Saturday, July 20, 2024
Homeराजनीति'मेरे ख्वाब में मुसलमान आ रहे हैं और कह रहे हैं कि सपा को...

‘मेरे ख्वाब में मुसलमान आ रहे हैं और कह रहे हैं कि सपा को वोट नहीं देंगे’: ओवैसी ने अखिलेश के ‘श्रीकृष्ण वाले सपने’ पर कसा तंज

ओवैसी ने कहा, "सपा के आजम खान और शफीकुरर्हमान बर्क जीते तो वो अपनी ताकत की वजह से जीते। समाजवादी पार्टी की वजह से नहीं जीते। अगर तुम्हारे वोट एक साथ पड़ जाते तो सपा और बसपा वाले 15 ही सीट क्यों जीतते?"

विधानसभा चुनाव से पहले उत्तर प्रदेश में आरोप-प्रत्यारोप का दौर जारी है। ऑल इंडिया मजलिस-ए-इत्तेहादुल मुस्लिमीन (AIMIM) के अध्यक्ष असदुद्दीन ओवैसी ने (Asaduddin Owaisi) बुधवार (5 जनवरी 2022) को समाजवादी पार्टी के अध्यक्ष अखिलेश यादव (Akhilesh Yadav) पर निशाना साधा। उत्तर प्रदेश के संभल जिले में आयोजित रैली में अखिलेश के भगवान कृष्ण के सपने में आने वाले बयान पर तंज कसते हुए ओवैसी ने कहा, “भाजपा राम को देखती है और अखिलेश कृष्ण को देखते हैं। अखिलेश यादव के सपने में आकर जब भगवान श्रीकृष्ण ने कह दिया कि तुम मुख्यमंत्री बन रहे हो तो फिर चुनाव की जरूरत क्या है? ऐसे ही कह दीजिए कि भगवान से मैंने कहा है कि अब मुझे मुख्यमंत्री बना दीजिए।”

इसके बाद औवेसी ने कहा, “मेरे ख्वाब में भी मुजफ्फरनगर के मुसलमान आ रहे हैं और कह रहे हैं कि अब सपा को वोट नहीं देंगे। वह मुझसे कह रहे हैं कि कोई तो हमारे हक की आवाज बुलंद करे। अब मजलिस के विधायक जीतकर विधानसभा में जाएँगे और विधानसभा की दीवारों पर नाराज तकदीर और आंबेडकर जिंदाबाद के नारों को बुलंद करेंगे।”

औवेसी यहीं नहीं रुके। उन्होंने आगे कहा, “मैं आपके मान-सम्मान की लड़ाई लड़ रहा हूँ तो मुझे कहा जाता है कि ये वोट काटने आया है। मैं वोट काटने नहीं आया हूँ। 2019 के लोकसभा चुनाव में सपा और बसपा मिलकर लडे़ फिर भी 15 सांसद जीते। आजम खान और शफीकुरर्हमान बर्क जीते तो वे अपनी ताकत की वजह से जीते। समाजवादी पार्टी की वजह से नहीं जीते। अगर तुम्हारे वोट एक साथ पड़ जाते तो सपा और बसपा वाले 15 ही सीट क्यों जीतते?”

उन्होंने मुसलमान को मिटाने की बात करने वालों को भीमराव आंबेडकर के संविधान का दुश्मन बताया। औवेसी ने कहा, “मैं मुसलमान हूँ और मुझे अपने वतन से प्यार है।” प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी से सवाल करते हुए ओवैसी ने कहा कि बताएँ कि जो धर्म संसद करके मुस्लिमों को मिटाने की बात कर रहे हैं, वे कौन लोग हैं।”

रिपोर्ट के मुताबिक, बीते दिनों अखिलेश यादव ने AIMIM से गठबंधन करने से इनकार कर दिया था। उन्होंने कहा था कि किसी ऐसे साथी को गठबंधन में नहीं लिया है जिस पर बहुत ज्यादा आरोप लग रहे हों।

Join OpIndia's official WhatsApp channel

  सहयोग करें  

एनडीटीवी हो या 'द वायर', इन्हें कभी पैसों की कमी नहीं होती। देश-विदेश से क्रांति के नाम पर ख़ूब फ़ंडिग मिलती है इन्हें। इनसे लड़ने के लिए हमारे हाथ मज़बूत करें। जितना बन सके, सहयोग करें

ऑपइंडिया स्टाफ़
ऑपइंडिया स्टाफ़http://www.opindia.in
कार्यालय संवाददाता, ऑपइंडिया

संबंधित ख़बरें

ख़ास ख़बरें

फैक्ट चेक’ की आड़ लेकर भारत में ‘प्रोपेगेंडा’ फैलाने की तैयारी कर रहा अमेरिका, 1.67 करोड़ रुपए ‘फूँक’ तैयार कर रहा ‘सोशल मीडिया इन्फ्लूएंसर्स’...

अमेरिका कथित 'फैक्ट चेकर्स' की फौज को तैयार करने की योजना को चतुराई से 'डिजिटल लिटरेसी' का नाम दे रहा है, लेकिन इनका काम होगा भारत में अमेरिकी नरेटिव को बढ़ावा देना।

मुस्लिम फल विक्रेताओं एवं काँवड़ियों वाले विवाद में ‘थूक’ व ‘हलाल’ के अलावा एक और पहलू: समझिए सच्चर कमिटी की रिपोर्ट और असंगठित क्षेत्र...

काँवड़ियों के पास ये विकल्प क्यों नहीं होना चाहिए, अगर वो सिर्फ हिन्दू विक्रेताओं से ही सामान खरीदना चाहते हैं तो? मुस्लिम भी तो लेते हैं हलाल?

प्रचलित ख़बरें

- विज्ञापन -