Tuesday, July 27, 2021
HomeराजनीतिNRC लागू हुआ तो मनोज तिवारी को छोड़नी पड़ेगी दिल्ली: पूर्वांचल वासियों को भगाना...

NRC लागू हुआ तो मनोज तिवारी को छोड़नी पड़ेगी दिल्ली: पूर्वांचल वासियों को भगाना चाहते हैं केजरीवाल

तिवारी असम की तरह दिल्ली में भी एनआरसी लागू करने की बात कई मौकों पर कह चुके हैं। इस संबंध में वह केंद्रीय गृह मंत्री अमित शाह से भी पिछले दिनों मिले थे। उनका कहना है कि राजधानी में बहुत से घुसपैठिए हैं, जिन्हें बाहर किया जाना चाहिए।

राष्ट्रीय नागरिक रजिस्टर (NRC) पर दिल्ली के मुख्यमंत्री अरविन्द केजरीवाल और भाजपा के प्रदेश अध्यक्ष मनोज तिवारी में ठन गई है। केजरीवाल ने कहा कि दिल्ली में NRC लागू होने के बाद तिवारी को दिल्ली छोड़नी पड़ेगी। जवाब में तिवारी ने कहा कि केजरीवाल पूर्वांचल से आए लोगों को दिल्ली से भगाना चाहते हैं।

उल्लेखनीय है कि तिवारी असम की तरह दिल्ली में भी एनआरसी लागू करने की बात कई मौकों पर कह चुके हैं। इस संबंध में वह केंद्रीय गृह मंत्री अमित शाह से भी पिछले दिनों मिले थे। उनका कहना है कि राजधानी में बहुत से घुसपैठिए हैं, जिन्हें बाहर किया जाना चाहिए।

इस संबंध में पूछे गए सवाल के जवाब में केजरीवाल ने कहा, ‘अगर दिल्ली में एनआरसी लागू हुआ तो सबसे पहले मनोज तिवारी को दिल्ली छोड़नी पड़ेगी।’ जवाब में तिवारी ने उनसे पूछा क्या बाहरी राज्यों के लोगों को दिल्ली छोड़ देना चाहिए?

तिवारी ने सीएम के बयान पर आश्चर्य जताते हुए कहा कि क्या केजरीवाल दिल्ली में रह रहे देश के अन्य हिस्से के लोगों को विदेशी मानते हैं? उन्होंने कहा कि जब केजरीवाल दूसरे राज्यों से आए लोगों को भगाना चाहते हैं तो उन्हें यह भी सोचना चाहिए कि वह भी उन्हीं में से एक हैं। तिवारी ने दावा किया कि अरविन्द केजरीवाल अपना मानसिक संतुलन खो चुके हैं। उन्होंने पूछा कि एक पूर्व आईआरएस अधिकारी को नहीं पता कि एनआरसी क्या है?

केजरीवाल को ‘टुकड़े-टुकड़े गैंग’ का समर्थक करार देते हुए तिवारी ने कहा वे इतना भी नहीं जानते हैं कि एनआरसी में विदेशी घुसपैठियों को चिह्नित किया जाता है। तिवारी ने कहा कि इस तरह के बयान देने वाले केजरीवाल को शर्म आना चाहिए और उन्हें अपने पद पर बने रहने का कोई हक़ नहीं है। तिवारी ने केजरीवाल को समझाते हुए कहा कि एनआरसी विदेशियों के लिए है। उन्होंने पूछा कि आखिर केजरीवाल पूर्वांचल के लोगों को भगाना क्यों चाहते हैं?

आप प्रवक्ता सौरभ भारद्वाज ने कहा कि यूपी, राजस्थान, बिहार और ओडिशा से लोग रोजगार के लिए दिल्ली आते हैं और मनोज तिवारी ने एनआरसी वाला बयान देकर दिखाया है कि वे इन लोगों के विरोध में हैं। भारद्वाज ने कहा कि ये लोग चोर नहीं हैं, बल्कि दिल्ली के विकास में बराबर के भगोदर हैं। भारद्वाज ने कहा कि अगर एनआरसी लागू होता है तो इन लोगों को दिल्ली छोड़ कर जाना पड़ेगा।

  सहयोग करें  

एनडीटीवी हो या 'द वायर', इन्हें कभी पैसों की कमी नहीं होती। देश-विदेश से क्रांति के नाम पर ख़ूब फ़ंडिग मिलती है इन्हें। इनसे लड़ने के लिए हमारे हाथ मज़बूत करें। जितना बन सके, सहयोग करें

ऑपइंडिया स्टाफ़http://www.opindia.in
कार्यालय संवाददाता, ऑपइंडिया

संबंधित ख़बरें

ख़ास ख़बरें

‘कारगिल कमेटी’ पर कॉन्ग्रेस की कुण्डली: लोकतंत्र की सुरक्षा के लिए राष्ट्रीय सुरक्षा राजनीतिक दृष्टिकोण का न हो मोहताज

हमें ध्यान में रखना होगा कि जिस लोकतंत्र पर हम गर्व करते हैं उसकी सुरक्षा तभी तक संभव है जबतक राष्ट्रीय सुरक्षा का विषय किसी राजनीतिक दृष्टिकोण का मोहताज नहीं है।

असम-मिजोरम बॉर्डर पर भड़की हिंसा, असम के 6 पुलिसकर्मियों की मौत: हस्तक्षेप के दोनों राज्‍यों के CM ने गृहमंत्री से लगाई गुहार

असम के मुख्यमंत्री हिमंत बिस्वा सरमा ने ट्वीट कर बताया कि असम-मिज़ोरम सीमा पर तनाव में असम पुलिस के 6 जवानों की जान चली गई है।

प्रचलित ख़बरें

- विज्ञापन -

 

हमसे जुड़ें

295,307FansLike
111,362FollowersFollow
393,000SubscribersSubscribe