Monday, September 27, 2021
Homeराजनीतिभारत बँटवारे के समय हुई थी ऐसी घटनाएँ: बंगाल हिंसा पर पीड़ितों के घर...

भारत बँटवारे के समय हुई थी ऐसी घटनाएँ: बंगाल हिंसा पर पीड़ितों के घर पहुँचे जेपी नड्डा, महिला आयोग ने भी कार्रवाई की माँग

“हम इस विचाराधारा की लड़ाई और टीएमसी की गतिविधियाँ जो असहिष्णुता से भरी हैं, उसके खिलाफ लड़ने को प्रतिबद्ध हैं। हम लोकतांत्रिक तरीके से लड़ने को तैयार हैं। मैं अब साउथ परगना 24 जाऊँगा और चुनाव परिणाम आने के कुछ ही घंटों बाद मारे गए पार्टी कार्यकर्ताओं के घरों का दौरा करूँगा।"

पश्चिम बंगाल में हुई हिंसा के मद्देनजर आज (मई 4, 2021) भाजपा के राष्ट्रीय अध्यक्ष जगत प्रकाश नड्डा (जेपी नड्डा) ने कोलकाता पहुँचकर तृणमूल कॉन्ग्रेस को चेतावनी देते हुए कहा कि वह लोकतांत्रिक लड़ाई के लिए पूरी तरह तैयार है।

नड्डा ने कहा, “हम इस विचाराधारा की लड़ाई और टीएमसी की गतिविधियाँ जो असहिष्णुता से भरी हैं, उसके खिलाफ लड़ने को प्रतिबद्ध हैं। हम लोकतांत्रिक तरीके से लड़ने को तैयार हैं। मैं अब साउथ परगना 24 जाऊँगा और चुनाव परिणाम आने के कुछ ही घंटों बाद मारे गए पार्टी कार्यकर्ताओं के घरों का दौरा करूँगा।”

भाजपा राष्ट्रीय अध्यक्ष ने कहा  “पश्चिम बंगाल चुनाव नतीजों के बाद जो घटनाएँ देखने और सुनने को मिली हैं वो हमें हतप्रभ करती हैं, चिंता में डालती हैं। मैंने ऐसी घटनाओं के बारे में भारत के बँटवारे के वक्त सुना था। हमने स्वतंत्र भारत में चुनाव परिणाम के बाद कभी ऐसी असहिष्णुता नहीं देखी।”

बता दें कि मीडिया से बात करने के बाद जेपी नड्डा राज्य भाजपा अध्यक्ष दिलीप घोष के साथ उन कार्यकर्ताओं के घर पहुँचे, जिनके घरों को हिंसा में निशाना बनाया गया। इधर, नंदीग्राम में महिलाओं के साथ हुई हिंसा पर राष्ट्रीय महिला आयोग ने संज्ञान लेते हुए जाँच की माँग उठाई है। डीजीपी को लिखे अपने पत्र में आयोग की अध्यक्ष रेखा शर्मा ने त्वरित कार्रवाई की माँग की है।

बता दें कि बंगाल में लगातार हिंसक घटनाएँ दर्ज होने के बाद प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने भी राज्यपाल धनखड़ से फोन पर बात करके चिंता जताई। इसके बाद गवर्नर धनखड़ ने कहा, “पीएम नरेंद्र मोदी ने कॉल किया था और कानून व्यवस्था की बिगड़ती स्थिति को लेकर गहरी चिंता और नाराजगी व्यक्ति की। मैंने भी इस पर चिंता जताई और बताया कि राज्य में तोड़फोड़, लूट और हत्याओं का दौर लगातार जारी है। राज्य में कानून व्यवस्था को संभालने के लिए तत्काल एक्शन लिए जाने की जरूरत है।”

उल्लेखनीय है कि बंगाल में राजनीतिक हिंसा पर भाजपा की ओर से सुप्रीम कोर्ट में अर्जी दाखिल कर घटनाओं पर सीबीआई जाँच की माँग की गई है। ये याचिका भाजपा प्रवक्ता गौरव भाटिया ने सुप्रीम कोर्ट में दी। भाटिया ने याचिका में माँग की कि सुप्रीम कोर्ट बंगाल सरकार से रिपोर्ट मँगाकर पूछे कि आखिर चुनाव नतीजों के बाद हुई हिंसा को रोकने के लिए उसकी ओर से क्या कदम उठाए गए हैं।

 

  सहयोग करें  

एनडीटीवी हो या 'द वायर', इन्हें कभी पैसों की कमी नहीं होती। देश-विदेश से क्रांति के नाम पर ख़ूब फ़ंडिग मिलती है इन्हें। इनसे लड़ने के लिए हमारे हाथ मज़बूत करें। जितना बन सके, सहयोग करें

ऑपइंडिया स्टाफ़http://www.opindia.in
कार्यालय संवाददाता, ऑपइंडिया

संबंधित ख़बरें

ख़ास ख़बरें

देश से अवैध कब्जे हटाने के लिए नैतिक बल जुटाना सरकारों और उनके नेतृत्व के लिए चुनौती: CM योगी और हिमंता सरमा ने पेश...

तुष्टिकरण का परिणाम यह है कि देश के बहुत बड़े हिस्से पर अवैध कब्जा हो गया है और उसे हटाना केवल सरकारों के लिए कानून व्यवस्था की चुनौती नहीं बल्कि राष्ट्रीय सभ्यता के लिए भी चुनौती है।

‘टोटी चोर’ के बाद मार्केट में AC ‘चोर’, कन्हैया ‘क्रांति’ कुमार का कॉन्ग्रेसी अवतार

एक 'आंगनबाड़ी सेविका' का बेटा वातानुकूलित सुख ले! इससे अच्छे दिन क्या हो सकते हैं भला। लेकिन सुख लेने के चक्कर में कन्हैया कुमार ने AC ही उखाड़ लिया।

प्रचलित ख़बरें

- विज्ञापन -

हमसे जुड़ें

295,307FansLike
124,789FollowersFollow
410,000SubscribersSubscribe