Sunday, October 17, 2021
Homeराजनीतिसंदीप सिंह पर कॉन्ग्रेस का सेल्फ गोल: फोटो से BJP को घेरने की कोशिश,...

संदीप सिंह पर कॉन्ग्रेस का सेल्फ गोल: फोटो से BJP को घेरने की कोशिश, शिवसेना-सपा नेताओं संग भी तस्वीरें निकली

इस फर्जी दावे के बाद कॉन्ग्रेस को खुद मुँह की खानी पड़ी। उद्धव ठाकरे के बड़े भाई, जयदेव ठाकरे की पूर्व पत्नी स्मिता ठाकरे के साथ भी संदीप सिंह की तस्वीरें हैं। स्मिता को संदीप सिंह के साथ बालासाहेब ठाकरे पर एक फिल्म का निर्माण करना था।

सुशांत सिंह राजपूत की मौत को बीजेपी से जोड़ने की कॉन्ग्रेस ने एक नाकाम कोशिश की। कॉन्ग्रेस नेता सचिन सावंत ने एक तस्वीर जारी की। इसमें बीजेपी नेता और महाराष्ट्र के पूर्व मुख्यमंत्री देवेंद्र फडणवीस के साथ संदीप सिंह नजर आ रहा है। सुशांत की मौत के बाद उनके घर सबसे पहले पहुॅंचने वालों में संदीप शामिल है। इस तस्वीर के बहाने कॉन्ग्रेस ने बीजेपी को घेरने की कोशिश की।

सावंत ने जो तस्वीरें साझा की वह बॉयोपिक फिल्म ‘पीएम नरेंद्र मोदी’ के एक कार्यक्रम की थी। सावंत ने मुख्यमंत्री उद्धव ठाकरे और राज्य के गृह मंत्री अनिल देशमुख से सुशांत के मामले में बीजेपी की भूमिका की जॉंच की मॉंग की।

सावंत ने यह ट्वीट बीजेपी नेता राम कदम की मॉंग के जवाब में की। कदम ने उद्धव ठाकरे से बॉलीवुड में ड्रग नेक्सस की जॉंच की मॉंग की थी। कदम ने अपने पत्र में सुशांत के मामले में ड्रग माफिया का एंगल सामने आने का जिक्र करते हुए जॉंच की मॉंग की थी।

संदीप सिंह फिल्म ‘पीएम नरेंद्र मोदी’ के निर्माता हैं। अब उनसे सुशांत सिंह राजपूत की मौत के मामले में सीबीआई द्वारा ड्रग नेक्सस के एंगल में पूछताछ की जा रही है। कॉन्ग्रेस नेता सचिन सावंत ने आरोप लगाया था कि महाराष्ट्र के पूर्व सीएम देवेंद्र फडणवीस ने संदीप सिंह द्वारा निर्मित फिल्म के पोस्टर के लॉन्च के लिए अपना बहुमूल्य समय देने के लिए चुना था। जिससे इस बात का पता चलता है कि फिल्म निर्माता और भाजपा के बीच संबंध हैं।

कॉन्ग्रेस नेता के अनुसार सिर्फ पोस्टर को लॉन्च करने के लिए महाराष्ट्र के तत्कालीन सीएम और बीजेपी नेता देवेंद्र फड़नवीस का संदीप के साथ ली गई तस्वीर यह साबित करने के लिए काफी है कि बीजेपी का संबंध सुशांत की दुर्भाग्यपूर्ण निधन से जुड़ा है।

हालाँकि इस फर्जी दावे के बाद कॉन्ग्रेस को खुद मुँह की खानी पड़ी। इस मामले में यह ध्यान रखना उचित है कि संदीप सिंह के साथ अकेले देवेन्द्र फडणवीस ने ही फ़ोटो नहीं खिंचवाई है। विभिन्न राजनीतिक दलों के कई प्रमुख हस्तियों की फोटो भी निर्माता संदीप के साथ है। उद्धव ठाकरे के बड़े भाई, जयदेव ठाकरे की पूर्व पत्नी स्मिता ठाकरे के साथ भी संदीप सिंह की तस्वीरें हैं। स्मिता को संदीप सिंह के साथ बालासाहेब ठाकरे पर एक फिल्म का निर्माण करना था।

