‘शाहीन बाग़ में दंगाइयों को अरविन्द केजरीवाल ने बिठाया है, उनकी पीड़ा CAA नहीं, राम मंदिर है’

"शाहीन बाग़ में धरने पर बैठे लोगों को अरविन्द केजरीवाल ने बैठाया है। उन्होंने कहा कि जो बसें जला रहे हैं, वो दंगाई हैं। निर्दोष बच्चों से पीएम मोदी की हत्या करने की बात कहवाने वाले दंगाई हैं। जो भी उपद्रव कर रहे हैं, वो दंगाई हैं।"

साउथ दिल्ली के सांसद रमेश विधूड़ी ने अरविन्द केजरीवाल को उनके वादों की याद दिला कर दिल्ली सरकार की धज्जियाँ उड़ा दी। उन्होंने पूछा कि 15 लाख सीसीटीवी कैमरे, 20 स्कूल, 500 कॉलेज, 5000 बसें और कॉलनियों को नियमित करने का वादा- ये सब फेल क्यों हो गया? उन्होंने पूछा कि झुग्गी में रहने वालों को पक्का घर देने के वादे का क्या हुआ? उन्होंने इस दौरान सीएए को लेकर भी बात की और कहा कि इससे किसी की नागरिकता ली नहीं जा रही है, दी जा रही है, फिर भी इस पर हंगामा हो रहा है।

शाहीन बाग़ में हो रहे उपद्रव पर बोलते हुए भाजपा सांसद ने कहा कि सोते हुए लोगों को तो जगाया जा सकता लेकिन इन्हें कोई नहीं जगा सकता। उन्होंने कहा कि शाहीन बाग़ में बैठे लोगों की पीड़ा सीएए नहीं है, बल्कि अनुच्छेद 370 है, तीन तलाक़ है और राम मंदिर है। विधूड़ी ने कहा कि प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी और गृह मंत्री अमित शाह ने सीएए को लेकर कई बार लोगों को समझाया। उन्होंने पूछा कि पुलिस जामिया में घुस कर दंगाइयों को पकड़ती है तो भी पुलिस की आलोचना होती है और जेएनयू में हिंसा होती है तो भी पुलिस से ही पूछा जाता है कि वो जेएनयू में क्यों नहीं गई?

रमेश विधूड़ी ने आरोप लगाया कि शाहीन बाग़ में धरने पर बैठे लोगों को अरविन्द केजरीवाल ने बैठाया है। उन्होंने कहा कि जो बसें जला रहे हैं, वो दंगाई हैं। निर्दोष बच्चों से पीएम मोदी की हत्या करने की बात कहवाने वाले दंगाई हैं। जो भी उपद्रव कर रहे हैं, वो दंगाई हैं।

- विज्ञापन - - लेख आगे पढ़ें -

रमेश विधूड़ी ने एबीपी न्यूज़ के ‘शिखर सम्मलेन’ में ये बातें कहीं। इस दौरान वहाँ आम आदमी पार्टी के नेता गोपाल राय भी उपस्थित थे। विधूड़ी ने दिल्ली के बदहाल स्कूलों की तस्वीर दिखाते हुए आप सरकार पर निशाना साधा।

शेयर करें, मदद करें:
Support OpIndia by making a monetary contribution

बड़ी ख़बर

मोदी, उद्धव ठाकरे
इस मुलाकात की वजह नहीं बताई गई है। लेकिन, सीएम बनने के बाद दिल्ली की अपनी पहली यात्रा पर उद्धव ऐसे वक्त में आ रहे हैं जब एनसीपी सुप्रीमो शरद पवार के साथ अनबन की खबरें चर्चा में हैं। इससे महाराष्ट्र में राजनीतिक सरगर्मियॉं अचानक से तेज हो गई हैं।

सबसे ज़्यादा पढ़ी गईं ख़बरें

ताज़ा ख़बरें

हमसे जुड़ें

153,901फैंसलाइक करें
42,179फॉलोवर्सफॉलो करें
179,000सब्सक्राइबर्ससब्सक्राइब करें

ज़रूर पढ़ें

Advertisements
शेयर करें, मदद करें: