Tuesday, June 25, 2024
Homeराजनीति'गाँधी के लिए हुई FIR, मुस्लिमों के लिए नहीं': ओवैसी ने 'धर्म संसद' पर...

‘गाँधी के लिए हुई FIR, मुस्लिमों के लिए नहीं’: ओवैसी ने ‘धर्म संसद’ पर उठाए सवाल, कहा- कॉन्ग्रेस के बिना सम्मेलन मुमकिन ही नहीं

ओवैसी ने कहा, “राहुल गाँधी को सम्मेलन से दूर रखा गया, ये निंदनीय है। क्या हम ये समझें की हिंदू बनाम हिंदुत्व वाली बातें बस जुमला थीं? बघेल जी उत्तर प्रदेश में धरना दे सकते हैं, लेकिन धर्म के नाम पर उनके अपने राज्य में क्या हो रहा है? सब इस रेस में लगे हैं कि "सबसे बड़ा हिन्दू कौन?”

ऑल इंडिया मजलिस-ए-इत्तेहादुल मुस्लिमीन (AIMIM) के प्रमुख असदुद्दीन ओवैसी ने छत्तीसगढ़ की राजधानी रायपुर में हुई ‘धर्म संसद’ को लेकर कॉन्ग्रेस पर निशाना साधा है। उन्होंने धर्म संसद में मुस्लिमों के लिए कही गई बातों पर कॉन्ग्रेस द्वारा आपत्ति न जताने और शिकायत दर्ज नहीं कराने का आरोप लगाया है। ओवैसी ने महात्मा गाँधी को अपशब्द कहे जाने पर सम्मेलन छोड़कर जाने वाले महंत राम सुंदर को लेकर भी टिप्पणी की।

एआईएमआईएम चीफ ने सोशल मीडिया पर धर्म संसद को नरसंहारी सम्मेलन कहा और इसके लिए कॉन्ग्रेस को जिम्मेदार ठहराया। उन्होंने कहा कि इस सम्मेलन में महात्मा गाँधी के खिलाफ कही गई बातों का विरोध हुआ। एफआईआर दर्ज हुई, लेकिन मुस्लिमों के खिलाफ जो कुछ कहा गया उसकी अनदेखी की गई।

असदुद्दीन ओवैसी ने सोशल मीडिया पर लिखा, “राम सुंदर छत्तीसगढ़ गौसेवा आयोग के अध्यक्ष हैं और इनका कैबिनेट रैंक है। ये धर्म संसद के मुख्य संरक्षक थे। सम्मेलन कॉन्ग्रेस के बिना मुमकिन ही नहीं था। राम सुंदर के संरक्षण में ना सिर्फ गाँधी जी को गाली दी, बल्कि ये भी कहा कि इस्लाम का मक़सद राष्ट्र पर कब्जा करना है। जब कालीचरण यह भाषण दे रहा था तो दर्शकों के बीच कॉन्ग्रेस नेता प्रमोद दुबे, भाजपा नेता सच्चिदानंद उपासने और नंदकुमार साय भी मौजूद थे। किसी ने अपनी चुप्पी नहीं तोड़ी।”

ओवैसी ने लिखा, “25 दिसंबर को यात्रा निकाली गई थी और 26 को धर्म संसद हुआ था। 25 की कलश यात्रा में कॉन्ग्रेस विधायक विकास उपाध्याय और कॉन्ग्रेस के प्रमोद दुबे (रायपुर नगर सभापति) ने शिरकत की। भाजपा के पूर्व मुख्यमंत्री रमन सिंह भी मौजूद थे।”

उन्होंने कहा, “कॉन्ग्रेस के कैबिनेट मिनिस्टर रैंक के नेता के संरक्षण में हिंदू राष्ट्र, मुसलमानों का नरसंहार, लव जिहाद की बातें हुईं। एफ़आईआर सिर्फ़ गाँधी जी वाले बयान पर दर्ज हुई है। क्या हम ये समझें की हमारे नरसंहार की बात चिंताजनक नहीं है?”

ओवैसी ने कहा, “राहुल गाँधी को सम्मेलन से दूर रखा गया, ये निंदनीय है। क्या हम ये समझें की हिंदू बनाम हिंदुत्व वाली बातें बस जुमला थीं? बघेल जी उत्तर प्रदेश में धरना दे सकते हैं, लेकिन धर्म के नाम पर उनके अपने राज्य में क्या हो रहा है? सब इस रेस में लगे हैं कि “सबसे बड़ा हिन्दू कौन?”

बता दें कि रविवार (26 दिसंबर 2021) को रायपुर में एक ‘धर्म संसद’ में महात्मा गाँधी के लिए अपशब्द कहने वाले कालीचरण महाराज के खिलाफ आयोजकों में से एक रायपुर नगरनिगम के सभापति और कॉन्ग्रेस नेता प्रमोद दुबे की शिकायत पर पुलिस ने मामला दर्ज किया है। वहीं, सुप्रीम कोर्ट (Supreme Court) के 76 वकीलों ने 17 और 19 दिसंबर को दिल्ली (हिंदू युवा वाहिनी द्वारा) और हरिद्वार (यति नरसिंहानंद) में धर्म संसद के दौरान दिए गए भाषणों को लेकर चीफ जस्टिस ऑफ इंडिया (CJI) एनवी रमना को पत्र लिखा। उन्होंने पत्र में कथित आरोप लगाया कि धर्म संसद के दो अलग-अलग आयोजनों में अभद्र भाषा का प्रयोग किया गया है। इस पर संज्ञान लिया जाए।

Special coverage by OpIndia on Ram Mandir in Ayodhya

  सहयोग करें  

एनडीटीवी हो या 'द वायर', इन्हें कभी पैसों की कमी नहीं होती। देश-विदेश से क्रांति के नाम पर ख़ूब फ़ंडिग मिलती है इन्हें। इनसे लड़ने के लिए हमारे हाथ मज़बूत करें। जितना बन सके, सहयोग करें

ऑपइंडिया स्टाफ़
ऑपइंडिया स्टाफ़http://www.opindia.in
कार्यालय संवाददाता, ऑपइंडिया

संबंधित ख़बरें

ख़ास ख़बरें

क्या है भारत और बांग्लादेश के बीच का तीस्ता समझौता, क्यों अनदेखी का आरोप लगा रहीं ममता बनर्जी: जानिए केंद्र ने पश्चिम बंगाल की...

इससे पहले यूपीए सरकार के दौरान भारत और बांग्लादेश के बीच तीस्ता के पानी को लेकर लगभग सहमति बन गई थी। इसके अंतर्गत बांग्लादेश को तीस्ता का 37.5% पानी और भारत को 42.5% पानी दिसम्बर से मार्च के बीच मिलना था।

लोकसभा में ‘परंपरा’ की बातें, खुद की सत्ता वाले राज्यों में दोनों हाथों में लड्डू: डिप्टी स्पीकर पद पर हल्ला कर रहा I.N.D.I. गठबंधन,...

कर्नाटक, तेलंगाना और हिमाचल प्रदेश में कॉन्ग्रेस ने अपने ही नेता को डिप्टी स्पीकर बना रखा है विधानसभा में। तमिलनाडु में DMK, झारखंड में JMM, केरल में लेफ्ट और पश्चिम बंगाल में TMC ने भी यही किया है। दिल्ली और पंजाब में AAP भी यही कर रही है। लोकसभा में यही I.N.D.I. गठबंधन वाले 'परंपरा' और 'परिपाटी' की बातें करते नहीं थक रहे।

प्रचलित ख़बरें

- विज्ञापन -