Saturday, July 31, 2021
Homeराजनीतिबड़ा नेता बनना है तो पकड़ो एसपी-कलेक्टर का कॉलर: कॉन्ग्रेसी मंत्री कवासी लखमा ने...

बड़ा नेता बनना है तो पकड़ो एसपी-कलेक्टर का कॉलर: कॉन्ग्रेसी मंत्री कवासी लखमा ने बच्चों को दी नसीहत

छत्तीसगढ़ की भूपेश बघेल सरकार में आबकारी मंत्री लखमा अपने विवादित बयानों को लेकर अक्सर सुर्खियों में रहते। इशारों में अधिकारियों की पिटाई की नसीहत उन्होंने शिक्षक दिवस के अवसर पर दी थी।

कॉन्ग्रेस नेता और छत्तीसगढ़ की भूपेश बघेल सरकार में मंत्री कवासी लखमा ने एक बार फिर से अजीबोगरीब बयान दिया है। इस बार उन्होंने बच्चों को बड़ा नेता बनने के लिए एसपी और कलेक्टर की कॉलर पकड़ने की नसीहत दी है।

कवासी लखमा का ये वीडियो वायरल हो गया है। दरअसल, शिक्षक दिवस के अवसर पर राज्य के आबकारी मंत्री कवासी लखमा सुकमा के पावारास शासकीय स्कूल के कार्यक्रम में बतौर मुख्यमंत्री पहुँचे थे। इस दौरान उन्होंने बच्चों को एक कहानी सुनाते हुए कहते हैं कि एक कार्यक्रम के दौरान उनसे एक बच्चा कहता है कि उसे नेता बनना है और फिर वो उनसे पूछता है कि एक बड़ा नेता कैसे बन सकते हैं? वो इतने बड़े नेता कैसे बने? तो लखमा ने उस बच्चे को बड़ा नेता बनने के लिए सीख देते हुए कहते हैं कि अगर बड़ा नेता बनना है तो एसपी और कलेक्टर का कॉलर पकड़ो, तभी बड़े नेता बनोगे। और फिर वो इशारे से एसपी-कलेक्टर की पिटाई करने की बात कहते हैं।

बच्चे ने तो आबकारी मंत्री से सीधा सवाल पूछा था, लेकिन कवासी लखमा ने इसका उल्टा जवाब दिया। बेहद ही शर्म की बात है कि कवासी लखमा महत्वपूर्ण पद पर होते हुए भी शिक्षक दिवस के अवसर पर बच्चों के बीच बकायदा मजे लेकर ये बता रहे हैं कि किस तरह से गुंडागर्दी करके बड़ा नेता बना जा सकता है। इस दौरान वो बच्चों को भविष्य के लिए अच्छी सीख दे सकते थे। लेकिन उन्होंने एक बार फिर से वही पुराना रूख अपनाते हुए विवादित बयान दिया है। बता दें कि, कवासी लखमा हमेशा ही अपने विवादित बयानों को लेकर सुर्खियों में रहे हैं। मगर, इस बार जो उन्होंने बच्चों को विवादित नसीहत दी है, वो बेहद ही शर्मनाक है।

  सहयोग करें  

एनडीटीवी हो या 'द वायर', इन्हें कभी पैसों की कमी नहीं होती। देश-विदेश से क्रांति के नाम पर ख़ूब फ़ंडिग मिलती है इन्हें। इनसे लड़ने के लिए हमारे हाथ मज़बूत करें। जितना बन सके, सहयोग करें

ऑपइंडिया स्टाफ़http://www.opindia.in
कार्यालय संवाददाता, ऑपइंडिया

संबंधित ख़बरें

ख़ास ख़बरें

शिवाजी से सीखा, 60 साल तक मुगलों को हराते रहे: यमुना से नर्मदा, चंबल से टोंस तक औरंगज़ेब से आज़ादी दिलाने वाले बुंदेले की...

उनके बारे में कहते हैं, "यमुना से नर्मदा तक और चम्बल नदी से टोंस तक महाराजा छत्रसाल का राज्य है। उनसे लड़ने का हौसला अब किसी में नहीं बचा।"

हिंदू मंदिरों की संपत्तियों का दूसरे धर्म के कार्यों में नहीं होगा उपयोग, कर्नाटक में HRCE ने लगाई रोक

कर्नाटक के हिन्दू रिलीजियस एण्ड चैरिटेबल एंडोवमेंट्स (HRCE) विभाग द्वारा जारी किए गए आदेश में यह कहा गया है कि हिन्दू मंदिर से प्राप्त किए गए फंड और संपत्तियों का उपयोग किसी भी तरह के गैर -हिन्दू कार्य अथवा गैर-हिन्दू संस्था के लिए नहीं किया जाएगा।

प्रचलित ख़बरें

- विज्ञापन -

 

हमसे जुड़ें

295,307FansLike
112,211FollowersFollow
394,000SubscribersSubscribe