राहुल गाँधी के नित्य उड़ते ‘राफ़ेल’ और देश की धूमिल होती छवि

आखिर प्रधानमंत्री पर अपने बेसिरपैर के आरोपों से राहुल गाँधी क्या सिद्ध करना चाहते हैं? यही कि देखो कॉन्ग्रेस की सरकार में एक अदद रक्षा खरीद नीति तक नहीं निर्मित हो पाई थी?

जोसेफ गोएबल्स का एक कथन है कि झूठ को इतनी बार बोलो कि वह सच बन जाए। दुर्भाग्य से कॉन्ग्रेस पार्टी आजकल यही कर रही है। राफ़ेल खरीद को लेकर कॉन्ग्रेस के अध्यक्ष राहुल गाँधी इतने झूठ बोल चुके हैं कि उन्हें लगता है कि उनकी कही गई किसी भी बात को अब सच मान लिया जाएगा। लेकिन अपने इन सैकड़ों झूठ के पीछे की सच्चाई या तो राहुल गाँधी समझ नहीं पा रहे हैं या समझने से जी चुरा रहे हैं।

किसी भी देश की रक्षा व्यवस्था उसके समूचे सुरक्षा ढाँचे का महत्वपूर्ण अंग होता है। आजकल पारंपरिक युद्धों का ज़माना तो रहा नहीं फिर भी जल, थल और नभ में तैनात बड़े और भारी भरकम हथियार आयुध भंडार की शोभा बढ़ाते हैं। बड़ी-बड़ी मिसाइलें, विमान वाहक युद्धपोत, परमाणु पनडुब्बियाँ, और युद्धक विमान शत्रु को पहले हमला न करने देने के मकसद से बनाए जाते हैं। इसे हम ‘deterrence’ कहते हैं। आज विश्व का पूरा हथियार उद्योग इसी ‘deterrence’ पर टिका हुआ है।

भारत को किन देशों से खतरा है यह ऐसे नहीं समझ में आता। जब हम दक्षिण एशिया का सामरिक मानचित्र देखते हैं तब समझ में आता है कि पाकिस्तान और चीन ने अपने आयुध भंडार में हमारे विरुद्ध कितने सारे हथियार जमा कर लिए हैं। इसी कारण भारत को भी दक्षिण एशिया में अपनी सुरक्षा को मज़बूत करने के लिए मिसाइलों, एयरक्राफ्ट करियर और परमाणु क्षमता वाले युद्धक विमानों की आवश्यकता है।

- विज्ञापन - - लेख आगे पढ़ें -

भारतीय वायुसेना में कम से कम 44 स्क्वाड्रन की आवश्यकता है लेकिन हमारे पास अभी केवल 32-35 स्क्वाड्रन हैं। अटल जी ने प्रधानमंत्री रहते हुए वायुसेना की स्क्वाड्रन बढ़ाने के लिए राफ़ेल विमान खरीद को मंज़ूरी दी थी। रक्षा क्षेत्र में खरीद और तकनीकी हस्तांतरण की नीति भारत में एक दिन में नहीं उपजी बल्कि विगत दो दशकों में इसका क्रमिक विकास हुआ।

दरअसल सन 2001 से पहले भारत के पास कोई स्थाई रक्षा खरीद एवं प्रबंधन की लिखित प्रक्रिया नहीं थी इसीलिए बोफोर्स और अन्य घोटाले सामने आते थे या होने की आशंका बनी रहती थी। 2001 के बाद रक्षा मंत्रालय ने क्रमशः 15 वर्ष, 5 वर्ष और सालाना एक्वीजीशन प्लान के अंतर्गत नीतियाँ बनाईं और यह निर्धारित किया कि हमें क्या कब और किस मात्रा में खरीदना है।  

सन 2001 में पहली बार Defence Procurement Management Structures and Systems बनाया गया और उसके बाद 2002 में पहली बार Defence Procurement Procedure (DPP) दस्तावेज़ तैयार हुआ। इस दस्तावेज़ में तब से अब तक कई संशोधन हो चुके हैं। अंतिम DPP 2016 में जारी हुई थी। राफ़ेल की खरीद और ऑफसेट नीति इसी दस्तावेज़ की नियमावली पर आधारित है जिसके अनुसार वर्ष 2019 के अंत तक राफ़ेल युद्धक विमानों की पहली खेप भारतीय वायुसेना को मिल जाएगी।

