Wednesday, May 25, 2022
Homeराजनीतिकॉन्ग्रेस सत्ता में आई तो उत्तराखंड में खुलेगा मुस्लिम विश्वविद्यालय: पूर्व मुख्यमंत्री हरीश रावत...

कॉन्ग्रेस सत्ता में आई तो उत्तराखंड में खुलेगा मुस्लिम विश्वविद्यालय: पूर्व मुख्यमंत्री हरीश रावत ने किया वादा

उत्तराखंड बीजेपी ने ट्वीट में लिखा, “चार धाम और कॉन्ग्रेस का एक ही काम- उत्तराखंड में मुस्लिम यूनिवर्सिटी का निर्माण!”

उत्तराखंड विधानसभा चुनाव से पहले, कॉन्ग्रेस नेता हरीश रावत ने मुख्यमंत्री के रूप में चुने जाने पर राज्य में एक मुस्लिम विश्वविद्यालय खोलने का वादा किया है। कॉन्ग्रेस नेता अकील अहमद ने बुधवार (2 फरवरी 2022) को सहसपुर निर्वाचन क्षेत्र से अपना नामांकन वापस ले लिया और कहा कि रावत ने उनसे वादा किया है कि अगर कॉन्ग्रेस सत्ता में आई तो मुस्लिम छात्रों के लिए एक विश्वविद्यालय बनाया जाएगा।

उत्तराखंड बीजेपी ने सहसपुर निर्वाचन क्षेत्र से कॉन्ग्रेस नेता आर्येंद्र शर्मा का समर्थन करते हुए अकील अहमद का एक वीडियो पोस्ट किया और कहा कि कॉन्ग्रेस का केवल एक एजेंडा है और वह है राज्य में मुस्लिम विश्वविद्यालय बनाना। उत्तराखंड बीजेपी ने ट्वीट में लिखा, “चार धाम और कॉन्ग्रेस का एक ही काम- उत्तराखंड में मुस्लिम यूनिवर्सिटी का निर्माण!”

वीडियो के अनुसार, जब पूर्व सीएम और कॉन्ग्रेस के वरिष्ठ नेता हरीश रावत ने सहसपुर के रहने वाले अकील अहमद की 12 माँगों को मान लिया तो उन्होंने 2022 के विधानसभा चुनाव के लिए अपना नामांकन वापस ले लिया। अहमद ने पुष्टि की कि राज्य कॉन्ग्रेस नेता देवेंद्र यादव ने भी उनकी 12 माँगों में से एक मुस्लिमों के लिए विश्वविद्यालय खोलने की उनकी माँगों का समर्थन किया।

उन्होंने सोशल मीडिया पर वायरल हुए वीडियो में कहा, “मैं सहसपुर निर्वाचन क्षेत्र से चुनाव लड़ने के लिए आर्येंद्र शर्मा का समर्थन करने के लिए तैयार हूँ। मुझे कोई दिक्कत नहीं है क्योंकि हरीश रावत जी और देवेंद्र यादव ने मेरी माँगों को मान लिया है। रावत जी ने उत्तराखंड में मुस्लिम छात्रों के लिए विश्वविद्यालय बनाने का वादा किया है। मुझे और कुछ नहीं चाहिए।”

मीडिया रिपोर्टों में बताया जा रहा है कि राज्य में कॉन्ग्रेस उत्तराखंड में अल्पसंख्यकों के गढ़ में कुछ सीटों पर वोटों के बँटवारे को लेकर चिंतित है, जिसमें सपा, बसपा और AIMIM जैसे प्रतिद्वंद्वियों ने मुस्लिम उम्मीदवारों को मैदान में उतारा है।

गौरतलब है कि उत्तराखंड में मुस्लिम विश्वविद्यालय खोलने का समर्थन कर रही कॉन्ग्रेस ने कर्नाटक में संस्कृत विश्वविद्यालय बनाने के प्रस्ताव का विरोध किया था। 16 जनवरी को, कर्नाटक सरकार द्वारा कर्नाटक संस्कृत विश्वविद्यालय के स्थायी परिसर के लिए 100 एकड़ भूमि आवंटित किए जाने के बाद कर्नाटक कॉन्ग्रेस के प्रवक्ता नटराज गौड़ा ने राज्य सरकार के इस फैसले का विरोध करते हुए कहा था कि राज्य को इसकी ज़रूरत ही नहीं है। उन्होंने इसे ‘बेकार’ बताते हुए कहा कि कर्नाटक के बच्चों को संस्कृत पढ़ाना ‘धर्मांधता’ की साजिश का एक हिस्सा है। उन्होंने सरकार को इसके उलट पर्यटन को बढ़ावा देने की सलाह दी।

उत्तराखंड विधानसभा के 70 सदस्यों के चुनाव के लिए इस साल 14 फरवरी को उत्तराखंड में विधानसभा चुनाव होंगे। नतीजे 10 मार्च को घोषित किए जाएँगे।

  सहयोग करें  

एनडीटीवी हो या 'द वायर', इन्हें कभी पैसों की कमी नहीं होती। देश-विदेश से क्रांति के नाम पर ख़ूब फ़ंडिग मिलती है इन्हें। इनसे लड़ने के लिए हमारे हाथ मज़बूत करें। जितना बन सके, सहयोग करें

ऑपइंडिया स्टाफ़
ऑपइंडिया स्टाफ़http://www.opindia.in
कार्यालय संवाददाता, ऑपइंडिया

संबंधित ख़बरें

ख़ास ख़बरें

काशी के बाद अब मंगलुरु में मस्जिद के नीचे मिला हिन्दू मंदिर! हिन्दुओं ने किया पूजा-पाठ: ASI सर्वे की माँग, धारा-144 लागू

कर्नाटक के मंगलुरू में मंदिर जैसी संरचना मिली, जिसके बाद VHP और बजरंग दल ने इलाके में 'तंबुला प्रश्ने' अनुष्ठान किया। भाजपा MLA ने कहा कि...

‘मुस्लिम छात्रों के झूठे आरोपों पर अजीम प्रेमजी यूनिवर्सिटी ने किया निलंबित’: हिन्दू छात्र का आरोप – मिली धर्म ने समझौता न करने की...

तिवारी और उनके दोस्तों को कॉलेज में सार्वजनिक रूप से संघी, भाजपा के प्रवक्ता और भाजपा आईटी सेल का सदस्य कहा जाता था।

प्रचलित ख़बरें

- विज्ञापन -

हमसे जुड़ें

295,307FansLike
188,790FollowersFollow
416,000SubscribersSubscribe