Saturday, July 20, 2024
Homeराजनीति'आडवाणी भी जेल गए थे, और लोग भी जाएँगे': रामचरितमानस को कूड़ा-कचरा बताने वाले...

‘आडवाणी भी जेल गए थे, और लोग भी जाएँगे’: रामचरितमानस को कूड़ा-कचरा बताने वाले बिहार के शिक्षा मंत्री ने अब बागेश्वर धाम वाले बाबा को धमकाया

सुशील कुमार मोदी ने कहा है कि राजद को जगदानंद और चंद्रशेखर के खिलाफ कार्रवाई करनी चाहिए। जगदानंद ने राम मंदिर को 'नफरत की जमीन पर बनने वाला धर्मस्थल' कहा था।

संत तुलसीदास कृत पवित्र हिन्दू धर्म ग्रन्थ रामचरितमानस को कूड़ा-कचरा बताने वाले बिहार के शिक्षा मंत्री चंद्रशेखर यादव ने अब बागेश्वर धाम के पंडित धीरेन्द्र कृष्ण शास्त्री को निशाना बनाया है। उन्होंने कहा, “बाबा बागेश्वर अगर गंदे काम करने आएँगे तो बिहार इजाजत नहीं देगा, अगर नफरत फैलाने आए हो तो आडवाणी भी जेल गए थे, और लोग भी जाएँगे। बागेश्वर बाबा हो या कोई बाबा हों, उनके पास कोई तिलस्म या चमत्कार नहीं है।”

साथ ही उन्होंने आरोप लगाया कि पंडित धीरेन्द्र कृष्ण शास्त्री और उनके जैसे अन्य लोग धर्म के नाम पर व्यापार करते हैं। बता दें कि मध्य प्रदेश के छतरपुर में स्थित बागेश्वर बालाजी धाम लाखों अनुयायी पहुँचते हैं। वहाँ भगवान हनुमान का मंदिर है, जिसके महंत पंडित शास्त्री हैं। उधर राजद नेता व मंत्री तेज प्रताप यादव पूरी की पूरी सेना तैयार कर के बैठे हैं। वहीं पूर्व उप-मुख्यमंत्री व भाजपा नेता सुशिल कुमार मोदी ने राजद नेताओं को चुनौती दी है कि वो इस्लाम और ईसाई प्रचारकों पर ऐसी टिप्पणी कर के दिखाएँ।

सुशील कुमार मोदी ने कहा है कि राजद को जगदानंद और चंद्रशेखर के खिलाफ कार्रवाई करनी चाहिए। जगदानंद ने राम मंदिर को ‘नफरत की जमीन पर बनने वाला धर्मस्थल’ कहा था। मोदी ने पूछा कि लालू यादव ने इस बयान पर मौन साधा, किसका वोट पाने के लिए? उन्होंने याद किया कि जैसे राजद नेता गुलाम रसूल बलियावी ने पूरे बिहार को कर्बला की भूमि बना देने की धमकी दी थी। सुशील मोदी ने कहा कि विपक्ष में रहने पर राजद को मंदिर और हवन-पूजन याद आता है, जबकि सत्ता में आते ये लोग अहंकारी हो जाते हैं।

बिहार के शिक्षा मंत्री चंद्रशेखर ने कहा, “बाबा के चमत्कार की हवा तो मशहूर माइंड रीडर सुहानी शाह निकाल चुकी हैं। उनका सारा तिलस्म झूठ का कबाड़ है।” बता दें कि शनिवार (13 मई, 2023) को पंडित धीरेन्द्र कृष्ण शास्त्री बिहार पहुँच रहे हैं। पटना के नौबतपुर में उनका कार्यक्रम होना है। बिहार-झारखंड से लाखों श्रद्धालु आने वाले हैं। आयोजकों का कहना है कि इसके सामने गाँधी मैदान भी छोटा पड़ गया है।

Join OpIndia's official WhatsApp channel

  सहयोग करें  

एनडीटीवी हो या 'द वायर', इन्हें कभी पैसों की कमी नहीं होती। देश-विदेश से क्रांति के नाम पर ख़ूब फ़ंडिग मिलती है इन्हें। इनसे लड़ने के लिए हमारे हाथ मज़बूत करें। जितना बन सके, सहयोग करें

ऑपइंडिया स्टाफ़
ऑपइंडिया स्टाफ़http://www.opindia.in
कार्यालय संवाददाता, ऑपइंडिया

संबंधित ख़बरें

ख़ास ख़बरें

फैक्ट चेक’ की आड़ लेकर भारत में ‘प्रोपेगेंडा’ फैलाने की तैयारी कर रहा अमेरिका, 1.67 करोड़ रुपए ‘फूँक’ तैयार कर रहा ‘सोशल मीडिया इन्फ्लूएंसर्स’...

अमेरिका कथित 'फैक्ट चेकर्स' की फौज को तैयार करने की योजना को चतुराई से 'डिजिटल लिटरेसी' का नाम दे रहा है, लेकिन इनका काम होगा भारत में अमेरिकी नरेटिव को बढ़ावा देना।

मुस्लिम फल विक्रेताओं एवं काँवड़ियों वाले विवाद में ‘थूक’ व ‘हलाल’ के अलावा एक और पहलू: समझिए सच्चर कमिटी की रिपोर्ट और असंगठित क्षेत्र...

काँवड़ियों के पास ये विकल्प क्यों नहीं होना चाहिए, अगर वो सिर्फ हिन्दू विक्रेताओं से ही सामान खरीदना चाहते हैं तो? मुस्लिम भी तो लेते हैं हलाल?

प्रचलित ख़बरें

- विज्ञापन -