AMU में भाजपा विधायक की गाड़ी से उतरवाया झंडा, कैंपस में नाती से हो चुका है गाली-गलौच भी

विधायक ने एएमयू की प्रॉक्टोरियल टीम पर अपने ड्राइवर से अभद्रता करने का आरोप लगाया है। पुलिस से घटना की शिकायत की गई है। वहीं, यूनिवर्सिटी की तरफ से कहा गया है कि परिसर में ऐसे वाहन को प्रवेश की अनुमति नहीं दी जाती जिस पर किसी पार्टी का झंडा लगा हो।

अलीगढ़ मुस्लिम यूनिवर्सिटी (AMU) एक बार फिर चर्चाओं में हैं। इस बार वहाँ भाजपा विधायक दलवीर सिंह चौधरी की गाड़ी को यूनिवर्सिटी परिसर में अंदर जाने की अनुमति तभी मिली जब उस पर लगा बीजेपी का झंडा हटाया गया। अगस्त के आखिर में कैंपस में चौधरी के नाती के साथ गाली-गलौच की घटना भी हुई थी।

मीडिया रिपोर्ट्स के अनुसार बरौली सीट से भाजपा विधायक दलवीर सिंह का ड्राइवर मंगलवार (अक्टूबर 22, 2019) को दोपहर करीब 3:30 बजे उनके नाती को लेने के लिए गाड़ी लेकर यूनिवर्सिटी पहुँचा। गाड़ी पर बीजेपी का झंडा लगा देख उसे सैय्यद गेट के पास रोक लिया गया। गाड़ी से बीजेपी का झंडा उतरवाने के बाद ही प्रॉक्टोरियल बोर्ड की टीम ने उसे कैंपस में प्रवेश की अनुमति दी।

मामले के तूल पकड़ने के बाद यूनिवर्सिटी ने कहा है कि परिसर में किसी भी दल का झंडा लगी गाड़ी को प्रवेश की अनुमति नहीं है। भाजपा विधायक ने इसकी शिकायत करते हुए कार्रवाई की माँग की है। विधायक ठाकुर दलवीर सिंह ने एएमयू की प्रॉक्टोरियल टीम पर ड्राइवर से अभद्रता करने का आरोप लगाया है। उनके ड्राइवर ने भी अलीगढ़ पुलिस के पास इस मामले में केस दर्ज करवाया है। ड्राइवर का कहना है कि परिसर के बाहर जबरदस्ती गाड़ी से झंडा उतरवाया गया।

- विज्ञापन - - लेख आगे पढ़ें -

विधायक ने घटना से अलीगढ़ के एसपी को अवगत करवा दिया है। साथ ही बताया है कि उन्होंने थाना सिविल लाइंस में तहरीर दे दी है। विधायक ने कहा है कि वे इस घटना की शिकायत मानव संसाधन विकास मंत्री से भी करेंगें।

चौधरी के नाती विजय कुमार सिंह ने इसी साल एएमयू के विदेशी भाषा विभाग (स्पेनिश) में दाखिला लिया है। 28 अगस्त को यूनिवर्सिटी में शिक्षकों के सामने ही कुछ सीनियर छात्रों ने उनसे अभद्रता की थी।

शेयर करें, मदद करें:
Support OpIndia by making a monetary contribution

बड़ी ख़बर

सोनिया गाँधी
शिवसेना हिन्दुत्व के एजेंडे से पीछे हटने को तैयार है फिर भी सोनिया दुविधा में हैं। शिवसेना को समर्थन पर कॉन्ग्रेस के भीतर भी मतभेद है। ऐसे में एनसीपी सुप्रीमो के साथ उनकी आज की बैठक निर्णायक साबित हो सकती है।

सबसे ज़्यादा पढ़ी गईं ख़बरें

ताज़ा ख़बरें

हमसे जुड़ें

114,489फैंसलाइक करें
23,092फॉलोवर्सफॉलो करें
121,000सब्सक्राइबर्ससब्सक्राइब करें

ज़रूर पढ़ें

Advertisements
शेयर करें, मदद करें: