Tuesday, May 21, 2024
Homeराजनीतिइंदौर में नाम वापस लेने वाले कॉन्ग्रेस कैंडिडेट ने BJP नेताओं को दिया भोज:...

इंदौर में नाम वापस लेने वाले कॉन्ग्रेस कैंडिडेट ने BJP नेताओं को दिया भोज: अंदर पार्टी छोड़ने का जश्न, बाहर पुतला फूँक रहे थे कॉन्ग्रेसी कार्यकर्ता

अक्षय कांति बम अपने आवास में बीजेपी नेताओं के साथ भोजन कर रहे थे, तो उसी समय कॉन्ग्रेस के कार्यकर्ता उनके घर के बाहर जुट गए। उन्होंने जमकर प्रदर्शन किया।

मध्य प्रदेश के इंदौर में कॉन्ग्रेस पार्टी को लोकसभा चुनाव 2024 के दौरान सबसे बड़ा झटका लगा है। पार्टी के प्रत्याशी रहे अक्षय कांति बम ने न सिर्फ आखिरी समय में अपनी उम्मीदवारी वापस ले ली, बल्कि वो बीजेपी में भी शामिल हो गए। कॉन्ग्रेस पार्टी के लिए ये सबसे असहज कर देने वाला मामला रहा। यही नहीं, बाद में इंदौर जिला कॉन्ग्रेस ईकाई के कार्यवाहक अध्यक्ष ने किसी वरिष्ठ नेता को भी जमकर सुनाया था, जिसका वीडियो वायरल हो गया। इस बीच, लोकसभा चुनाव से अपनी उम्मीदवारी लेकर बीजेपी में शामिल हुए अक्षय कांति बम ने बीजेपी नेताओं को भोज पर अपने घर बुलाया। एक तरफ बीजेपी नेता भोज कर रहे थे, तो दूसरी तरफ अक्षय के घर के बाहर कॉन्ग्रेस उम्मीदवार प्रदर्शन करते दिखे।

अक्षय कांति बम ने बीजेपी नेताओं को डिनर पर आमंत्रित किया, जिसका वीडियो सोशल मीडिया पर शेयर हो रहा है। इस वीडियो को शेयर करते हुए एक्स यूजर जितेंद्र प्रताप सिंह ने लिखा, “इंदौर में नाम वापस लेने वाले कॉन्ग्रेस प्रत्याशी ने सभी भाजपा नेताओ को अपने निवास पर भोजन पर आमंत्रित किया और पार्टी (कॉन्ग्रेस को) छोड़ने का जश्न मनाया।”

अक्षय क्रांति बम द्वारा आखिरी समय में कॉन्ग्रेस से किनारा कर लेने पर कॉन्ग्रेसी कार्यकर्ताओं में हताशा साफ दिखी। अक्षय अपने आवास में बीजेपी नेताओं के साथ भोजन कर रहे थे, तो उसी समय कॉन्ग्रेस के कार्यकर्ता उनके घर के बाहर जुट गए। उन्होंने अक्षय कांति बम के फैसले का जमकर विरोध किया और नारेबाजी करते हुए उनका पुतला भी फूँका।

बता दें कि अक्षय कांति बम इंदौर के कारोबारी हैं। वो विधानसभा चुनाव के समय कॉन्ग्रेस से टिकट माँग रहे थे, लेकिन कॉन्ग्रेस ने उन्हें पिछले साल के विधानसभा चुनाव में टिकट नहीं दिया। लेकिन कॉन्ग्रेस ने उन्हें लोकसभा चुनाव में टिकट देकर बड़ी जिम्मेदारी सौंप दी थी। अक्षय कांति बम ने कॉन्ग्रेस के टिकट पर इंदौर में नामांकन भी कर दिया और चुनाव प्रचार में भी जुट गए। हालाँकि वो नामांकन वापसी के आखिरी दिन बीजेपी विधायक के साथ कलेक्ट्रेट पहुँचे और अपना पर्चा वापस ले लिया। यही नहीं, उन्होंने कॉन्ग्रेस को भी छोड़ दिया और भारतीय जनता पार्टी में शामिल हो गए।

Special coverage by OpIndia on Ram Mandir in Ayodhya

  सहयोग करें  

एनडीटीवी हो या 'द वायर', इन्हें कभी पैसों की कमी नहीं होती। देश-विदेश से क्रांति के नाम पर ख़ूब फ़ंडिग मिलती है इन्हें। इनसे लड़ने के लिए हमारे हाथ मज़बूत करें। जितना बन सके, सहयोग करें

ऑपइंडिया स्टाफ़
ऑपइंडिया स्टाफ़http://www.opindia.in
कार्यालय संवाददाता, ऑपइंडिया

संबंधित ख़बरें

ख़ास ख़बरें

जहाँ से लड़ रही लालू की बेटी, वहाँ यूँ ही नहीं हुई हिंसा: रामचरितमानस को गाली और ‘ठाकुर का कुआँ’ से ही शुरू हो...

रामचरितमानस विवाद और 'ठाकुर का कुआँ' विवाद से उपजी जातीय घृणा ने लालू यादव की बेटी के क्षेत्र में जंगलराज की यादों को ताज़ा कर दिया है।

निजी प्रतिशोध के लिए हो रहा SC/ST एक्ट का इस्तेमाल: जानिए इलाहाबाद हाई कोर्ट को क्यों करनी पड़ी ये टिप्पणी, रद्द किया केस

इलाहाबाद हाई कोर्ट ने एक मामले की सुनवाई करते हुए SC/ST Act के झूठे आरोपों पर चिंता जताई है और इसे कानून प्रक्रिया का दुरुपयोग माना है।

प्रचलित ख़बरें

- विज्ञापन -