Monday, March 8, 2021
Home राजनीति CM की कुर्सी के लिए अयोध्या को ठुकराया, अब राम मंदिर पर लहरिया लूट...

CM की कुर्सी के लिए अयोध्या को ठुकराया, अब राम मंदिर पर लहरिया लूट रहे उद्धव ठाकरे

उद्धव ठाकरे ने कहा है कि जिस साल वे अयोध्या गए उसके अगले ही साल नवंबर महीने में यह समस्या हल हो गई। इसके अलावा वह मुख्यमंत्री भी बन गए। उन्होंने कहा कि यह मेरी श्रद्धा और विश्वास है। इसे भले कोई अंधी श्रद्धा कह सकता है, लेकिन यही मेरी आस्था है और रहेगी।

अयोध्या में भव्य राम मंदिर का भूमि पूजन 5 अगस्त को होना है। एक तरफ स्वामी स्वरूपानंद सरस्वती और कॉन्ग्रेसी कठपुतली साकेत गोखले जैसे लोग हैं जो इसमें अड़ंगा डालने के लिए कभी मुहुर्त पर सवाल उठा रहे तो कभी अदालत का दरवाजा खटखटा रहे। दूसरी तरफ अरविंद केजरीवाल और उद्धव ठाकरे जैसे भी हैं जो इस आयोजन में किसी न किसी तरह अपनी हिस्सेदारी जता हिंदू भावनाओं पर सवार हो श्रेय लूटने की कोशिश में हैं।

महाराष्ट्र के मुख्यमंत्री उद्धव ठाकरे ने शिवसेना के मुखपत्र सामना को एक इंटरव्यू दिया है। इसमें उन्होंने दावा किया है कि उनकी यात्रा ने राम मंदिर की समस्या का हल निकाला।

उन्होंने कहा कि जिस साल वे अयोध्या गए उसके अगले ही साल नवंबर महीने में यह समस्या हल हो गई। इसके अलावा वह मुख्यमंत्री भी बन गए। उन्होंने कहा कि यह मेरी श्रद्धा और विश्वास है। इसे भले कोई अंधी श्रद्धा कह सकता है, लेकिन यही मेरी आस्था है और रहेगी।

उद्धव ने कहा, “फिलहाल सभी कोरोना से जूझ रहे हैं, मैं ठीक हूँ और मैं अयोध्या ज़रूर जाऊँगा। भले आज मैं मुख्यमंत्री हूँ लेकिन जब मुख्यमंत्री नहीं था तब भी मुझे वहॉं पूरा मान-सम्मान मिला। शिवसेना प्रमुख और बाला साहेब का बेटा होने की हैसियत से।”

राम मंदिर आंदोलन से शिवसेना का नाता रहा है। दिवंगत बाला साहेब ठाकरे इसके लिए अपनी पूरी जिंदगी लगे रहे। लेकिन, उनकी विरासत को उद्धव ने मुख्यमंत्री की कुर्सी के लिए खुद अपने ही ​हाथों से तिलांजलि दी थी।
बात ज्यादा पुरानी नहीं है। बीते साल 24 नवंबर को उद्धव ठाकरे को अयोध्या जाना था। महीनों पहले उन्होंने इसका बकायदा ऐलान किया था। लेकिन ऐन वक्त पर यह दौरा रद्द कर दिया गया था।

औपचारिक तौर पर इसकी वजह सुरक्षा कारण बताया गया था, लेकिन कई मीडिया रिपोर्टों में स्पष्ट तौर पर कहा गया था कि ऐसा राजनीतिक वजहों से किया गया था।

असल में उस समय महाराष्ट्र में उद्धव भाजपा से नाता तोड़कर कॉन्ग्रेस और शिवसेना की मदद से सरकार बनाने की जुगत में लगे थे। उसके बाद से उद्धव के नेतृत्व वाली महाराष्ट्र की महाविकास अघाड़ी सरकार ने जिस तरह हिंदुओं से जुड़े मसलों पर अपना स्टैंड दिखाया है उससे जाहिर है कि यह दौर रद्द करने की वजह राजनैतिक मजबूरियॉं भी थी।

लेकिन, सुप्रीम कोर्ट के ऐतिहासिक फैसले के बाद अब जब अयोध्या में श्रीराम का भव्य मंदिर बनने की बेला आ पहुॅंची है तो वे इसमें अपनी हिस्सेदारी बताने पर लौट आए हैं।

सामना को दिए इंटरव्यू में उद्धव ने महाराष्ट्र और राजस्थान के राजनीतिक हालात पर भी चर्चा की। उद्धव ठाकरे ने कहा जिस किसी को मेरी सरकार गिरानी है, वह गिरा सकता है। मैं भी देख रहा हूँ, उन्हें इंतज़ार किसका है? सरकार भले तीन पहिए की (ऑटो रिक्शा) है, इसमें पीछे दो लोग बैठे हैं। लेकिन यह ग़रीबों की गाड़ी है और इसका स्टेयरिंग मेरे हाथ में है।

ऑपरेशन लोटस के महाराष्ट्र में सफल या असफल होने के सवाल पर उद्धव ने कहा, “मैं भविष्यवाणी कैसे कर सकता हूँ? जिसे करना है वह करके देखे, जोड़-तोड़ करके देखे। राजनीतिक दलों में ऐसा क्या नहीं मिलता है जो नेताओं को दूसरे दलों में जाने की ज़रूरत पड़ती है।” इस तरह के तमाम उदाहरण हैं, ऐसे ही तोड़-फोड़ की राजनीति होती है। ऐसा कौन सा विपक्षी नेता है जो दूसरे दल में जाकर शीर्ष पद पर पहुँचता है या मुख्यमंत्री बनता है। सभी ने केवल ‘इस्तेमाल करके फेंक दो नीति अपनाई है।’

