Advertisements
Saturday, May 30, 2020
होम विचार राजनैतिक मुद्दे अयोध्या में राम मंदिर के पक्ष में फैसला 'सेक्युलर राजनीति' के लिए परीक्षा की...

अयोध्या में राम मंदिर के पक्ष में फैसला ‘सेक्युलर राजनीति’ के लिए परीक्षा की घड़ी: योगेंद्र यादव

भारत में सेक्युलरिज़्म ने समय-समय पर परीक्षा दी है और लम्बे समय तक हमले झेले हैं। यह किसी एक फैसले का मोहताज नहीं है। लेकिन यह साफ है कि योगेंद्र यादव जैसे कई सारे 'बौद्धिक धोखेबाज' और 'संदिग्ध विश्लेषकों' का खुलासा हो चुका है। जो केवल एक हिन्दू-समर्थक फैसले की आहट भर से आहत हैं।

ये भी पढ़ें

Gunja Kapoor
Gunja Kapoor is a policy analyst based in New Delhi. She tweets at @gunjakapoor

अपने तोड़ मरोड़ से भरे हुए लेख में योगेंद्र यादव, जिन्हें पहले पोलिटिकल साइंस में अपने काम के लिए जाना जाता था, ने अपनी बौद्धिकता की चरम सीमा से आगे जाते हुए कहा है कि राम मंदिर कुछ अन्य महत्वपूर्ण प्रस्तावों के साथ भारत में सेक्युलर पॉलिटिक्स की परीक्षा होगा। मैं दंग रह गई जब मैंने यह हैडलाइन पढ़ी, और इस लेख को पढ़ने का निश्चय केवल इसके लिए किया कि कहीं यह क्लिकबेट न हो। और वह नहीं था! एक समय ‘पोलिटिकल साइंटिस्ट’ कहे जाने वाले व्यक्ति ने सच में ऐसा कहा था।

लेकिन इस पर दोबारा सोचने पर, एक ऐसे व्यक्ति के तौर पर जिसे अकादमिक दुनिया को अंदर से जानने का मौका मिला है, मुझे आश्चर्य नहीं होता कि योगेंद्र यादव को ऐसा विश्वास है कि हिन्दुओं और राम मंदिर के पक्ष में कोई भी फैसला सेक्युलर नहीं होगा। उनकी बौद्धिक धोखेबाजी यहीं नहीं रूकती। उनकी राय है कि एनआरसी और यूसीसी (यूनिफॉर्म सिविल कोड), केंद्रीय मतांतरण विरोधी कानून और नागरिकता संशोधन विधेयक जैसे कानूनों को को भी ‘ग्रेडेड रिस्पांस’ (सधी प्रतिक्रिया) मिलनी चाहिए न कि एकमत समर्थन।

उनकी स्थिति से पता चलता है कि नेहरूवादी सेक्युलरिज़्म में दो परेशानियाँ हैं। एक, कोई भी निर्णय जो बहुसंख्यक समुदाय की भावनाओं का पक्ष दूर-दूर तक ले (जरूरी नहीं कि अल्पसंख्यकों का अपमान कर के) वह सेक्युलर नहीं हो सकता। दूसरा, भारत की विज़न एक बहस तक सीमित है जहाँ अल्पसंख्यकों की भावनाएँ कैनवास का इकलौता रंग हैं; हर तर्क या तो उनके खिलाफ है या उनके पक्ष में। मैं ऐसी दृष्टि के खिलाफ हूँ, क्योंकि मैं भी अल्पसंख्यकों की तरह मिट्टी की बेटी हूँ, और मैं भी अपनी राय और अधिकार रखने के लायक हूँ।

राम मंदिर: हिन्दू अभिव्यक्ति, मुस्लिमों का अपमान नहीं है

राम मंदिर के पक्ष में कोई भी फैसला केवल एक कारण के चलते माइनॉरिटी विरोधी रूप में बेशक नहीं देखा जाना चाहिए, और योगेंद्र यादव ऐसा कर के गलती कर रहे हैं। अयोध्या मुस्लिमों के मक्का की तरह है। यह एएसआई की रिपोर्ट में स्थापित हो चुका है कि वहाँ पर पहले एक भव्य हिन्दू मंदिर था और उसे तोड़कर ही मस्जिद बनाई गई। किसी भी श्रद्धालु समुदाय की तरह हिन्दू मंदिर का पुनर्निर्माण चाहते हैं अब, जब देश राजशाही और अधिनायकवादी शासन से आज़ाद है। हिन्दुओं के पक्ष में निर्णय मुस्लिमों के खिलाफ नहीं होगा, क्योंकि मुस्लिमों में से एक प्रेरित तबका ही इस मुद्दे का इस्तेमाल भावनाएँ भड़काने में कर रहा है। क्षेत्र में छोटी मुस्लिम जनसंख्या के साथ स्थानीय मुस्लिम समुदाय से कभी मस्जिद के लिए होहल्ला नहीं रहा। राम मंदिर के लिए आवाज़, दूसरी ओर, बहुंसख्यक समुदाय के पूरे सामाजिक-सांस्कृतिक मेल में से आती रही है, भारत के भीतर भी और बाहर भी।

दुर्भाग्यपूर्ण रूप से सैकड़ों सालों तक बहुंसख्यकों की कंडीशनिंग के चलते उन्हें लगता है कि अपनी सांस्कृतिक प्रथाओं की कोई अभिव्यक्ति अल्पसंख्यकों का अपमान है। लेकिन यह तुलना गलत है। भारत बहुंसख्यक और अल्पसंख्यक दोनों समुदायों का है। यह किसी एक का अधिक और दूसरे का कम नहीं है। अतः इसका कोई कारण नहीं है कि बहुंसख्यकों को अपने होने भर से शर्मिंदा होना पड़े।

योगेंद्र यादव के लिए अल्पसंख्यकों के खिलाफ और उनके पक्ष में

भारत एक विभिन्नता वाला देश है जिसे सदियों से एक सूत्र में “एकं सद्विप्रा बहुधा वदन्ति” पिरोता है। ऐसे देश में कोई सेक्युलरिज़्म के विचार को एक ही रंग में कैसे पेंट कर सकता है और बहुसंख्यकों के गुणों को क्रूर और सेक्युलरता के खिलाफ बता सकता है?

तीनों ही प्रस्ताव यूसीसी (यूनिफॉर्म सिविल कोड), केंद्रीय मतांतरण विरोधी कानून और नागरिकता संशोधन विधेयक अल्पसंख्यकों के खिलाफ बताए जा रहे हैं उनके द्वारा जिनके छिपे हित सामाजिक अस्थिरता, डेमोग्राफिक असंतुलन, सीमा पार घुसपैठ से जुड़े हुए हैं। इसके उलट ये तीनों ही प्रस्ताव देश के सेक्युलर परिचय को संरक्षित करते हैं।

  • यूसीसी सभी समुदायों पर प्रभाव डालता है, उन्हें फायदा पहुँचाता है और उनके बीच वैमनस्य को दबाता है। यह किसी भी एक समुदाय के पक्ष या विपक्ष में नहीं है।
  • मतांतरण विरोधी कानून किसी भी समुदाय से जबरिया मतांतरण पर रोक लगाएगा, जो एवंजेलिस्म और पैसे के लालच से होता है। यूसीसी की तरह यह भी सब पर लागू होगा। इसे अल्पसंख्यकों के खिलाफ बताने वाला ऐसे निर्णय की ओर इशारा कर रहा है जो अल्पसंख्यकों को असहज कर के छोड़ेगा।
  • नागरिकता संशोधन विधेयक हिन्दुओं, सिखों, बौद्धों, जैनों, पारसियों या ईसाइयों को अफगानिस्तान, बांग्लादेश और पाकिस्तान से आने पर शरण और भारत की नागरिकता देगा। इससे भी भारत के अल्पसंख्यकों के अधिकारों पर कोई आँच नहीं आएगी।

भारत में सेक्युलरिज़्म ने समय-समय पर परीक्षा दी है और लम्बे समय तक हमले झेले हैं। यह किसी एक फैसले का मोहताज नहीं है। लेकिन यह साफ है कि योगेंद्र यादव जैसे कई सारे ‘बौद्धिक धोखेबाज’ और ‘संदिग्ध विश्लेषकों’ का खुलासा हो चुका है। जो केवल एक हिन्दू-समर्थक फैसले की आहट भर से आहत हैं।

समय आ गया है कि पोलिटिकल साइंटिस्ट का ढोंग करने वाले प्रोपेगंडाबाजों को मान लेना चाहिए कि बहुंसख्यकों की प्रकृति ही सेक्युलर मानी जाती है। अनगिनत पंथों में फैले हुए हिन्दू धर्म ने हमेशा आस्था, विचारधारा, पंथ और मान्यताओं के लिए छतरी का काम किया है। जबकि नव-सेक्युलरिज़्म एक भंगुर सिद्धांत है, प्रोपेगंडा और दोहरेपन की अवधारणाओं की दया पर खड़ा हुआ, वह आस्थाओं के बीच की बहुंसख्यकों की संस्कृति है, जो उन्हें स्वीकार करने और गले लगाने का धैर्य देती है।

(मूलतः अंग्रेजी में प्रकाशित इस लेख का हिन्दू अनुवाद मृणाल प्रेम स्वरूप श्रीवास्तव ने किया है।)

Advertisements

  सहयोग करें  

एनडीटीवी हो या 'द वायर', इन्हें कभी पैसों की कमी नहीं होती। देश-विदेश से क्रांति के नाम पर ख़ूब फ़ंडिग मिलती है इन्हें। इनसे लड़ने के लिए हमारे हाथ मज़बूत करें। जितना बन सके, सहयोग करें

