Thursday, January 28, 2021
Home विचार राजनैतिक मुद्दे रामविलास पासवान: जातिबोध था लेकिन लोक व्यवहार की लक्ष्मण रेखा का कभी उल्लंघन नहीं...

रामविलास पासवान: जातिबोध था लेकिन लोक व्यवहार की लक्ष्मण रेखा का कभी उल्लंघन नहीं किया

रामविलास पासवान का जाना एक तरह से भारतीय राजनीति में एक परम्परा का अंत है। उनका जाना एक ऐसे नेता का भी जाना है जिसने अपने राजनीतिक कौशल, चातुर्य, सरल व्यवहार और प्रशासनिक क्षमता से देश में अपने लिए एक नया स्थान बनाया।

“हमारी प्रेस रिलीज नहीं छापिएगा संपादक जी?” मैंने अपने डेस्क से ऊपर नज़र उठाई तो देखा सफ़ेद कुर्ते पजामे में आत्मविश्वास से भरपूर एक नौजवान नेता हमारे संपादक स्वर्गीय श्री शरद द्विवेदी से मुखातिब था। ये कोई 1985-86 की बात है। मैंने पीटीआई भाषा में बतौर प्रशिक्षु पत्रकार काम करना शुरू ही किया था। शरद जी ने इस नेता का परिचय करवाया। ये नौजवान सांसद थे रामविलास पासवान।

बड़े शालीन तरीके से उन्होंने खुद बताया कि ‘जो है सो है कि हम रिकार्ड बहुमत से सांसद बने हैं। इसलिए हमारे बयान की अनदेखी मत कीजिएगा।’

पासवान जी थोड़ा जल्दी-जल्दी बोलते थे। ‘जो है सो है कि’ एक तरह से उनका तकिया कलाम था जिसे वो हर एक-दो वाक्य में इस्तेमाल कर ही लेते थे। जिस समय मेरी उनसे पहली मुलाकात हुई तो वे कोई नौसिखिया नेता नहीं थे। वे उस समय भी दो बार के सांसद थे और उससे पहले बिहार में विधायक रह चुके थे। लेकिन उन्होंने मीडिया की ताकत को तभी पहचान लिया था। अपनी बात पहुँचाने के लिए उसका सटीक इस्तेमाल करना वे जानते थे। इसलिए अपनी प्रेस विज्ञप्ति अक्सर वे खुद लेकर पीटीआई के दफ्तर आ जाया करते थे। इसमें उन्हें कोई झिझक या हिचक नहीं थी।

उस दौर के हमारे सम्पादकों श्री वेदप्रताप वैदिक और श्री शरद द्विवेदी के साथ उनके अच्छे सम्बन्ध थे। भाषा में हमारे वरिष्ठ पत्रकार सहयोगियों जैसे गुरु जी, योगेश माथुर, आदि से भी उनके मधुर सम्बन्ध थे। सम्बन्ध बनाना और उन्हें निभाना वैसे तो उनकी पीढ़ी की खासियत थी। पर पासवान जी तो मानो इसके महारथी थे।

मैं उन दिनों प्रशिक्षु पत्रकार ही था लेकिन ये पासवान का बड़प्पन ही था कि उन्होंने मेरे वरिष्ठ सहयोगियों के साथ-साथ मेरे जैसे नवोदित पत्रकार की भी अनदेखी नहीं की। बाद में जब मैं टीवी की दुनिया में आया तो पासवान जी टीवी, होम टीवी और बाद में जनमत टीवी में लगातार आते रहे। इस दौरान पासवान का राजनीतिक कद लगातार बढ़ता गया। लेकिन मेरे किसी भी टीवी शो में आने के लिए उन्होंने कभी भी आनाकानी नहीं की।

कई बार उन्हें आखिरी समय पर भी बुलाया गया तो उन्होंने कभी मना नहीं किया। याद रखने की बात है कि 80 और 90 के दशक में ओबी वैन का चलन इतना नहीं था और किसी भी शो में भाग लेने के लिए नेताओं को दिल्ली से नोएडा जाना पड़ता था। एक शो में भाग लेने के लिए काफी समय देना पड़ता था। इस नाते पासवान का सहज स्वभाव और उपलब्धता हमारे जैसे जैसे पत्रकार के लिए मानो एक वरदान ही था।

एक बात यहाँ कहना ज़रूरी है। पासवान आजकल के कई नेताओं की तरह सिर्फ टीवी शो के जरिए अपना करियर खड़ा करने वाले सिर्फ एक हवाई नेता नहीं थे। वे खाँटी जमीनी नेता थे। लेकिन जमीन पर अपनी पक्की पकड़ होने के साथ ही अपनी बात कहने के लिए संचार माध्यमों के उपयोग के महत्व को वे अच्छी तरह जानते थे।

