Sunday, October 17, 2021
Homeराजनीतिमौलाना खैरुल इस्लाम के भीड़ भरे जनाजे में शामिल होने पर कॉन्ग्रेस सांसद और...

मौलाना खैरुल इस्लाम के भीड़ भरे जनाजे में शामिल होने पर कॉन्ग्रेस सांसद और AIUDF के अमीनुल इस्लाम पर FIR दर्ज

नगाँव के एसपी ने बताया कि मौलाना खैरुल इस्लाम के अंतिम संस्कार के दौरान लॉकडाउन गाइडलाइन के उल्लंघन के मामले में कॉन्ग्रेस सांसद प्रद्युत बोरदोलोई और ऑल इंडिया यूनाइटेड डेमोक्रेटिक फ्रंट के विधायक अमीनुल इस्लाम के खिलाफ मामला दर्ज किया गया है। वे इस कार्यक्रम में उपस्थित थे।

असम के नगाँव ज़िले में मौलाना खैरुल इस्लाम के अंतिम संस्कार के दौरान हजारों की संख्या में लोग जुटे। जिसके बाद प्रशासन ने कार्रवाई करते हुए इस अंतिम संस्कार में शामिल होने वाले कॉन्ग्रेस सांसद और ऑल इंडिया यूनाइटेड डेमोक्रेटिक फ्रंट (AIUDF) विधायक अमीनुल इस्लाम के खिलाफ एफ़आईआर दर्ज़ की है।

इसकी जानकारी नगाँव के एसपी ने दी। उन्होंने बताया कि मौलाना खैरुल इस्लाम के अंतिम संस्कार के दौरान लॉकडाउन गाइडलाइन के उल्लंघन के मामले में कॉन्ग्रेस सांसद प्रद्युत बोरदोलोई और ऑल इंडिया यूनाइटेड डेमोक्रेटिक फ्रंट के विधायक अमीनुल इस्लाम के खिलाफ मामला दर्ज किया गया है। वे इस कार्यक्रम में उपस्थित थे।

गौरतलब है कि अमीनुल इस्लाम के पिता खैरुल इस्लाम का 2 जुलाई को लंबी बीमारी के बाद देहांत हो गया था। खैरुल इस्लाम ने अखिल भारतीय जमीयत उलेमा के उपाध्यक्ष के रूप में कार्य किया और इसे पूर्वोत्तर भारत में “आमिर-ए-शरीयत” माना जाता है। सोशल मीडिया पर इसकी तस्वीरें वायरल हो गई, जिसमें सोशल डिस्टेंसिंग की धज्जियाँ उड़ते हुए देखा जा सकता है। साथ ही किसी ने मास्क भी नहीं लगाया था।

अमीनुल इस्लाम ने ही अपने पिता के अंतिम संस्कार की तस्वीरें सोशल मीडिया पर शेयर की थीं। इन तस्वीरों में भारी भीड़ दिखाई दे रही थी। प्रशासन का मानना है कि अंतिम संस्कार में लगभग दस हजार लोग शामिल हुए थे।

कोरोना वायरस का प्रकोप देश में थमने का नाम नहीं ले रहा है। रोजाना हजारों की संख्या में संक्रमित मामले सामने आ रहे हैं। वहीं सैकड़ों की संख्या में मौत हो रही हैं। संक्रमण से बचने के लिए लोग सोशल डिस्टेंसिंग के नियमों का पालन कर रहे है ऐसे में किसी भी अंतिम संस्कार में 20 से ज्यादा लोगों को जाने की इजाजत नहीं है। लेकिन असम के नगांव ज़िले में मौलाना खैरुल इस्लाम के अंतिम संस्कार के दौरान हजारों की संख्या में लो जुट थे। जिसके बाद कोरोना वायरस के संक्रमण के फैलने के खतरे को देखते हुए तीन गाँवों को सील कर दिया गया।

वहीं Legal Rights Protection Forum नाम के एक NGO ने असम के राज्यपाल को पत्र लिखकर धींग निर्वाचन क्षेत्र के विधायक अमीनुल इस्लाम के खिलाफ सख्त कार्रवाई की माँग की थी।

उल्लेखनीय है कि अमीनुल इस्लाम को 7 अप्रैल को गिरफ्तार किया गया था। उन पर कोरोना वायरस महामारी से निपटने के लिए सरकार के प्रयासों को सांप्रदायिक रूप देने का आरोप लगाया गया था।

ऑल इंडिया यूनाइटेड डेमोक्रेटिक फ्रंट (एआईयूडीएफ) के विधायक ने एक वीडियो क्लिप के माध्यम से असम के लोगों को संबोधित करते हुए दावा किया था कि निजामुद्दीन मरकज से लौटने वालों में से किसी का भी कोरोना रिपोर्ट पॉजिटिव नहीं आया था। अमीनुल इस्लाम ने यह भी कहा था कि कोरोना वायरस के लिए आइसोलेशन वार्ड, डिटेंशन सेंटर की तरह हैं और यह सरकार की एक खास समुदाय के लोगों को मारने की साजिश है।

 

  सहयोग करें  

एनडीटीवी हो या 'द वायर', इन्हें कभी पैसों की कमी नहीं होती। देश-विदेश से क्रांति के नाम पर ख़ूब फ़ंडिग मिलती है इन्हें। इनसे लड़ने के लिए हमारे हाथ मज़बूत करें। जितना बन सके, सहयोग करें

ऑपइंडिया स्टाफ़http://www.opindia.in
कार्यालय संवाददाता, ऑपइंडिया

संबंधित ख़बरें

ख़ास ख़बरें

‘बेअदबी करने वालों को यही सज़ा मिलेगी, हम गुरु की फौज और आदि ग्रन्थ ही हमारा कानून’: हथियारबंद निहंगों को दलित की हत्या पर...

हथियारबंद निहंग सिखों ने खुद को गुरू ग्रंथ साहिब की सेना बताया। साथ ही कहा कि गुरु की फौजें किसानों और पुलिस के बीच की दीवार हैं।

सरकारी नौकरी से निकाला गया सैयद अली शाह गिलानी का पोता, J&K में रिसर्च ऑफिसर बन कर बैठा था: आतंकियों के समर्थन का आरोप

अलगाववादी नेता रहे सैयद अली शाह गिलानी के पोते अनीस-उल-इस्लाम को जम्मू कश्मीर में सरकारी नौकरी से निकाल बाहर किया गया है।

प्रचलित ख़बरें

- विज्ञापन -

हमसे जुड़ें

295,307FansLike
129,137FollowersFollow
411,000SubscribersSubscribe