Sunday, April 11, 2021
Home विचार सामाजिक मुद्दे क्या आप बहन-बीवी के लिए चाय बनाए हैं, बर्तन धोए हैं? नहीं... तो वेद...

क्या आप बहन-बीवी के लिए चाय बनाए हैं, बर्तन धोए हैं? नहीं… तो वेद के ये 4 श्लोक पढ़ डालिए अभी

1. “सम्राज्ञी श्वशुरे भव सम्राज्ञी श्वश्र्वां भव। ननान्दरि सम्राज्ञी भव सम्राज्ञी अधि देवृषु।।“ 2. “अमोऽहमस्मि सा त्वं सा त्वमस्यमोऽहम्। सामाहमस्मि ऋक् त्वम्….।” 3. “ते सन्तु जरदष्टय: सं प्रियौ रोचिष्णू सुमनस्यमानौ।“

महिलाओं की सुरक्षा के नाम पर छोटे-मोटे ध्यानाकर्षक हैश टैग्स चलाकर ही हम किसी बड़े अभियान जैसा संतोष हासिल कर लेते हैं और ख़ुशफ़हमी में जी लेते हैं। इसलिए कभी-कभी हमें #MeToo जैसे चलन ही बहुत बड़ी मुहिम लगने लगते हैं। लेकिन बिना किसी औपचारिकता के एक बात कहूँ तो मुझे लगता है कि न तो ये बहुत बड़ी बात है, न ही एक्सक्लूसिवली महिला होने के नाते सुरक्षा हासिल करने के बारे में है क्योंकि हर ज़िंदा चीज़ को सुरक्षित रहने का अधिकार है और महिलाएँ उनमें से ही हैं। पशु, पक्षी, इंसान सबको सुरक्षित रहना चाहिए। जहाँ तक इस अभियान के बड़ा अभियान होने की बात है, तो शायद ये उतना ही बड़ा है जितना उस बच्चे का कक्षा में नीचे से प्रथम आना बड़ा है, जो कभी स्कूल गया ही नहीं। अब शिक्षा के उपयुक्त अवसर प्राप्त न करने वाला बच्चा बस किसी तरह उत्तीर्ण ही हो जाए, यही बहुत बड़ी बात होती है। उसके अव्वल दर्जे वाले अंक प्राप्त करने की बात तो सोचना ही बेमानी है। बस वो पास हो जाए इतना ही काफी है। ऐसी ही स्थिति महिलाओं की है, सुरक्षित है इतना काफी है। बच्चा पास तो हुआ चाहे प्रथम न आया हो, चलेगा।

क्या हम कभी सोचते हैं वो कौन सी बातें हैं जो अभी भी उसे अग्रणी बनने की स्थिति से दूर रखती हैं? कुछ प्रबुद्ध और संवेदनशील लोगों को छोड़ दें तो अधिकांश रूप में सब जगह महिलाओं के साथ वही पूर्वग्रहों वाला रवैया देखने को मिलता है। महिलाओं को उतनी ही सहजता से हर जगह स्वीकार नहीं किया जाता, जितनी सहजता से पुरुषों को किया जाता है। अगर वो कोई बड़ी उपलब्धि हासिल कर लें तो यह एक आश्चर्य का विषय होता है। अधीनस्थ कर्मचारी अपनी बॉस की इसलिए आसानी से अवहेलना करते हैं क्योंकि वो एक महिला है और प्राय: उनको अपनी धाक ज़माने के लिए अतिरिक्त कठोरता का प्रदर्शन करना पड़ता है, चाहे वो उनके व्यक्तित्व से मेल खाता हो या नहीं। अगर पुरुष भद्दा मज़ाक भी करें तो उसको सेलिब्रेट किया जाता है जबकि महिलाओं से अपेक्षा की जाती है कि वो इससे दूर ही रहें। कोई महिला सभ्य-सुशील अंदाज़ में भी हास-परिहास करे तो भी कोई गारंटी नहीं कि लोग उसका उतनी ही सहजता से आनंद लें, जितना पुरुषों की मज़ाक से लिया जाता है। पहले इस बात पर ध्यान जाएगा कि ये जोक एक लड़की की तरफ़ से आया है।

