Friday, January 21, 2022
Homeराजनीतिन हमने हॉर्स ट्रेडिंग की न गठबंधन तोड़ा, कॉन्ग्रेस तो अपने साथ पूरा अस्तबल...

न हमने हॉर्स ट्रेडिंग की न गठबंधन तोड़ा, कॉन्ग्रेस तो अपने साथ पूरा अस्तबल ही ले गई: अमित शाह

संसद में प्रज्ञा सिंह ठाकुर के बयान को लेकर उपजे हंगामे पर बोलते हुए गृहमंत्री ने कहा कि उनपर कार्रवाई की जाएगी।

गुरुवार को राँची में आयोजित एक निजी टीवी चैनल के कार्यक्रम ‘एजेंडा झारखण्ड’ में गृहमंत्री अमित शाह ने कई सवालों के जवाब दिए। कई मुद्दों पर बेबाकी से अपनी राय रखते हुए शाह ने देश के सामने उन सभी सवालों का जवाब दिया जिसके लिए उनके आलोचक उनपर निशाना साधते हैं।

एक रिपोर्ट के मुताबिक उन्होंने कश्मीर से लेकर संसद में प्रज्ञा सिंह ठाकुर के बयान और महाराष्ट्र को लेकर सवालों के जवाब दिए। महाराष्ट्र के सियासी घटनाक्रम पर बोलते हुए शाह ने कहा कि उन्होंने न तो किसी भी तरह से हॉर्स ट्रेडिंग की और न ही उन्होंने गठबंधन तोड़ा। उन्होंने कॉन्ग्रेस पार्टी पर आरोप लगाते हुए कहा कि यह पार्टी तो अपने साथ अस्तबल ही ले गई।

संसद में प्रज्ञा सिंह ठाकुर के बयान को लेकर उपजे हंगामे पर बोलते हुए गृहमंत्री ने कहा कि उनपर कार्रवाई की जाएगी। केंद्र सरकार को लम्बे समय से कश्मीर के मामले पर घेरने वालों को जवाब देते हुए उन्होंने राज्य में लगे प्रतिबंधों पर कहा कि इन्टरनेट कभी भी 40 हज़ार लोगों की जान से ज्यादा कीमती नहीं हो सकता। उल्टे उन्होंने कहा कि जम्मू-कश्मीर में खून की नदियाँ बहने के दावे करने वाले गुलाम नबी आज़ाद आज कहाँ हैं? वे बोले कि इस पूरी कार्रवाई के दौरान सुरक्षाबालों की गोली से एक भी व्यक्ति की मौत नहीं हुई, कहीं भी कर्फ्यू नहीं लगाया गया है।

कार्यक्रम के दौरान शाह ने गाँधी परिवार की सुरक्षा को लेकर भी सरकार का रुख स्पष्ट किया। उन्होंने कहा कि गाँधी परिवार के सुरक्षा के स्तर को बदल दिया गया है। शाह बोले कि इस परिवार को देश की सबसे अच्छी सुरक्षा मुहैय्या कराई गई है। उन्होंने कहा कि जब पूर्व प्रधानमंत्रियों की एसपीजी सुरक्षा हटा ली गई तब तो कोई कॉन्ग्रेसी नेता नहीं बोला मगर अब फेरबदल पर भी हाय-तौबा मची हुई है। वहीं आर्टिकल 370 पर बात करते हुए उन्होंने 1990 के नरसंहार की भी याद दिलाई जब 40 हज़ार लोगों की जान चली गई थी। उन्होंने कहा कि देश की जनता मोदी सरकार को इसके लिए धन्यवाद दे रही है।

 

  सहयोग करें  

एनडीटीवी हो या 'द वायर', इन्हें कभी पैसों की कमी नहीं होती। देश-विदेश से क्रांति के नाम पर ख़ूब फ़ंडिग मिलती है इन्हें। इनसे लड़ने के लिए हमारे हाथ मज़बूत करें। जितना बन सके, सहयोग करें

ऑपइंडिया स्टाफ़http://www.opindia.in
कार्यालय संवाददाता, ऑपइंडिया

संबंधित ख़बरें

ख़ास ख़बरें

‘हिजाब के लिए लड़कियों का प्रदर्शन राजनीति, शिक्षा का केंद्र मजहबी जगह नहीं’: बुर्के को मौलिक अधिकार बताने पर भड़के कर्नाटक के शिक्षा मंत्री

कर्नाटक के उडुपी के कॉलेज में हिजाब पहनने पर अड़ी छात्राओं को इस्लामिक संगठन कैम्पस फ्रंट ऑफ इंडिया अपना समर्थन दे रहा है।

‘मेरी पत्नी को मौलानाओं ने मारपीट कर घर से निकाल दिया, जिहादी उसकी हत्या भी कर सकते हैं’: जितेंद्र त्यागी (वसीम रिजवी) ने जेल...

जितेंद्र त्यागी उर्फ वसीम रिजवी ने आरोप लगाया है कि उनके परिवार को तंग किया जा रहा है और कुछ जिहादी उनकी पत्नी की हत्या करना चाहते हैं।

प्रचलित ख़बरें

- विज्ञापन -

हमसे जुड़ें

295,307FansLike
152,584FollowersFollow
413,000SubscribersSubscribe