अमित शाह से मिलीं ममता, कहा- NRC से डरे हुए हैं लोग, नागरिकों को न करें परेशान

ममता बनर्जी ने गृहमंत्री शाह से मिलने की इच्छा उस वक्त जताई, जब सीबीआई कोलकाता के पूर्व पुलिस कमिश्नर राजीव कुमार के ख़िलाफ़ कार्रवाई में जुटी हैं। वरना इससे पहले उनका रुख किसी से छिपा नहीं हैं।

प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी से बुधवार (सितंबर 18, 2019) को मिलने के बाद बंगाल मुख्यमंत्री ममता बनर्जी ने गुरुवार (सितंबर 19, 2019) को केंद्रीय गृहमंत्री अमित शाह से मुलाकात की। इस दौरान उन्होंने गृहमंत्री के समक्ष NRC को लेकर अपनी चिंता जताई।

माडिया रिपोर्ट्स की मानें तो उन्होंने इस मुलाकात के बाद कहा, “मैं पहली बार गृह मंत्री से मिली। मेरा अक्सर दिल्ली आना नहीं होता। कल मैं प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी से भी मिली थी। यह मुलाकात गृह मंत्री के साथ संवैधानिक दुरुपयोग समेत कई मामलों को लेकर हुई।”

यहाँ बता दें कि ममता बनर्जी ने गृहमंत्री के सामने एनआरसी को लेकर उठाए मुद्दे के बारे बताया कि उन्होंने गृहमंत्री को एक पत्र सौंपा है और साथ ही एनआरसी से बाहर किए गए 19 लाख लोगों के बारे में बात की है, जिनमें बंगाली, गोरखा और हिन्दी बोलने वाले लोग भी है। उनकी मानें तो कई वास्तविक मतदाताओं के नाम भी इस सूची में नहीं हैं, जिससे उनके जीवन में अनिश्चता आ गई हैं। इसलिए सही नागरिकों को मौका दिया जाना चाहिए।

- विज्ञापन - - लेख आगे पढ़ें -

उन्होंने बताया कि वो दिल्ली कई मसलों पर चर्चा करने के लिए आईं थीं, (जिसमें उन्होंने एनआरसी का भी मुद्दा उठाया)। उन्होंने कहा कि एनआरसी से लोग डरे हुए हैं, इसलिए नागरिकों को परेशान नहीं किया जाना चाहिए।

हालाँकि, ममता बनर्जी ने आगे जानकारी देते हुए बताया है कि गृहमंत्री ने अभी पश्चिम बंगाल में एनआरसी को लेकर कुछ नहीं कहा है, लेकिन उन्होंने उनकी बातों को ध्यान से सुना है और उन्हें (ममता को) लगता है कि वो इसके लिए पॉजिटिव रोल प्ले करेंगें।

अमित शाह से मिलीं बंगाल सीएम।

गौरतलब है कि ममता बनर्जी ने गृहमंत्री शाह से मिलने की इच्छा उस वक्त जताई, जब सीबीआई कोलकाता के पूर्व पुलिस कमिश्नर राजीव कुमार के ख़िलाफ़ कार्रवाई में जुटी हैं। वरना इससे पहले उनका रुख किसी से छिपा नहीं हैं।

यहाँ उल्लेखनीय है कि इस मुलाकात से पहले उन्होंने प्रधानमंत्री से भी शिष्टाचार मुलाकात की, जिसमें उन्होंने पीएम मोदी को बंगाल आने का न्यौता भी दिया है और भाजपा ने उनके इस बदले रुख का स्वागत भी किया।

शेयर करें, मदद करें:
Support OpIndia by making a monetary contribution

बड़ी ख़बर

कमलेश तिवारी हत्याकांड
आपसी दुश्मनी में लोग कई बार क्रूरता की हदें पार कर देते हैं। लेकिन ये दुश्मनी आपसी नहीं थी। ये दुश्मनी तो एक हिंसक विचारधारा और मजहबी उन्माद से सनी हुई उस सोच से उत्पन्न हुई, जहाँ कोई फतवा जारी कर देता है, और लाख लोग किसी की हत्या करने के लिए, बेखौफ तैयार हो जाते हैं।

सबसे ज़्यादा पढ़ी गईं ख़बरें

ताज़ा ख़बरें

हमसे जुड़ें

107,076फैंसलाइक करें
19,472फॉलोवर्सफॉलो करें
110,000सब्सक्राइबर्ससब्सक्राइब करें

ज़रूर पढ़ें

Advertisements
शेयर करें, मदद करें: