Saturday, October 16, 2021
Homeराजनीतिराजस्थान सरकार मदरसों पर करेगी 15-25 लाख खर्च, कुंभ मेले का नेता कर रहे...

राजस्थान सरकार मदरसों पर करेगी 15-25 लाख खर्च, कुंभ मेले का नेता कर रहे विरोध.. कॉन्ग्रेस है तो मुमकिन है

कॉन्ग्रेस नेता उदित राज ने कुंभ को लेकर हाल में यूपी सरकार पर निशाना साधते हुए कहा था कि राज्य को धार्मिक शिक्षा और परंपराओं के लिए फंड नहीं देना चाहिए क्योंकि राज्य का कोई धर्म नहीं होता है और यूपी सरकार इलाहाबाद में कुंभ मेले के आयोजन में 4200 करोड़ रुपए खर्च करती है, वो भी गलत है।

कॉन्ग्रेस नेता उदित राज एक ओर जहाँ पब्लिक फंड का इस्तेमाल कुंभ में किए जाने पर योगी सरकार की आलोचना कर रहे हैं, वहीं समाचार चैनल ‘टाइम्स नाउ’ ने खुलासा किया है कि राजस्थान के सीएम अशोक गहलोत के नेतृत्व में कॉन्ग्रेस सरकार राजस्थान में जनता के पैसों को मदरसों के विकास में लगाने वाली है।

रिपोर्ट के अनुसार, राजस्थान सरकार ने प्रदेश भर के मदरसों को 14 अक्टूबर से 29 अक्टूबर के बीच एप्लीकेशन फाइल करने को कहा है। यह एप्लीकेशन मदरसों के ढाँचेगत विकास हेतु राशि प्राप्त करने के लिए होगी।

टाइम्स नाउ की मानें तो राजस्थान सरकार करीब 90% मदरसों के ढाँचेगत विकास का खर्चा वहन करेगी जबकि 10% खर्चे की जिम्मेदारी मदरसा बोर्ड की होगी। हर मदरसे के लिए सरकार ने 15-25 लाख रुपए निर्धारित किए गए हैं।

राजस्थान में कॉन्ग्रेस सरकार का यह फैसला उनके ‘सेक्युलरिज्म’ के आडम्बर का प्रत्यक्ष उदाहरण है कि वो मदरसों के आधुनिकीकरण के नाम पर मजहबी गतिविधियों को बढ़ाने के लिए जनता के पैसे का इस्तेमाल कर रहे हैं और उन्हीं के नेता कुम्भ मेले पर उत्तर प्रदेश की योगी सरकार की आलोचना कर रहे हैं।

बता दें कि मदरसों के आधुनिकीकरण का जिक्र राजस्थान सरकार ने साल 2019 के अपने बजट में किया था। अशोक गहलोत सरकार के बजट 2019 की मद संख्या 116 में “मुख्यमंत्री मदरसा उन्नयन योजना” का उल्लेख किया गया था और सरकार द्वारा लगभग 7 करोड़ रुपए इसके लिए आवंटित किए गए थे।

इससे पहले महाराष्ट्र में कॉन्ग्रेस समर्थित महाविकास आघाड़ी सरकार ने भी अपने राज्य में मदरसे के शिक्षकों के वेतन के लिए धन आवंटित किया था।

गौरतलब है कि कॉन्ग्रेस नेता उदित राज ने कुंभ को लेकर हाल में यूपी सरकार पर निशाना साधने का प्रयास किया था। हालाँकि इसके बाद उन्हें खूब आलोचनाओं का सामना करना पड़ा। पूर्व सासंद ने कहा था कि राज्य को धार्मिक शिक्षा और परंपराओं के लिए फंड नहीं देना चाहिए क्योंकि राज्य का कोई धर्म नहीं है।

उदित राज ने लिखा था, “सरकार द्वारा कोई भी धार्मिक शिक्षा या अनुष्ठान नहीं किए जाने चाहिए। सरकार का खुद का कोई धर्म नहीं होता है। यूपी सरकार इलाहाबाद में कुंभ मेले के आयोजन में 4200 करोड़ रुपए खर्च करती है, वह भी गलत है।”

हालाँकि, कई आलोचनाओं के बाद उन्होंने यह ट्वीट हटा दिया और स्पष्टीकरण देते हुए लिखा, “मैं ट्वीट को बहाल कर रहा हूँ व संवाद के लिए तैयार हूँ। जब भी राजनैतिक मामला होता है तो कॉन्ग्रेस को टैग करता हूँ, इसमें नही किया था क्योंकि व्यक्तिगत विचार है। बिना वजह पार्टी को घसीटा जा रहा है।डॉ अम्बेडकर मानते थे कि राजनीति&धर्म का मिश्रण नही होना चाहिए।”

इस मामले पर भाजपा नेता अनुराग ठाकुर ने कॉन्ग्रेस नेता उदित राज को आड़े हाथों लेते हुए कहा था कि कॉन्ग्रेस नेता नहीं समझते कि जब करोड़ों लोग एक समारोह में एकत्रित होते हैं, तब यह सरकार की जिम्मेदारी है कि वहाँ का ढाँचागत विकास हो और बेहतरीन सुविधाएँ मुहैया करवाई जाए, ताकि इससे रोजगार उत्पन्न हो और स्थानीयों की आय में भी वृद्धि हो। ऐसे इवेंट बुनियादी ढाँचे को विकसित करने और स्थानीय अर्थव्यवस्था की मदद करने के अवसर प्रदान करते हैं।

 

  सहयोग करें  

एनडीटीवी हो या 'द वायर', इन्हें कभी पैसों की कमी नहीं होती। देश-विदेश से क्रांति के नाम पर ख़ूब फ़ंडिग मिलती है इन्हें। इनसे लड़ने के लिए हमारे हाथ मज़बूत करें। जितना बन सके, सहयोग करें

ऑपइंडिया स्टाफ़http://www.opindia.in
कार्यालय संवाददाता, ऑपइंडिया

संबंधित ख़बरें

ख़ास ख़बरें

सरकारी नौकरी से निकाला गया सैयद अली शाह गिलानी का पोता, J&K में रिसर्च ऑफिसर बन कर बैठा था: आतंकियों के समर्थन का आरोप

अलगाववादी नेता रहे सैयद अली शाह गिलानी के पोते अनीस-उल-इस्लाम को जम्मू कश्मीर में सरकारी नौकरी से निकाल बाहर किया गया है।

मुस्लिम बहुल किशनगंज के सरपंच से बनवाया था आईडी कार्ड, पश्चिमी यूपी के युवक करते थे मदद: Pak आतंकी अशरफ ने किए कई खुलासे

पाकिस्तानी आतंकी ने 2010 में तुर्कमागन गेट में हैंडीक्राफ्ट का काम शुरू किया। 2012 में उसने ज्वेलरी शॉप भी ओपन की थी। 2014 में जादू-टोना करना भी सीखा था।

प्रचलित ख़बरें

- विज्ञापन -

हमसे जुड़ें

295,307FansLike
129,004FollowersFollow
411,000SubscribersSubscribe