18 महीने में 8 करोड़ रुपए कैसे कमाएँ… कॉन्ग्रेस MLA और उनकी पत्नी ने यह कर दिखाया

सुरेश का नाम तब सुर्ख़ियों में आया था, जब जनवरी में उन्होने कर्नाटक के पूर्व सीएम सिद्धरमैय्या को अपनी मर्सिडीज़ दे दी थी। बाद में इस पर सफाई देते हुए सुरेश ने...

कर्नाटक के हेब्बल से कॉन्ग्रेस पार्टी के विधायक बी सुरेश की पत्नी पद्मावती ने इस बार होस्कोटे से उपचुनाव में पर्चा दाखिल किया। नियमों के अनुसार चुनाव लड़ने के लिए अपनी संपत्ति और आय को लेकर सारा ब्यौरा देना ज़रूरी है। यही वजह है कि 2018 में कर्नाटक विधानसभा चुनाव लड़ते वक़्त जहाँ एक ओर सुरेश ने अपनी संपत्ति का हलफनामा दिया तो वहीं दूसरी ओर 18 महीने बाद उप-चुनाव के लिए मैदान में उतरी उनकी पत्नी पद्मावती ने भी अपनी संपत्ति की पूरी जानकारी देते हुए सारे डाक्यूमेंट्स जमा किए।

पति और पत्नी दोनों के दिए संपत्ति ब्यौरे में एक हैरान कर देने वाली बात सामने आई। मीडिया रिपोर्ट के मुताबिक बी सुरेश और उनकी पत्नी के हलफनामे में दर्ज संपत्ति में करीब 8 करोड़ रुपए की बढ़ोतरी देखी गई। यानी 18 महीने में इस दंपत्ति की संपत्ति में 8 करोड़ रुपए का इजाफा हो गया। चुनाव आयोग के नियमानुसार चुनाव लड़ने वाले को अपना ही नहीं बल्कि अपने जीवनसाथी (पति/पत्नी) की चल-अचल संपत्ति का भी ब्यौरा देना होता है। एक मीडिया रिपोर्ट के मुताबिक सुरेश और उनकी पत्नी की कुल संपत्ति तकरीबन 425.5 करोड़ रुपए है।

गौरतलब है कि 2018 में कर्नाटक के हेब्बल से विधायक का चुनाव लड़ते वक़्त उनकी संपत्ति 416.7 करोड़ रुपए थी। वहीं 2019 में इन्होंने दो लक्ज़री गाड़ियाँ भी खरीदी थीं जिनकी कीमत करीब 1.2 करोड़ थीं। इनमें महिंद्रा एसयूवी और मर्सिडीज़ बेंज शामिल हैं। कॉन्ग्रेस नेता बी. सुरेश के साम्राज्य में करोड़ों की कमर्शियल और रेजिडेंशियल इमारत से लेकर महँगे आभूषण आदि शामिल हैं।

- विज्ञापन - - लेख आगे पढ़ें -

बी सुरेश का नाम तब सुर्ख़ियों में आया था, जब जनवरी में उन्होने कर्नाटक के पूर्व सीएम सिद्धरमैय्या को अपनी मर्सिडीज़ दे दी थी। बाद में इस पर सफाई देते हुए बी सुरेश ने मीडिया से बातचीत में कहा था, “यह मेरी गाड़ी है जिससे मैं अक्सर ट्रेवल किया करता था, यह गाड़ी मेरी पत्नी के नाम पर है। मैंने इसे सीएम को गिफ्ट नहीं किया। आप समझने की कोशिश कीजिए। क्या ज़रूरत के समय आप अपने दोस्त को अपनी गाड़ी नहीं देंगे?”

शेयर करें, मदद करें:
Support OpIndia by making a monetary contribution

बड़ी ख़बर

आरफा शेरवानी
"हम अपनी विचारधारा से समझौता नहीं कर रहे बल्कि अपने तरीके और स्ट्रेटेजी बदल रहे हैं। सभी जाति, धर्म के लोग साथ आएँ। घर पर खूब मजहबी नारे पढ़कर आइए, उनसे आपको ताकत मिलती है। लेकिन सिर्फ मुस्लिम बनकर विरोध मत कीजिए, आप लड़ाई हार जाएँगे।"

सबसे ज़्यादा पढ़ी गईं ख़बरें

ताज़ा ख़बरें

हमसे जुड़ें

144,693फैंसलाइक करें
36,539फॉलोवर्सफॉलो करें
165,000सब्सक्राइबर्ससब्सक्राइब करें

ज़रूर पढ़ें

Advertisements
शेयर करें, मदद करें: