Thursday, July 16, 2020
Home विचार सामाजिक मुद्दे क्या आप बहन-बीवी के लिए चाय बनाए हैं, बर्तन धोए हैं? नहीं... तो वेद...

क्या आप बहन-बीवी के लिए चाय बनाए हैं, बर्तन धोए हैं? नहीं… तो वेद के ये 4 श्लोक पढ़ डालिए अभी

1. “सम्राज्ञी श्वशुरे भव सम्राज्ञी श्वश्र्वां भव। ननान्दरि सम्राज्ञी भव सम्राज्ञी अधि देवृषु।।“ 2. “अमोऽहमस्मि सा त्वं सा त्वमस्यमोऽहम्। सामाहमस्मि ऋक् त्वम्….।” 3. “ते सन्तु जरदष्टय: सं प्रियौ रोचिष्णू सुमनस्यमानौ।“

ये भी पढ़ें

महिलाओं की सुरक्षा के नाम पर छोटे-मोटे ध्यानाकर्षक हैश टैग्स चलाकर ही हम किसी बड़े अभियान जैसा संतोष हासिल कर लेते हैं और ख़ुशफ़हमी में जी लेते हैं। इसलिए कभी-कभी हमें #MeToo जैसे चलन ही बहुत बड़ी मुहिम लगने लगते हैं। लेकिन बिना किसी औपचारिकता के एक बात कहूँ तो मुझे लगता है कि न तो ये बहुत बड़ी बात है, न ही एक्सक्लूसिवली महिला होने के नाते सुरक्षा हासिल करने के बारे में है क्योंकि हर ज़िंदा चीज़ को सुरक्षित रहने का अधिकार है और महिलाएँ उनमें से ही हैं। पशु, पक्षी, इंसान सबको सुरक्षित रहना चाहिए। जहाँ तक इस अभियान के बड़ा अभियान होने की बात है, तो शायद ये उतना ही बड़ा है जितना उस बच्चे का कक्षा में नीचे से प्रथम आना बड़ा है, जो कभी स्कूल गया ही नहीं। अब शिक्षा के उपयुक्त अवसर प्राप्त न करने वाला बच्चा बस किसी तरह उत्तीर्ण ही हो जाए, यही बहुत बड़ी बात होती है। उसके अव्वल दर्जे वाले अंक प्राप्त करने की बात तो सोचना ही बेमानी है। बस वो पास हो जाए इतना ही काफी है। ऐसी ही स्थिति महिलाओं की है, सुरक्षित है इतना काफी है। बच्चा पास तो हुआ चाहे प्रथम न आया हो, चलेगा।

क्या हम कभी सोचते हैं वो कौन सी बातें हैं जो अभी भी उसे अग्रणी बनने की स्थिति से दूर रखती हैं? कुछ प्रबुद्ध और संवेदनशील लोगों को छोड़ दें तो अधिकांश रूप में सब जगह महिलाओं के साथ वही पूर्वग्रहों वाला रवैया देखने को मिलता है। महिलाओं को उतनी ही सहजता से हर जगह स्वीकार नहीं किया जाता, जितनी सहजता से पुरुषों को किया जाता है। अगर वो कोई बड़ी उपलब्धि हासिल कर लें तो यह एक आश्चर्य का विषय होता है। अधीनस्थ कर्मचारी अपनी बॉस की इसलिए आसानी से अवहेलना करते हैं क्योंकि वो एक महिला है और प्राय: उनको अपनी धाक ज़माने के लिए अतिरिक्त कठोरता का प्रदर्शन करना पड़ता है, चाहे वो उनके व्यक्तित्व से मेल खाता हो या नहीं। अगर पुरुष भद्दा मज़ाक भी करें तो उसको सेलिब्रेट किया जाता है जबकि महिलाओं से अपेक्षा की जाती है कि वो इससे दूर ही रहें। कोई महिला सभ्य-सुशील अंदाज़ में भी हास-परिहास करे तो भी कोई गारंटी नहीं कि लोग उसका उतनी ही सहजता से आनंद लें, जितना पुरुषों की मज़ाक से लिया जाता है। पहले इस बात पर ध्यान जाएगा कि ये जोक एक लड़की की तरफ़ से आया है।

एडवेंचर, शिक्षा के समान अवसर? रुकिए कहीं आप महिला तो नहीं हैं? घर में भाई-बहन की परवरिश के बीच होने वाला फ़र्क कितना स्पष्ट है। पुरुषों की तरह से ही दिन भर परिश्रम करके शाम को घर लौटने के बाद घर के सभी कामों की ज़िम्मेदारी केवल महिलाओं की होती है,जबकि बहुत-सी महिलाएँ अपने पतियों के कामों में अक्सर हाथ बँटाती हैं लेकिन बदले में उन्हें वैसा सहयोग नहीं मिलता। ऐसी कितनी ही और अनचाही बातें हैं जो अगर समाप्त हो जाएँ तो हम सोच सकते हैं कि हाँ अब ये बच्चा अच्छे अंकों के साथ उत्तीर्ण हुआ है।

पति परमेश्वर जैसी अवधारणाएँ पता नहीं कब और कैसे पैदा हो गईं। शायद इसी के चलते कई लोगों के व्यवहार को देख कर ऐसा लगता है जैसे उनकी पत्नी उनकी पत्नी न होकर उनकी सेविका हो जबकि वेद में पत्नी को घर की साम्राज्ञी कहा है- “सम्राज्ञी श्वशुरे भव सम्राज्ञी श्वश्र्वां भव। ननान्दरि सम्राज्ञी भव सम्राज्ञी अधि देवृषु।।“ मैंने ऋषि दयानंदकृत संस्कारविधि के विवाह और गृहस्थाश्रम प्रकरण से संबंधित वेद मंत्रों को ध्यान से देखा तो कुछ ही मंत्रों को पढ़कर बात स्पष्ट हो गई। वहाँ पढ़े गए मंत्रों में वर और वधू से समान प्रतिज्ञाएँ कराई गई हैं। किसी को किसी पर वरीयता नहीं दी गई है- “अमोऽहमस्मि सा त्वं सा त्वमस्यमोऽहम्। सामाहमस्मि ऋक् त्वम्….।” और अंततः सब कुछ इस बात पर टिका है कि दोनों एक दूसरे का कितना सम्मान कर पाते हैं और कितना एक दूसरे की भावनाओं का ख्याल रख पाते हैं, उनका परस्पर कितना प्रेमपूर्ण व्यवहार है- “ते सन्तु जरदष्टय: सं प्रियौ रोचिष्णू सुमनस्यमानौ।“ यह तो सिर्फ़ विवाह प्रकरण के मंत्रों की बात है, जिनको मैंने यह बताने के लिए यहाँ वर्णित किया है कि जहाँ स्वाभाविक रूप से संसार भर के सभी पुरुष अपनी पत्नियों पर अतिरिक्त अधिकार होने की बात करते हैं, वहाँ वेद इस विषय में क्या कहते हैं।

इसके अतिरिक्त वेदों में महिलाओं की स्थिति के विषय में जो मंत्र हैं, अगर आप उनको पढ़ेंगे तो महसूस करेंगे कि महिलाओं को वहाँ बहुत अधिक सम्मानजनक दर्जा प्राप्त है। ये बहुत ही राहत की बात है कि संसार के सबसे प्राचीन ज्ञान-भंडार वेद महिलाओं को इतना सशक्त, उदात्त और स्वीकार्य स्थान प्रदान करते हैं कि दुनिया की कोई भी तथाकथित आधुनिक और विकसित सभ्यताएँ उसके बारे में सोच भी नहीं सकती।

एक-दो वर्ष पहले लेडी गागा ने Women in Hollywood नामक आयोजन में पावरफुल सूट पहनकर अपनी पावरफुल स्पीच में कहा- “As a sexual assault survivor by someone in the entertainment industry, as a woman who is still not brave enough to say his name, as a woman who lives with chronic pain, as a woman who was conditioned at a very young age to listen to what men told me to do, I decided today I wanted to take the power back. Today I wear the pants.“ सारी दुनिया में महिलाओं के साथ यही दुर्घटना घटती रहती है। ये सब जिसकी लाठी उसकी भैंस वाली बात है और कुछ नहीं। और सच तो ये है कि यदि महिलाओं का शारीरिक सामर्थ्य पुरुषों से अधिक हुआ करता तो वो भी ऐसा ही करतीं। Power corrupts, absolute power corrupts absolutely.

इसलिए सोचने वाली बात ये है कि सब को अपने अंदर मानवीय दृष्टिकोण पैदा करना चाहिए और सचमुच अपने शिक्षित होने का परिचय देना चाहिए न कि एक दूसरे से अधिक दबंग होने का,चाहे वो महिला हो या पुरूष। जंगली पशु इंसानों पर इसलिए हमला नहीं करते कि वो इंसानों से अधिक शिक्षित हैं या आक्रमण की अच्छी योजना बना सकते हैं बल्कि उनका इंसानों पर हावी होने का आत्मविश्वास इस बात पर टिका होता है कि वो शरीर-बल में उनसे बढ़कर हैं। तो क्या इस वजह से हम उन्हें मानव जाति से श्रेष्ठ समझ लें? इसी तरह से जिस बल का प्रयोग विवेक के साथ नहीं किया जाता वो पशु-बल ही है, उसकी वजह से आप श्रेष्ठ नहीं कहला सकते। बल का शालीन प्रयोग ही बल की गरिमा है। जो बल का गरिमामय उपयोग करते हैं उनके व्यक्तित्व में देवत्व झलकता है। अपेक्षाकृत कम शारीरिक बल वाली महिलाओं पर अपना जोर दिखाना दानवता है।

शायद, इसीलिए देवत्व की कसौटी को मनीषियों ने कुछ इस तरह से निर्द्धारित किया- “यत्र नार्यस्तु पूज्यन्तेरमन्ते तत्र देवता:।” पूजा यानी न केवल सुरक्षा बल्कि सम्मान भी। अंतत: किसी के भी साथ हमारे व्यवहार का आधार मानवीय होना चाहिए क्योंकि हम मानव हैं। यही हम पर शोभा देता है और यही सबसे उपयुक्त बात है। जब ऐसा होगा तब ये बड़ी बात होगी।

लेखिका: अमिता, कन्या गुरुकुल चोटिपुरा

  सहयोग करें  

एनडीटीवी हो या 'द वायर', इन्हें कभी पैसों की कमी नहीं होती। देश-विदेश से क्रांति के नाम पर ख़ूब फ़ंडिग मिलती है इन्हें। इनसे लड़ने के लिए हमारे हाथ मज़बूत करें। जितना बन सके, सहयोग करें

ख़ास ख़बरें

ट्रेनिंग के लिए पैसे नहीं? खर्च उठाने को स्टार धावक दुती चंद को बेचनी पड़ी अपनी BMW कार: फैक्ट चेक

"मैंने अपनी BMW कार को बेचने के लिए सोशल मीडिया का सहारा लिया। मैंने कभी यह नहीं कहा कि मैं इसे अपने प्रशिक्षण के लिए बेच रही हूँ।"

सावरकर को चिढ़ाने, हिंदुओं को गाली देने वाले कॉमेडियंस… अब शिवसेना से माँग रहे रहम की भीख

खुद को क्रिएटिव बताने वाले इन कॉमेडियनों के पास जोक्स का अभाव है, तभी तो वो हिन्दू प्रतीकों का अपमान कर लोगों को हँसाने की कोशिश करते हैं।

पैगंबर की फिल्म से भावनाएँ होंगी आहत, YouTube, फेसबुक, Instagram सब जगह करो बैन: महाराष्ट्र सरकार

इस्लाम धर्म के पैगंबर हजरत मुहम्मद के जीवन पर आधारित ईरानी फिल्म ‘मुहम्मद दी मेसेंजर ऑफ गॉड’ पर प्रतिबंध लगाने को लेकर महाराष्ट्र की उद्धव सरकार ने केंद्र सरकार को पत्र लिखा है।

सुशांत सिंह केस: सुब्रमण्यम स्वामी ने पत्र लिख PM मोदी से की CBI जाँच की माँग, कहा- पुलिस छिपाना चाहती है बॉलीवुड के बड़े...

"आप महाराष्ट्र के मुख्यमंत्री को सीधे या राज्यपाल के ज़रिए सीबीआई जाँच के लिए सहमत कर सकते हैं। मुंबई पुलिस पहले ही कोरोना वायरस पैनडेमिक और दूसरे मामलों में व्यस्त है। जनता के भरोसे को बहाल करने के लिए सीबीआई जाँच ज़रूरी है।''

रक्षाबंधन पर गाय के चमड़े के उपयोग न करने की सलाह पर खुद ही फँसा PETA इंडिया, लोगों ने पूछा- राखी में कहाँ होता...

