Saturday, May 18, 2024
Homeराजनीतिशहजादे के 'फिलॉसफर अंकल' को काली चमड़ी से नफरत, इसलिए राष्ट्रपति चुनाव में द्रौपदी...

शहजादे के ‘फिलॉसफर अंकल’ को काली चमड़ी से नफरत, इसलिए राष्ट्रपति चुनाव में द्रौपदी जी का कॉन्ग्रेस ने विरोध किया: पीएम मोदी बोले- ये देश को गाली दी गई

पित्रोदा ने एक साक्षात्कार में कहा था, "हम भारत जैसे विविधतापूर्ण देश को एक साथ रख सकते हैं, जहाँ पूर्व के लोग चीनी जैसे दिखते हैं, पश्चिम के लोग अरब जैसे दिखते हैं, उत्तर के लोग शायद गोरे जैसे दिखते हैं और दक्षिण के लोग अफ्रीकी जैसे दिखते हैं।” सैम पित्रोदा की यह टिप्पणी अब सोशल मीडिया पर हो रही वायरल है। वहीं, पीएम मोदी ने भी पित्रोदा के इसी बयान को लेकर हमला बोला है। 

लोकसभा चुनाव 2024 में तीन चरण के मतदान पूरे हो चुके हैं। सात चरणों में होने वाले मतदान के अगले चरणों के लिए सभी दलों ने चुनाव प्रचार तेज कर दिए हैं। प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने बुधवार (8 मई 2024) को तेलंगाना में करीमनगर के बाद वारंगल में जनसभा को संबोधित किया। इस दौरान भी उन्होंने कॉन्ग्रेस और राहुल गाँधी पर जमकर निशाना साधा।

पीएम मोदी ने कहा, “मैं सोच रहा था कि (राष्ट्रपति) द्रौपदी जी, जिनकी बहुत अच्छी प्रतिष्ठा है, आदिवासी समाज की बहुत प्रतिष्ठित बेटी हैं। उनको हम राष्ट्रपति बना रहे हैं तो कॉन्ग्रेस उनको हराने के लिए इतनी मेहनत क्यों कर रही है? कॉन्ग्रेस आदिवासियों को नाराज क्यों कर रही है? मैं सोचता रहता था, लेकिन मुझे समझ में नहीं आ रहा था।”

राहुल गाँधी पर हमला बोलते हुए उन्होंने कहा, “मुझे लगता था कि ठीक है कि ये शहजादे का दिमाग ऐसा है तो शायद द्रौपदी जी का विरोध कर रहा है। उनको चुनाव में हराने के लिए निकल पड़ा है, लेकिन मुझे आज पता कि ये कॉन्ग्रेस पार्टी, जो एक आदिवासी बेटी है, उसको हराने के लिए क्यों मैदान में उतरी थी। आज मुझे पता कि अमेरिका में ये शहजादे के अंकल रहते हैं।”

प्रधानमंत्री ने कहा, “ये शहजादे के अंकल उनके फिलॉसफर एंड गाइड है। जैसे आजकल क्रिकेट में थर्ड अंपायर होता है ना कि कोई कंफ्यूजन हो तो थर्ड अंपायर को पूछते हैं। वैसे ही ये शहजादे कोई कंफ्यूजन होता है तो उनसे सलाह लेते हैं। ये शहजादे के फिलॉसफर एंड गाइड अंकल ने बड़ा रहस्य खोला है। उसने कहा है कि जिनकी चमड़ी का रंग काला होता है, ये सब अफ्रीका के हैं।”

कॉन्ग्रेस नेता सैम पित्रोदा के बयान को लेकर राहुल गाँधी और कॉन्ग्रेस पर हमला बोलते हुए प्रधानमंत्री मोदी ने आगे कहा, “मतलब आप सबको… मेरे देश के अनेक लोगों को… चमड़ी के आधार पर इतनी बड़ी गाली दे दी। अब जाकर मुझे समझ में आया कि ये चमड़ी का रंग देखकर उन्होंने मान लिया कि द्रौपदी मुर्मू भी अफ्रीकन है। इसलिए उनकी चमड़ी का रंग काला है तो उनको हराना चाहिए।”

सभी भारतीयों को भगवान श्रीराम और श्रीकृष्ण का वंशज बताते हुए प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने आगे कहा, “ये सोच आज पहली बार मुझे पता चला कि ये दिमाग कहाँ काम कर रहा है इनका। ये देश को कहाँ ले जाएँगे? अरे चमड़ी का रंग कोई भी हो, हम तो श्रीकृष्ण की पूजा करने वाले लोग हैं, जिनकी चमड़ी का रंग यहाँ के सब लोगों जैसा था।”

बता दें कि सैम पित्रोदा ने कहा है कि देश में एक गुट है जो भारत में संस्कृति, सभ्यता, भगवान राम, हनुमान सबकी बातें करता है और दूसरा गुट वो है जो कहता है कि उनके पूर्वजों ने इस देश की आजादी के लिए काम किया है। पाकिस्तान ने मजहब के आधार पर मुल्क बनाया आज उनकी हालत देख लीजिए क्या है…।”

उन्होंने आगे कहा था, “हम भारत जैसे विविधतापूर्ण देश को एक साथ रख सकते हैं, जहाँ पूर्व के लोग चीनी जैसे दिखते हैं, पश्चिम के लोग अरब जैसे दिखते हैं, उत्तर के लोग शायद गोरे जैसे दिखते हैं और दक्षिण के लोग अफ्रीकी जैसे दिखते हैं।” सैम पित्रोदा की यह टिप्पणी अब सोशल मीडिया पर हो रही वायरल है। वहीं, पीएम मोदी ने भी पित्रोदा के इसी बयान को लेकर हमला बोला है। 

Special coverage by OpIndia on Ram Mandir in Ayodhya

  सहयोग करें  

एनडीटीवी हो या 'द वायर', इन्हें कभी पैसों की कमी नहीं होती। देश-विदेश से क्रांति के नाम पर ख़ूब फ़ंडिग मिलती है इन्हें। इनसे लड़ने के लिए हमारे हाथ मज़बूत करें। जितना बन सके, सहयोग करें

ऑपइंडिया स्टाफ़
ऑपइंडिया स्टाफ़http://www.opindia.in
कार्यालय संवाददाता, ऑपइंडिया

संबंधित ख़बरें

ख़ास ख़बरें

स्वाति मालीवाल बन गई INDI गठबंधन में गले की फाँस? राहुल गाँधी की रैली के लिए केजरीवाल को नहीं भेजा गया न्योता, प्रियंका कह...

दिल्ली में आयोजित होने वाली राहुल गाँधी की रैली में शामिल होने के लिए AAP प्रमुख अरविंद केजरीवाल को न्योता नहीं दिया गया है।

‘अनुच्छेद 370 को हमने कब्रिस्तान में गाड़ दिया, इसे वापस नहीं लाया जा सकता’: PM मोदी बोले- अलगाववाद को खाद-पानी देने वाली कॉन्ग्रेस ने...

पीएम मोदी ने कहा, "आजादी के बाद गाँधी जी की सलाह पर अगर कॉन्ग्रेस को भंग कर दिया गया होता, तो आज भारत कम से कम पाँच दशक आगे होता।

प्रचलित ख़बरें

- विज्ञापन -