ख़ास ख़बरें

Gunja Kapoor
Gunja Kapoor is a policy analyst based in New Delhi. She tweets at @gunjakapoor

POK में ऐतिहासिक बौद्ध धरोहरों पर उकेर दिए पाकिस्तानी झंडे, तालिबान पहले ही कर चुका है बौद्ध प्रतिमाओं को नष्ट

POK में बौद्ध शिलाओं और कलाकृतियों को नुकसान पहुँचाते हुए उन पर पाकिस्तान के झंडे उकेर दिए गए हैं।

पिंजड़ा तोड़ की नताशा नरवाल पर UAPA के तहत मामला दर्ज: देवांगना के साथ मिल मुसलमानों को दंगों के लिए उकसाया था

नताशा नरवाल जेएनयू की छात्रा है। दंगों में उसकी भूमिका को देखते हुए UAPA के तहत मामला दर्ज किया गया है।

J&K: कुलगाम में सुरक्षाबलों ने दो आतंकियों को मार गिराया, भारी मात्रा में हथियार और गोला-बारूद बरामद

कुलगाम जिले के वानपोरा में सुरक्षाबलों ने मुठभेड़ में दो आतंकवादियों को मार गिराया। आतंकियों के छुपे होने की खुफ़िया जानकारी मिली थी।

‘मरीज मर जाएँ तो हमें दोष मत दीजिएगा’: उद्धव राज में बाल ठाकरे ट्रॉमा सेंटर की उखड़ी साँसें, ऑक्सीजन की कमी से 12 मरे

जोगेश्वरी के HBT ट्रॉमा सेंटर में तैनात डॉक्टरों ने कहा है कि हाँफते हुए मरीजों को दम तोड़ते देख उनका मानसिक स्वास्थ्य प्रभावित हो रहा है।

चीन के पर कतरे, WHO से रिश्ते तोड़े, हांगकांग का विशेष दर्जा छीना जाएगा: ट्रंप के ताबड़तोड़ फैसले

ट्रंप ने WHO से सारे संबंध खत्म करने का ऐलान किया है। चीन पर कई पाबंदियॉं लगाई है। हांगकांग का विशेष दर्जा भी वापस लिया जाएगा।

राजस्थान: अब दौसा में हेड कॉन्स्टेबल ने लगाई फाँसी, 7 दिन में तीसरे पुलिसकर्मी ने की आत्महत्या

दौसा के सैंथल में हेड कॉन्स्टेबल गिरिराज सिंह ने आत्महत्या कर ली। राज्य में सात दिनों के भीतर सुसाइड करने वाले वे तीसरे पुलिसकर्मी हैं।

प्रचलित ख़बरें

असलम ने किया रेप, अखबार ने उसे ‘तांत्रिक’ लिखा, भगवा कपड़ों वाला चित्र लगाया

बिलासपुर में जादू-टोना के नाम पर असलम ने एक महिला से रेप किया। लेकिन, मीडिया ने उसे इस तरह परोसा जैसे आरोपित हिंदू हो।

ISKCON ने किया ‘शेमारू’ की माफ़ी को अस्वीकार, कहा- सुरलीन, स्याल पर कार्रवाई कर उदाहारण पेश करेंगे

इस्कॉन के प्रवक्ता राधारमण दास ने शेमारू के इस माफ़ीनामे से संतुष्ट नहीं लगते और उन्होने घोषणा की कि वे बलराज स्याल और सुरलीन कौर के इस वीडियो को प्रसारित करने वाले शेमारू के खिलाफ कानूनी कार्रवाई करेंगे।

टिड्डियों के हमले को जायरा वसीम ने बताया अल्लाह का कहर, सोशल मीडिया पर यूजर्स ने ली क्लास

इस्लाम का हवाला देकर एक्टिंग को अलविदा कहने वाली जायरा वसीम ने देश में टिड्डियों के हमले को घमंडी लोगों पर अल्लाह का कहर बताया है।

जैकलीन कैनेडी की फोटो पास में रख कर सोते थे नेहरू: CIA के पूर्व अधिकारी ने बताए किस्से

सीआईए के पूर्व अधिकारी ब्रूस रिडेल का एक क्लिप वायरल हो रहा है। इसमें उन्होंने नेहरू और जैकलीन कैनेडी के संबंधों के बारे में बात की है।

दिल्ली में अस्पताल और श्मशान में शव रखने की जगह नहीं, हाइकोर्ट ने भेजा केजरीवाल सरकार, तीनों निगमों को नोटिस

पाँच दिन पहले जिनकी मौत हुई थी उनका अंतिम संस्कार नहीं हो पाया है। जिसकी वजह से मॉर्चरी में हर दिन संख्या बढ़ती चली जा रही है। पिछले हफ्ते जमीन पर 28 की जगह 34 शव रखें हुए थे।

हमसे जुड़ें

209,526FansLike
60,747FollowersFollow
244,000SubscribersSubscribe
Advertisements