Friday, October 7, 2022
Homeराजनीति'Toolkit के 2 डॉक्यूमेंट, एक असली और एक नकली': कॉन्ग्रेस नेता ने कबूला उनकी...

‘Toolkit के 2 डॉक्यूमेंट, एक असली और एक नकली’: कॉन्ग्रेस नेता ने कबूला उनकी पार्टी ने बनाया था ‘टूलकिट’

इस ‘टूलकिट’ में प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी की सरकार को कोरोना के प्रबंधन में असफल रहने का दावा करते हुए इसके पीछे कुम्भ मेला, चुनावी रैलियों और सेन्ट्रल विस्टा प्रोजेक्ट को जिम्मेदार ठहराया है।

सोशल मीडिया पर मंगलवार (18 मई 2021) को एक दस्तावेज जम कर शेयर किया गया जिसके बारे में यह दावा किया गया कि ये ‘कॉन्ग्रेस का टूलकिट’ है। इसमें कुम्भ मेला को बदनाम करने, ईद का महिमामंडन, प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी की छवि धूमिल करने और जलती चिताओं व लाशों की तस्वीरें शेयर कर भारत को बदनाम करने का खाका था। अब कॉन्ग्रेस नेता राजीव गौड़ा ने स्वीकार किया कि टूलकिट के लीक हुए दो डॉक्यूमेंट्स में से एक ऑल इंडिया कॉन्ग्रेस कमेटी (AICC) के शोध विभाग द्वारा तैयार किया गया है।

कॉन्ग्रेस नेता राजीव गौड़ा ने ट्वीट करके यह जानकारी दी। उन्होंने कहा कि AICC ने ही सेंट्रल विस्टा प्रोजेक्ट पर एक शोध पत्र तैयार किया। हालाँकि गौड़ा ने कहा कि टूलकिट भाजपा द्वारा बनाया गया है। उन्होंने यह भी दावा किया कि भाजपा ओरिजिनल डॉक्यूमेंट के लेखक का डाटा दिखा रही है और उसे फेक डॉक्यूमेंट से जोड़ रही है।

इससे पहले यह सामने आया था कि सेंट्रल विस्टा से संबंधित डॉक्यूमेंट सौम्या वर्मा द्वारा बनाया गया जो कि कॉन्ग्रेस नेता राजीव गौड़ा की सहयोगी हैं।  

लीक डॉक्यूमेंट का मेटाडाटा

डॉक्यूमेंट लीक होने के बाद कॉन्ग्रेस ने यह दावा किया कि यह डॉक्यूमेंट नकली है और एफआईआर कराने की धमकी भी दी लेकिन अब कॉन्ग्रेस के ही नेता ने यह स्वीकार किया है कि एक डॉक्यूमेंट असली है।   

हालाँकि ऑपइंडिया इन डॉक्यूमेंट्स की वैधता पर कोई टिप्पणी नहीं करता है लेकिन फिर भी जिस डॉक्यूमेंट को राजीव गौड़ा ने सही बताया है और लीक हुए दूसरे डॉक्यूमेंट में कई समानताएं हैं। राजीव गौड़ा द्वारा शेयर किए गए डॉक्यूमेंट (जिन्हें गौड़ा ने सही बताया है) और दूसरे डॉक्यूमेंट के ‘हेडर और फुटर’ में पूरी समानता दिखाई दे रही है।  

सेंट्रल विस्टा डॉक्यूमेंट का हेडर नोट
दूसरे डॉक्यूमेंट का हेडर नोट
कॉन्ग्रेस नेता राजीव गौड़ा द्वारा शेयर किया गया डॉक्यूमेंट का फुटर नोट
दूसरे डॉक्यूमेंट का फुटर नोट

कॉन्ग्रेस का टूलकिट :

सोशल मीडिया पर एक टूलकिट धड़ल्ले से वायरल हुआ, जिसके बारे में भाजपा नेताओं ने दावा किया कि ये कॉन्ग्रेस पार्टी का टूलकिट है। उक्त टूलकिट डॉक्यूमेंट पर कॉन्ग्रेस का चुनाव चिह्न हाथ का पंजा भी अंकित है और बताया जा रहा है कि पार्टी ने अपने नेताओं को दी गई निर्देशावली को दस्तावेज का शक्ल दिया था, जो अचानक से लीक हो गया।

इस ‘टूलकिट’ में प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी की सरकार को कोरोना के प्रबंधन में असफल रहने का दावा करते हुए इसके पीछे कुम्भ मेला, चुनावी रैलियों और सेन्ट्रल विस्टा प्रोजेक्ट को जिम्मेदार ठहराया है। टूलकिट में नेताओं को बताया गया है कि कैसे देश के विभिन्न कोने में मोदी सरकार को घेरना है। साथ ही हरिद्वार में लगे कुम्भ को कोरोना का ‘सुपर स्प्रेडर’ करार देते हुए लिखा गया है कि भाजपा अपने फायदे के लिए हिन्दू धर्म का राजनीतिकरण करती है। वहीं टूलकिट में ईद पर सख्त हिदायत दी गई है कि ईद में जुटने वाली भीड़ विभिन्न परिवारों और समुदायों का एक सुखद मिलन समारोह है।

  सहयोग करें  

एनडीटीवी हो या 'द वायर', इन्हें कभी पैसों की कमी नहीं होती। देश-विदेश से क्रांति के नाम पर ख़ूब फ़ंडिग मिलती है इन्हें। इनसे लड़ने के लिए हमारे हाथ मज़बूत करें। जितना बन सके, सहयोग करें

ऑपइंडिया स्टाफ़
ऑपइंडिया स्टाफ़http://www.opindia.in
कार्यालय संवाददाता, ऑपइंडिया

संबंधित ख़बरें

ख़ास ख़बरें

राम मंदिर 2024 तक हो जाएगा पूरा तैयार, 50% काम कंप्लीट: राजस्थान के पावनधान में CM योगी का ऐलान, याद दिलाते हुए बोले- लोग...

सीएम योगी बोले, "बहुत सारे लोग कहते थे कि परिणाम कुछ नहीं आने वाला है। लेकिन हम तो भगवान श्रीकृष्ण के 'कर्मण्येवाधिकारस्ते मा फलेषु कदाचन' के उद्देश्य में विश्वास करते हैं।"

जिन वीर सावरकर को ‘देशद्रोही’ बुलाते रहे राहुल गाँधी, उनके पोस्टर ‘भारत जोड़ो यात्रा’ में फिर दिखे: कॉन्ग्रेस ने पल्ला झाड़ा, अज्ञात लोगों पर...

कर्नाटक के मांड्या जिले में कॉन्ग्रेस की 'भारत जोड़ो' यात्रा के पोस्टर में वीर सावरकर की फोटो लगाई गई है। इससे पहले ऐसे पोस्टर केरल में भी दिखे थे।

प्रचलित ख़बरें

- विज्ञापन -

हमसे जुड़ें

295,307FansLike
226,825FollowersFollow
416,000SubscribersSubscribe