Friday, July 1, 2022
Homeराजनीतिदिल्ली के हालात बेकाबू, तत्काल बुलाई जाए सेना: गो बैक के नारों और घेराव...

दिल्ली के हालात बेकाबू, तत्काल बुलाई जाए सेना: गो बैक के नारों और घेराव के बाद CM केजरीवाल

केजरीवाल ने ट्वीट कर हालात पर चिंता व्यक्त की है। कहा है कि हालात बेकाबू हैं। इस पर काबू पाने के लिए सेना तैनात की जाए। साथ ही सभी प्रभावित क्षेत्रों में तत्काल कर्फ्यू लगाने की माँग की है।

उत्तर पूर्वी दिल्ली के कई इलाकों में हुए दंगों को लेकर सीएम अरविंद केजरीवाल ने पुलिस की कार्यशैली पर सवाल खड़े किए हैं। उनके अनुसार दिल्ली पुलिस हालात पर काबू पाने में असमर्थ है। स्थिति पर नियंत्रण के लिए दिल्ली में सेना बुलाई जानी चाहिए। इसके लिए केजरीवाल ने केंद्रीय गृहमंत्री अमित शाह को पत्र लिखने की भी बात कही है।

रविवार से जारी हिंसा को लेकर केजरीवाल ने ट्वीट कर हालात पर चिंता व्यक्त की है। उन्होंने कहा है कि दिल्ली में हालात बेकाबू हैं। दिल्ली पुलिस के नियंत्रण में नहीं है। ऐसे में केजरीवाल ने केंद्र सरकार से तत्काल दिल्ली में सेना तैनात करने की माँग की है। उन्होंने सभी प्रभावित क्षेत्रों में भी तत्काल कर्फ्यू लगाने की माँग की है।

इससे पहले हिंसा में वीरगति को प्राप्त हुए रतनलाल के परिवार से मंगलवार को मिलने पहुँचे सीएम अरविन्द केजरीवाल और दिल्ली के उप-मुख्यमंत्री मनीष सिसोदिया को घटना से गुस्साए लोगों के विरोध का सामना करना पड़ा था। इस दौरान आक्रोशित लोगों ने ‘केजरीवाल, वापस जाओ’ और ‘गो बैक केजरीवाल’ के नारे लगाए थे। इस विरोध के चलते केजरीवाल और सिसोदिया को उलटे पाँव वापस लौटना पड़ा था। इतना ही नहीं देर रात जामिया मिलिया इस्लामिया के छात्रों और पूर्व छात्रों ने केजरीवाल के घर का घेराव भी किया था।

इस बीच जीटीबी अस्पताल के एमडी सुनील कुमार के मुताबिक नागरिकता संशोधन कानून का समर्थन करने वालों और विरोध करने वालों के बीच हुई हिंसक झड़प में अब तक 20 लोगों की मौत हो चुकी है। वहीं घायलों की संख्या बढ़कर 250 से भी अधिक हो गई है। इनमें 56 पुलिसकर्मी भी शामिल हैं।

दिल्ली के कुछ इलाकों में छिटपुट पत्थरबाजी की घटनाएँ आ रही हैं। जाफराबाद, मौजपुर सहित कई इलाकों में हालात तनावपूर्ण बने हुए है। हालात पर काबू पाने के लिए प्रशासन ने भारी संख्या में पुलिस बल की तैनाती कर दी है और पुलिस फोर्स फ्लैग मार्च कर हालात पर काबू करने में जुटी हुई है।

वहीं, दिल्ली हाईकोर्ट ने दिल्ली पुलिस से हिंसा मामले पर जवाब माँगा है। न्यायालय ने यह बताने के लिए कहा है कि जिन लोगों ने भड़काऊ भाषण दिया उनके खिलाफ क्या कार्रवाई हुई। साथ ही दिल्ली पुलिस के किसी बड़े अधिकारी को पेश होकर जवाब देने के लिए भी कहा है। दिल्ली के हालातों का अंदाजा इसी बात से लगाया जा सकता है कि उपद्रवियों ने दिल्ली पुलिस के एक हेड कॉन्स्टेबल को भी मौत के घाट उतार दिया। यही कारण है कि राष्ट्रीय सुरक्षा सलाहकार (एनएसए) अजीत डोवाल ने अब खुद पूरी कमान सॅंभाल ली है।

  सहयोग करें  

एनडीटीवी हो या 'द वायर', इन्हें कभी पैसों की कमी नहीं होती। देश-विदेश से क्रांति के नाम पर ख़ूब फ़ंडिग मिलती है इन्हें। इनसे लड़ने के लिए हमारे हाथ मज़बूत करें। जितना बन सके, सहयोग करें

Searched termsदिल्ली हिंसा आप, दिल्ली हिंसा केजरीवाल, दिल्ली पुलिस केजरीवाल, केजरीवाल आर्मी, केजरीवाल अमित शाह, केजरीवाल के ट्वीट, आईबी कॉन्स्टेबल की हत्या, अंकित शर्मा की हत्या, चांदबाग अंकित शर्मा की हत्या, दिल्ली हिंसा विवेक, विवेक ड्रिल मशीन से छेद, विवेक जीटीबी अस्पताल, विवेक एक्सरे, दिल्ली हिंदू युवक की हत्या, दिल्ली विनोद की हत्या, दिल्ली ब्रहम्पुरी विनोद की हत्या, दिल्ली हिंसा अमित शाह, दिल्ली हिंसा केजरीवाल, दिल्ली हिंसा उपराज्यपाल, अमित शाह हाई लेवल मीटिंग, दिल्ली पुलिस, दिल्ली पुलिस रतनलाल, हेड कांस्टेबल रतनलाल, रतनलाल का परिवार, ट्रंप का भारत दौरा, ट्रंप मोदी, बिल क्लिंटन का भारत दौरा, छत्तीसिंह पुरा नरसंहार, दिल्ली हिंसा, नॉर्थ ईस्ट दिल्ली, दिल्ली पुलिस, करावल नगर, जाफराबाद, मौजपुर, गोकलपुरी, शाहरुख, कांस्टेबल रतनलाल की मौत, दिल्ली में पथराव, दिल्ली में आगजनी, दिल्ली में फायरिंग, भजनपुरा, दिल्ली सीएए हिंसा
ऑपइंडिया स्टाफ़
ऑपइंडिया स्टाफ़http://www.opindia.in
कार्यालय संवाददाता, ऑपइंडिया

संबंधित ख़बरें

ख़ास ख़बरें

‘एकनाथ शिंदे मुख्यमंत्री बनेंगे, नहीं थी किसी को कल्पना’: राजनीति के धुरंधर एनसीपी चीफ शरद पवार भी खा गए गच्चा, कहा- उम्मीद थी वो...

शरद पवार ने कहा कि किसी को भी इस बात की कल्पना नहीं थी कि एकनाथ शिंदे को महाराष्ट्र का सीएम बना दिया जाएगा।

आँखों के सामने बच्चों को खोने के बाद राजनीति से मोहभंग, RSS से लगाव: ऑटो चलाने से महाराष्ट्र के CM बनने तक शिंदे का...

साल में 2000 में दो बच्चों की मौत के बाद एकनाथ शिंदे का राजनीति से मोहभंग हुआ। बाद में आनंद दिघे उन्हें वापस राजनीति में लाए।

प्रचलित ख़बरें

- विज्ञापन -

हमसे जुड़ें

295,307FansLike
201,261FollowersFollow
416,000SubscribersSubscribe