  सहयोग करें  

एनडीटीवी हो या 'द वायर', इन्हें कभी पैसों की कमी नहीं होती। देश-विदेश से क्रांति के नाम पर ख़ूब फ़ंडिग मिलती है इन्हें। इनसे लड़ने के लिए हमारे हाथ मज़बूत करें। जितना बन सके, सहयोग करें

ऑपइंडिया स्टाफ़http://www.opindia.in
कार्यालय संवाददाता, ऑपइंडिया

संबंधित ख़बरें

ख़ास ख़बरें

BJP पैसे दे तो ले लो… वोट TMC के लिए करो: ‘अकेली महिला ममता बहन’ को मिला शरद पवार का साथ

“मैं आमना-सामना करने के लिए तैयार हूँ। अगर वे (भाजपा) वोट खरीदना चाहते हैं तो पैसे ले लो और वोट टीएमसी के लिए करो।”

‘सबसे बड़ा रक्षक’ नक्सल नेता का दोस्त गौरांग क्यों बना मिथुन? 1.2 करोड़ रुपए के लिए क्यों छोड़ा TMC का साथ?

तब मिथुन नक्सली थे। उनके एकलौते भाई की करंट लगने से मौत हो गई थी। फिर परिवार के पास उन्हें वापस लौटना पड़ा था। लेकिन खतरा था...

अनुराग-तापसी को ‘किसान आंदोलन’ की सजा: शिवसेना ने लिख कर किया दावा, बॉलीवुड और गंगाजल पर कसा तंज

संपादकीय में कहा गया कि उनके खिलाफ कार्रवाई इसलिए की जा रही है, क्योंकि उन लोगों ने ‘किसानों’ के विरोध प्रदर्शन का समर्थन किया है।

‘मासूमियत और गरिमा के साथ Kiss करो’: महेश भट्ट ने अपनी बेटी को साइड ले जाकर समझाया – ‘इसे वल्गर मत समझो’

संजय दत्त के साथ किसिंग सीन को करने में पूजा भट्ट असहज थीं। तब निर्देशक महेश भट्ट ने अपनी बेटी की सारी शंकाएँ दूर कीं।

‘कॉन्ग्रेस का काला हाथ वामपंथियों के लिए गोरा कैसे हो गया?’: कोलकाता में PM मोदी ने कहा – घुसपैठ रुकेगा, निवेश बढ़ेगा

कोलकाता के ब्रिगेड ग्राउंड में प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने पश्चिम बंगाल में अपनी पहली चुनावी जनसभा को सम्बोधित किया। मिथुन भी मंच पर।

मिथुन चक्रवर्ती के BJP में शामिल होते ही ट्विटर पर Memes की बौछार

पश्चिम बंगाल में विधानसभा चुनाव से पहले मिथुन चक्रवर्ती ने कोलकाता में प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी की रैली में भाजपा का दामन थाम लिया।

प्रचलित ख़बरें

मौलाना पर सवाल तो लगाया कुरान के अपमान का आरोप: मॉब लिंचिंग पर उतारू इस्लामी भीड़ का Video

पुलिस देखती रही और 'नारा-ए-तकबीर' और 'अल्लाहु अकबर' के नारे लगा रही भीड़ पीड़ित को बाहर खींच लाई।

14 साल के किशोर से 23 साल की महिला ने किया रेप, अदालत से कहा- मैं उसके बच्ची की माँ बनने वाली हूँ

अमेरिका में 14 साल के किशोर से रेप के आरोप में गिरफ्तार की गई ब्रिटनी ग्रे ने दावा किया है कि वह पीड़ित के बच्चे की माँ बनने वाली है।

आज मनसुख हिरेन, 12 साल पहले भरत बोर्गे: अंबानी के खिलाफ साजिश में संदिग्ध मौतों का ये कैसा संयोग!

मनसुख हिरेन की मौत के पीछे साजिश की आशंका जताई जा रही है। 2009 में ऐसे ही भरत बोर्गे की भी संदिग्ध परिस्थितियों में मौत हुई थी।

‘ठकबाजी गीता’: हाई कोर्ट के चीफ जस्टिस अकील कुरैशी ने FIR रद्द की, नहीं माना धार्मिक भावनाओं का अपमान

चीफ जस्टिस अकील कुरैशी ने कहा, "धारा 295 ए धर्म और धार्मिक विश्वासों के अपमान या अपमान की कोशिश के किसी और प्रत्येक कृत्य को दंडित नहीं करता है।"

‘40 साल के मोहम्मद इंतजार से नाबालिग हिंदू का हो रहा था निकाह’: दिल्ली पुलिस ने हिंदू संगठनों के आरोपों को नकारा

दिल्ली के अमन विहार में 'लव जिहाद' के आरोपों के बाद धारा-144 लागू कर दी गई है। भारी पुलिस बल की तैनाती है।

माँ-बाप-भाई एक-एक कर मर गए, अंतिम संस्कार में शामिल नहीं होने दिया: 20 साल विष्णु को किस जुर्म की सजा?

20 साल जेल में बिताने के बाद बरी किए गए विष्णु तिवारी के मामले में NHRC ने स्वत: संज्ञान लिया है।
- विज्ञापन -

 

हमसे जुड़ें

292,301FansLike
81,958FollowersFollow
393,000SubscribersSubscribe