एडवेंचर, शिक्षा के समान अवसर? रुकिए कहीं आप महिला तो नहीं हैं? घर में भाई-बहन की परवरिश के बीच होने वाला फ़र्क कितना स्पष्ट है। पुरुषों की तरह से ही दिन भर परिश्रम करके शाम को घर लौटने के बाद घर के सभी कामों की ज़िम्मेदारी केवल महिलाओं की होती है,जबकि बहुत-सी महिलाएँ अपने पतियों के कामों में अक्सर हाथ बँटाती हैं लेकिन बदले में उन्हें वैसा सहयोग नहीं मिलता। ऐसी कितनी ही और अनचाही बातें हैं जो अगर समाप्त हो जाएँ तो हम सोच सकते हैं कि हाँ अब ये बच्चा अच्छे अंकों के साथ उत्तीर्ण हुआ है।

पति परमेश्वर जैसी अवधारणाएँ पता नहीं कब और कैसे पैदा हो गईं। शायद इसी के चलते कई लोगों के व्यवहार को देख कर ऐसा लगता है जैसे उनकी पत्नी उनकी पत्नी न होकर उनकी सेविका हो जबकि वेद में पत्नी को घर की साम्राज्ञी कहा है- “सम्राज्ञी श्वशुरे भव सम्राज्ञी श्वश्र्वां भव। ननान्दरि सम्राज्ञी भव सम्राज्ञी अधि देवृषु।।“ मैंने ऋषि दयानंदकृत संस्कारविधि के विवाह और गृहस्थाश्रम प्रकरण से संबंधित वेद मंत्रों को ध्यान से देखा तो कुछ ही मंत्रों को पढ़कर बात स्पष्ट हो गई। वहाँ पढ़े गए मंत्रों में वर और वधू से समान प्रतिज्ञाएँ कराई गई हैं। किसी को किसी पर वरीयता नहीं दी गई है- “अमोऽहमस्मि सा त्वं सा त्वमस्यमोऽहम्। सामाहमस्मि ऋक् त्वम्….।” और अंततः सब कुछ इस बात पर टिका है कि दोनों एक दूसरे का कितना सम्मान कर पाते हैं और कितना एक दूसरे की भावनाओं का ख्याल रख पाते हैं, उनका परस्पर कितना प्रेमपूर्ण व्यवहार है- “ते सन्तु जरदष्टय: सं प्रियौ रोचिष्णू सुमनस्यमानौ।“ यह तो सिर्फ़ विवाह प्रकरण के मंत्रों की बात है, जिनको मैंने यह बताने के लिए यहाँ वर्णित किया है कि जहाँ स्वाभाविक रूप से संसार भर के सभी पुरुष अपनी पत्नियों पर अतिरिक्त अधिकार होने की बात करते हैं, वहाँ वेद इस विषय में क्या कहते हैं।

इसके अतिरिक्त वेदों में महिलाओं की स्थिति के विषय में जो मंत्र हैं, अगर आप उनको पढ़ेंगे तो महसूस करेंगे कि महिलाओं को वहाँ बहुत अधिक सम्मानजनक दर्जा प्राप्त है। ये बहुत ही राहत की बात है कि संसार के सबसे प्राचीन ज्ञान-भंडार वेद महिलाओं को इतना सशक्त, उदात्त और स्वीकार्य स्थान प्रदान करते हैं कि दुनिया की कोई भी तथाकथित आधुनिक और विकसित सभ्यताएँ उसके बारे में सोच भी नहीं सकती।

एक-दो वर्ष पहले लेडी गागा ने Women in Hollywood नामक आयोजन में पावरफुल सूट पहनकर अपनी पावरफुल स्पीच में कहा- “As a sexual assault survivor by someone in the entertainment industry, as a woman who is still not brave enough to say his name, as a woman who lives with chronic pain, as a woman who was conditioned at a very young age to listen to what men told me to do, I decided today I wanted to take the power back. Today I wear the pants.“ सारी दुनिया में महिलाओं के साथ यही दुर्घटना घटती रहती है। ये सब जिसकी लाठी उसकी भैंस वाली बात है और कुछ नहीं। और सच तो ये है कि यदि महिलाओं का शारीरिक सामर्थ्य पुरुषों से अधिक हुआ करता तो वो भी ऐसा ही करतीं। Power corrupts, absolute power corrupts absolutely.

इसलिए सोचने वाली बात ये है कि सब को अपने अंदर मानवीय दृष्टिकोण पैदा करना चाहिए और सचमुच अपने शिक्षित होने का परिचय देना चाहिए न कि एक दूसरे से अधिक दबंग होने का,चाहे वो महिला हो या पुरूष। जंगली पशु इंसानों पर इसलिए हमला नहीं करते कि वो इंसानों से अधिक शिक्षित हैं या आक्रमण की अच्छी योजना बना सकते हैं बल्कि उनका इंसानों पर हावी होने का आत्मविश्वास इस बात पर टिका होता है कि वो शरीर-बल में उनसे बढ़कर हैं। तो क्या इस वजह से हम उन्हें मानव जाति से श्रेष्ठ समझ लें? इसी तरह से जिस बल का प्रयोग विवेक के साथ नहीं किया जाता वो पशु-बल ही है, उसकी वजह से आप श्रेष्ठ नहीं कहला सकते। बल का शालीन प्रयोग ही बल की गरिमा है। जो बल का गरिमामय उपयोग करते हैं उनके व्यक्तित्व में देवत्व झलकता है। अपेक्षाकृत कम शारीरिक बल वाली महिलाओं पर अपना जोर दिखाना दानवता है।

शायद, इसीलिए देवत्व की कसौटी को मनीषियों ने कुछ इस तरह से निर्द्धारित किया- “यत्र नार्यस्तु पूज्यन्तेरमन्ते तत्र देवता:।” पूजा यानी न केवल सुरक्षा बल्कि सम्मान भी। अंतत: किसी के भी साथ हमारे व्यवहार का आधार मानवीय होना चाहिए क्योंकि हम मानव हैं। यही हम पर शोभा देता है और यही सबसे उपयुक्त बात है। जब ऐसा होगा तब ये बड़ी बात होगी।

लेखिका: अमिता, कन्या गुरुकुल चोटिपुरा

  सहयोग करें  

एनडीटीवी हो या 'द वायर', इन्हें कभी पैसों की कमी नहीं होती। देश-विदेश से क्रांति के नाम पर ख़ूब फ़ंडिग मिलती है इन्हें। इनसे लड़ने के लिए हमारे हाथ मज़बूत करें। जितना बन सके, सहयोग करें

संबंधित ख़बरें

ख़ास ख़बरें

आनंद को मार डाला क्योंकि वह BJP के लिए काम करता था: कैमरे के सामने आकर प्रत्यक्षदर्शी ने बताया पश्चिम बंगाल का सच

पश्चिम बंगाल में आनंद बर्मन की हत्या पर प्रत्यक्षदर्शी ने दावा किया है कि भाजपा कार्यकर्ता होने के कारण हुई आनंद की हत्या।

बंगाल में ‘मुस्लिम तुष्टिकरण’ है ही नहीं… आरफा खानम शेरवानी ‘आँकड़े’ दे छिपा रहीं लॉबी के हार की झुँझलाहट?

प्रशांत किशोर जैसे राजनैतिक ‘जानकार’ के द्वारा मुस्लिमों के तुष्टिकरण की बात को स्वीकारने के बाद भी आरफा खानम शेरवानी ने...

सबरीमाला मंदिर खुला: विशु के लिए विशेष पूजा, राज्यपाल आरिफ मोहम्मद ने किया दर्शन

केरल स्थित भगवान अयप्पा के सबरीमाला मंदिर में विशेष पूजा का आयोजन किया गया। विशु त्योहार से पहले शनिवार को मंदिर को खोला गया।

रमजान हो या कुछ और… 5 से अधिक लोग नहीं हो सकेंगे जमा: कोरोना और लॉकडाउन पर CM योगी

कोरोना संक्रमण के बीच सीएम योगी ने प्रदेश के धार्मिक स्थलों पर 5 से अधिक लोगों के इकट्ठे होने पर लगाई रोक। रोक के अलावा...

राजस्थान: छबड़ा में सांप्रदायिक हिंसा, दुकानों को फूँका; पुलिस-दमकल सब पर पत्थरबाजी

राजस्थान के बारां जिले के छाबड़ा में सांप्रदायिक हिसा के बाद कर्फ्यू लगा दिया गया गया है। चाकूबाजी की घटना के बाद स्थानीय लोगों ने...

‘लंदन में एक बुरा दिन दूसरे जगह के अच्छे दिन से बेहतर’ – इंडिया को याद कर रही हैं या गाली दे रहीं सोनम...

“मैं भारत को इतना मिस कर रही हूँ और अपने परिवार और दोस्तों से मिलने अपने घर वापस आना चाहती हूँ, लेकिन मैंने महसूस किया कि...”

प्रचलित ख़बरें

‘ASI वाले ज्ञानवापी में घुस नहीं पाएँगे, आप मारे जाओगे’: काशी विश्वनाथ के पक्षकार हरिहर पांडेय को धमकी

ज्ञानवापी केस में काशी विश्वनाथ के पक्षकार हरिहर पांडेय को जान से मारने की धमकी मिली है। धमकी देने वाले का नाम यासीन बताया जा रहा।

बंगाल: मतदान देने आई महिला से ‘कुल्हाड़ी वाली’ मुस्लिम औरतों ने छीना बच्चा, कहा- नहीं दिया तो मार देंगे

वीडियो में तृणमूल कॉन्ग्रेस पार्टी के नेता को उस पीड़िता को डराते हुए देखा जा सकता है। टीएमसी नेता मामले में संज्ञान लेने की बजाय महिला पर आरोप लगा रहे हैं और पुलिस अधिकारी को उस महिला को वहाँ से भगाने का निर्देश दे रहे हैं।

SHO बेटे का शव देख माँ ने तोड़ा दम, बंगाल में पीट-पीटकर कर दी गई थी हत्या: आलम सहित 3 गिरफ्तार, 7 पुलिसकर्मी भी...

बिहार पुलिस के अधिकारी अश्विनी कुमार का शव देख उनकी माँ ने भी दम तोड़ दिया। SHO की पश्चिम बंगाल में पीट-पीटकर हत्या कर दी गई थी।

पॉर्न फिल्म में दिखने के शौकीन हैं जो बायडेन के बेटे, परिवार की नंगी तस्वीरें करते हैं Pornhub अकॉउंट पर शेयर: रिपोर्ट्स

पॉर्न वेबसाइट पॉर्नहब पर बायडेन का अकॉउंट RHEast नाम से है। उनके अकॉउंट को 66 badge मिले हुए हैं। वेबसाइट पर एक बैच 50 सब्सक्राइबर होने, 500 वीडियो देखने और एचडी में पॉर्न देखने पर मिलता है।

कूच बिहार में 300-350 की भीड़ ने CISF पर किया था हमला, ममता ने समर्थकों से कहा था- केंद्रीय बलों का घेराव करो

कूच बिहार में भीड़ ने CISF की टीम पर हमला कर हथियार छीनने की कोशिश की। फायरिंग में 4 की मौत हो गई।

‘मोदी में भगवान दिखता है’: प्रशांत किशोर ने लुटियंस मीडिया को बताया बंगाल में TMC के खिलाफ कितना गुस्सा

"मोदी के खिलाफ एंटी-इनकंबेंसी नहीं है। मोदी का पूरे देश में एक कल्ट बन गया है। 10 से 25 प्रतिशत लोग ऐसे हैं, जिनको मोदी में भगवान दिखता है।"
- विज्ञापन -

 

हमसे जुड़ें

292,985FansLike
82,165FollowersFollow
394,000SubscribersSubscribe