PETA इंडिया की सूर्यवंशी ने कहा, "हमें इस हिंसा के प्रति अपनी नाराजगी जाहिर करनी चाहिए। लेकिन लोग इस हिंसा के प्रति नहीं बल्कि अपना गुस्सा पेटा के खिलाफ निकालते है जब कि हम गायों को बचाने की कोशिश कर रहे हैं।"

7 कॉमेडियनों ने डिएक्टिवेट या प्रोटेक्ट किया अकॉउंट: हिन्दू धर्म और महापुरुषों के अपमान की ट्वीट-वीडियो होने लगी थी वायरल

स्टैंड-अप ‘कॉमेडियन’ अग्रिमा जोशुआ का मामला तूल पकड़ने के बाद स्टैंड अप कॉमेडी के नाम पर लोगों की भावनाओं से खिलवाड़ करने वाले तथाकथित कॉमेडियन्स को चुन-चुन कर सोशल मीडिया यूजर्स आड़े हाथों ले रहे हैं।

प्रचलित ख़बरें

अनस कुरैशी ने शिव मंदिर के उपाध्यक्ष को पीट-पीट कर मार डाला… क्योंकि उन्होंने भगवा पहना था

कांति प्रसाद की मौत से हिंदू संगठनों में रोष व्याप्त। थाने पर उन्होंने जमकर हंगामा किया। पुलिस ने मामले की गंभीरता को देखते हुए अनस पर...

‘मुझे बचा लो… बॉयफ्रेंड हबीब मुझे मार डालेगा’: रिदा चौधरी का आखिरी कॉल, फर्श पर पड़ी मिली लाश

आरोप है कि हत्या के बाद हबीब ने रिदा के शव को पंखे से लटका कर इसे आत्महत्या का रूप देने का प्रयास किया। गुरुग्राम पुलिस जाँच कर रही है।

UAE दूतावास की सील-राजकीय चिन्ह से छेड़छाड़ कर आतंक के लिए 10 महीने में 150 किलो सोने की तस्करी: NIA ने किया खुलासा

हिरासत के आवेदन को आगे बढ़ाते हुए, एजेंसी ने अदालत को बताया कि गृह मंत्रालय ने प्रारंभिक जाँच की थी और पाया था कि तस्करी का सोना आतंकवादी गतिविधियों के लिए उपयोग किया जाता था।

तो रुक जाएगी चीन में जाने वाली 80% ऊर्जा… भारत ऐसे ख़त्म करेगा ड्रैगन और अरब का व्यापार, साथ आए कई देश

मलक्का को लेकर भारत द्वारा खास रणनीति पर काम करने की खबरें सामने आ रही हैं। चीन में ऊर्जा की 80% ज़रूरत मलक्का रूट से ही पूरी होती है।

विदेश में पढ़ाई के दौरान मोहब्बत, पहले मजहब फिर सारा के CM पिता फारूक अब्दुल्ला बने रोड़ा: सचिन पायलट की लव स्टोरी

सारा और सचिन पेंसिल्वेनिया विश्वविद्यालय के व्हार्टन स्कूल में उच्च शिक्षा प्राप्त करने के दौरान एक दूसरे से मिले थे। एक दूसरे को डेट करने के बाद, दोनों ने सारा के परिवार की तरफ से लगातार आपत्तियों के बावजूद 2004 में एक बंधन में बँधने का फैसला किया।

दूध बेचने से लेकर हॉलैंड में F-16 उड़ाने तक: किस्सा राजेश पायलट का, जिसने सत्ता के सबसे बड़े दलाल को जेल भेजा

सत्ता के सबसे बड़े दलाल पर हाथ डालने के 2 दिन बाद ही पायलट को गृह मंत्रालय से निकाल बाहर किया गया था। जानिए राजेश्वर प्रसाद कैसे बने राजेश पायलट।

ट्रेनिंग के लिए पैसे नहीं? खर्च उठाने को स्टार धावक दुती चंद को बेचनी पड़ी अपनी BMW कार: फैक्ट चेक

"मैंने अपनी BMW कार को बेचने के लिए सोशल मीडिया का सहारा लिया। मैंने कभी यह नहीं कहा कि मैं इसे अपने प्रशिक्षण के लिए बेच रही हूँ।"

सावरकर को चिढ़ाने, हिंदुओं को गाली देने वाले कॉमेडियंस… अब शिवसेना से माँग रहे रहम की भीख

खुद को क्रिएटिव बताने वाले इन कॉमेडियनों के पास जोक्स का अभाव है, तभी तो वो हिन्दू प्रतीकों का अपमान कर लोगों को हँसाने की कोशिश करते हैं।

