Wednesday, June 12, 2024
Homeराजनीतियोगी जी…गाड़ियों को न भेजें दिल्ली: दिल्ली में प्रदूषण न कंट्रोल होने पर AAP...

योगी जी…गाड़ियों को न भेजें दिल्ली: दिल्ली में प्रदूषण न कंट्रोल होने पर AAP ने UP-हरियाणा को बता दिया जिम्मेदार, पंजाब से धुआँ उठना बरकरार

दिल्ली में प्रदूषण की स्थिति चिंताजनक है और दूसरी तरफ दिल्ली सरकार हालातों को सुधारने की बजाय इस बात पर ध्यान दे रही है कि कैसे सारा ठीकरा दूसरे राज्यों पर फोड़ा जाए। पहले उन्होंने हरिणाया को जिम्मेदार बताया और अब उत्तरप्रदेश का नाम लेना शुरू कर दिया है।

दिल्ली की सत्ता पर काबिज आम आदमी पार्टी की सरकार को राजधानी में बढ़ते जा रहे प्रदूषण को लेकर जवाब देते नहीं बन रहा है। शनिवार (4 नवंबर, 2023) को लगातार तीसरे दिन दिल्ली में हवा की गुणवत्ता गंभीर बनी रही। सुबह 7 बजे वायु गुणवत्ता सूचकांक (AQI) 413 दर्ज किया गया। ऐसे में आप के मंत्री अपनी गलती का ठीकरा एनसीआर में भारतीय जनता पार्टी शासित राज्यों पर थोपने से बाज नहीं आ रहे हैं। अब दिल्ली सरकार के पर्यावरण मंत्री गोपाल राय ने हरियाणा के बाद उत्तर प्रदेश को अपने आरोपों लपेटे में लिया है।

AAP मंत्री राय ने शुक्रवार (3 नवंबर) को कहा है कि उत्तर प्रदेश से आने वाले बीएस3 पेट्रोल और बीएस4 डीजल वाहन राष्ट्रीय राजधानी में वायु गुणवत्ता सूचकांक को खराब करने में योगदान दे रहे हैं। दरअसल शुक्रवार 2 नवंबर और शनिवार 4 नवंबर 2023 की दरमियानी रात को मंत्री राय आनंद विहार पहुँचे थे। यहाँ रात में AQI के खतरनाक स्तर 999 तक पहुँचने के बाद ये उनका ये बयान आया है।

गोपाल राय देर रात 1 बजे के करीब आनंद विहार बस अड्डे का निरीक्षण कर रहे थे। इस दौरान दिल्ली में प्रदूषण के लिए उत्तर प्रदेश को जिम्मेदार ठहराते हुए गोपाल राय ने कहा,

“दिल्ली सरकार वायु प्रदूषण पर लगाम लगाने की पूरी कोशिश कर रही है। आनंद विहार में एक्यूआई सबसे ज्यादा है। यहाँ आकर पता चला कि उत्तर प्रदेश से आने वाली सभी बसें बीएस3 और बीएस4 हैं। मैं योगी जी से अपील करता हूँ कि इन गाड़ियों को दिल्ली न भेजें। दिल्ली में इलेक्ट्रिक बसें और सीएनजी वाहन चलते हैं। बस डिपो प्रबंधक और यातायात कर्मचारी भी इन प्रतिबंधित वाहनों को दिल्ली के अंदर आने की मंजूरी देने में लापरवाही बरत रहे हैं। स्कूलों को आगे बंद रखने का फैसला 6 नवंबर को वायु गुणवत्ता के आधार पर लिया जाएगा।”

पड़ोसी राज्य पर आरोप लगाने के बाद आप मंत्री गोपाल राय ने कहा, ”मैं दिल्ली के लोगों से अपील करता हूँ कि वाहनों से होने वाले प्रदूषण को काबू में करने के लिए मेट्रो और बसों सहित सार्वजनिक परिवहन का इस्तेमाल करें।” इस दौरान गोपाल राय ने बढ़ते प्रदूषण को देखते हुए NCR राज्यों के पर्यावरण मंत्रियों के साथ तुरंत बैठक करने के लिए केंद्रीय पर्यावरण मंत्री को पत्र लिखा।