ऑफसेट नीतियों के अनुसार रिलायंस और अन्य कंपनियों को विमान के पार्ट बनाने का ठेका और अन्य तकनीक हस्तांतरित की जाएगी। लेकिन राहुल गाँधी ने राफ़ेल की खरीद पर लगातार अनर्गल बचकाने बयान और आरोपों की झड़ी लगाते हुए 18 वर्षों में हुई इस प्रगति की छवि उसी तरह धूमिल करने का प्रयास किया जैसे उनके पिताजी ने बोफोर्स खरीद में हुए घोटाले के आरोपी क्वात्रोच्चि को भगाकर किया था।

आखिर प्रधानमंत्री पर अपने बेसिरपैर के आरोपों से राहुल गाँधी क्या सिद्ध करना चाहते हैं? यही कि उन्हें भारत का मानचित्र देखने की भी फुर्सत नहीं है? या फिर वो यह बताना चाहते हैं कि देखो कॉन्ग्रेस की सरकार में एक अदद रक्षा खरीद नीति तक नहीं निर्मित हो पाई थी? स्पष्ट है कि राहुल गाँधी को देश की सामरिक ताक़त बढ़ने से कोई मतलब नहीं है। वो केवल ढेला फेंक कर भागने वाली टुच्ची राजनीति करने में मशगूल हैं। और इस कृत्य में उन्होंने एन राम जैसे खलिहर पत्रकारों को भी मिला लिया है।

वैसे राहुल गाँधी की अधिक गलती भी नहीं है। उनके ख़ानदान में तो सेना के मनोबल को गिराने वाले प्रधानमंत्रियों का इतिहास रहा है। नेहरू के समय ही जीप घोटाला हुआ, इंदिरा गांधी के समय 1971 का युद्ध जीतने के पश्चात् वन रैंक वन पेंशन खत्म कर दी गई थी। कहते हैं कि जब जनरल सर रॉय बुचर डिफेंस मॉडर्नाइजेशन का प्लान लेकर नेहरू के पास गए थे तो नेहरू ने उनसे कहा था कि भारत को सेना की ज़रूरत ही नहीं है। यह नेहरूवियन मानसिकता ही है जिसके कारण देश में रक्षा-सुरक्षा विषयों के उत्कृष्ट जानकार पत्रकारों की कमी है। जो हैं वे लुटियन दिल्ली में बैठकर सेना की एक टुकड़ी के एक मूवमेंट को सैन्य तख्तापलट साबित करने का षड्यंत्र रचते हैं।     

2004-14 तक सोनिया गाँधी सत्ता में प्रत्यक्ष दखलंदाज़ी करती थीं, तो ऐसा क्या हुआ था कि डॉ मनमोहन सिंह ने अंतिम चरण में पहुँच चुकी (कॉन्ग्रेस के अनुसार) राफ़ेल डील पर हस्ताक्षर नहीं किए? इसका जवाब राहुल गांधी क्यों नहीं देते? डॉ मनमोहन सिंह ने अपने  कार्यकाल में किससे पूछ कर भारत-पाक के मध्य ‘सॉफ्ट बॉर्डर’ बनाने के प्रस्ताव को आगे बढ़ाया था? सियाचेन का विसैन्यीकरण कर नियंत्रण रेखा को स्थाई सीमा बनाने का विचार मनमोहन सिंह के दिमाग में कैसे आया था? राहुल गांधी को बचकाने सवालों के राफ़ेल उड़ाने से पहले इन सवालों के जवाब देने चाहिए।


शेयर करें, मदद करें:
Support OpIndia by paying for content

ज़्यादा पढ़ी गईं ख़बरें

आतंकी एके सैंतालीस से खेल रहे क्रिकेट

इमरान खान, AK47 गाड़कर आतंकियों के ग्रेनेड से रिवर्स स्विंग मत कराइए, फट जाएगा

भैंस, गधे और कार बेचकर पैसे जुटाने वाले प्रधानमंत्री को यह सोचना चाहिए कि बंदूक़ों और आरडीएक्स के साथ-साथ आतंकियों को सैलरी पर रखना पाकिस्तानी हुकूमत की अजीबोग़रीब नीतियों की तरफ इशारा करता है।
रवीश कुमार

हिंदी हृदय सम्राट रवीश कुमार जी! थोड़ी अंग्रेजी भी पढ़ लीजिए, फ़र्ज़ीवाड़ा कम फैलाएँगे… हेहेहे!

दैनिक जागरण में रुपए की जिस ख़बर का हवाला देते हुए उन्होंने एक लंबा फर्जी लेख ''मीडिया विजिल'' में लिख मारा है, वह पूरी स्टोरी विशेषज्ञों के हवाले से लिखी गई है। काश! रवीश अंग्रेजी जानते और ऑरिजिनल आर्टिकल पढ़ पाते।
रविश, बरखा, राजदीप और वाजपेयी

मठाधीश पत्रकारों को औकात दिखाती सोशल मीडिया

रवीश कुमार का तो यह हाल है कि वे प्रनॉय रॉय के घर में तीसरी सबसे पुरानी चीज हो चुके हैं, लेकिन तब भी उनकी नौकरी छोड़ नहीं सकते क्योंकि उन्होंने इतना 'यश' कमाया है कि यहाँ से जाने के बाद उन्हें शायद ही कोई रोजगार दे।
राजदीप सरदेसाई और सैकात दत्ता

राजदीप जी, थोड़ी शरम बची हो तो हथेली पर थूक कर उसी में नाक डुबा के मर जाइए

जब तक इन्हें छीलेंगे नहीं, ये अपनी हरकतों से बाज़ नहीं आएँगे। इसलिए, इनके ट्वीट तो छोड़िए, एपिडर्मिस, इन्डोडर्मिस से लेकर डीएनए तक खँगालते रहिए क्योंकि बाय गॉड, ये लोग बहुत ही बेहूदे क़िस्म के हैं।
क्विंट आर्टिकल का स्क्रीनशॉट

क्विंट वालों ने टिक-टॉक विडियो से रॉकेट साइंस लगाकर ‘डेन्जरस हिन्दुत्व प्रोपेगेंडा’ कुछ यूँ निकाला

जब ये प्लेटफ़ॉर्म इस तरह की जोकरई और मूर्खतापूर्ण हरकतों से भरा हुआ है, तो वहाँ आपको राम मंदिर को लेकर भी 'ख़तरनाक राजनीति', या 'एक्सट्रीम हिन्दुत्व अजेंडा' के नाम पर सबसे ख़तरनाक पोस्ट यही मिलेगा कि 'मैं आरएसएस को पसंद करती हूँ', या यह कि 'मेरा जीवन संघ के लिए है।'
अजय कुमार

मेरठ के वीर अजय: ढाई साल का पुत्र, 8 महीने गर्भवती पत्नी और एक बिलखती माँ

मेरठ के जानी ब्लॉक के बसा टीकरी गाँव के रहने वाले अजय की उम्र 27 साल थी। 7 अप्रैल 2011 में अजय सेना की 20 ग्रेनेडियर में भर्ती हुए।

कश्मीरी राष्ट्रवादी, जो माँ-पिता को खो चुका है, PM से सुरक्षा की गुहार कर रहा है

हमने कई सारे इनिशिएटिव लिए हैं ताकि युवा इस चुनावी प्रक्रिया का हिस्सा बनें और शांति के प्रयास में हमारा साथ दे सकें। मेरे परिवार के कुछ सदस्य आतंकियों द्वारा पिछले कुछ सालों में मारे जा चुके हैं और यह बताता है कि यहाँ मेरी ज़िंदगी को कितना ख़तरा है।
मल्लिका दुआ

‘रोज मरते हैं लोग’ – पुलवामा पर थेथर मल्लिका दुआ का कॉमेंट, लोगों ने जम कर लगाई ‘लताड़’

पुलवामा हमले में वीरगति को प्राप्त हुए जवानों का अपमान करते हुए यौन शोषण के आरोपित पत्रकार विनोद दुआ की बेटी मल्लिका दुआ ने कहा कि रोज कई वजहों से लोग मरते हैं। मल्लिका दुआ अक़्सर ऐसी थेथरई करती रहती हैं।
कुलभूषण जाधव

पाक ने ICJ में कुलभूषण जाधव को RAW एजेंट साबित करने को लिया ‘The Quint’ का सहारा

पकिस्तानी पक्ष ने चन्दन नंदी द्वारा 'दी क्विंट' में लिखे गए एक लेख का भी सहारा लिया। इस लेख में नंदी ने दावा किया था कि जाधव के पास दो पासपोर्ट थे- एक उनके असली नाम से, और एक हुसैन मुबारक पटेल के नाम से।

Fact Check: NDTV वालो, और केतना बेज्जती करवाओगे शोना?

विवादस्पद NDTV की पहचान अब अक्सर फ़ेक न्यूज़ को प्रचारित करने की बन चुकी है। NDTV ने अपनी वेबसाइट में एक ऐसी भ्रामक हेडलाइन को प्रमुखता से जगह दी जिसमें यह दर्शाया गया कि पीएम मोदी ने वंदे भारत ट्रेन-18 का मजाक उड़ाते हुए लोगों के ख़िलाफ़ सज़ा की माँग की।

ताज़ा ख़बरें

हमसे जुड़ें

12,780फैंसलाइक करें
4,526फॉलोवर्सफॉलो करें
23,272सब्सक्राइबर्ससब्सक्राइब करें

ज़रूर पढ़ें