जनसंवाद के तौर तरीकों को समझना और उनका इस्तेमाल उन्हें बखूबी आता था। इसलिए पहले प्रिंट माध्यम और उसके बाद अपने राजनीतिक संवाद के लिए टीवी का प्रभावी उपयोग उन्होंने किया। 

पासवान ने दुनिया में सबसे ज़्यादा मतों से जीतने का रिकार्ड बनाया था। उन्होंने 1977 में बिहार की हाजीपुर लोकसभा सीट 4,24,545 वोटों के रिकॉर्ड अंतर से जीती थी। यह एक विश्व कीर्तिमान था और गिनीज़ बुक में इसका जिक्र आया था। बाद में 1989 में उन्होंने यही सीट 5,04,448 के अंतर से जीती। 

वैसे पासवान खगड़िया के रहने वाले थे। परन्तु उनका नाम हाजीपुर के साथ अभिन्न रूप से जुड़ गया। वे आठ बार हाजीपुर से चुनाव जीते। असल में हाजीपुर पासवान के नाम से उसी तरह प्रसिद्द हुआ जैसा वह वहाँ पैदा होने वाले केलों के लिए जाना जाता है।

पासवान को जातिबोध था। यूँ भी उत्तर भारत और खासकर बिहार में जो भी जमीनी राजनीति करता है वह जाति के अंकगणित के बिना राजनीतिक तौर पर ज़िंदा नहीं रह सकता। लेकिन उन्होंने भाषा, संबंधों और लोक मर्यादा का उल्लंघन नहीं किया।

आज कतिपय जातिगत नेता जिस तरह की भाषा का इस्तेमाल करते हैं, पासवान उससे दूर रहे। वे समाजवादी परिपाटी के नेता थे। उनकी शुरुआती राजनीति संयुक्त सोशलिस्ट पार्टी से ही आरम्भ हुई थी।

राजनीतिक हवा का रुख पहले से ही भाँप जाने में माहिर पासवान एक चतुर राजनीतिक खिलाड़ी थे। हवा का रुख देखकर राजनीतिक प्रतिबद्धता तय करने से उन्हें कभी गुरेज नहीं रहा। लेकिन फिर भी शालीनता, लोक व्यवहार और सामाजिकता की लक्ष्मण रेखा का उल्लंघन उन्होंने नहीं किया। इस मायने में वे अनुसूचित जाति की राजनीति में बाबू जगजीवन राम की विरासत का प्रतिनिधित्व करते थे।

उन्होंने अनुसूचित जातियों की राजनीति की, परन्तु ‘तिलक, तराज़ू और तलवार’ जैसी उपमाओं का प्रयोग नहीं किया। वे शायद जानते थे कि विद्वेषात्मक भाषा में दूसरों का अपमान करना जातिजनित तिरस्कार, भेदभाव और इतिहासगत अपमान दूर करने का सही साधन नहीं है। आज जिस तरह की भाषा का प्रयोग जाति आधारित पार्टियों के कुछ नेता करते है उससे सामाजिक विद्वेष कम होने के स्थान पर और अधिक फैलता ही है। 

इस मायने में रामविलास पासवान का जाना एक तरह से भारतीय राजनीति में एक परम्परा का अंत है। उनका जाना एक ऐसे नेता का भी जाना है जिसने अपने राजनीतिक कौशल, चातुर्य, सरल व्यवहार और प्रशासनिक क्षमता से देश में अपने लिए एक नया स्थान बनाया।

  सहयोग करें  

एनडीटीवी हो या 'द वायर', इन्हें कभी पैसों की कमी नहीं होती। देश-विदेश से क्रांति के नाम पर ख़ूब फ़ंडिग मिलती है इन्हें। इनसे लड़ने के लिए हमारे हाथ मज़बूत करें। जितना बन सके, सहयोग करें

 

संबंधित ख़बरें

ख़ास ख़बरें

श्रीराम मंदिर निर्माण के लिए योगी आदित्यनाथ ने गोरखनाथ मंदिर की ओर से दान किए ₹1 करोड़, 1 लाख

योगी आदित्यनाथ ने गोरखनाथ मंदिर की ओर से श्रीराम मंदिर निर्माण के लिए 1 करोड़, 1 लाख रुपए अयोध्या श्रीराम जन्मभूमि निर्माण निधि समर्पण के रूप में दान किए।

जिस राम मंदिर झाँकी को किसान दंगाइयों ने तोड़ डाला, उसे प्रथम पुरस्कार: 17 राज्यों ने लिया था हिस्सा

17 राज्यों की झाँकियों ने 26 जनवरी को राजपथ की परेड में हिस्सा लिया था। इनमें से उत्तर प्रदेश की ओर से आए भव्य राम मंदिर के मॉडल को...