संदीप सिंह (बाएँ से दूसरे) और स्मिता ठाकरे (दाएँ से दूसरे)

इसी तरह, सिंह को समाजवादी पार्टी के प्रमुख अखिलेश यादव के साथ भी देखा गया है, जो समय-समय पर कॉन्ग्रेस पार्टी के साथ खड़े नजर आते हैं।

सपा मुखिया अखिलेश यादव के साथ संदीप सिंह

गौरतलब है कि कॉन्ग्रेस ने सुशांत सिंह राजपूत की मौत की जाँच में भगवा पार्टी को बदनाम करने के लिए भाजपा के साथ संदीप सिंह को जोड़ने के लिए एक बेहद ही तुच्छ प्रयास किया है। यह ध्यान देने योग्य है कि सिंह एक फिल्म निर्माता हैं। फ़िल्म निर्माता अक्सर काम के सिलसिले, फिल्मों की लॉन्च और इवेंट के दौरान राजनेताओं से मिलते रहते है।

भाजपा को बदनाम करने की जल्दबाजी में कॉन्ग्रेस पार्टी यह देखना भूल ही गई कि संदीप के साथ कई विपक्षी नेताओं के फोटो भी सोशल मीडिया पर मौजूद हैं।

यह बात सबको पता है कि मौजूदा स्थिति में कॉन्ग्रेस पार्टी अपने अस्तित्व पर चल रहे संकट से परेशान है। कॉन्ग्रेस के कई वरिष्ठ नेता पार्टी के मौजूदा कामकाज से नाखुश हैं। साथ ही पार्टी सदस्यों के बीच भी निराशाजनक माहौल बना हुआ है। ऐसा लग रहा है मानो कॉन्ग्रेस समर्थक दिवंगत अभिनेता की कथित आत्महत्या के साथ बीजेपी को जोड़कर अपनी खंडित पार्टी को मजबूती देने की कोशिश कर रहे हो।

हालाँकि कॉन्ग्रेस द्वारा की गई इस हरकत के कारन न सिर्फ बीजेपी को निशाना साधा जा रहा, बल्कि यह दिवंगत अभिनेता की मौत के मामले की जाँच को विफल करने का एक बड़ा प्रयास भी है।

 

  सहयोग करें  

एनडीटीवी हो या 'द वायर', इन्हें कभी पैसों की कमी नहीं होती। देश-विदेश से क्रांति के नाम पर ख़ूब फ़ंडिग मिलती है इन्हें। इनसे लड़ने के लिए हमारे हाथ मज़बूत करें। जितना बन सके, सहयोग करें

ऑपइंडिया स्टाफ़http://www.opindia.in
कार्यालय संवाददाता, ऑपइंडिया

संबंधित ख़बरें

ख़ास ख़बरें

‘बेअदबी करने वालों को यही सज़ा मिलेगी, हम गुरु की फौज और आदि ग्रन्थ ही हमारा कानून’: हथियारबंद निहंगों को दलित की हत्या पर...

हथियारबंद निहंग सिखों ने खुद को गुरू ग्रंथ साहिब की सेना बताया। साथ ही कहा कि गुरु की फौजें किसानों और पुलिस के बीच की दीवार हैं।

सरकारी नौकरी से निकाला गया सैयद अली शाह गिलानी का पोता, J&K में रिसर्च ऑफिसर बन कर बैठा था: आतंकियों के समर्थन का आरोप

अलगाववादी नेता रहे सैयद अली शाह गिलानी के पोते अनीस-उल-इस्लाम को जम्मू कश्मीर में सरकारी नौकरी से निकाल बाहर किया गया है।

प्रचलित ख़बरें

- विज्ञापन -

हमसे जुड़ें

295,307FansLike
129,125FollowersFollow
411,000SubscribersSubscribe