हुआ था और मीडिया ने दावा किया था कि मोदी-शाह को गुजरात की जनता ने ‘डराया’ है, उसे ध्यान में रखते हुए गुजरात में कृषि कानूनों का मुद्दा उठाना उनके लिए ठीक रहेगा।

सितम्बर के अंतिम हफ़्तों में गुजरात में विरोध प्रदर्शन तेज़ किया गया, ताकि किसानों को बरगलाया जा सके। भाजपा पर किसानों की आवाज़ दबाने के आरोप लगाते हुए राज्यपाल को ज्ञापन दिए गए। अहमदाबाद में विरोध प्रदर्शन किया गया। गुजरात विधानसभा ने भी कृषि बिल पारित किया था, इसीलिए राज्य सरकार को भी किसान विरोधी बता कर दुष्प्रचारित किया गया। गुजरात कॉन्ग्रेस के लिए ये कदम बैकफायर कर गया। कृषि कानूनों का विरोध मध्य प्रदेश में कॉन्ग्रेस को ले डूबा।

कॉन्ग्रेस को अभी ऐसे कई परिणाम देखने हैं क्योंकि उसने असहिष्णुता और राफेल से लेकर सीएए और कृषि कानूनों तक जो भी मुद्दे उठाए हैं, भाजपा जनता को ये समझाने में कामयाब रही कि ये उनके लिए सही है और कॉन्ग्रेस सिर्फ मोदी का विरोध करने के लिए उनका विरोध करने लगी। जनता को बार-बार की ये अराजकता पसंद नहीं आई और उसने इन प्रयासों को पूरी तरह नकार दिया है, ऐसा अभी लगता है।

ज्ञात हो कि इन तीनों बिलों ने 5 जून 2020 को ही अधिनियम का रूप ले लिया था, लेकिन तब से लेकर संसद में लाए जाने तक किसी भी राजनीतिक दल, किसान संगठन अथवा राज्य सरकार ने कोई विरोध नहीं जताया। क्यों? क्योंकि राष्ट्रीय स्तर के साथ-साथ क्षेत्रीय स्तर पर राजनीतिक पतन होने वाली पार्टियाँ संसद में नौटंकी कर के अस्तित्व में रहने की कोशिश करते हैं। अब किसान अपनी इच्छा के मुताबिक कहीं भी फसल बेच सकता है।

  सहयोग करें  

एनडीटीवी हो या 'द वायर', इन्हें कभी पैसों की कमी नहीं होती। देश-विदेश से क्रांति के नाम पर ख़ूब फ़ंडिग मिलती है इन्हें। इनसे लड़ने के लिए हमारे हाथ मज़बूत करें। जितना बन सके, सहयोग करें

अनुपम कुमार सिंहhttp://anupamkrsin.wordpress.com
चम्पारण से. हमेशा राइट. भारतीय इतिहास, राजनीति और संस्कृति की समझ. बीआईटी मेसरा से कंप्यूटर साइंस में स्नातक.

संबंधित ख़बरें

ख़ास ख़बरें

बाहर No Bed का नोटिस, UP प्रशासन के एक्शन में आते ही मिले 969 बेड खाली: कोविड अस्पतालों में धांधली की खुली पोल

डीएम ने जब हर अस्पताल का ब्यौरा जाँचा तो सिर्फ 24 घंटे में पता चला कि कोविड अस्पतालों में 969 बेड खाली पड़े हैं। इनमें 147 वेंटीलेटर और...

भारत की मदद को आए कई विदेशी हिंदू मंदिर: करोड़ों रुपए, ऑक्सीजन कन्संट्रेटर और सिलिंडर से सहायता

ये हिंदू मंदिर भले ही विदेशों में स्थित हैं लेकिन जब बात हिंदुस्तान को संकट से उभारने की आई तो इन्होंने अपने सामर्थ्य से ऊपर उठ कर...

बंगाल हिंसा वाली रिपोर्ट राज्यपाल तक नहीं पहुँचे: CM ममता बनर्जी का ऑफिसरों को आदेश, गवर्नर का आरोप

पश्चिम बंगाल के राज्यपाल जगदीप धनखड़ ने ममता बनर्जी पर यह आरोप लगाया है कि उन्होंने चुनाव परिणाम के बाद हिंसा पर रिपोर्ट देने से...