UP पुलिस ने शांतिपूर्ण तरीके से हटाया ‘किसान’ प्रदर्शनकारियों को, लोग कह रहे – बिजली काट मार-मार कर भगाया

नेशनल हाईवे अथॉरिटी के निवेदन पर बागपत प्रशासन ने किसान प्रदर्शकारियों को विरोध स्थल से हटाते हुए धरनास्थल को शांतिपूर्ण तरीके से खाली करवा दिया है।

दीप सिद्धू और गैंगस्टर लक्खा पर FIR दर्ज, नाम उछलते ही गायब हुए पंजाबी अभिनेता सिद्धू

26 जनवरी को दिल्ली के लाल किले में हुई हिंसा के संबंध में पंजाबी अभिनेता दीप सिद्धू और गैंगस्टर लक्खा सिधाना के खिलाफ केस दर्ज कर लिया है।

‘छात्र’ हैं, ‘महिलाएँ’ हैं, ‘अल्पसंख्यक’ हैं और अब ‘किसान’ हैं: लट्ठ नहीं बजे तो कल और भी आएँगे, हिंसा का नंगा नाच यूँ ही...

हिन्दू वोट भी दे, अपना कामधाम भी करे और अब सड़क पर आकर इन दंगाइयों से लड़े भी? अगर कल सख्त कार्रवाई हुई होती तो ये आज निकलने से पहले 100 बार सोचते।

कल तक क्रांति की बातें कर रहे किसान समर्थक दीप सिद्धू के वीडियो डिलीट कर रही है कॉन्ग्रेस, जानिए वजह

एक समय किसान विरोध प्रदर्शनों को 'क्रांति' बताने वाले दीप सिद्धू को लिबरल गिरोह, कॉन्ग्रेस और किसान नेता भी अब अपनाने से इंकार कर रहे हैं।

प्रचलित ख़बरें

लाइव TV में दिख गया सच तो NDTV ने यूट्यूब वीडियो में की एडिटिंग, दंगाइयों के कुकर्म पर रवीश की लीपा-पोती

हर जगह 'किसानों' की थू-थू हो रही, लेकिन NDTV के रवीश कुमार अब भी हिंसक तत्वों के कुकर्मों पर लीपा-पोती करके उसे ढकने की कोशिशों में लगे हैं।

तेज रफ्तार ट्रैक्टर से मरा ‘किसान’, राजदीप ने कहा- पुलिस की गोली से हुई मौत, फिर ट्वीट किया डिलीट

राजदीप सरदेसाई ने तिरंगे में लिपटी मृतक की लाश की तस्वीर अपने ट्विटर अकाउंट से शेयर करते हुए लिखा कि इसकी मौत पुलिस की गोली से हुई है।

महिला पुलिस कॉन्स्टेबल को जबरन घेर कर कोने में ले गए ‘अन्नदाता’, किया दुर्व्यवहार: एक अन्य जवान हुआ बेहोश

महिला पुलिस को किसान प्रदर्शनकारी चारों ओर से घेरे हुए थे। कोने में ले जाकर महिला कॉन्स्टेबल के साथ दुर्व्यवहार किया गया।

हिंदुओं को धमकी देने वाले के अब्बा, मोदी को 420 कहने वाले मौलाना और कॉन्ग्रेस नेता: ‘लोकतंत्र की हत्या’ गैंग के मुँह पर 3...

पद्म पुरस्कारों में 3 नाम ऐसे हैं, जो ध्यान खींच रहे- मौलाना वहीदुद्दीन खान (पद्म विभूषण), तरुण गोगोई (पद्म भूषण) और कल्बे सादिक (पद्म भूषण)।

अब पूरे देश में ‘किसान’ करेंगे विरोध प्रदर्शन, हिंसा के लिए माँगी ‘माफी’… लेकिन अगला निशाना संसद को बताया

दिल्ली में हुई हिंसा पर किसान नेता 'गलती' मान रहे लेकिन बेशर्मी से बचाव भी कर रहे और पूरे देश में विरोध प्रदर्शन की बातें कर रहे।

26 जनवरी 1990: संविधान की रोशनी में डूब गया इस्लामिक आतंकवाद, भारत को जीतना ही था

19 जनवरी 1990 की भयावह घटनाएँ बस शुरुआत थी। अंतिम प्रहार 26 जनवरी को होना था, जो उस साल जुमे के दिन थी। 10 लाख लोग जुटते। आजादी के नारे लगते। गोलियॉं चलती। तिरंगा जलता और इस्लामिक झंडा लहराता। लेकिन...
- विज्ञापन -

