Sunday, July 14, 2024
Homeराजनीतिरामपुर की जनता के सामने आए आजम खान, कहा- खुशियों का ऐसा पहाड़ टूटा...

रामपुर की जनता के सामने आए आजम खान, कहा- खुशियों का ऐसा पहाड़ टूटा कि 22 किलो वजन घट गया

"जिंदगी का इतना लंबा सफर गुजारने के बाद तुम्हारा यह साथी 1 किलो वजन बढ़ाकर नहीं बल्कि 22 किलो वजन घटाकर आज तुम्हारे सामने खड़ा है। बस यही तो मिला आपसे संसद का चुनाव जीतने के बाद।"

रामपुर से सपा सांसद आजम खान आगामी उपचुनावों के मद्देनजर अपनी पत्नी के लिए चुनाव प्रचार करने मैदान में उतर गए हैं। लेकिन उनकी हालत देखकर लगता है कि वो अपने ऊपर चल रहे मुकदमों के सदमे से बाहर नहीं निकल पा रहे।

कल रामपुर की जनता के बीच आजम खान अपने ऊपर लगे मुकदमों के बारे में बात करते हुए भावुक हो गए। उन्होंने भर्राए गले से अपनी स्थिति पर तंज कसते हुए कहा कि उनके ऊपर खुशियों का ऐसा पहाड़ टूटा है कि उनका 22 किलो वजन घट गया।

उन्होंने मंच से जनता को संबोधित करते हुए कहा, “जिंदगी का इतना लंबा सफर गुजारने के बाद तुम्हारा यह साथी 1 किलो वजन बढ़ाकर नहीं बल्कि 22 किलो वजन घटाकर आज तुम्हारे सामने खड़ा है। बस यही तो मिला आपसे संसद का चुनाव जीतने के बाद।”

अपनी बात को आगे बढ़ाते हुए उन्होंने कहा कि वे अभी तक लोकसभा चुनाव में मिली जीत की कीमत अदा नहीं कर पाएँ हैं। इसके लिए न जाने उन्हें कितनी कीमत अदा करनी होगी।

उन्होंने पेड़ का उदाहरण देते हुए कहा कि अगर 100 साल के बूढ़े पेड़ पर डकैती के 100 मुकदमों की तस्वीर चस्पा कर दी जाएगी, तो वह टूट के गिर जाएगा। सपा सांसद ने चुनाव प्रचार की रैली में भावुक स्पीच देने के बाद कहा कि इस लड़ाई से वे न पीछे हट सकते हैं और न ही मैदान छोड़कर भाग सकते हैं।

गौरतलब है कि आजम खान पर फिलहाल 80 से ज्यादा मुकदमे दर्ज हो रखे हैं और उनके ख़िलाफ़ स्पेशल इन्वेस्टिगेशन टीम की जाँच भी चल रही हैं। जिस कारण वे अक्सर रामपुर से अब तक गायब ही दिखते थे, लेकिन पत्नी के चुनावी मैदान में उतरते ही वो दोबारा से रामपुर लौटे हैं और तंजीन फातिमा के लिए आयोजित कार्यक्रमों में पहुँचे। यहाँ वे अपने ऊपर सभी मामलों का हवाला देकर रौंधी आवाज से बोले, “आखिर मेरी गलती क्या है, मुझे इंसाफ दो।” उन्होंने लोगों से कहा मेरे माथे पर लिखी बदनसीबी आप लोग पढ़ने की कोशिश करो।↵

Join OpIndia's official WhatsApp channel

  सहयोग करें  

एनडीटीवी हो या 'द वायर', इन्हें कभी पैसों की कमी नहीं होती। देश-विदेश से क्रांति के नाम पर ख़ूब फ़ंडिग मिलती है इन्हें। इनसे लड़ने के लिए हमारे हाथ मज़बूत करें। जितना बन सके, सहयोग करें

ऑपइंडिया स्टाफ़
ऑपइंडिया स्टाफ़http://www.opindia.in
कार्यालय संवाददाता, ऑपइंडिया

संबंधित ख़बरें

ख़ास ख़बरें

NITI आयोग की रिपोर्ट में टॉप पर उत्तराखंड, यूपी ने भी लगाई बड़ी छलाँग: 9 साल में 24 करोड़ भारतीय गरीबी से बाहर निकले

NITI आयोग ने सस्टेनेबल डेवलपमेंट गोल्स (SDG) इंडेक्स 2023-24 जारी की है। देश में विकास का स्तर बताने वाली इस रिपोर्ट में उत्तराखंड टॉप पर है।

लैंड जिहाद की जिस ‘मासूमियत’ को देख आगे बढ़ जाते हैं हम, उससे रोज लड़ते हैं प्रीत सिंह सिरोही: दिल्ली को 2000+ मजार-मस्जिद जैसी...

प्रीत सिरोही का कहना है कि वह इन अवैध इमारतों को खाली करवाएँगे। इन खाली हुई जमीनों पर वह स्कूल और अस्पताल बनाने का प्रयास करेंगे।

प्रचलित ख़बरें

- विज्ञापन -