Tuesday, October 19, 2021
Homeराजनीतिनेहरू-गाँधी परिवार पर उठाया था सवाल: सदन में विपक्ष के हो-हल्ले के बाद अनुराग...

नेहरू-गाँधी परिवार पर उठाया था सवाल: सदन में विपक्ष के हो-हल्ले के बाद अनुराग ठाकुर ने माँगी माफी, जाने क्या है मामला

"नेहरूजी ने फंड बनाया आज तक उसका रजिस्ट्रेशन नहीं कराया। आपने केवल एक परिवार गाँधी परिवार के लिए ट्रस्ट बनाया था। सोनिया गाँधी को अध्यक्ष बनाया था, इसकी जाँच होनी चाहिए तो दूध का दूध पानी का पानी हो जाएगा।"

संसद मे विपक्ष के हंगामे के बाद वित्त राज्य मंत्री अनुराग ठाकुर ने आज (सितंबर 18, 2020) गाँधी परिवार पर टिप्पणी को लेकर सदन में माफी माँग ली। उनकी माफी के बाद सदन की कार्रवाही सुचारू रूप से चालू हुई। इससे पहले विपक्ष के शोर शराबे से तंग आकर सदन की कार्रवाही को चार बार स्थगित करना पड़ा था।

अनुराग ठाकुर ने माफी माँगते हुए कहा, “कराधान विधेयक रखे जाने के दौरान मेरे द्वारा तथ्य रखते समय किसी को ठेस पहुँचाना मेरा उद्देश्य नहीं था। अगर किसी को ठेस पहुँची है तो मुझे भी इस बात की पीड़ा हैं।”

बता दें अनुराग ठाकुर ने आज सदन की कार्रवाही के दौरान पीएम केयर फंड्स की पारदर्शिता पर बात रखते हुए कहा था, “PM Cares एक पंजीकृत चैरिटेबल ट्रस्ट है। मैं साबित करने के लिए विपक्ष को चुनौती देना चाहता हूँ। यह ट्रस्ट इस देश के 138 करोड़ लोगों के लिए है।” उन्होंने कहा, “हाईकोर्ट से सुप्रीम कोर्ट तक, हर कोर्ट ने पीएम केयर्स फंड को सही ठहराया। छोटे-छोटे बच्चों ने गुल्लक तोड़कर चंदा दिया।”

उन्‍होंने आगे गाँधी परिवार को घेरते हुए कहा , “नेहरूजी ने फंड बनाया आज तक उसका रजिस्ट्रेशन नहीं कराया। आपने केवल एक परिवार गाँधी परिवार के लिए ट्रस्ट बनाया था। सोनिया गाँधी को अध्यक्ष बनाया था, इसकी जाँच होनी चाहिए तो दूध का दूध पानी का पानी हो जाएगा।”

बता दें यह सारा विवाद कॉन्ग्रेस नेता अधीर रंजन चौधरी के बयान के बाद शुरू हुआ था। उन्होंने दावा किया था चीनी कंपनी ने 500 करोड़ रुपए का फंड पीएम केयर्स फंड में दिया। उन्होंने इस मामले पर जाँच करने की माँग उठाई। इसी पर अनुराग ठाकुर ने आरोपों को खारिज करते हुए कहा कि, इसमें नेहरू-गाँधी परिवार का नाम लिया जाना चाहिए। आपने कई चैरिटेबल संगठनों से धन हस्तांतरित करके देश को गुमराह किया है और स्वयं को फायदा पहुँचाया। हम इसका पर्दाफाश करेंगे। गाँधी परिवार ने इस राष्ट्र के साथ विश्वासघात किया है।

 

  सहयोग करें  

एनडीटीवी हो या 'द वायर', इन्हें कभी पैसों की कमी नहीं होती। देश-विदेश से क्रांति के नाम पर ख़ूब फ़ंडिग मिलती है इन्हें। इनसे लड़ने के लिए हमारे हाथ मज़बूत करें। जितना बन सके, सहयोग करें

ऑपइंडिया स्टाफ़http://www.opindia.in
कार्यालय संवाददाता, ऑपइंडिया

संबंधित ख़बरें

ख़ास ख़बरें

‘सहिष्णुता और शांति का स्तर ऊँचा कीजिए’: हिंदी को राष्ट्रभाषा बताने पर जिस कर्मचारी को Zomato ने निकाला था, उसे CEO ने फिर बहाल...

रेस्टॉरेंट एग्रीगेटर और फ़ूड डिलीवरी कंपनी Zomato के CEO दीपिंदर गोयल ने उस कर्मचारी को फिर से बहाल कर दिया है, जिसे कंपनी ने हिंदी को राष्ट्रभाषा बताने पर निकाल दिया था।

बांग्लादेश के हमलावर मुस्लिम हुए ‘अराजक तत्व’, हिंदुओं का प्रदर्शन ‘मुस्लिम रक्षा कवच’: कट्टरपंथियों के बचाव में प्रशांत भूषण

बांग्लादेश में हिंदू समुदाय के नरसंहार पर चुप्पी साधे रखने के कुछ दिनों बाद, अब प्रशांत भूषण ने हमलों को अंजाम देने वाले मुस्लिमों की भूमिका को नजरअंदाज करते हुए पूरे मामले में ही लीपापोती करने उतर आए हैं।

प्रचलित ख़बरें

- विज्ञापन -

हमसे जुड़ें

295,307FansLike
129,963FollowersFollow
411,000SubscribersSubscribe