Monday, June 24, 2024
Homeराजनीति'मेरी 1 महीने की सैलरी चली गई...': कॉन्ग्रेस अध्यक्ष खुद नहीं देना चाहते अपनी...

‘मेरी 1 महीने की सैलरी चली गई…’: कॉन्ग्रेस अध्यक्ष खुद नहीं देना चाहते अपनी पार्टी को पैसा? वीडियो हो गया वायरल

मल्लिकार्जुन खड़गे द्वारा राज्यसभा चुनाव में भरे गए पर्चे के अनुसार, उनके पास ₹9.80 करोड़ की चल-अचल सम्पत्ति थी। इसके अलावा उनकी पत्नी के पास भी ₹9.28 करोड़ की सम्पत्ति थी।

कॉन्ग्रेस ने 4 राज्यों (मध्य प्रदेश, राजस्थान, छत्तीसगढ़ और मिजोरम) में विधानसभा चुनाव हारने के बाद अब चंदा इकट्ठा करने का अभियान चलाया है। इसे पार्टी ने ‘डोनेट फॉर देश’ का नाम दिया है। कॉन्ग्रेस इसके जरिए अपने समर्थकों से ₹138 के गुणक में पैसे माँग रही है। हालाँकि, पार्टी के अध्यक्ष ही चंदा देने पर ‘दुःखी’ हो रहे हैं।

दिल्ली की अकबर रोड स्थित कॉन्ग्रेस दफ्तर में अध्यक्ष मल्लिकार्जुन खड़गे, महासचिव KC वेणुगोपाल और कोषाध्यक्ष अजय माकन ने यह अभियान चालू किया। अभियान के चालू किए जाने पर सबसे पहला चंदा कॉन्ग्रेस के राष्ट्रीय अध्यक्ष मल्लिकार्जुन खड़गे ने ही दिया।

खड़गे ने इस दौरान ₹1.38 लाख चंदे में कॉन्ग्रेस को दिए। चंदा देते वक्त कॉन्ग्रेस अध्यक्ष खुश नहीं दिखे और जब पैसा उनके फ़ोन से कॉन्ग्रेस को चंदे के लिए ट्रांसफर किया गया तो उन्होंने कहा, “एक महीने की पगार चली गई।”

कॉन्ग्रेस अध्यक्ष के एक महीने वाले बयान पर अब सोशल मीडिया पर मीम्स बन रहे हैं। हालाँकि, मल्लिकार्जुन खड़गे की संपत्ति को देखते हुए उनके लिए ₹1.38 लाख कोई बड़ी धनराशि नहीं है। उनके बेटे प्रियांक खड़गे कर्नाटक में मंत्री हैं।

मल्लिकार्जुन खड़गे द्वारा राज्यसभा चुनाव में भरे गए पर्चे के अनुसार, उनके पास ₹9.80 करोड़ की चल-अचल सम्पत्ति थी। इसके अलावा उनकी पत्नी के पास भी ₹9.28 करोड़ की सम्पत्ति थी। उन्होंने वर्ष 2018-19 में अपनी वार्षिक आय ₹27,84,530 बताई थी। कॉन्ग्रेस ने यह अभियान लोकसभा चुनाव के खर्चे के लिए चंदा इकट्ठा करने के लिए चालू किया है। इसके अंतर्गत उसके कार्यकर्ता पहले 28 दिसम्बर, 2023 तक ऑनलाइन चंदा इकट्ठा करेंगे जबकि 28 दिसम्बर, 2023 के बाद वह घर घर जाकर चंदे की माँग करेंगे। ADR द्वारा दी गई एक जानकारी के अनुसार, कॉन्ग्रेस के पास 2021-22 ₹805 करोड़ की संपत्तियाँ थी।

कॉन्ग्रेस के साथ इस अभियान को शुरू करने पर एक खेल भी हो गया। दरअसल, कॉन्ग्रेस ने इस अभियान का नाम ‘डोनेट फॉर देश’ (Donate For Desh) रखा है लेकिन इस नाम से वेबसाइट खोलने पर भाजपा को चंदा देने का पेज खुल रहा है।

कॉन्ग्रेस चंदा भाजपा

यदि कोई भी व्यक्ति Donatefordesh.Org वेबसाइट को खोलता है तो इस पर भाजपा को चंदा देने का पेज खुलता है। यहाँ नाम, मोबाइल नम्बर और ईमेल आईडी देकर भाजपा को चंदा देने का फॉर्म खुलता है। वहीं Donatefordesh.Com और Donatefordesh.in भी कॉन्ग्रेस नहीं ले पाई।

Special coverage by OpIndia on Ram Mandir in Ayodhya

  सहयोग करें  

एनडीटीवी हो या 'द वायर', इन्हें कभी पैसों की कमी नहीं होती। देश-विदेश से क्रांति के नाम पर ख़ूब फ़ंडिग मिलती है इन्हें। इनसे लड़ने के लिए हमारे हाथ मज़बूत करें। जितना बन सके, सहयोग करें

अर्पित त्रिपाठी
अर्पित त्रिपाठीhttps://hindi.opindia.com/
अवध से बाहर निकला यात्री...

संबंधित ख़बरें

ख़ास ख़बरें

बिहार में EOU ने राख से खोजे NEET के सवाल, परीक्षा से पहले ही मोबाइल पर आ गया था उत्तर: पटना के एक स्कूल...

पटना के रामकृष्ण नगर थाना क्षेत्र स्थित नंदलाल छपरा स्थित लर्न बॉयज हॉस्टल एन्ड प्ले स्कूल में आंशिक रूप से जले हुए कागज़ात भी मिले हैं।

14 साल की लड़की से 9 घुसपैठियों ने रेप किया, लेकिन सजा 20 साल की उस लड़की को मिली जिसने बलात्कारियों को ‘सुअर’ बताया:...

जर्मनी में 14 साल की लड़की का रेप करने वाले बलात्कारी सजा से बच गए जबकि उनकी आलोचना करने वाले एक लड़की को जेल भेज दिया गया।

प्रचलित ख़बरें

- विज्ञापन -