Monday, July 26, 2021
Homeराजनीति'शाहीन बाग़ में दंगाइयों को अरविन्द केजरीवाल ने बिठाया है, उनकी पीड़ा CAA नहीं,...

‘शाहीन बाग़ में दंगाइयों को अरविन्द केजरीवाल ने बिठाया है, उनकी पीड़ा CAA नहीं, राम मंदिर है’

"शाहीन बाग़ में धरने पर बैठे लोगों को अरविन्द केजरीवाल ने बैठाया है। उन्होंने कहा कि जो बसें जला रहे हैं, वो दंगाई हैं। निर्दोष बच्चों से पीएम मोदी की हत्या करने की बात कहवाने वाले दंगाई हैं। जो भी उपद्रव कर रहे हैं, वो दंगाई हैं।"

साउथ दिल्ली के सांसद रमेश विधूड़ी ने अरविन्द केजरीवाल को उनके वादों की याद दिला कर दिल्ली सरकार की धज्जियाँ उड़ा दी। उन्होंने पूछा कि 15 लाख सीसीटीवी कैमरे, 20 स्कूल, 500 कॉलेज, 5000 बसें और कॉलनियों को नियमित करने का वादा- ये सब फेल क्यों हो गया? उन्होंने पूछा कि झुग्गी में रहने वालों को पक्का घर देने के वादे का क्या हुआ? उन्होंने इस दौरान सीएए को लेकर भी बात की और कहा कि इससे किसी की नागरिकता ली नहीं जा रही है, दी जा रही है, फिर भी इस पर हंगामा हो रहा है।

शाहीन बाग़ में हो रहे उपद्रव पर बोलते हुए भाजपा सांसद ने कहा कि सोते हुए लोगों को तो जगाया जा सकता लेकिन इन्हें कोई नहीं जगा सकता। उन्होंने कहा कि शाहीन बाग़ में बैठे लोगों की पीड़ा सीएए नहीं है, बल्कि अनुच्छेद 370 है, तीन तलाक़ है और राम मंदिर है। विधूड़ी ने कहा कि प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी और गृह मंत्री अमित शाह ने सीएए को लेकर कई बार लोगों को समझाया। उन्होंने पूछा कि पुलिस जामिया में घुस कर दंगाइयों को पकड़ती है तो भी पुलिस की आलोचना होती है और जेएनयू में हिंसा होती है तो भी पुलिस से ही पूछा जाता है कि वो जेएनयू में क्यों नहीं गई?

रमेश विधूड़ी ने आरोप लगाया कि शाहीन बाग़ में धरने पर बैठे लोगों को अरविन्द केजरीवाल ने बैठाया है। उन्होंने कहा कि जो बसें जला रहे हैं, वो दंगाई हैं। निर्दोष बच्चों से पीएम मोदी की हत्या करने की बात कहवाने वाले दंगाई हैं। जो भी उपद्रव कर रहे हैं, वो दंगाई हैं।

रमेश विधूड़ी ने एबीपी न्यूज़ के ‘शिखर सम्मलेन’ में ये बातें कहीं। इस दौरान वहाँ आम आदमी पार्टी के नेता गोपाल राय भी उपस्थित थे। विधूड़ी ने दिल्ली के बदहाल स्कूलों की तस्वीर दिखाते हुए आप सरकार पर निशाना साधा।

  सहयोग करें  

एनडीटीवी हो या 'द वायर', इन्हें कभी पैसों की कमी नहीं होती। देश-विदेश से क्रांति के नाम पर ख़ूब फ़ंडिग मिलती है इन्हें। इनसे लड़ने के लिए हमारे हाथ मज़बूत करें। जितना बन सके, सहयोग करें

ऑपइंडिया स्टाफ़http://www.opindia.in
कार्यालय संवाददाता, ऑपइंडिया

संबंधित ख़बरें

ख़ास ख़बरें

पेगासस पर भड़के उदित राज, नंगी तस्वीरें वायरल होने की चिंता: लोगों ने पूछा – ‘फोन में ये सब रखते ही क्यों हैं?’

पूर्व सांसद और खुद को 'सबसे बड़ा दलित नेता' बताने वाले उदित राज ने आशंका जताई कि पेगासस ने कितनों की नंगी तस्वीर भेजी होगी या निजता का उल्लंघन किया होगा।

कारगिल के 22 साल: 16 की उम्र में सेना में हुए शामिल, 20 की उम्र में देश पर मर मिटे

सुनील जंग ने छलनी सीने के बावजूद युद्धभूमि में अपने हाथ से बंदूक नहीं गिरने दी और लगातार दुश्मनों पर वार करते रहे।

प्रचलित ख़बरें

- विज्ञापन -

 

हमसे जुड़ें

295,307FansLike
111,222FollowersFollow
393,000SubscribersSubscribe