‘मेरी बहू क्रिकेटर इरफान पठान के साथ चालू है’ – चचेरी बहन के साथ नाजायज संबंध पर बुजुर्ग दंपत्ति का Video वायरल

बुजुर्ग ने पूर्व क्रिकेटर पर आरोप लगाते हुए कहा, “इरफान पठान बड़े अधिकारियों से दबाव डलवाता है। हम सुसाइड करना चाहते हैं।”

महाराष्ट्र पुलिस में दलाली और उद्धव-पवार का नाम: जिस महिला IPS ने खोले पोल, उनकी गिरफ्तारी पर HC की रोक

IPS अधिकारी रश्मि शुक्ला बॉम्बे हाईकोर्ट पहुँचीं, जहाँ FIR रद्द कर के पुलिस को कोई सख्त कदम उठाने से रोकने का निर्देश देने की दरख़्वास्त की गई।

CM केजरीवाल या उनके वकील – कौन है झूठा? दिल्ली में ऑक्सीजन पर एक ने झूठ बोला है – ये है सबूत

दिल्ली में ऑक्सीजन संकट को लेकर दिल्ली सरकार से जुड़ी दो विरोधाभासी जानकारी सामने आई। एक खबर में बताया गया कि दिल्ली सरकार ने...

प्रचलित ख़बरें

‘मेरी बहू क्रिकेटर इरफान पठान के साथ चालू है’ – चचेरी बहन के साथ नाजायज संबंध पर बुजुर्ग दंपत्ति का Video वायरल

बुजुर्ग ने पूर्व क्रिकेटर पर आरोप लगाते हुए कहा, “इरफान पठान बड़े अधिकारियों से दबाव डलवाता है। हम सुसाइड करना चाहते हैं।”

बंगाल में हिंसा के जिम्मेदारों पर कंगना रनौत ने माँगा एक्शन तो ट्विटर ने अकाउंट किया सस्पेंड

“मैं गलत थी, वह रावण नहीं है... वह तो खून की प्यासी राक्षसी ताड़का है। जिन लोगों ने उसके लिए वोट किया खून से उनके हाथ भी सने हैं।”

नेशनल जूनियर चैंपियन रहे पहलवान की हत्या, ओलंपियन सुशील कुमार को तलाश रही दिल्ली पुलिस

आरोप है कि सुशील कुमार के साथ 5 गाड़ियों में सवार होकर लारेंस बिश्नोई व काला जठेड़ी गिरोह के दर्जन भर से अधिक बदमाश स्टेडियम पहुँचे थे।

बेशुमार दौलत, रहस्यमयी सेक्सुअल लाइफ, तानाशाही और हिंसा: मार्क्स और उसके चेलों के स्थापित किए आदर्श

कार्ल मार्क्स ने अपनी नौकरानी को कभी एक फूटी कौड़ी भी नहीं दी। उससे हुए बेटे को भी नकार दिया। चेले कास्त्रो और माओ इसी राह पर चले।

‘द वायर’ हो या ‘स्क्रॉल’, बंगाल में TMC की हिंसा पर ममता की निंदा की जगह इसे जायज ठहराने में व्यस्त है लिबरल मीडिया

'द वायर' ने बंगाल में हो रही हिंसा की न तो निंदा की है और न ही उसे गलत बताया है। इसका सारा जोर भाजपा द्वारा इसे सांप्रदायिक बताए जाने के आरोपों पर है।

21 साल की कॉलेज स्टूडेंट का रेप-मर्डर: बंगाल में राजनीतिक हिंसा के बीच मेदिनीपुर में महिला समेत 3 गिरफ्तार

पश्चिम बंगाल में विधानसभा चुनाव के बाद हो रही हिंसा के बीच पश्चिम मेदिनीपुर जिले से बलात्कार और हत्या की एक घटना सामने आई है।
- विज्ञापन -

 

हमसे जुड़ें

295,365FansLike
89,680FollowersFollow
394,000SubscribersSubscribe