Saturday, June 15, 2024
Homeदेश-समाजअसम: मौलाना खैरुल इस्लाम के जनाजे में जुटे 10,000 लोग, सोशल डिस्टेंसिंग की उड़ी...

असम: मौलाना खैरुल इस्लाम के जनाजे में जुटे 10,000 लोग, सोशल डिस्टेंसिंग की उड़ी धज्जियाँ, 3 गाँव सील

खैरुल इस्लाम लंबे समय से बीमार थे। उनके विधायक बेटे अमीनुल इस्लाम को कोरोना से निपटने के सरकारी उपायों को सांप्रदायिक रंग देने के आरोप में बीते 7 अप्रैल को गिरफ्तार भी किया गया था।

देश भर में कोरोना वायरस के चलते इन दिनों सोशल डिस्टेंसिंग के नियमों का पालन किया जा रहा है। ऐसे में किसी के भी अंतिम संस्कार में 20 से ज्यादा लोगों को जाने की इजाजत नहीं दी जाती है। लेकिन असम के नगांव ज़िले में लोगों ने सोशल डिस्टेंसिंग की धज्जियाँ उड़ा दी।

एक मौलाना को आखिरी विदाई देने के लिए करीब 10 हजार लोग इकट्ठा हो गए। बाद में प्रशासन को मजबूरन 3 गाँवों को सील करने का फैसला करना पड़ा। इस मामले में केस भी दर्ज किया गया है।

87 वर्षीय इस्लामिक उपदेशक खैरुल इस्लाम का दो जुलाई को लंबी बीमारी के बाद निधन हो गया था। खैरुल इस्लाम ने अखिल भारतीय जमीयत उलेमा के उपाध्यक्ष के रूप में कार्य किया और इसे पूर्वोत्तर भारत में “आमिर-ए-शरीयत” माना जाता है। सोशल मीडिया पर इसकी तस्वीरें वायरल हो गई, जिसमें सोशल डिस्टेंसिंग की धज्जियाँ उड़ते हुए देखा जा सकता है। साथ ही किसी ने मास्क भी नहीं लगाया था।

सोशल मीडिया पर वायरल तस्वीर

खैरुल इस्लाम का परिवार चाहता था कि अंतिम संस्कार तीन जुलाई को हो लेकिन बाद में उसे दो जुलाई कर दिया गया। खैरुल के बेटे अमीनुल इस्लाम नगांव जिले के धींग निर्वाचन क्षेत्र से ऑल इंडिया यूनाइटेड डेमोक्रेटिक फ्रंट (एआईयूडीएफ) के विधायक हैं और उन्होंने ही अपने पिता के अंतिम संस्कार की तस्वीरें सोशल मीडिया पर शेयर की थीं। इन तस्वीरों में भारी भीड़ दिखाई दे रही है। प्रशासन का मानना है कि अंतिम संस्कार में लगभग दस हजार लोग शामिल हुए थे।

इस बीच, Legal Rights Protection Forum नाम के एक NGO ने ट्विटर पर जानकारी दी है कि NGO ने असम के राज्यपाल को पत्र लिखकर धींग निर्वाचन क्षेत्र के विधायक अमीनुल इस्लाम के खिलाफ सख्त कार्रवाई की माँग की है।

NGO ने विधायक अमीनुल इस्लाम पर आरोप लगाया है कि उसने अपने पिता के अंतिम संस्कार के दौरान COVID-19 मानदंडों को तोड़ने के लिए मजबूर कर 10000 लोगों की जान खतरे में डाला है। बता दें कि असम में सोमवार को 735 और लोगों का कोरोना रिपोर्ट पॉजिटिव आया। इसके बाद कुल संक्रमितों का आँकड़ा 11,736 पर पहुँच गया है।

गौरतलब है कि अमीनुल इस्लाम को 7 अप्रैल को गिरफ्तार किया गया था। उन पर कोरोना वायरस महामारी से निपटने के लिए सरकार के प्रयासों को सांप्रदायिक रूप देने का आरोप लगाया गया था।

ऑल इंडिया यूनाइटेड डेमोक्रेटिक फ्रंट (एआईयूडीएफ) के विधायक ने एक वीडियो क्लिप के माध्यम से असम के लोगों को संबोधित करते हुए दावा किया था कि निजामुद्दीन मरकज से लौटने वालों में से किसी का भी कोरोना रिपोर्ट पॉजिटिव नहीं आया था। अमीनुल इस्लाम ने यह भी कहा था कि कोरोना वायरस के लिए आइसोलेशन वार्ड, डिटेंशन सेंटर की तरह हैं और यह सरकार की एक खास समुदाय के लोगों को मारने की साजिश है।

Special coverage by OpIndia on Ram Mandir in Ayodhya

  सहयोग करें  

एनडीटीवी हो या 'द वायर', इन्हें कभी पैसों की कमी नहीं होती। देश-विदेश से क्रांति के नाम पर ख़ूब फ़ंडिग मिलती है इन्हें। इनसे लड़ने के लिए हमारे हाथ मज़बूत करें। जितना बन सके, सहयोग करें

संबंधित ख़बरें

ख़ास ख़बरें

आतंकवाद का बखान, अलगाववाद को खुलेआम बढ़ावा और पाकिस्तानी प्रोपेगेंडा को बढ़ावा : पढ़ें- अरुँधति रॉय का 2010 वो भाषण, जिसकी वजह से UAPA...

अरुँधति रॉय ने इस सेमिनार में 15 मिनट लंबा भाषण दिया था, जिसमें उन्होंने भारत देश के खिलाफ जमकर जहर उगला था।

कर्नाटक में बढ़ाए गए पेट्रोल-डीजल के दाम: लोकसभा चुनाव खत्म होते ही कॉन्ग्रेस ने शुरू की ‘वसूली’, जनता पर टैक्स का भार बढ़ा कर...

अभी तक बेंगलुरु में पेट्रोल 99.84 रुपये प्रति लीटर और डीजल 85.93 रुपये प्रति लीटर बिक रहा था, लेकिन नए आदेश के बाद बढ़ी हुई कीमतें तत्काल प्रभाव से लागू हो गई हैं।

प्रचलित ख़बरें

- विज्ञापन -