Saturday, July 13, 2024
Homeराजनीति'फिर PM बनेंगे मोदी, इसमें शक नहीं': BJP अधिवेशन में बोले अमित शाह -...

‘फिर PM बनेंगे मोदी, इसमें शक नहीं’: BJP अधिवेशन में बोले अमित शाह – परिवार के लिए लड़ रहा INDI गठबंधन

दिल्ली में चल रहे भाजपा के दो दिवसीय अधिवेशन के अंतिम दिन रविवार (18 फरवरी 2024) को केंद्रीय गृहमंत्री अमित शाह और राष्ट्रीय अध्यक्ष जेपी नड्डा ने कार्यकर्ताओं को संबोधित किया। नड्डा ने अयोध्या में रामलला की प्राण प्रतिष्ठा के लिए प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी का अभिनंदन करते हुए श्रीराम मंदिर निर्माण पर प्रस्ताव पेश किया। वहीं, अमित शाह ने कॉन्ग्रेस और I.N.D.I गठबंधन के खिलाफ प्रस्ताव किया।

दिल्ली में चल रहे भाजपा के दो दिवसीय अधिवेशन के अंतिम दिन रविवार (18 फरवरी 2024) को केंद्रीय गृहमंत्री अमित शाह और राष्ट्रीय अध्यक्ष जेपी नड्डा ने कार्यकर्ताओं को संबोधित किया। नड्डा ने अयोध्या में रामलला की प्राण प्रतिष्ठा के लिए प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी का अभिनंदन करते हुए श्रीराम मंदिर निर्माण पर प्रस्ताव पेश किया। वहीं, अमित शाह ने कॉन्ग्रेस और I.N.D.I गठबंधन के खिलाफ प्रस्ताव किया।

केंद्रीय गृहमंत्री अमित शाह ने ‘बीजेपी देश की आशा और विपक्ष की हताशा’ नाम से प्रस्ताव पेश किया। उन्होंने कहा, “पांडवों और कौरवों की तरह चुनाव से पहले दो खेमे हैं। एक तरफ मोदी जी के नेतृत्व में NDA का गठबंधन है और दूसरी तरफ कॉन्ग्रेस के नेतृत्व में सारी परिवारवादी पार्टियों का घमंडिया गठबंधन है। ये घमंडिया गठबंधन भ्रष्टाचार, परिवारवाद और तुष्टिकरण की राजनीति का पोषक है।”

अमित शाह ने कहा कि कॉन्ग्रेस ने तुष्टिकरण की राजनीति के कारण राम मंदिर का न्योता ठुकराया। उन्होंने आगे कहा, “एक कहावत है- बड़े मियाँ तो बड़े मियाँ, छोटे मियाँ सुभान अल्लाह। आम आदमी पार्टी आबकारी घोटला, मोहल्ला क्लीनिक घोटाला और कोर्ट से भागता है। छत्तीसगढ़ में महादेव घोटाला हुआ। लालू जी सजायाफ्ता हैं। पूरा इंडी अलायंस भ्रष्टाचार में लिप्त है। अब देश की जनता को तय करना है कि मोदी को मैनडेट देना है या इंडी अलायंस को देना है।”

उन्होंने कहा कि भाजपा और NDA गठबंधन राष्ट्र प्रथम के सिद्धांत पर चलने वाला गठबंधन है। देश ने तय कर लिया है कि प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी फिर से देश के पीएम बनेंगे। भारत की दुनिया में बढ़ते कद को लेकर उन्होंने कहा, “दुनिया में कहीं भी जाओगे तो लोग पूछेंगे कि मोदी के भारत से आ रहे हो। मोदी जी देश के गरीबों के लिए काम कर रहे हैं। दूसरी ओर अपने परिवार की चिंता करने वाली पार्टी है।”

अमित शाह ने कहा, “75 वर्ष में इस देश ने 17 लोकसभा चुनाव, 22 सरकारें और 15 प्रधानमंत्री देखे हैं। हर सरकार ने अपने समय में विकास के प्रयास किए। आज मैं बिना किसी संदेह के कह सकता हूँ कि समग्र विकास, हर क्षेत्र का विकास और हर व्यक्ति का विकास केवल नरेंद्र मोदी जी के 10 वर्षों में हुआ है। मोदी जी ने 10 ही साल में ही परिवारवाद, जातिवाद, तुष्टीकरण को खत्म कर दिया।”

