Tuesday, January 18, 2022
Homeराजनीतिआंध्र प्रदेश के पूर्व स्पीकर ने की आत्महत्या, विधानसभा से फर्नीचर चुराने का था...

आंध्र प्रदेश के पूर्व स्पीकर ने की आत्महत्या, विधानसभा से फर्नीचर चुराने का था आरोप

आंध्र प्रदेश विधानसभा से गायब फर्नीचर कोडेला शिवा प्रसाद राव के दफ्तर और उनके बेटे के शोरूम से मिले थे। शोरूम में कम से कम 70 ऐसी चीजें थीं, जिन्हें विधानसभा से चुरा कर लाया गया था।

आंध्र प्रदेश विधानसभा के पूर्व अध्यक्ष कोडेला शिवा प्रसाद राव ने फाँसी लगा कर आत्महत्या कर ली। भ्रष्टाचार और अवैध वित्तीय लेनदेन में कोडेला और उनका परिवार आरोपित था। उन्होंने अपने हैदराबाद स्थित आवास पर ख़ुदकुशी की। ये घटना सोमवार (सितम्बर 16, 2019) सुबह की है। कोडेला, उनके बेटे और बेटी के ख़िलाफ़ जगन मोहन रेड्डी सरकार के सत्ता संभालने के बाद के बाद भ्रष्टाचार के कई मामले दर्ज किए गए थे।

72 वर्षीय पूर्व विधानसभाध्यक्ष को हैदराबाद के बसवा तारक्रम अस्पताल में मृत घोषित कर दिया गया। 2014 से 2019 तक विधानसभा के स्पीकर रहे कोडेला शिवा प्रसाद राव 6 बार विधानसभा चुनाव जीत चुके थे और टीडीपी के वरिष्ठ नेताओं में से एक थे। एनटी रामराव और चंद्रबाबू नायडू की सरकार में वह मंत्री भी रहे थे। तेलंगाना के मुख्यमंत्री के चंद्रशेखर राव और भाजपा ने टीडीपी नेता के निधन पर शोक जताया

भाजपा ने कहा कि पूर्व स्पीकर कई मृत्यु आंध्र प्रदेश में फिलहाल चल रही द्वेषपूर्ण और घृणयुक्त राजनीति का प्रमाण है। टीडीपी तेलंगाना के अध्यक्ष ने कहा कि कोडेला के मृत शरीर की गर्दन पर निशान बना हुआ था। अप्रैल में विधानसभा चुनाव के दौरान कोडेला ने आरोप लगाया था कि वाईएसआरसीपी के लोगों ने उन पर हमला किया। हालाँकि, जगन रेड्डी ने उन पर बूथ कब्जाने का आरोप लगाया था।

इससे पहले आंध्र प्रदेश विधानसभा से गायब फर्नीचर कोडेला शिवा प्रसाद राव के दफ्तर और उनके बेटे के शोरूम से मिले थे। शोरूम में कम से कम 70 ऐसी चीजें थीं, जिन्हें विधानसभा से चुरा कर लाया गया था। हालाँकि, विधानसभा अधिकारियों ने जिन चीजों की सूची दी थी, उनकी संख्या इससे कम ही थी। पूर्व विधानसभाध्यक्ष के ख़िलाफ़ धारा 409 (लोक सेवक या बैंक कर्मचारी, व्यापारी या अभिकर्ता द्वारा विश्वास का आपराधिक हनन) और धारा 411 (चुराई हुई संपत्ति को बेईमानी से प्राप्त करना) के तहत मामला दर्ज किया गया था।

 

  सहयोग करें  

एनडीटीवी हो या 'द वायर', इन्हें कभी पैसों की कमी नहीं होती। देश-विदेश से क्रांति के नाम पर ख़ूब फ़ंडिग मिलती है इन्हें। इनसे लड़ने के लिए हमारे हाथ मज़बूत करें। जितना बन सके, सहयोग करें

ऑपइंडिया स्टाफ़http://www.opindia.in
कार्यालय संवाददाता, ऑपइंडिया

संबंधित ख़बरें

ख़ास ख़बरें

17 की उम्र में पहली हत्या, MLA तक के मर्डर में नाम: सपा का प्यारा अतीक अहमद कभी था आतंक का पर्याय, योगी राज...

मुलायम सिंह यादव ने 2003 में उत्तर प्रदेश में अपनी सरकार बनाई। यह देख अतीक अहमद एक बार फिर समाजवादी हो गया। फूलपुर से वो सपा सांसद बना।

‘अमानतुल्लाह खान यहाँ नमाज पढ़ सकते हैं तो हिंदू हनुमान चालीसा क्यों नहीं?’: इंद्रप्रस्थ किले पर गरमाया विवाद, अंदर मस्जिद बनाने के भी आरोप

अमानतुल्लाह खान की एक वीडियो के विरोध में आज फिरोज शाह कोटला किले के बाहर हिंदूवादी लोगों ने इकट्ठा होकर हनुमान चालीसा का पाठ किया।

प्रचलित ख़बरें

- विज्ञापन -

हमसे जुड़ें

295,307FansLike
151,996FollowersFollow
413,000SubscribersSubscribe