Friday, August 12, 2022
HomeराजनीतिCovid डेथ आँकड़ों में हेरफेर है 'मुंबई मॉडल': अमित मालवीय ने आँकड़ों से उड़ाई...

Covid डेथ आँकड़ों में हेरफेर है ‘मुंबई मॉडल’: अमित मालवीय ने आँकड़ों से उड़ाई BMC के प्रोपेगेंडा की धज्जियाँ

अमित मालवीय ने अपने ट्वीट में बताया कि संक्रमण की पहली लहर के दौरान मुंबई में ‘अन्य कारणों से होने वाली मौतें’ 12% थीं लेकिन दूसरी लहर में इनका अनुपात अचानक से बढ़कर 39.4% हो गया। उन्होंने बताया कि इस दौरान शेष महाराष्ट्र के लिए इन आँकड़ों में थोड़ा बहुत अंतर ही था।

15 मई को भाजपा आईटी सेल के प्रमुख अमित मालवीय ने कोरोना वायरस संक्रमण को नियंत्रित करने का दावा करने वाली बृहन्मुंबई महानगर पालिका (BMC) के ‘मुंबई मॉडल’ पर निशाना साधते हुए कहा कि ‘मुंबई मॉडल’ और कुछ नहीं बल्कि कोरोना वायरस संक्रमण से हुई मौतों पर पर्दा डालना है। उन्होंने अपने ट्वीट में मार्च 2020 से अप्रैल 2021 और 1 फरवरी 2021 से 30 अप्रैल 2021 तक के आँकड़ों को बताया है।

अमित मालवीय ने अपने ट्वीट में बताया कि संक्रमण की पहली लहर के दौरान मुंबई में ‘अन्य कारणों से होने वाली मौतें’ 12% थीं लेकिन दूसरी लहर में इनका अनुपात अचानक से बढ़कर 39.4% हो गया। उन्होंने बताया कि इस दौरान शेष महाराष्ट्र के लिए इन आँकड़ों में थोड़ा बहुत अंतर ही था।

अमित मालवीय ने अपने ट्वीट में महाराष्ट्र के पूर्व मुख्यमंत्री और विपक्ष के नेता देवेन्द्र फड़नवीस के द्वारा लिखा गया पत्र भी पोस्ट किया। फड़नवीस ने यह पत्र 8 मई 2021 को राज्य के मुख्यमंत्री उद्धव ठाकरे को लिखा था। इस पत्र में कहा गया था कि राज्य सरकार कोरोना वायरस के आँकड़ों को छुपा रही है और पीआर एजेंसियों और सेलिब्रिटीज की सहायता से संक्रमण के काबू में होने का झूठा नैरेटिव बना रही है। फड़नवीस ने विशेष तौर पर BMC पर Covid-19 से हुई मौतों के आँकड़ों में हेरफेर करने का आरोप लगाया और पत्र में इससे संबंधित डाटा भी दिया।

पिछले 24 घंटों में महाराष्ट्र में कोरोना वायरस संक्रमण के 34,848 नए मामले आए जबकि इसी दौरान स्वस्थ होने वालों की संख्या 59,073 रही। संक्रमण के मामले जरूर कम हो रहे हैं लेकिन रोजाना मौतें अभी भी ज्यादा हैं। महाराष्ट्र में पिछले 24 घंटों में 960 मौतें हुई हैं।

राज्य में संक्रमितों की कुल संख्या 5,344,063 पहुँच गई है और वर्तमान में सक्रिय मरीज 4,94,032 हैं।

  सहयोग करें  

एनडीटीवी हो या 'द वायर', इन्हें कभी पैसों की कमी नहीं होती। देश-विदेश से क्रांति के नाम पर ख़ूब फ़ंडिग मिलती है इन्हें। इनसे लड़ने के लिए हमारे हाथ मज़बूत करें। जितना बन सके, सहयोग करें

ऑपइंडिया स्टाफ़
ऑपइंडिया स्टाफ़http://www.opindia.in
कार्यालय संवाददाता, ऑपइंडिया

संबंधित ख़बरें

ख़ास ख़बरें

‘द सैटेनिक वर्सेज’ के लेखक सलमान रुश्दी पर जुमे के दिन चाकू से हमला, न्यूयॉर्क में हुई वारदात

'द सैटेनिक वर्सेज' के लेखक उपन्यासकार सलमान रुश्दी को न्यूयॉर्क में भाषण देने से पहले पर चाकू से हमला किया गया है।

‘मानसखण्ड मंदिर माला मिशन’ के जरिए प्राचीन मंदिरों को आपस में जोड़ेंगे CM धामी, माँ वाराही देवी मंदिर में पूजा-अर्चना कर बगवाल में हुए...

सीएम धामी ने कुमाऊँ के प्राचीन मंदिरों को भव्य बनाने और उन्हें आपस में जोड़ने के लिये मानसखण्ड मंदिर माला मिशन की शुरुआत की।

प्रचलित ख़बरें

- विज्ञापन -

हमसे जुड़ें

295,307FansLike
213,239FollowersFollow
416,000SubscribersSubscribe