कॉन्ग्रेस नेत्री ने अस्पताल में फैलाई अशांति, ड्यूटी पर तैनात पुलिसकर्मियों को कहे अपशब्द

यशोमति ठाकुर ने महिला पुलिसकर्मियों को लगभग लताड़ते हुए उन्हें छूने तक से मना कर दिया और कहा कि कोई उनसे बहस ना करे। माहौल बिगड़ता देख पुलिसकर्मियों ने जब उन्हें वहाँ से जाने के लिए कहा तो उन्होंने कहा, “नहीं जाऊँगी तो...।”

महाराष्ट्र कॉन्ग्रेस की कार्यकारी अध्यक्ष यशमति ठाकुर शुक्रवार (19 जुलाई 2019) को सेंट जॉर्ज अस्पताल पहुँची, जहाँ उन्होंने अपनी दबंग छवि का खुला प्रदर्शन किया। दरअसल, वहाँ कॉन्ग्रेस विधायक श्रीमंत पाटिल का इलाज चल रहा है, उन्हीं से मिलने वो वहाँ पहुँची थी। इस दौरान वो वहाँ पुलिस से भिड़ गईं और उनसे काफ़ी कहासुनी हो गई। 

इस घटना का एक वीडियो सामने आया है जिसमें वो काफ़ी तल्ख़ अंदाज़ में दिख रही हैं। इस वीडियो में वो पुलिस व डॉक्टर्स के साथ अपशब्द बोलती साफ़ नज़र आ रही हैं। अस्पताल की शांति को तार-तार करते हुए उन्होंने कई पुलिसकर्मियों के साथ ऊँची आवाज़ में बात तो की ही साथ वहाँ मौजूद महिला पुलिसकर्मियों को भी खरी-खोटी सुनाई। वायरल हुए इस वीडियो में महाराष्ट्र कॉन्ग्रेस की अध्यक्ष यशोमति ठाकुर एक सवाल करती दिख रही हैं कि अस्पताल में कॉर्डियक यूनिट नहीं है तो हृदय की बीमारी का इलाज कैसे किया जा रहा है?

यशोमति ठाकुर ने महिला पुलिसकर्मियों को लगभग लताड़ते हुए उन्हें छूने तक से मना कर दिया और कहा कि कोई उनसे बहस ना करे। माहौल बिगड़ता देख पुलिसकर्मियों ने जब उन्हें वहाँ से जाने के लिए कहा तो उन्होंने कहा, “नहीं जाऊँगी तो…।” यशोमती ने आरोप लगाते हुए यहाँ तक कह डाला, “वर्दी में आप लोग मदद कर रहे हो उन्हें पैसे खाने के लिए।”

- विज्ञापन - - लेख आगे पढ़ें -

ख़बर के अनुसार, कॉन्ग्रेस ने आरोप लगाया था कि उसके विधायक श्रीमंत पाटिल को गठबंधन सरकार गिराने की कोशिश के तहत अगवा कर लिया गया था। इस संदर्भ में बैंगलूरू पुलिस स्टेशन में शिक़ायत भी दर्ज कराई गई थी। कॉन्ग्रेस के अनुसार, पार्टी विधायकों के एक साथ रिजॉर्ट में होने के बाद श्रीमंत पाटिल अचानक ग़ायब हो गए थे। इसके बाद उनसे कोई सम्पर्क नहीं साध पाया था। 

यह मामला उस वक़्त सामने आया जब विधानसभा में मुख्यमंत्री एचडी कुमारस्वामी के विश्वास प्रस्ताव पर चर्चा हो रही थी और वरिष्ठ नेता डीके शिवकुमार ने आरोप लगाते हुए बताया कि पाटिल को अगवा करके मुंबई के एक अस्पताल में भर्ती कराया गया है। इसके अलावा श्रीमंत पाटिल का एक फोटो भी सामने आया है जिसमें वो एक अस्पताल में लेटे और ईसीजी से जुड़ी जाँच कराते दिख रहे थे।

विधानसभा में इस मुद्दे को उठाते हुए शिवकुमार ने कहा, “मैं हाथ जोड़ कर अध्यक्ष से अपील करता हूँ कि मेरे पार्टी के विधायकों को अगवा किया गया है। मुझे परिजन का कॉल आया था। महोदय मैं चाहता हूँ कि आप उन्हें वापस लाएँ। हम पुलिस संरक्षण चाहते हैं।”

शेयर करें, मदद करें:
Support OpIndia by making a monetary contribution

बड़ी ख़बर

संदिग्ध हत्यारे
संदिग्ध हत्यारे कानपुर से सड़क के रास्ते लखनऊ पहुंचे थे। कानपुर रेलवे स्टेशन के सीसीटीवी से इसकी पुष्टि हुई है। हत्या को अंजाम देने के बाद दोनों ने बरेली में रात बिताई थी। हत्या के दौरान मोइनुद्दीन के दाहिने हाथ में चोट लगी थी और उसने बरेली में उपचार कराया था।

सबसे ज़्यादा पढ़ी गईं ख़बरें

ताज़ा ख़बरें

हमसे जुड़ें

104,900फैंसलाइक करें
19,227फॉलोवर्सफॉलो करें
109,000सब्सक्राइबर्ससब्सक्राइब करें

ज़रूर पढ़ें

Advertisements
शेयर करें, मदद करें: