Wednesday, May 22, 2024
Homeदेश-समाजऔरंगाबाद का नाम छत्रपति संभाजीनगर और उस्मानाबाद का नाम धाराशिव करना गलत नही: बॉम्बे...

औरंगाबाद का नाम छत्रपति संभाजीनगर और उस्मानाबाद का नाम धाराशिव करना गलत नही: बॉम्बे हाई कोर्ट ने खारिज कीं चुनौती देने वाली याचिकाएँ

याचिका में दावा किया गया था कि यह बदलाव भारत के धर्मनिरपेक्ष ताने-बाने के विपरीत है। इसमें यह भी बताया गया था कि सन 1998 में महाराष्ट्र सरकार ने उस्मानाबाद का नाम बदलकर धाराशिव करने का प्रयास किया था, लेकिन असफल रही। इसलिए इन बदलावों पर फिर से रोक लगाई जाए।

बॉम्बे हाई कोर्ट ने बुधवार (8 मई 2024) को औरंगाबाद और उस्मानाबाद का नाम बदलने के महाराष्ट्र सरकार के निर्णय के खिलाफ दायर की गई याचिकाओं को खारिज कर दिया। अदालत ने औरंगाबाद का नाम बदलकर छत्रपति संभाजीनगर और उस्मानाबाद का नाम बदलकर धाराशिव करने के सरकार फैसले को बरकरार रखा।

बॉम्बे हाई कोर्ट के मुख्य न्यायाधीश डीके उपाध्याय और जस्टिस आरिफ डॉक्टर की खंडपीठ ने कहा कि शहरों के नाम बदलने की अधिसूचना अवैध नहीं थी। कोर्ट ने कहा, “हमें यह मानने में कोई झिझक नहीं है कि शहरों और राजस्व प्रभागों का नाम बदलने वाली अधिसूचनाएँ किसी भी बुराई से ग्रस्त नहीं हैं।”

दरअसल, दोनों शहरों के नाम बदलने के महाराष्ट्र सरकार के फैसले के खिलाफ संबंधित जिलों के निवासियों सहित व्यक्तियों द्वारा उच्च न्यायालय के समक्ष कई याचिकाएँ दायर की गईं। याचिकाओं में कहा गया है कि राज्य सरकार ने वर्ष 2001 में औरंगाबाद का नाम बदलने के अपने प्रयास को विफल कर दिया था।

याचिकाकर्ताओं ने दावा किया था कि यह निर्णय संविधान के प्रावधानों की पूरी तरह अवहेलना है। उस्मानाबाद का नाम बदलने के खिलाफ दायर याचिका में कहा गया था कि उस्मानाबाद का नाम बदलकर धाराशिव करने से धार्मिक और सांप्रदायिक नफरत भड़क सकती है। इससे धार्मिक समूहों के बीच दरार पैदा हो सकती है।

याचिका में दावा किया गया था कि यह बदलाव भारत के धर्मनिरपेक्ष ताने-बाने के विपरीत है। इसमें यह भी बताया गया था कि सन 1998 में महाराष्ट्र सरकार ने उस्मानाबाद का नाम बदलकर धाराशिव करने का प्रयास किया था, लेकिन असफल रही। इसलिए इन बदलावों पर फिर से रोक लगाई जाए।

जवाब में महाराष्ट्र सरकार ने कहा कि ‘उस्मानाबाद’ का नाम बदलकर ‘धाराशिव’ करने से न तो कोई धार्मिक या सांप्रदायिक नफरत पैदा हुई, बल्कि अधिकांश लोगों ने उस्मानाबाद का नाम बदलकर धाराशिव करने पर जश्न मनाया। सरकार ने इन आरोपों से इनकार किया कि नाम बदलना एक समुदाय के प्रति नफरत फैलाने के उद्देश्य से राजनीति से प्रेरित कदम था।

बता दें कि मुख्यमंत्री उद्धव ठाकरे के नेतृत्व वाली महाविकास अघाड़ी (एमवीए) की पिछली सरकार ने 29 जून 2021 को अपनी कैबिनेट की बैठक में दोनों शहरों का नाम बदलने का फैसला किया था।औरंगाबाद शहर और राजस्व मंडल का नाम बदलकर ‘छत्रपति संभाजीनगर’ कर दिया गया, जबकि उस्मानाबाद का नाम बदलकर ‘धाराशिव’ कर दिया गया।

इसको लेकर कहा गया कि उद्धव ठाकरे के नेतृत्व वाली सरकार ने राजनीतिक लाभ के लिए कथित तौर पर अनधिकृत तरीके से इस मुद्दे को अपनी आखिरी कैबिनेट में उठाया। इसके बाद शिवसेना में टूट हुई मुख्यमंत्री एकनाथ शिंदे के नेतृत्व वाली नई सरकार ने 16 जुलाई 2022 को उद्धव सरकार के फैसले की फिर से पुष्टि की।

Special coverage by OpIndia on Ram Mandir in Ayodhya

  सहयोग करें  

एनडीटीवी हो या 'द वायर', इन्हें कभी पैसों की कमी नहीं होती। देश-विदेश से क्रांति के नाम पर ख़ूब फ़ंडिग मिलती है इन्हें। इनसे लड़ने के लिए हमारे हाथ मज़बूत करें। जितना बन सके, सहयोग करें

ऑपइंडिया स्टाफ़
ऑपइंडिया स्टाफ़http://www.opindia.in
कार्यालय संवाददाता, ऑपइंडिया

संबंधित ख़बरें

ख़ास ख़बरें

पश्चिम बंगाल में 2010 के बाद जारी हुए हैं जितने भी OBC सर्टिफिकेट, सभी को कलकत्ता हाई कोर्ट ने कर दिया रद्द : ममता...

कलकत्ता हाई कोर्ट ने बुधवार 22 मई 2024 को पश्चिम बंगाल की ममता बनर्जी सरकार को बड़ा झटका दिया। हाईकोर्ट ने 2010 के बाद से अब तक जारी किए गए करीब 5 लाख ओबीसी सर्टिफिकेट रद्द कर दिए हैं।

महाभारत, चाणक्य, मराठा, संत तिरुवल्लुवर… सबसे सीखेगी भारतीय सेना, प्राचीन ज्ञान से समृद्ध होगा भारत का रक्षा क्षेत्र: जानिए क्या है ‘प्रोजेक्ट उद्भव’

न सिर्फ वेदों-पुराणों, बल्कि कामंदकीय नीतिसार और तमिल संत तिरुवल्लुवर के तिरुक्कुरल का भी अध्ययन किया जाएगा। भारतीय जवान सीखेंगे रणनीतियाँ।

प्रचलित ख़बरें

- विज्ञापन -