Friday, July 1, 2022
Homeराजनीतिसावरकर के बाद उद्धव ठाकरे ने रामलला से भी तोड़ा नाता, अब नहीं जाएँगे...

सावरकर के बाद उद्धव ठाकरे ने रामलला से भी तोड़ा नाता, अब नहीं जाएँगे अयोध्या

भाजपा से गठबंधन तोड़ने के बाद शिवसेना, एनसीपी और कॉन्ग्रेस के साथ समीकरण बनाकर सरकार गठन करने के लिए प्रयासरत है। लेकिन सोनिया गाँधी की ओर से स्थिति साफ़ होने के कारण असमंजस की स्थिति बनी हुई है।

महाराष्ट्र में मुख्यमंत्री की कुर्सी भले अब तक शिवसेना को नहीं मिल पाई है। लेकिन, इसके लिए हिन्दुत्व से उसकी दूरी बढ़ती जा रही है। पहले खबर आई थी कि कॉन्ग्रेस और शिवसेना के साथ मिलकर सरकार बनाने के लिए शिवसेना वीर सावरकर को भारत रत्न देने की मॉंग से पीछे हट गई है। अब खबर यह है कि शिवसेना प्रमुख उद्धव ठाकरे अयोध्या नहीं जाएँगे। वे 24 नवंबर को अयोध्या जाकर रामलला के दर्शन करने वाले थे।

मीडिया रिपोर्टों में दौरा रद्द करने की अलग-अलग वजहें बताई गई है। एएनआई ने सूत्रों के हवाले से बताया है कि सुरक्षा कारणों से उद्धव ने दौरा रद्द किया है। रिपब्लिक टीवी के अनुसार महाराष्ट्र की राजनीतिक हालत को देखते हुए शिवसेना सुप्रीमो ने अयोध्या नहीं जाने का फैसला किया है। साथ ही किसानों की स्थिति को भी इसका कारण बताया गया है। दैनिक जागरण के अनुसार सरकार गठन को लेकर स्थिति साफ नहीं होने के कारण ऐसा किया गया है। साथ ही कहा गया है कि राम जन्मभूमि परिसर सुरक्षा की दृष्टि से अतिसंवेदनशील होने के कारण, सुरक्षा एजेंसियों ने वहॉं किसी भी राजनीतिक दल के नेता को जाने से मना किया है।

बता दें कि 9 नवंबर को राम जन्मभूमि पर सुप्रीम कोर्ट का फैसला आने के बाद उद्धव ठाकरे ने उसका जोरदार स्वागत किया था। उसी समय उन्होंने 24 नवंबर को अयोध्या जाने का ऐलान किया था। पिछले साल उन्होंने राम मंदिर के लिए ‘चलो अयोध्या’ आंदोलन की शुरुआत की थी। नारा दिया था- ‘पहले मंदिर फिर सरकार’।

भाजपा से गठबंधन तोड़ने के बाद शिवसेना, एनसीपी और कॉन्ग्रेस के साथ समीकरण बनाकर सरकार गठन करने के लिए प्रयासरत है। लेकिन सोनिया गाँधी की ओर से स्थिति साफ़ होने के कारण असमंजस की स्थिति बनी हुई है। आज कॉन्ग्रेस की अंतरिम अध्यक्ष सोनिया गाँधी और एनसीपी प्रमुख शरद पवार के बीच होने वाली बैठक से तस्वीर साफ़ होने की उम्मीद है। वहीं, शिवसेना नेता संजय राउत शनिवार को दावा कर चुके हैं कि महाराष्ट्र के मुख्यमंत्री उद्धव ठाकरे ही होंगे।

ध्यान देने वाली बात है कि शिवसेना इस समय राज्य में सरकार बनाने के लिए इतनी लालायित है कि उसने अपनी मूल विचारधारा से समझौता करने की बात पर भी हाँ भर दी है। खबरों के अनुसार, तीनों पार्टियों के बीच संयुक्त बैठक के बाद तैयार हुए न्यूनतम साझा कार्यक्रम में शिवसेना अपना कट्टर हिंदुत्व का चेहरा छोड़कर न केवल मुस्लिमों को 5 प्रतिशत आरक्षण देने वाली शर्त पर तैयार हुई है, बल्कि कहा जा रहा है कि वे इस गठबंधन के बाद वीर सावरकर का नाम लेने से भी बचेगी।

ये भी पढ़ें:बिगड़ रही शिवसेना-कॉन्ग्रेस-NCP की बात?
ये भी पढ़ें:शिवसेना के 16, एनसीपी के 14 और कॉन्ग्रेस के 12 मंत्री होंगे

  सहयोग करें  

एनडीटीवी हो या 'द वायर', इन्हें कभी पैसों की कमी नहीं होती। देश-विदेश से क्रांति के नाम पर ख़ूब फ़ंडिग मिलती है इन्हें। इनसे लड़ने के लिए हमारे हाथ मज़बूत करें। जितना बन सके, सहयोग करें

ऑपइंडिया स्टाफ़
ऑपइंडिया स्टाफ़http://www.opindia.in
कार्यालय संवाददाता, ऑपइंडिया

संबंधित ख़बरें

ख़ास ख़बरें

किसी को ईद तक तो किसी को 17 जुलाई तक मारने की धमकी, पटाखों का जश्न तो कहीं सिर तन से जुदा के स्टेटस:...

राजस्थान के उदयपुर में कन्हैयालाल के कत्ल के बाद कहीं पर फोड़े गए पटाखे तो कहीं पर हिन्दू संगठन के कार्यकर्ता को मिली कत्ल की धमकी।

कन्हैया, उमेश, किशन… हत्या का एक जैसा पैटर्न, लिंक की पड़ताल कर रही NIA: रिपोर्ट में बताया- PFI कनेक्शन की भी हो रही जाँच

उदयपुर में कन्हैया लाल को काटा गया। अमरावती में उमेश कोल्हे तो अहमदाबाद में किशन भरवाड की हत्या की गई। बताया जा रहा है कि एनआईए इनके बीच लिंक की पड़ताल कर रही है।

प्रचलित ख़बरें

- विज्ञापन -

हमसे जुड़ें

295,307FansLike
201,558FollowersFollow
416,000SubscribersSubscribe