Monday, November 29, 2021
Homeराजनीतिलाइन में लगी बुजुर्ग महिलाओं को धक्का देकर पूर्व CM हुड्डा ने डाला वोट,...

लाइन में लगी बुजुर्ग महिलाओं को धक्का देकर पूर्व CM हुड्डा ने डाला वोट, ‘VVIP’ रवैये पर उठे सवाल

लोगों ने सोशल मीडिया पर चुनाव आयोग को टैग कर पूछा कि क्या कॉन्ग्रेस नेताओं को वीवीआईपी ट्रीटमेंट देने की छूट दी गई है? लोगों ने हुड्डा पर नियमों की अवहेलना करने के लिए कार्रवाई करने की माँग की है। भूपिंदर सिंह हुड्डा ने जिस तरह से बुजुर्ग महिलाओं को किनारे कर के.....

हरियाणा के पूर्व मुख्यमंत्री भूपेंद्र सिंह हुड्डा का एक वीडियो वायरल हुआ है, जिसमें वह वोट डालने के लिए अपनी बारी का इंतज़ार करने की बजाय आम नागरिको को हटाते दिख रहे हैं। दरअसल, आज हरियाणा में विधानसभा चुनाव हो रहा है, जहाँ सत्तारूढ़ भाजपा और विपक्षी कॉन्ग्रेस के बीच मुख्य मुक़ाबला है। माना जा रहा है कि कॉन्ग्रेस की तरफ से हुड्डा ही प्रमुख चेहरा हैं, वहीं भाजपा वर्तमान मुख्यमंत्री मनोहर लाल खट्टर के नेतृत्व में चुनाव लड़ रही है। हरियाणा विधानसभा चुनाव का परिणाम गुरुवार (अक्टूबर 24, 2019) को जारी किया जाएगा। इस बीच हुड्डा के वायरल हुए वीडियो से उनकी किरकिरी हो रही है।

इस वीडियो में दिख रहा है कि पोलिंग बूथ पर जब वरिष्ठ कॉन्ग्रेस नेता हुड्डा वोट डालने पहुँचे, तब पहले से ही कई महिलाएँ वोट डालने के लिए कतार में लगी हुई थीं और अपनी बारी का इंतजार कर रही थी। हुड्डा ने उन महिलाओं को धक्के देकर किनारे किया और ख़ुद अपनी बारी का इंतजार करने की बजाय कतार में आगे आकर वोट डाला। वहाँ उपस्थित कुछ अन्य लोग, जो अधिकारी प्रतीत हो रहे हैं- हुड्डा का सहयोग करते हुए नियमों की अवहेलना कर रहे हैं।

लोगों ने सोशल मीडिया पर चुनाव आयोग को टैग कर पूछा कि क्या कॉन्ग्रेस नेताओं को वीवीआईपी ट्रीटमेंट देने की छूट दी गई है? लोगों ने हुड्डा पर नियमों की अवहेलना करने के लिए कार्रवाई करने की माँग की है। भूपिंदर सिंह हुड्डा ने जिस तरह से बुजुर्ग महिलाओं को किनारे कर के ख़ुद को कतार में आगे किया, उससे लोग उनके ‘वीवीआईपी’ वाले रवैये से नाराज़ हैं। वहीं मुख्यमंत्री मनोहर लाल खट्टर ने कतार में लग कर अपनी बारी का इंतजार किया और फिर अपना वोट डाला।

हरियाणा में कई ओपिनियन पोल्स में भाजपा को कॉन्ग्रेस से काफ़ी आगे बताया जा रहा है। सभी सर्वे में मुख्यमंत्री मनोहर लाल खट्टर की फिर से सरकार बनती दिख रही है। चुनाव से ऐन वक़्त पहले हुड्डा ने बगावती तेवर अपना लिया थे, जिससे कॉन्ग्रेस असहज हो गई थी। उसके बाद कॉन्ग्रेस ने कुमारी शैलजा को प्रदेश अध्यक्ष बना कर हुड्डा को महत्वपूर्ण भूमिका दी। उस समय प्रदेश अध्यक्ष रहे अशोक तँवर और हुड्डा के बीच काफ़ी खींचतान चल रही थी, जिससे पार्टी परेशान थी। तँवर ने आलाकमान पर कॉन्ग्रेस को बर्बाद करने का आरोप लगाया है।

 

  सहयोग करें  

एनडीटीवी हो या 'द वायर', इन्हें कभी पैसों की कमी नहीं होती। देश-विदेश से क्रांति के नाम पर ख़ूब फ़ंडिग मिलती है इन्हें। इनसे लड़ने के लिए हमारे हाथ मज़बूत करें। जितना बन सके, सहयोग करें

ऑपइंडिया स्टाफ़http://www.opindia.in
कार्यालय संवाददाता, ऑपइंडिया

संबंधित ख़बरें

ख़ास ख़बरें

‘जिनके घर शीशे के होते हैं, वे दूसरों पर पत्थर नहीं फेंका करते’: केजरीवाल के चुनावी वादों पर बरसे सिद्धू, दागे कई सवाल

''अपने 2015 के घोषणापत्र में 'आप' ने दिल्ली में 8 लाख नई नौकरियों और 20 नए कॉलेजों का वादा किया था। नौकरियाँ और कॉलेज कहाँ हैं?"

‘शरजील इमाम ने किसी को भी हथियार उठाने या हिंसा करने के लिए नहीं कहा, वो पहले ही 14 महीने से जेल में’: इलाहाबाद...

इलाहाबाद उच्च न्यायालय ने अपनी टिप्पणी में कहा कि शरजील इमाम ने किसी को भी हथियार उठाने या हिंसा करने के लिए नहीं कहा।

प्रचलित ख़बरें

- विज्ञापन -

हमसे जुड़ें

295,307FansLike
140,506FollowersFollow
412,000SubscribersSubscribe