Saturday, July 31, 2021
HomeराजनीतिIAS बेटे को टिकट मिलने पर केंद्रीय मंत्री बीरेंद्र सिंह ने BJP को सौंपा...

IAS बेटे को टिकट मिलने पर केंद्रीय मंत्री बीरेंद्र सिंह ने BJP को सौंपा इस्तीफा, नहीं चाहते परिवारवाद को बढ़ावा देना

बृजेंद्र सिंह IAS अधिकारी हैं और इस समय HAFED के MD हैं। बृजेंद्र के पिता बीरेंद्र सिंह 2022 तक राज्यसभा सदस्य हैं और वह चुनाव लड़ने से मना कर चुके हैं।

लोकसभा चुनाव के लिए भारतीय जनता पार्टी ने हरियाणा की दो सीटों पर उम्मीदवारों का एलान कर दिया है। बीजेपी ने रोहतक से अरविंद शर्मा और हिसार से केंद्रीय मंत्री चौधरी बीरेंद्र सिंह के बेटे ब्रिजेंद्र सिंह को चुनाव मैदान में उतारा है। बीजेपी ने अपनी 20वीं सूची में 6 लोकसभा प्रत्याशियों के नामों का ऐलान किया है, वहीं पश्चिम बंगाल में विधानसभा उपचुनाव के लिए एक उम्मीदवार के नाम की घोषणा की है।

भारतीय जनता पार्टी की उम्मीदवारों की 20वीं सूची में हरियाणा के हिसार से बृजेंद्र सिंह को भी टिकट दिया गया है। बता दें कि बृजेंद्र सिंह केंद्रीय इस्पात मंत्री बीरेंद्र सिंह के बेटे हैं, लेकिन बेटे को टिकट मिलने से चौधरी बीरेंद्र सिंह नाराज हो गए हैं। इतना ही नहीं उन्होंने बीजेपी अध्यक्ष अमित शाह से राज्यसभा और मंत्री पद से इस्तीफे की पेशकश तक कर डाली है।

माना जा रहा है कि चौधरी बीरेंद्र सिंह परिवारवाद को बढ़ावा नहीं देना चाहते हैं। यही वजह है कि उन्होंने अपने इस्तीफे की पेशकश की है।

IAS अधिकारी हैं बृजेन्द्र सिंह

बीजेपी ने हरियाणा के हिसार से केंद्रीय मंत्री चौधरी बीरेंद्र सिंह के बेटे बृजेन्द्र सिंह को उम्मीदवार घोषित किया। 47 वर्षीय बृजेंद्र सिंह IAS अधिकारी हैं और इस समय HAFED के MD हैं। बृजेंद्र के पिता बीरेंद्र सिंह 2022 तक राज्यसभा सदस्य हैं और वह चुनाव लड़ने से मना कर चुके हैं। बृजेंद्र सिंह वर्ष 1998 में 26 साल की उम्र में IAS बने थे। उनकी रिटायरमेंट वर्ष 2032 में होनी है, लेकिन अब वह नामांकन से पूर्व स्वैच्छिक सेवानिवृत्ति लेकर राजनीतिक पारी की शुरुआत करेंगे। बृजेंद्र सिंह चंडीगढ़, पंचकूला और फरीदाबाद में डीसी रह चुके हैं।

  सहयोग करें  

एनडीटीवी हो या 'द वायर', इन्हें कभी पैसों की कमी नहीं होती। देश-विदेश से क्रांति के नाम पर ख़ूब फ़ंडिग मिलती है इन्हें। इनसे लड़ने के लिए हमारे हाथ मज़बूत करें। जितना बन सके, सहयोग करें

ऑपइंडिया स्टाफ़http://www.opindia.in
कार्यालय संवाददाता, ऑपइंडिया

संबंधित ख़बरें

ख़ास ख़बरें

शिवाजी से सीखा, 60 साल तक मुगलों को हराते रहे: यमुना से नर्मदा, चंबल से टोंस तक औरंगज़ेब से आज़ादी दिलाने वाले बुंदेले की...

उनके बारे में कहते हैं, "यमुना से नर्मदा तक और चम्बल नदी से टोंस तक महाराजा छत्रसाल का राज्य है। उनसे लड़ने का हौसला अब किसी में नहीं बचा।"

हिंदू मंदिरों की संपत्तियों का दूसरे धर्म के कार्यों में नहीं होगा उपयोग, कर्नाटक में HRCE ने लगाई रोक

कर्नाटक के हिन्दू रिलीजियस एण्ड चैरिटेबल एंडोवमेंट्स (HRCE) विभाग द्वारा जारी किए गए आदेश में यह कहा गया है कि हिन्दू मंदिर से प्राप्त किए गए फंड और संपत्तियों का उपयोग किसी भी तरह के गैर -हिन्दू कार्य अथवा गैर-हिन्दू संस्था के लिए नहीं किया जाएगा।

प्रचलित ख़बरें

- विज्ञापन -

 

हमसे जुड़ें

295,307FansLike
112,211FollowersFollow
394,000SubscribersSubscribe