AMU में भाजपा विधायक के नाती के साथ रैगिंग, 60 सीनियर छात्रों ने घेर कर किया गाली-गलौज

शिक्षकों के सामने ही कुछ सीनियर छात्र कक्षा में घुस आए और नए छात्रों से जबरन उनका नाम-पता पूछने लगे। जब विजय ने खड़ा होने से मना कर दिया तो उनके साथ ज्यादतियाँ की गईं।

अलीगढ़ मुस्लिम यूनिवर्सिटी में भाजपा विधायक के नाती के साथ रैगिंग की ख़बर सामने आई है। अलीगढ़ स्थित बरौली विधानसभा क्षेत्र के विधायक दलवीर सिंह चौधरी के नाती विजय कुमार सिंह का दाखिला इस साल एएमयू के विदेशी भाषा विभाग (स्पेनिश) में हुआ है। बुधवार (अगस्त 28, 2019) को यूनिवर्सिटी में उनका पहला दिन था। तभी शिक्षकों के सामने ही कुछ सीनियर छात्र कक्षा में घुस आए और नए छात्रों से जबरन उनका नाम-पता पूछने लगे।

सीनियर छात्र सभी जूनियर छात्रों को खड़ा करा कर उनसे सवाल पूछ रहे थे। जब विजय ने खड़ा होने से मना कर दिया तो उनके साथ ज्यादतियाँ की गईं। नाम बताने से इनकार करने पर सीनियर छात्र गाली-गलौज पर उतर आए। भड़के हुए सीनियर छात्रों ने अपने अन्य साथियों को भी बुला लिया। जब यूनिवर्सिटी प्रशासन को सूचना दी गई तो प्रोक्टोरियल टीम ने पहुँच कर मामला शांत कराया। विजय ने बताया कि वह गली-गलौज करने वाले छात्रों की पहचान कर सकते हैं।

इसके बाद दोपहर को विजय जब फिर से क्लास करने जा रहे थे, तब 60 सीनियर छात्रों ने उन्हें घेर लिया और फिर से अभद्रता करनी शुरू कर दी। अन्य छात्र भी वहाँ पर जुट गए और काफ़ी देर तक बहस होती रही। इसके बाद अन्य छात्रों के वहाँ जुटने के बाद सीनियर्स पीछे हट गए। विजय ने बताया कि वह दिल्ली जाकर मानव संसाधन विकास मंत्रालय में इस घटना की शिकायत करेंगे, क्योंकि एएमयू जैसे बड़े संस्थान में इस तरह की घटना नहीं होनी चाहिए।

- विज्ञापन - - लेख आगे पढ़ें -

विजय ने बताया कि प्रॉक्टर कार्यालय की टीम भी उनके ख़िलाफ़ ही बातें कर रही थीं। यूनिवर्सिटी प्रशासन की टीम चर्चा कर रही थी कि अजय सिंह ने उन्हें परेशान कर रखा था, अब ये भी परेशान करने आ गया। बता दें कि छात्र नेता अजय सिंह ने यूनिवर्सिटी में तिरंगा यात्रा निकाली थी, जिसके बाद यूनिवर्सिटी प्रशासन ने उन पर और उनके अन्य साथियों पर गंभीर आरोप लगा कर कार्रवाई की थी। पुलिस ने कहा है कि यूनिवर्सिटी की जाँच रिपोर्ट आने के बाद आगे की कार्रवाई की जाएगी।

शेयर करें, मदद करें:
Support OpIndia by making a monetary contribution

बड़ी ख़बर

कमलेश तिवारी हत्याकांड
आपसी दुश्मनी में लोग कई बार क्रूरता की हदें पार कर देते हैं। लेकिन ये दुश्मनी आपसी नहीं थी। ये दुश्मनी तो एक हिंसक विचारधारा और मजहबी उन्माद से सनी हुई उस सोच से उत्पन्न हुई, जहाँ कोई फतवा जारी कर देता है, और लाख लोग किसी की हत्या करने के लिए, बेखौफ तैयार हो जाते हैं।

सबसे ज़्यादा पढ़ी गईं ख़बरें

ताज़ा ख़बरें

हमसे जुड़ें

107,042फैंसलाइक करें
19,440फॉलोवर्सफॉलो करें
110,000सब्सक्राइबर्ससब्सक्राइब करें

ज़रूर पढ़ें

Advertisements
शेयर करें, मदद करें: