Saturday, November 27, 2021
Homeराजनीतिअब उत्तराखंड कॉन्ग्रेस में टूट: 3 बड़े नेताओं के साथ 25 ने पद और...

अब उत्तराखंड कॉन्ग्रेस में टूट: 3 बड़े नेताओं के साथ 25 ने पद और पार्टी को त्याग थामा BJP का दामन

कॉन्ग्रेस पार्टी के उत्तराखंड किसान प्रकोष्ठ के प्रदेश महासचिव वरुण गहलोत, प्रदेश सचिव राजीव चौहान और खेलकूद प्रकोष्ठ के उपाध्यक्ष अजय सिंह ने कॉन्ग्रेस छोड़ बीजेपी का दामन थाम लिया।

केंद्र सरकार द्वारा जम्मू-कश्मीर पर अनुच्छेद-370 पर लिए फ़ैसले के बाद से ही सियासत और तेज़ हो गई है। ख़ासतौर पर कॉन्ग्रेस इस फ़ैसले से काफ़ी नराज़ है। एक तरफ़ तो वो इसके विरोध में है, वहीं दूसरी तरफ़ इस फ़ैसले के समर्थन में कॉन्ग्रेस के कई नेता बीजेपी में शामिल हो रहे हैं।

ख़बर के अनुसार, कॉन्ग्रेस के तीन बड़े नेता अपने पदों और पार्टी की सदस्यता से त्यागपत्र देकर समर्थकों संग बीजेपी में शामिल हो गए। बुधवार (21 अगस्त) को कॉन्ग्रेस पार्टी के उत्तराखंड किसान प्रकोष्ठ के प्रदेश महासचिव वरुण गहलोत, प्रदेश सचिव राजीव चौहान और खेलकूद प्रकोष्ठ के उपाध्यक्ष अजय सिंह ने कॉन्ग्रेस छोड़ बीजेपी का दामन थाम लिया।

मीडिया में ख़बरों के अनुसार, कुल 25 कॉन्ग्रेस नेताओं ने कॉन्ग्रेस छोड़ बीजेपी की सदस्यता ली। सभी ने बुधवार को बीजेपी के सदस्यता प्रमुख एवं पूर्व सांसद प्रतिनिधि धर्मेंद्र कुमार से सदस्यता पत्र प्राप्त किए। उत्तराखंड के रायपुर ग्राम निवासी वरुण गहलोत कॉन्ग्रेस के साथ लंबे समय से जुड़े हुए थे। उन्होंने अपने 25 साथियों के साथ बीजेपी की सदस्यता ली। इनमें कॉन्ग्रेस की पूर्व सांसद प्रतिनिधि शीतल जोशी, कोमल सिंह भी शामिल हैं।

शीतल जोशी ने अपने आवास में आयोजित प्रेस कॉन्फ्रेन्स में पत्रकारों से कहा कि जम्मू-कश्मीर से अनुच्छेद-370 व 35-A को हटाना केंद्र सरकार का ऐतिहासिक फ़ैसला है। इस दौरान वहाँ कोमल सिंह के अलावा डॉ सुदेश, बलराम तोमर और कमल चौहान भी मौजूद थे।

 

  सहयोग करें  

एनडीटीवी हो या 'द वायर', इन्हें कभी पैसों की कमी नहीं होती। देश-विदेश से क्रांति के नाम पर ख़ूब फ़ंडिग मिलती है इन्हें। इनसे लड़ने के लिए हमारे हाथ मज़बूत करें। जितना बन सके, सहयोग करें

ऑपइंडिया स्टाफ़http://www.opindia.in
कार्यालय संवाददाता, ऑपइंडिया

संबंधित ख़बरें

ख़ास ख़बरें

बढ़ता आरक्षण हो, समान नागरिक संहिता या… कुछ और: संविधान दिवस बनेगा विमर्शों का कारण, पिछले 7 सालों में PM मोदी ने दी है...

विमर्शों का कोई अंतिम या लिखित निष्कर्ष निकले यह आवश्यक नहीं पर विमर्श हो यह आवश्यक है क्योंकि वर्तमान काल भारतीय संवैधानिक लोकतंत्र की यात्रा के मूल्यांकन का काल है।

कश्मीर में सुरक्षाबलों ने आतंकियों के कमांडर हाजी आरिफ को मार गिराया, 2018 के बैट हमले में इस पूर्व पाक सैनिक की थी अहम...

जम्मू-कश्मीर में एलओसी के निकट सुरक्षाबलों ने आतंकियों के मददगार हाजी आरिफ को मार गिराया। पहले पाकिस्तानी सेना में था यह आतंकी।

प्रचलित ख़बरें

- विज्ञापन -

हमसे जुड़ें

295,307FansLike
139,817FollowersFollow
412,000SubscribersSubscribe