Thursday, September 23, 2021
Homeराजनीति'हम अपनी नस्लों को बताएँगे कि भाजपा ने बाबरी मस्जिद को शहीद किया': औवेसी...

‘हम अपनी नस्लों को बताएँगे कि भाजपा ने बाबरी मस्जिद को शहीद किया’: औवेसी ने कहा, अयोध्या में मस्जिद थी और रहेगी

ओवैसी ने सवालिया लहजे में कहा, "बीजेपी वहाँ मस्जिद शहीद नहीं करती तो क्या ये आज का फैसला आता?" उन्होंने कहा, "वो मेरी मस्जिद थी, है और हमेशा रहेगी।"

बात-बात में भारतीय संविधान का संदर्भ और कानून की दुहाई देने वाले ऑल इंडिया मजलिस ए इत्तेहादुल मुसलमीन के प्रमुख असदुद्दीन ओवैसी ने अयोध्या मामले में सुप्रीम कोर्ट के निर्णय की अनदेखी करते हुए एक बार फिर बाबरी मस्जिद विध्वंस का राग अलापा है। ‘आजतक’ के एक कार्यक्रम में उन्होंने कहा कि जब तक वह जिंदा रहेंगे, तब तक मुस्लिम समाज को बताएँगे कि भारतीय जनता पार्टी (भाजपा) ने बाबरी मस्जिद को तोड़ा है। उन्होंने कहा कि अयोध्या में मस्जिद थी, है और रहेगी।

कार्यक्रम के दौरान पत्रकार अंजना ओम कश्यप ने ओवैसी से पूछा कि सुप्रीम कोर्ट के फैसले के बाद अयोध्या में राम मंदिर बन रहा है और पर्यटक भी जा रहे, तो आप भगवान श्रीराम का दर्शन करने जाएँगे? इस सवाल पर ओवैसी ने कहा, “इस बारे में खुलकर कहता रहा हूँ और आज भी कह रहा हूँ कि जब तक हम जिंदा रहेंगे, हमारी नस्लों को हम बताते रहेंगे कि आजाद भारत में सुप्रीम कोर्ट को धोखा देकर बाबरी मस्जिद को बीजेपी ने शहीद किया था।”

खुद को मुसलमानों का सबसे बड़ा हितैषी बताने वाले ओवैसी ने सवालिया लहजे में कहा, “बीजेपी वहाँ मस्जिद शहीद नहीं करती तो क्या ये आज का फैसला आता?” उन्होंने कहा, “वो मेरी मस्जिद थी, है और हमेशा रहेगी।”

इस पर भाजपा नेता और उत्तर प्रदेश सरकार में मंत्री सिद्धार्थनाथ सिंह ने कहा कि अयोध्या में रामलला का जन्मस्थान था और कोई कब्जा करेगा तब भी रहेगा। उन्होंने कहा कि सुप्रीम कोर्ट को धोखा देने की बात सिर्फ ओवैसी ही कह सकते हैं। भारत का कोई दूसरा नागरिका ऐसा नहीं कहेगा।

राम मंदिर को लेकर ओवैसी का ये रुख पहली बार सामने नहीं आया है। इसके पहले भी कई बार वे राम मंदिर को नकार चुके हैं और फैसले के कारण सुप्रीम कोर्ट पर सवाल उठा चुके हैं। उन्होंने पिछले साल (2020 में) बाबरी मस्जिद गिराए जाने की तारीख 6 दिसंबर को कहा था कि अयोध्या में बाबरी मस्जिद 400 सालों तक खड़ी थी, इसे आने वाली पीढ़ियों को याद दिलाने और सिखाने की जरूरत है।

उन्होंने इसे नाइंसाफी बताते हुए कहा था, “हमारी आने वाली पीढ़ियों को याद दिलाएँ और उन्हें सिखाएँ कि 400 से अधिक सालों तक अयोध्या में बाबरी मस्जिद खड़ी थी। इस मस्जिद के हॉल में हमारे पूर्वज इबादत करते थे। वे इसके आंगन में रोजा तोड़ते थे और जब उनकी मौत हो जाती थी तो पास के ही कब्रिस्तान में उन्हें दफनाया जाता था।”

उन्होंने न्यायालय पर परोक्ष रूप से सवाल उठाते हुए कहा था, “आज ही के दिन 1992 में पूरी दुनिया के सामने हमारी मस्जिद को ध्वस्त कर दिया गया। इसके जिम्मेदार लोगों को एक दिन की भी सजा नहीं हुई। इस नाइंसाफी को कभी मत भूलिए।”

  सहयोग करें  

एनडीटीवी हो या 'द वायर', इन्हें कभी पैसों की कमी नहीं होती। देश-विदेश से क्रांति के नाम पर ख़ूब फ़ंडिग मिलती है इन्हें। इनसे लड़ने के लिए हमारे हाथ मज़बूत करें। जितना बन सके, सहयोग करें

ऑपइंडिया स्टाफ़http://www.opindia.in
कार्यालय संवाददाता, ऑपइंडिया

संबंधित ख़बरें

ख़ास ख़बरें

100 मलयाली ISIS में हुए शामिल- 94 मुस्लिम, 5 कन्वर्टेड: ‘नारकोटिक्स जिहाद’ पर घिरे केरल के CM ने बताया

केरल के मुख्यमंत्री पिनाराई विजयन ने बुधवार को खुलासा किया कि 2019 तक केरल से ISIS में शामिल होने वाले 100 मलयालियों में से लगभग 94 मुस्लिम थे।

इस्लामी कट्टरपंथ से डरा मेनस्ट्रीम मीडिया: जिस तस्वीर पर NDTV को पड़ी गाली, वह HT ने किस ‘दहशत’ में हटाई

इस्लामी कट्टरपंथ से डरा हुआ मेन स्ट्रीम मीडिया! ऐसा हम नहीं कह रहे बल्कि हिंदुस्तान टाइम्स ने ऐसा एक बार फिर खुद को साबित किया। जब कोरोना से सम्बंधित तमिलनाडु की एक खबर में वही तस्वीर लगाकर हटा बैठा।

प्रचलित ख़बरें

- विज्ञापन -

हमसे जुड़ें

295,307FansLike
123,886FollowersFollow
410,000SubscribersSubscribe