Thursday, July 18, 2024
HomeराजनीतिPM किसान निधि के साथ-साथ अब 'नमो किसान निधि': महाराष्ट्र के किसानों को हर...

PM किसान निधि के साथ-साथ अब ‘नमो किसान निधि’: महाराष्ट्र के किसानों को हर साल ₹6000 एक्स्ट्रा सीधे बैंक खाते में, CM एकनाथ शिंदे का ऐलान

सिल्लोड तालुका में मक्का अनुसंधान केंद्र स्थापित करने का निर्णय भी लिया गया है। महिला केंद्रित पर्यटन नीति बनाई गई है।

महाराष्ट्र के मुख्यमंत्री एकनाथ शिंदे ने राज्य के किसानों के लिए बड़ा ऐलान किया है। ‘नमो शेतकारी महा सम्मान निधि योजना’ के तहत किसानों को हर साल 6000 रुपए दिए जाएँगे। ये पहले से चल रही ‘पीएम किसान सम्मान निधि योजना’ के अतिरिक्त होगा। इस तरह महाराष्ट्र के किसानों को अब केंद्र और राज्य सरकार से सालाना 12,000 रुपए मिलेंगे। ताज़ा योजना की राशि भी 3 किस्तों में किसानों के बैंक खाते में सीधे भेजी जाएगी।

महाराष्ट्र कैबिनेट की बैठक में इस फैसले पर मुहर लगाई गई। बता दें कि महाराष्ट्र में फ़िलहाल ‘बाळासाहेबांची शिवसेना’ और भाजपा की गठबंधन सरकार चल रही है। भाजपा नेता देवेंद्र फडणवीस राज्य के उप-मुख्यमंत्री होने के साथ-साथ वित्त मंत्री भी हैं। ताज़ा योजना का लाभ उठाने के लिए किसानों के पास मूल निवास प्रमाण पत्र, आधार कार्ड, बैंक खाता का विवरण, आय प्रमण पत्र, जमीनी दस्तावेज, मोबाइल नंबर होना आवश्यक है।

‘नमो शेतकारी महा सम्मान निधि योजना’ का लाभ उन्हीं किसानों को मिलेगा, जो महाराष्ट्र के स्थायी निवासी हैं। किसानों के पास खुद की जमीन भी होनी चाहिए, जिस पर वो खेती करते हों। जो महाराष्ट्र के कृषि विभाग में रजिस्टर्ड नहीं हैं, उन्हें रजिस्ट्रेशन कराना होगा। जो बैंक खाता आधार कार्ड से जुड़ा होगा, पैसा उसमें ही जाएगा। महाराष्ट्र में कपास का उत्पादन करने वाले इलाकों में निवेश को बढ़ावा देने के लिए नई टेक्सटाइल नीति को भी मंजूरी दे दी गई है।

इसके जरिए 25,000 करोड़ रुपए का निवेसन आकर्षित करने की योजना बनाई गई है। नए श्रम नियम को भी मंजूरी दी गई है, जिसके तहत मजदूरों की सुरक्षा, स्वास्थ्य और कार्यों को लेकर उनके हित में नियम बनाए गए हैं। सिल्लोड तालुका में मक्का अनुसंधान केंद्र स्थापित करने का निर्णय भी लिया गया है। महिला केंद्रित पर्यटन नीति बनाई गई है। नई सूचना प्रौद्योगिकी समर्थन सेवा नीति भी लागू हो गई है, जिसके तहत 95,000 करोड़ का निवेश लाया जाएगा।

Join OpIndia's official WhatsApp channel

  सहयोग करें  

एनडीटीवी हो या 'द वायर', इन्हें कभी पैसों की कमी नहीं होती। देश-विदेश से क्रांति के नाम पर ख़ूब फ़ंडिग मिलती है इन्हें। इनसे लड़ने के लिए हमारे हाथ मज़बूत करें। जितना बन सके, सहयोग करें

ऑपइंडिया स्टाफ़
ऑपइंडिया स्टाफ़http://www.opindia.in
कार्यालय संवाददाता, ऑपइंडिया

संबंधित ख़बरें

ख़ास ख़बरें

साथियों ने हाथ-पाँव पकड़ा, काज़िम अंसारी ने ताबतोड़ घोंपा चाकू… धराया VIP अध्यक्ष मुकेश सहनी के पिता का हत्यारा, रात के डेढ़ बजे घर...

घटना की रात काज़िम अंसारी ने 10-11 बजे के बीच रेकी भी की थी जो CCTV में कैद है। रात के करीब डेढ़ बजे ये लोग पीछे के दरवाजे से घर में घुसे।

प्राइवेट नौकरियों में 75% आरक्षण वाले बिल पर कॉन्ग्रेस सरकार का U-टर्न, वापस लिया फैसला: IT कंपनियों ने दी थी कर्नाटक छोड़ने की धमकी

सिद्धारमैया के फैसले का भारी विरोध भी हो रहा था, जिसकी वजह से कॉन्ग्रेसी सरकार बुरी तरह से घिर गई थी। यही नहीं, इस फैसले की जानकारी देने वाले ट्वीट को भी मुख्यमंत्री को डिलीट करना पड़ा था।

प्रचलित ख़बरें

- विज्ञापन -