परिवारवाद पर निशाना साधते हुए अमित शाह ने कहा, “राजनीति में इंडी गठबंधन का उद्देश्य क्या है? पीएम मोदी का लक्ष्य आत्मनिर्भर भारत है। सोनिया गाँधी का लक्ष्य है राहुल गाँधी को पीएम बनाना है। पवार साहब का लक्ष्य है अपनी बेटी को सीएम बनाना। ममता बनर्जी का लक्ष्य है अपने भतीजे को सीएम बनाना। स्टालिन का लक्ष्य है अपने बेटे को सीएम बनाना।”

क्षेत्रीय दलों के परिवारवाद पर निशाना साधते हुए अमित शाह ने आगे कहा, लालू यादव का लक्ष्य है अपने बेटे को सीएम बनाना। उद्धव ठाकरे का लक्ष्य है अपने बेटे को सीएम बनाना। मुलायम सिंह यादव ने सुनिश्चित किया कि उनका बेटा सीएम बनें। जिनका लक्ष्य अपने परिवार के लिए सत्ता हासिल करना है, क्या वे कभी गरीबों के कल्याण के बारे में सोचेंगे?”

जेपी नड्डा ने कहा कि अयोध्या का भव्य राम मंदिर बनाने का संकल्प ऐसे समय में पूरा हुआ है, जब पीएम मोदी के नेतृत्व में राष्ट्र विकसित भारत के संकल्प को पूरा करने में लगा हुआ है। भव्य राम मंदिर भारत की सांस्कृतिक चेतना का प्रतिबिंब बन गया है। उन्होंने कहा कि गुलामी की अतीत से प्रेरणा लेते हुए भारत खड़ा हो रहा है। पीएम मोदी के नेतृत्व में भारत की सांस्कृतिक विरासत को संवर्धित किया जा रहा है>

उन्होंने कहा, “भारत की सभ्यता और संस्कृति के कण-कण में प्रभु श्रीराम, माता सीता, रामायण रचे-बसे हुए हैं। हमारा संविधान रामराज्य के आदर्शों से प्रेरित रहा है। भारत के संविधान के मूल प्रति में भी मौलिक अधिकारों के खंड पर भगवान श्रीराम, माता सीता और लक्ष्मण जी का विजय पश्चात अयोध्या लौटने का चित्र बना हुआ है। वह इस बात का प्रमाण है कि मौलिक अधिकारों के प्रेरणास्रोत भगवान श्रीराम ही हैं।”

Join OpIndia's official WhatsApp channel

  सहयोग करें  

एनडीटीवी हो या 'द वायर', इन्हें कभी पैसों की कमी नहीं होती। देश-विदेश से क्रांति के नाम पर ख़ूब फ़ंडिग मिलती है इन्हें। इनसे लड़ने के लिए हमारे हाथ मज़बूत करें। जितना बन सके, सहयोग करें

ऑपइंडिया स्टाफ़
ऑपइंडिया स्टाफ़http://www.opindia.in
कार्यालय संवाददाता, ऑपइंडिया

संबंधित ख़बरें

ख़ास ख़बरें

‘आपातकाल तो उत्तर भारत का मुद्दा है, दक्षिण में तो इंदिरा गाँधी जीत गई थीं’: राजदीप सरदेसाई ने ‘संविधान की हत्या’ को ठहराया जायज

सरदेसाई ने कहा कि आपातकाल के काले दौर में पूरे देश पर अत्याचार करने के बाद भी कॉन्ग्रेस चुनावों में विजयी हुई, जिसका मतलब है कि लोग आगे बढ़ चुके हैं।

तिब्बत को संरक्षण देने के लिए अमेरिका ने बनाया कानून, चीन से दो टूक – दलाई लामा से बात करो: जानिए क्या है उस...

14वें दलाई लामा 1959 में तिब्बत से भागकर भारत आ गये, जहाँ उन्होंने हिमाचल प्रदेश के धर्मशाला में निर्वासित सरकार स्थापित की थी।

प्रचलित ख़बरें

- विज्ञापन -