 

मुंबई कर्नाटक का हिस्सा, महाराष्ट्र से काट कर केंद्र शासित प्रदेश घोषित किया जाए: गरमाई मराठी-कन्नड़ राजनीति

"मुंबई कर्नाटक का हिस्सा है। कर्नाटक के लोगों का मानना है कि मुंबई लंबे समय तक कर्नाटक में रही है, इसलिए मुंबई पर उनका अधिकार है।"

श्रीराम मंदिर निर्माण के लिए योगी आदित्यनाथ ने गोरखनाथ मंदिर की ओर से दान किए ₹1 करोड़, 1 लाख

योगी आदित्यनाथ ने गोरखनाथ मंदिर की ओर से श्रीराम मंदिर निर्माण के लिए 1 करोड़, 1 लाख रुपए अयोध्या श्रीराम जन्मभूमि निर्माण निधि समर्पण के रूप में दान किए।

जिस राम मंदिर झाँकी को किसान दंगाइयों ने तोड़ डाला, उसे प्रथम पुरस्कार: 17 राज्यों ने लिया था हिस्सा

17 राज्यों की झाँकियों ने 26 जनवरी को राजपथ की परेड में हिस्सा लिया था। इनमें से उत्तर प्रदेश की ओर से आए भव्य राम मंदिर के मॉडल को...

UP पुलिस ने शांतिपूर्ण तरीके से हटाया ‘किसान’ प्रदर्शनकारियों को, लोग कह रहे – बिजली काट मार-मार कर भगाया

नेशनल हाईवे अथॉरिटी के निवेदन पर बागपत प्रशासन ने किसान प्रदर्शकारियों को विरोध स्थल से हटाते हुए धरनास्थल को शांतिपूर्ण तरीके से खाली करवा दिया है।

दीप सिद्धू और गैंगस्टर लक्खा पर FIR दर्ज, नाम उछलते ही गायब हुए पंजाबी अभिनेता सिद्धू

26 जनवरी को दिल्ली के लाल किले में हुई हिंसा के संबंध में पंजाबी अभिनेता दीप सिद्धू और गैंगस्टर लक्खा सिधाना के खिलाफ केस दर्ज कर लिया है।

किसान नहीं बल्कि पुलिस हुई थी हिंसक: दिग्विजय सिंह ने दिल्ली पुलिस को ही ठहराया दंगों का दोषी

कॉन्ग्रेस नेता दिग्विजय सिंह ने आज मीडिया से बात करते हुए कहा कि दिल्ली में किसान उग्र नहीं हुए थे बल्कि दिल्ली पुलिस उग्र हुई थी।

‘छात्र’ हैं, ‘महिलाएँ’ हैं, ‘अल्पसंख्यक’ हैं और अब ‘किसान’ हैं: लट्ठ नहीं बजे तो कल और भी आएँगे, हिंसा का नंगा नाच यूँ ही...

हिन्दू वोट भी दे, अपना कामधाम भी करे और अब सड़क पर आकर इन दंगाइयों से लड़े भी? अगर कल सख्त कार्रवाई हुई होती तो ये आज निकलने से पहले 100 बार सोचते।

कल तक क्रांति की बातें कर रहे किसान समर्थक दीप सिद्धू के वीडियो डिलीट कर रही है कॉन्ग्रेस, जानिए वजह

एक समय किसान विरोध प्रदर्शनों को 'क्रांति' बताने वाले दीप सिद्धू को लिबरल गिरोह, कॉन्ग्रेस और किसान नेता भी अब अपनाने से इंकार कर रहे हैं।

ट्रैक्टर रैली में हिंसा के बाद ट्विटर ने किया 550 अकाउंट्स सस्पेंड, रखी जा रही है सबपर पैनी नजर

ट्विटर की ओर से कहा गया है कि इसने उन ट्वीट्स पर लेबल लगाए हैं जो मीडिया पॉलिसी का उल्लंघन करते हुए पाए गए। इन अकाउंट्स पर पैनी नजर रखी जा रही है।

वीडियो: खालिस्तान जिंदाबाद कहते हुए तिरंगा जलाया, किसानों के ‘आतंक’ से परेशान बीमार बुजुर्ग धरने पर बैठे

वीडियो में बुजुर्ग आदमी सड़क पर बैठे हैं और वहाँ से उठते हुए कहते हैं, "ये बोलते है आगे जाओगे तो मारूँगा। अरे क्या गुनाह किया है? हम यहाँ से निकले नहीं? हमारे रास्ते में आ गए।"

हमसे जुड़ें

272,571FansLike
80,695FollowersFollow
387,000SubscribersSubscribe