Tuesday, November 30, 2021
Homeराजनीतिअमित शाह से मिलीं ममता, कहा- NRC से डरे हुए हैं लोग, नागरिकों को...

अमित शाह से मिलीं ममता, कहा- NRC से डरे हुए हैं लोग, नागरिकों को न करें परेशान

ममता बनर्जी ने गृहमंत्री शाह से मिलने की इच्छा उस वक्त जताई, जब सीबीआई कोलकाता के पूर्व पुलिस कमिश्नर राजीव कुमार के ख़िलाफ़ कार्रवाई में जुटी हैं। वरना इससे पहले उनका रुख किसी से छिपा नहीं हैं।

प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी से बुधवार (सितंबर 18, 2019) को मिलने के बाद बंगाल मुख्यमंत्री ममता बनर्जी ने गुरुवार (सितंबर 19, 2019) को केंद्रीय गृहमंत्री अमित शाह से मुलाकात की। इस दौरान उन्होंने गृहमंत्री के समक्ष NRC को लेकर अपनी चिंता जताई।

माडिया रिपोर्ट्स की मानें तो उन्होंने इस मुलाकात के बाद कहा, “मैं पहली बार गृह मंत्री से मिली। मेरा अक्सर दिल्ली आना नहीं होता। कल मैं प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी से भी मिली थी। यह मुलाकात गृह मंत्री के साथ संवैधानिक दुरुपयोग समेत कई मामलों को लेकर हुई।”

यहाँ बता दें कि ममता बनर्जी ने गृहमंत्री के सामने एनआरसी को लेकर उठाए मुद्दे के बारे बताया कि उन्होंने गृहमंत्री को एक पत्र सौंपा है और साथ ही एनआरसी से बाहर किए गए 19 लाख लोगों के बारे में बात की है, जिनमें बंगाली, गोरखा और हिन्दी बोलने वाले लोग भी है। उनकी मानें तो कई वास्तविक मतदाताओं के नाम भी इस सूची में नहीं हैं, जिससे उनके जीवन में अनिश्चता आ गई हैं। इसलिए सही नागरिकों को मौका दिया जाना चाहिए।

उन्होंने बताया कि वो दिल्ली कई मसलों पर चर्चा करने के लिए आईं थीं, (जिसमें उन्होंने एनआरसी का भी मुद्दा उठाया)। उन्होंने कहा कि एनआरसी से लोग डरे हुए हैं, इसलिए नागरिकों को परेशान नहीं किया जाना चाहिए।

हालाँकि, ममता बनर्जी ने आगे जानकारी देते हुए बताया है कि गृहमंत्री ने अभी पश्चिम बंगाल में एनआरसी को लेकर कुछ नहीं कहा है, लेकिन उन्होंने उनकी बातों को ध्यान से सुना है और उन्हें (ममता को) लगता है कि वो इसके लिए पॉजिटिव रोल प्ले करेंगें।

अमित शाह से मिलीं बंगाल सीएम।

गौरतलब है कि ममता बनर्जी ने गृहमंत्री शाह से मिलने की इच्छा उस वक्त जताई, जब सीबीआई कोलकाता के पूर्व पुलिस कमिश्नर राजीव कुमार के ख़िलाफ़ कार्रवाई में जुटी हैं। वरना इससे पहले उनका रुख किसी से छिपा नहीं हैं।

यहाँ उल्लेखनीय है कि इस मुलाकात से पहले उन्होंने प्रधानमंत्री से भी शिष्टाचार मुलाकात की, जिसमें उन्होंने पीएम मोदी को बंगाल आने का न्यौता भी दिया है और भाजपा ने उनके इस बदले रुख का स्वागत भी किया।

 

  सहयोग करें  

एनडीटीवी हो या 'द वायर', इन्हें कभी पैसों की कमी नहीं होती। देश-विदेश से क्रांति के नाम पर ख़ूब फ़ंडिग मिलती है इन्हें। इनसे लड़ने के लिए हमारे हाथ मज़बूत करें। जितना बन सके, सहयोग करें

ऑपइंडिया स्टाफ़http://www.opindia.in
कार्यालय संवाददाता, ऑपइंडिया

संबंधित ख़बरें

ख़ास ख़बरें

कभी ज़िंदा जलाया, कभी काट कर टाँगा: ₹60000 करोड़ का नुकसान, हत्या-बलात्कार और हिंसा – ये सब देश को देकर जाएँगे ‘किसान’

'किसान आंदोलन' के कारण देश को 60,000 करोड़ रुपए का घाटा सहना पड़ा। हत्या और बलात्कार की घटनाएँ हुईं। आम लोगों को परेशानी झेलनी पड़ी।

बारबाडोस 400 साल बाद ब्रिटेन से अलग होकर बना 55वाँ गणतंत्र देश: महारानी एलिजाबेथ द्वितीय का शासन पूरी तरह से खत्म

बारबाडोस को कैरिबियाई देशों का सबसे अमीर देश माना जाता है। यह 1966 में आजाद हो गया था, लेकिन तब से यहाँ क्वीन एलीजाबेथ का शासन चलता आ रहा था।

प्रचलित ख़बरें

- विज्ञापन -

हमसे जुड़ें

295,307FansLike
140,729FollowersFollow
412,000SubscribersSubscribe