Covid-19: भारत में पिछले 24 घंटे में सामने आए संक्रमण के 29429 मामले, अब तक 24309 की मौत

केंद्रीय स्वास्थ्य एवं परिवार कल्याण मंत्रालय के आँकड़ों के अनुसार, पिछले 24 घंटे में देशभर में कोरोना वायरस के 29,429 नए मामले सामने आए हैं और 582 लोगों की मौत हुई है।

अपहरण किए गए बीजेपी नेता को पुलिस ने किया रेस्क्यू, लश्कर कमांडर ​​हैदर के परिवार को हिरासत में लेकर शुरू हुआ था ऑपरेशन

बारामूला के वाटरगाम में नगर समिति के उपाध्यक्ष मेराजुद्दीन मल्ला को बचाने के लिए चलाए गए ऑपरेशन को लश्कर के सोपोर कमांडर सज्जाद उर्फ ​​हैदर के परिवार के सदस्यों को हिरासत में लेकर शुरू किया गया था।

Qraa Men ब्रांड ने महिलाओं की नग्न तस्वीरों के साथ किया पुरुष प्रॉडक्ट का प्रचार, सोशल मीडिया पर भड़के लोग, किया विरोध

लोगों की कड़ी प्रतिक्रियाओं को देखते हुए Qraa Men हालही में पोस्ट किए विज्ञापन सामग्री को हटा दिया है, जिसमें उन्होंने सीधे तौर पर महिलाओं ऑब्जेक्टिफाई किया था।

पैगंबर की फिल्म से भावनाएँ होंगी आहत, YouTube, फेसबुक, Instagram सब जगह करो बैन: महाराष्ट्र सरकार

इस्लाम धर्म के पैगंबर हजरत मुहम्मद के जीवन पर आधारित ईरानी फिल्म ‘मुहम्मद दी मेसेंजर ऑफ गॉड’ पर प्रतिबंध लगाने को लेकर महाराष्ट्र की उद्धव सरकार ने केंद्र सरकार को पत्र लिखा है।

सुशांत सिंह केस: सुब्रमण्यम स्वामी ने पत्र लिख PM मोदी से की CBI जाँच की माँग, कहा- पुलिस छिपाना चाहती है बॉलीवुड के बड़े...

"आप महाराष्ट्र के मुख्यमंत्री को सीधे या राज्यपाल के ज़रिए सीबीआई जाँच के लिए सहमत कर सकते हैं। मुंबई पुलिस पहले ही कोरोना वायरस पैनडेमिक और दूसरे मामलों में व्यस्त है। जनता के भरोसे को बहाल करने के लिए सीबीआई जाँच ज़रूरी है।''

पालघर: महाराष्ट्र CID की चार्जशीट से साधुओं की लिंचिंग में धार्मिक कारण से इनकार, हत्या को बताया अफवाहों पर आधारित

चार्ज शीट में पालघर, महाराष्ट्र में हुई साधुओं की लिंचिंग को अफवाहों के आधार पर बताते हुए कहा गया है कि इसके पीछे कोई धार्मिक कारण नहीं था।

हैंड-सैनिटाइजर पर GST छूट घरेलू उत्पादों की कीमत बढ़ाने और चीन से आयात को प्रोत्साहित कर सकता है, जानिए कैसे

एक बार के लिए ऐसा लग सकता है कि कर की दर शून्य होने पर कीमतें कम होंगी, लेकिन यह सच नहीं है। ऐसा इसलिए है क्योंकि जीएसटी वास्तव में एक ऐसा VAT है, जहाँ उत्पादन के प्रत्येक चरण में जोड़े गए मूल्य पर कर लगाया जाता है।

रक्षाबंधन पर गाय के चमड़े के उपयोग न करने की सलाह पर खुद ही फँसा PETA इंडिया, लोगों ने पूछा- राखी में कहाँ होता...

PETA इंडिया की सूर्यवंशी ने कहा, "हमें इस हिंसा के प्रति अपनी नाराजगी जाहिर करनी चाहिए। लेकिन लोग इस हिंसा के प्रति नहीं बल्कि अपना गुस्सा पेटा के खिलाफ निकालते है जब कि हम गायों को बचाने की कोशिश कर रहे हैं।"

हमसे जुड़ें

239,925FansLike
63,547FollowersFollow
275,000SubscribersSubscribe