फोटो साभार: दिल्ली पर्यावरण मंत्री गोपाल राय एक्स हैंडल

बता दें कि दिल्ली में प्रदूषण का ये आलम है कि स्कूल बंद कर दिए गए हैं। मगर, आप के मंत्री ऐसे समय भी एक-दूसरे पर सवाल उठा रहे हैं।

गोपाल रॉय से पहले, शुक्रवार (3 नवंबर) को आप मंत्री सौरभ भारद्वाज ने कहा था, “नोएडा, गुरुग्राम या फ़रीदाबाद में प्रदूषण की गंभीरता की स्थिति है, वो दिल्ली के मुकाबले अधिक है। दिल्ली के लोगों को बदनाम करना अच्छा नहीं है।” भारद्वाज ने आगे कहा, ”हम सब कुछ कर रहे हैं। पंजाब में पराली जलाने का आँकड़ा सबके सामने है। बीते वर्षों के मुकाबले इसमें कमी आई है। क्या केंद्र की कोई जिम्मेदारी नहीं है?”

गौरतलब है कि अतीत में आम आदमी पार्टी की दिल्ली सरकार लगातार ये दावा करती रही थी कि पंजाब की पराली की वजह से दिल्ली में प्रदूषण रहता है। अब पंजाब में आम आदमी पार्टी की सरकार बन गई। लेकिन पराली जलाने की घटनाएँ इतनी कम नहीं है जितनी आप सरकार दर्शा रही है। इसके उलट हरियाणा, जिसपर इल्जाम मढ़ने की कोशिश हो रही है वहाँ से पराली जलाने की घटनाओं में कमी देखने को मिली है और पंजाब में इसमें बढ़ोतरी हुई है। बीते रविवार ही पंजाब में पराली जलाने की 1068 घटनाएँ हुई हैं, ये एक दिन के मुकाबले 74 फीसदी अधिक है। वहीं एक दिन पहले शनिवार को पराली जलाने की 127 घटनाएँ यहाँ हुई थी।

Special coverage by OpIndia on Ram Mandir in Ayodhya

  सहयोग करें  

एनडीटीवी हो या 'द वायर', इन्हें कभी पैसों की कमी नहीं होती। देश-विदेश से क्रांति के नाम पर ख़ूब फ़ंडिग मिलती है इन्हें। इनसे लड़ने के लिए हमारे हाथ मज़बूत करें। जितना बन सके, सहयोग करें

ऑपइंडिया स्टाफ़
ऑपइंडिया स्टाफ़http://www.opindia.in
कार्यालय संवाददाता, ऑपइंडिया

संबंधित ख़बरें

ख़ास ख़बरें

लड़की हिंदू, सहेली मुस्लिम… कॉलेज में कहा, ‘इस्लाम सबसे अच्छा, छोड़ दो सनातन, अमीर कश्मीरी से कराऊँगी निकाह’: देहरादून के लॉ कॉलेज में The...

थर्ड ईयर की हिंदू लड़की पर 'इस्लाम' का बखान कर धर्म परिवर्तन के लिए प्रेरित किया गया और न मानने पर उसकी तस्वीरों को सोशल मीडिया पर वायरल करने की धमकी दी गई।

जोशीमठ को मिली पौराणिक ‘ज्योतिर्मठ’ पहचान, कोश्याकुटोली बना श्री कैंची धाम : केंद्र की मंजूरी के बाद उत्तराखंड सरकार ने बदले 2 जगहों के...

ज्तोतिर्मठ आदि गुरु शंकराचार्य की तपोस्‍थली रही है। माना जाता है कि वो यहाँ आठवीं शताब्दी में आए थे और अमर कल्‍पवृक्ष के नीचे तपस्‍या के बाद उन्‍हें दिव्‍य ज्ञान ज्‍योति की प्राप्ति हुई थी।

प्रचलित ख़बरें

- विज्ञापन -